'मैं पूरी तरह से उसकी छुअन पर निर्भर हूं'

अमर उजाला, दिल्ली Updated Tue, 23 Dec 2014 11:05 AM IST
विज्ञापन
50 shades of grey

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
ये अंश ईएलजेम्स की अनुवादित पुस्तक '50 शेड्स ऑफ ग्रे' से लिया गया है। '50 शेड्स ऑफ ग्रे' दुनिया की बेस्ट सेलर चर्चित किताब है।
विज्ञापन

अचानक मेरे ही कानों में मीठा संगीत गूंज उठा। जैसे कुछ लोग मिलकर कोई गीत गा रहे हों या पुराने मंत्र दोहरा रहे हैं। ये क्‍या है? मैंने तो आज तक कोई ऐसा संगीत नहीं सुना। तभी मुझे अपने शरीर के अंगों पर एक हल्की और मुलायम सी छुअन महसूस हुई। ये क्या है...
देखिए, 2013 की ये 8 घटनाएं, रहेंगी हमेशा याद
ये तो फर का दस्ताना है।

क्रि‌स्टियन उससे मेरे पूरे शरीर को सहला रहा है और मैं बार-बार यही सोचने की कोशिश कर रही हूं कि अब वह अपने हाथ को किस अंग की ओर ले जाएगा लेकिन यह संगीत... यह तो मेरे दिमाग को कहीं और ही ले जा रहा है... वह फर मेरे शरीर के हर अंग को छूता हुआ गुजर रहा है...

पढ़ें: इनके न्यूड फोटो से लेकर MMS तक हुए लीक

इधर संगीत के मधुर सामूहिक स्वर मेरा ध्यान खींच रहे हैं... अचानक ही उस फर की जगह फ्लॉगर ने ले ली। अब तो मैं संगीत को भी भूल गई।... जाने मैं किस लोक में हूं। अचानक उस फ्लॉगर ने मेरे पेट पर हल्का सा वार किया।

ओह! मुझे दर्द तो नहीं हुआ था पर मैं अचानक चौंक गई हूं। इस बार उसने थोड़ा तेज वार किया।

देखिए, बिग बॉस विनर की कुछ अनदेखी तस्वीरें

आह!

मैं इस वार और एहसास के साथ झूमना चाहती हूं, हिलना चाहती हूं... ये सब मुझ पर हावी होता जा रहा है पर हाथ-पांव बंधे होने की वजह से मैं अपनी जगह से इंचभर भी नहीं खिसक सकती।

देखिए, कैसे दो कपड़ों में इन हसीनाओं ने ढाया कहर

इस बार फ्लॉगर ने मेरे वक्षों पर वार किया। उसके हर वार और गानों में गूंज रहे संगीत के बीच जैसे कोई तालमेल बैठ गया है। बड़ा ही मादक एहसास है। वह शरीर के हर अंग को इसी तरह फ्लॉगर का संगीत देता रहा और कानों में बजता संगीत बंद होते ही उसने भी अपना हाथ रोक लिया।

देखिए, प्रियंका ने इन 9 खास मौकों पर उतारे कपड़े

फिर अचानक ही संगीत बजने लगा और उसके हाथ अपना कमाल दिखाने लगे। वह मेरे पेट, पीठ, टांगों और जांघों के बीच लगातार फ्लॉगर के वार कर रहा है और मैं इस गहन एहसास के बीच तड़प के बीच तड़प रही हूं। एक बार फिर सब शांत हुआ और वहां मेरी उखड़ी सांसों के सिवा कुछ सुनाई नहीं दे रहा। क्या हो रहा है? अब वह क्या करने जा रहा है? मैं यह सब सहन नहीं कर पा रही। ऐसा लगता है कि जैसे मैं किसी अंधी सुरंग में आ गई हूं।

पढ़ें: ऐसा ही रहा तो आप नहीं खरीद पाएंगे कंडोम

मुझे लगा कि वह पलंग पर मेरे पास आ गया है। संगीत अब भी बज रहा है। अब उसके नाक और होठों ने फर की जगह ले ली है।... वे मेरे कान, नाक, गले और छातियों को छूते हुए चूस रहे हैं... उसकी जीभ बेचैनी से हर अंग पर धूम रही है। मैं जोर से कराहती हूं। बेशक मैं उसे सुन नहीं सकती पर मैं कहीं खो गई हूं... मैं संगीत की उन लहरियों में कहीं खो गई हूं.. मैं इस सनसनाहट के बीच लिपटी हुई हूं... मैं कहीं नहीं जा सकती... मैं पूरी तरह से उसकी छुअन पर निर्भर हूं।

पढ़ें: ... और जब बाइक तक पर करवाया सेक्स
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us