विज्ञापन

सरकार का अनुमान: प्याज सहित कई सब्जियों का बढेगा उत्पादन, फलों में आएगी गिरावट

कृषि डेस्क, अमर उजाला Updated Tue, 28 Jan 2020 01:12 PM IST
विज्ञापन
government releases output estimates of vegetables, fruits production will be low
ख़बर सुनें
केंद्र सरकार ने सोमवार को अनुमान जताया कि चालू फसल वर्ष 2019-20 में प्याज उत्पादन सात फीसदी बढ़कर 2.44 करोड़ टन रह सकता है। इससे पिछले कुछ महीनों से प्याज की आसमान छूती कीमतों से परेशान ग्राहकों को राहत मिलने की उम्मीद है।
विज्ञापन

कृषि मंत्रालय ने अपने पहले अनुमान में कहा कि फसल वर्ष 2019-20 (जुलाई-जून) में प्याज का रकबा बढ़कर 12.93 लाख हेक्टेयर रहा, जो पिछले फसल वर्ष के 12.20 लाख हेक्टेयर से अधिक है। इस कारण प्याज उत्पादन इस साल बढ़कर 2.44 करोड़ टन रह सकता है, जो 2018-19 में 2.28 करोड़ टन रहा था।
मंत्रालय के मुताबिक, मानसून के देरी से आने और अत्यधिक बारिश के कारण खरीफ सीजन में प्याज की 22 फीसदी फसल को नुकसान हुआ। इससे कुछ महीनों के दौरान प्याज 160 रुपये किलो तक पहुंच गया था। हालांकि, अब यह 60 रुपये किलो बिक रहा है। इसके अलावा, आलू का उत्पादन इस साल मामूली बढ़कर 5.194 करोड़ टन रह सकता है, जो पिछले साल 5.019 करोड़ टन था। टमाटर का उत्पादन भी 1.9 करोड़ टन से बढ़कर 1.93 करोड़ टन रहने का अनुमान है।
सरकारी अनुमान के मुताबिक इस वित्त वर्ष में प्याज की पैदावार 7.17 फीसदी, आलू की 3.49 फीसदी और टमाटर की पैदावार 1.68 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है। गौर करने वाली बात है कि पिछले वित्त वर्ष में इन तीनों फसलों की पैदावार में कमी आई थी। कृषि विभाग ने सोमवार को 2019-20 के लिए पहली एडवांस रिपोर्ट पेश की है।

इसके मुताबिक इस वित्त वर्ष में सब्जियों की पैदावार में 2.64 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। सब्जियों में मुख्य लक्ष्य प्याज, आलू और टमाटर की पैदावार में बढ़ोतरी का है। कृषि विभाग ने 2019-20 की एडवांस रिपोर्ट के साथ-साथ 2018-19 का फाइनल एस्टिमेट भी जारी किया है।

सब्जी उत्पादन बढ़ेगा, फलों में गिरावट

मंत्रालय के अनुसार, इस अवधि में सब्जियों का कुल उत्पादन 18.3 करोड़ टन से बढ़कर 18.8 करोड़ टन रहने का अनुमान है। हालांकि, कुल फल 9.79 करोड़ टन से घटकर 9.574 करोड़ टन रह सकता है। प्रमुख फलों में सेब उत्पादन इस साल बढ़कर 27.3 लाख टन रहने का अनुमान है। लेकिन, आम, केला, अंगूर और अनार उत्पादन घटने का अनुमान है। आलोच्य अवधि में मसाला उत्पादन भी 94.2 करोड़ टन से घटकर 93.7 लाख टन रहने का अनुमान है। शहद का उत्पादन 1.2 लाख टन रहने का अनुमान है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us