SBI के दो बड़े फैसले: MCLR में की कटौती, FD पर घटाई ब्याज दर, आप पर पड़ेगा असर

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 07 May 2020 04:14 PM IST
विज्ञापन
SBI reduced MCLR and interest rate on FD know the affects

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड ब्याज दर (एमसीएलआर) में कटौती की है। कटौती के बाद एक साल का एमसीएलआर 7.40 फीसदी से घटकर 7.25 फीसदी पर आ गया है। इसमें 15 आधार अंकों की कमी की गई, जिससे ग्राहकों को काफी फायदा पहंचेगा। नई दरें 10 मई 2020 से लागू होंगी। 
विज्ञापन

ग्राहकों को होगा फायदा
मालूम हो कि मजूदा वित्त वर्ष में एसबीआई ने लगातार 12वीं बार एमसीएलआर में कटौती की है। इससे ग्राहकों को काफी फायदा होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि उनकी होम लोन की ईएमआई में कमी आएगी। हालांकि अगर आपका होम लोन एसबीआई की एमसीएलआर दर से जुड़ा है, तो नई कटौती आपकी ईएमआई को तुरंत नीचे नहीं ला सकती है, क्योंकि एमसीएलआर आधारित कर्ज में आमतौर पर एक साल का रीसेट क्लॉज होता है। बता दें कि एमसीएलआर दरें बैंक की अपनी लागत पर आधारित होती है। 


इतना सस्ता होगा होम लोन
इस संदर्भ में एसबीआई ने कहा कि अगर आपने 30 साल की अवधि के लिए 25 लाख रुपये का लोन लिया है, जो एमसीएलआर आधारित है, तो आपके होम लोन की ईएमआई करीब 255 रुपये कम हो जाएगी।

यह भी पढ़ें: वरिष्ठ नागरिकों के लिए SBI ने लॉन्च की खास FD योजना, आपको होगा फायदा


एफडी रेट में भी किया बदलाव
एमसीएलआर के अतिरिक्त आज एसबीआई ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर मिलने वाले ब्याज में भी कमी कर दी है। फिक्स्ड डिपॉजिट (दो करोड़ रुपये से कम) पर एसबीआई ने घोषणा की है। नई दरें 12 मई 2020 से लागू होंगी। तीन साल की अवधि के खुदरा टर्म डिपॉजिट पर अब 20 आधार अंक कम ब्याज मिलेगा। दो महीनों में दूसरी बार इसमें कटौती की गई। 

वरिष्ठ नागरिकों के लिए नई जमा योजना
इसके अलावा बैंक ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए 'एसबीआई वीकेयर डिपॉजिट' स्कीम की शुरुआत की है। इसके तहत वरिष्ठ नागरिकों को पांच साल या उससे ज्यादा की अवधि पर जमा करने पर 30 आधार अंकों का एक्स्ट्रा प्रीमियम इंट्रेस्ट मिलेगा। यह स्कीम 30 सितंबर 2020 तक जारी रहेगी। 

मालूम हो कि बैंकिंग क्षेत्र के नियामक रिजर्व बैंक ने एक अप्रैल 2016 से देश में मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग के आधार पर एमसीएलआर की शुरुआत की थी। उससे पहले सभी बैंक आधार दर के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दर तय करते थे।

Trending Video

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us