युवाओं के कर्ज हो सकते हैं NPA, 58 फीसदी है मिलेनियल्स की हिस्सेदारी: सिबिल रिपोर्ट

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 13 Nov 2019 10:13 AM IST
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
भले ही युवाओं (मिलेनियल्स) के दम पर बीते दो साल से कर्ज की मांग तेजी से बढ़ रही है, लेकिन भविष्य में ये ऋणदाताओं के चिंता का सबब बन सकते हैं। एक रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि उनमें से ज्यादातर लोग जोखिम भरे असुरक्षित कर्ज ले रहे हैं। मिलेनियल्स में ऐसे लोग आते हैं, जिनका जन्म वर्ष 1980 के बाद हुआ हो।
विज्ञापन

क्रेडिट ब्यूरो ट्रांसयूनियन-सिबिल ने मंगलवार को जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि नए कर्ज लेने वाले मिलेनियल्स में 58 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई, जबकि गैर मिलेनियल श्रेणी में महज 14 फीसदी की वृद्धि रही।
अपने कजों में बढ़ोतरी के लिए ऋणदाताओं की निर्भरता काफी हद तक खुदरा खंड पर बढ़ती जा रही है क्योंकि उनकी गुणवत्ता कॉरपोरेट खंड से बेहतर है, जो पहले से ही बहीखातों पर बोझ होने के कारण निवेश से संकोच कर रहे हैं।
हालांकि मिलेनियल खंड के वित्तीय व्यवहार, विशेषकर ज्यादा कर्ज लेने और राष्ट्रीय बचत दर में गिरावट को लेकर चिंताएं भी बढ़ने लगी हैं। सिबिल के अध्ययन के मुताबिक, क्रेडिट कार्ड, पर्सनल लोन और उपभोक्ता सामान के लिए कर्ज में मिलेनियल्स की 72 फीसदी हिस्सेदारी को देखते हुए इस खंड में खपत पर केंद्रित आदतों में बढ़ोतरी जाहिर होती है। इसकी तुलना में वाहन कर्ज जैसे सुरक्षित कर्ज में मिलेनियल्स की हिस्सेदारी सिर्फ 9 फीसदी है। 

हालांकि ब्यूरो रिपोर्ट ऐसी चिंताओं को कम भी करती है, जिसमें कहा गया है कि मिलेनियल्स अपने क्रेडिट स्कोर को लेकर खासे सतर्क हैं, क्योंकि वे इसकी खुद निगरानी करते हैं और उनका स्कोर 900 में से औसतन 740 है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us