विज्ञापन
विज्ञापन

कर्ज चुकाने से चूक सकती है Vodafone-Idea, कंपनी ने कर्जदाताओं को किया सावधान

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 16 Nov 2019 11:45 AM IST
vodafone idea may default on loan repayment, company warns lenders
ख़बर सुनें
वोडाफोन आइडिया ने शनिवार को कर्जदाताओं को संकेत दिया कि वो कर्ज चुकाने से चूक सकती है। समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश के बाद से कंपनियों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसकी वजह से दूसरी तिमाही में एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया  को कॉर्पोरेट इतिहास में अभी तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा हुआ है। इन तीनों कंपनियों को कुल 74,000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। 
विज्ञापन
इसी सप्ताह आदित्य बिड़ला समूह ने कहा था कि अगर सरकार समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) को लेकर 39,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की देनदारी पर बड़ी राहत नहीं देती, तो वह कंपनी में और निवेश नहीं करेगा। ऐसे में वोडाफोन आइडिया दिवालिया हो जाएगी। 

कंपनी बेचेगी अपनी संपत्तियां

कंपनी ने कहा है कि वो अपनी संपत्तियों को बेचेगी, ताकि देनदारी को पूरा किया जा सके। कंपनी के प्रबंध निदेशक रविंद्र ठक्कर ने कहा है कि वो ऑप्टिक फाइबर नेटवर्क और डाटा सेंटर को बेचने जा रही है। कंपनी इससे पहले इस हफ्ते बैंकों से कह दिया है कि वो लोन की किश्त को अदा करने में असमर्थ हैं। 

बैंकों ने इतना दिया है कंपनी को लोन

भारतीय स्टेट बैंक ने वोडाफोन आइडिया को 11200 करोड़ रुपये का लोन दे रखा है। वहीं इंडसइंड बैंक ने तीन हजार करोड़ रुपये, आईसीआईसीआई बैंक ने 1700 करोड़ रुपये और एचडीएफसी बैंक ने 500 करोड़ रुपये कंपनी को दे रखे हैं। इसके अलावा पंजाब नेशनल बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा ने कंपनी को लोन दिया हुआ है। 

टेलीकॉम सेक्टर में मौजूद कंपनियों को सबसे ज्यादा लोन एसबीआई से मिला हुआ है। 11 बैंकों ने टेलीकॉम कंपनियों को कुल 1.5 लाख करोड़ रुपये का लोन दिया है। स्टेट बैंक ने 37,330 करोड़ रुपये दे रखे हैं। वहीं एचडीएफसी बैंक ने 24,515 करोड़ रुपये, एक्सिस बैंक ने 17,135 करोड़ रुपये, यूनियन बैंक ने 15,346 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ बड़ौदा ने 11,471 करोड़ रुपये, पंजाब नेशनल बैंक ने 7,318 करोड़ रुपये, आईडीबीआई बैंक ने 6,172 करोड़ रुपये, केनरा बैंक ने 6,080 करोड़ रुपये, यस बैंक ने 5,908 करोड़ रुपये, कोटक महिंद्रा बैंक ने 4,676 करोड़ रुपये और इंडसइंड बैंक ने 2,484 करोड़ रुपये का लोन देश भर में मौजूद सभी चल रहीं टेलीकॉम कंपनियों दे रखा है।

वोडाफोन आइडिया पर 17,100 करोड़ रुपये की देनदारी

वोडाफोन आइडिया को 31 मार्च 2019 को समाप्त हुए वित्त वर्ष में कुल 17,100 करोड़ रुपये की देनदारी थी। इसका उल्लेख कंपनी ने अपनी बैलेंस शीट में भी कर रखा है। कंपनी ने देनदारी चुकाने के लिए तब 4300 करोड़ रुपये का मद रखा था। कंपनी की सकल देनदारी कुल 1.22 लाख करोड़ रुपये थी, जिसमें से 90,700 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम देनदारी और 31 हजार करोड़ रुपये गैर स्पेक्ट्रम देनदारी है। 
विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur Fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Business Diary

मेरे दफ्तर को छोड़कर जीएसटी दरों में वृद्धि को लेकर हर जगह चर्चा: सीतारमण

अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती को दूर करने के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। दिल्ली के नेशनल मीडिया सेंटर में वित्त मंत्री सीतारमण ने प्रेस कांफ्रेंस की।

13 दिसंबर 2019

विज्ञापन

चंद लाइनों में समझिए कि आखिर नागरिकता कानून से देश में किसके लिए क्या बदल गया ?

नागरिकता संशोधन बिल जैसे ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पास किया और ये कानून बना तब से और हंगामे होने लगे। यहां देखिए कानून बनने के बाद अब इसका देश पर क्या असर होगा।

13 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Safalta

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election