ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर उत्पादों का मूल देश लिखने पर फैसला आज

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 24 Jun 2020 12:23 PM IST
विज्ञापन
ई-कॉमर्स
ई-कॉमर्स - फोटो : social media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग डीपीआईआईटी बुधवार को ई-कॉमर्स कंपनियों संग बैठक में उनके प्लेटफॉर्म पर बिकने वाले उत्पादों के मूल देश उत्पादक देश का नाम बताने पर फैसला करेगा। कैट सहित कई कारोबारी संगठनों ने वाणिज्य मंत्री से मांग की थी कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर बिकने वाले उत्पादों के सामने मूल देश का नाम लिखा जाए। सीमा पर चीन के साथ जारी तनाव के बीच कारोबारी संगठनों ने खुदरा विक्रेता से चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने का आह्वान किया है। 
विज्ञापन

डीपीआईआईटी करेगा विचार
सरकार से ई-कॉमर्स कंपनियों से भी हर उत्पाद के आगे उसके मूल देश का नाम लिखने का निर्देश देने की अपील की थी ताकि ग्राहक खरीदने से पहले जान सके कि सामान कहां बना है। डीपीआईआईटी अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, पेपरफ्राई, नायिका सहित ई-कॉमर्स कंपनियों संग बैठक में इस पर चर्चा करेगा। इस बीच सरकारी ई-कॉमर्स होटल जेम ने 23 जून से सिर्फ मेड इन इंडिया उत्पादों की बिक्री अनिवार्य कर दी है।
भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव के बीच देशभर में चीन में बने उत्पादों के बहिष्कार की आवाज उठ रही है। केंद्र सरकार भी चीन से आयात कम करने के रास्ते तलाश रही है। इस संदर्भ में वाणिज्यिक एवं उद्योग मंत्रालय ई-कॉमर्स पॉलिसी में अहम प्रावधान करने जा रहा है। 

मालूम हो कि 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्त वर्ष के शुरुआती 11 महीनों में ही चीन का भारत के साथ कारोबार 47 अरब डॉलर यानी 3.57 लाख करोड़ रुपये का रहा था। 

फंसी संपत्तियों वाली कंपनियां आसानी से जुटा सकेंगी पूंजी
सेबी ने फंसी संपत्तियों वाली सूचीबद्ध कंपनियों के लिए भी पूंजी जुटाना आसान कर दिया है। सेबी ने मंगलवार को बताया कि निवेशकों के हितों और कंपनियों की वित्तीय स्थिति मजबूत बनाने को नियमों में बदलाव किया है। इसके तहत कंपनियां अपने तरजीही शेयरों के दाम सप्ताह के औसत उच्चस्तर और 2 सप्ताह के इक्विटी शेयरों के निम्न औषध के आधार पर तय करेंगे। अभी निर्धारण 26 सप्ताह के शेयरों की स्थिति पर निर्भर करता है। ऐसे शेयरधारककों को भी ओपन ऑफर से छूट दे दी गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us