विज्ञापन
विज्ञापन

रियल एस्टेट में मुश्किलों का दौर जारी, नोटबंदी के समय वाले स्तर पर पहुंचा सूचकांक

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 17 Oct 2019 07:33 PM IST
real estate sector market sentiments at demonetisation level
ख़बर सुनें
रियल एस्टेट क्षेत्र मकान खरीदारों में भरोसा नहीं जगा पा रहा है। यही कारण है कि रियल एस्टेट बाजार के धारणा सूचकांक में गिरावट आई है। खास बात है कि यह गिरावट उस स्तर पर पहुंच गई है, जितनी नोटबंदी के दौरान आई थी।
विज्ञापन
उद्योग संगठन फिक्की, नरेडको और संपत्ति सलाहकार नाइटफ्रैंक के सर्वे में कहा गया है कि सरकार और आरबीआई की ओर से मांग में तेजी लाने के लिए किए गए उपायों के बावजूद आगामी छह महीने तक इसमें तेजी आने के संकेत नहीं हैं। 

2019 की तीसरी तिमाही के रियल एस्टेट धारणा सूचकांक में कहा गया है कि भारत में रियल एस्टेट के हितरधारकों का वर्तमान धारणा सूचकांक जुलाई-सितंबर तिमाही में गिरकर 42 पर पहुंच गया है। इससे पहले के दो तिमाहियों में यह क्रमश: 47 और 62 रहा था। 2014 की पहली तिमाही के दौरान लोकसभा चुनाव से पहले और 2016 की आखिरी तिमाही में नोटबंदी के दौरान यह सूचकांक 41 रहा था।

इसके अलावा, कैलेंडर वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में भविष्य धारणा सूचकांक गिरकर अब तक के सबसे निचले स्तर 49 पर पहुंच गया। इससे यह स्पष्ट संकेत मिलता है कि रियल एस्टेट क्षेत्र दबाव में है। धारणा सूचकांक का 50 से अधिक रहना आशावाद और 50 से नीचे गिरावट को प्रदर्शित करता है। 

सरकार के उपाय विश्वास जगाने को काफी नहीं

नाइटफ्रैंक इंडिया के चेयरमैन एवं एमडी शिशिर बैजल ने कहा कि सरकार की ओर किए गए उपायों के बावजूद मांग में गिरावट से हितधारकों की धारणा निराशाजनक स्तर पर पहुंच गई है। ऐसा पहली बार है, जब हितधारक अगले छह महीने तक रियल एस्टेट क्षेत्र और पूरी अर्थव्यवस्था में होने वाली गतिविधियों को लेकर सावधान हैं।

उन्होंने आगे कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से आपूर्ति पक्ष की चुनौतियों के समाधान के लिए उपायों की घोषणा किफायती आवास सेगमेंट पर ज्यादा केंद्रित हैं। यह हितधारकों में विश्वास पैदा करने के लिए काफी नहीं है क्योंकि बड़ी चुनौतियां मांग पक्ष की राह में है। 

मकानों की बिक्री 25 फीसदी की गिरावट 

प्रॉपर्टी ब्रोकरेज कंपनी प्रॉपटाइगर के मुताबिक, जुलाई-सितंबर तिमाही में देश के प्रमुख नौ शहरों में मकानों की बिक्री 25 फीसदी घटकर 65,799 इकाई रह गई है। पिछले साल की समान तिमाही में यह आंकड़ा 88,078 इकाई रहा था। इस दौरान नए मकानों के लॉन्च में भी 45 फीसदी की गिरावट आई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में मकानों की बिक्री 28,563 से घटकर 21,985 इकाई रह गई। वहीं, गुरुग्राम में बिक्री 3,988 से घटकर 2,742 और नोएडा में 6,528 से घटकर 2,827 इकाई रह गई। जबकि इससे पहले एनारॉक और जेएलएल इंडिया की आई रिपोर्ट में भी बिक्री में क्रमश: 18 और एक फीसदी की गिरावट की बात कही गई थी। 
विज्ञापन

Recommended

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके
सब कुशल मंगल

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Business Diary

पांच तरह के होते हैं म्यूचुअल फंड, निवेश करने से पहले जानें कौन सा है आपके लिए सही

हम सभी लोग अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए बचत करते हैं। बचत करने से जहां एक तरफ इमरजेंसी में पैसे का इस्तेमाल हो सकता है, वहीं यह लोन लेने के रास्ते से भी बचाता है।

7 दिसंबर 2019

विज्ञापन

सपा और भाजपा आमने-सामने, साक्षी महाराज ने कहा- उन्नाव का नाम बदनाम हो गया

उन्नाव केस पर एक तरफ देशभर में उबाल है वहीं समाजवादी पार्टी ने भाजपा पर आरोप लगाया। देखिए क्या कहा साक्षी महाराज ने।

7 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election