विज्ञापन
विज्ञापन
अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल
Kundali

अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कौन हैं जोगिंदर सिंह उगराहां, जिन्होंने संभाली पंजाब के सबसे बड़े किसान संगठन की बागडोर

कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब-हरियाणा के किसान दिल्ली के बार्डर पर डटे हुए हैं। पंजाब का सबसे बड़ा किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन उगराहां भी कंधे स...

30 नवंबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

किसानों ने रुकवाई जाह्नवी कपूर की शूटिंग, चेतावनी-कृषि कानून रद्द न हुए तो नहीं होने देंगे हिंदी फिल्म की शूटिंग 

कृषि कानूनों को लेकर किसानों में गुस्सा थमता नजर नहीं आ रहा है। शनिवार को पटियाला के भूपिंदरा रोड के नजदीक फिल्म गुड लक जैरी की शूटिंग चल रही थी। जैसे ही किसानों को इसका पता चला, वे बड़ी संख्या में शूटिंग स्थल पहुंचे और शूटिंग रुकवा दी। 

किसानों के रोष को देखते हुए फिल्म की अभिनेत्री जाह्नवी कपूर और सारी टीम होटल लौट गई। हालांकि किसानों का रोष तब भी नहीं थमा, उन्होंने होटल के बाहर पहुंचकर नारेबाजी करनी शुरू कर दी। उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक खेती कानून रद्द नहीं होगा, तब तक पंजाब में हिंदी फिल्म की शूटिंग नहीं होने दी जाएगी।


बताया जा रहा है कि जैसे ही किसानों ने शूटिंग स्थल पर पहुंच नारेबाजी शुरू की, तो फिल्म की टीम ने उनसे बात कर मामले को शांत करने की कोशिश की थी, लेकिन किसान नहीं माने। उनका कहना था कि किसान आंदोलन में किसी फिल्मी हस्ती ने उनका समर्थन नहीं किया है। जबकि ये लोग सफलता की बुलंदियों पर लोगों के कारण ही पहुंचते हैं। क्रांतिकारी किसान यूनियन नेता गुरध्यान सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की सुन नहीं रही है। वहीं फिल्मी सितारों ने अब तक किसानों के हक में आवाज बुलंद नहीं की है। इस कारण किसानों में रोष है। 
... और पढ़ें
पटियाला में फिल्म की शूटिंग का विरोध करते किसान। पटियाला में फिल्म की शूटिंग का विरोध करते किसान।

चंडीगढ़ की नन्ही उपन्यासकार, फ्रेंच सीखते-सीखते लिख डाली जूलियट मार्टन की रोमांचक कहानी

चंडीगढ़ की 13 साल की छात्रा आरुषि ने लॉकडाउन का बेहतरीन इस्तेमाल किया और एक किताब लिख डाली। लॉकडाउन के दौरान वह ऑनलाइन फ्रेंच भाषा सीख रही थी। इसी दौरान उसके दिमाग में एक कहानी की रुपरेखा बनने लगी। आरुषि ने उसे शब्दों में ढाला और अपनी पहली किताब 'द मिस्टीरियस बुक' लिख डाली। 

आरुषि ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान वह ऑनलाइन फ्रेंच भाषा सीख रही थी। इसी दौरान उसके दिमाग में फ्रेंच लड़की जूलियट मार्टन की कहानी चलने लगी। आरुषि ने इस कहानी के पात्रों को शब्दों में ढालना शुरू किया। लगभग छह माह के बाद वह कहानी को किताब का रूप दे पाई। किताब का शीर्षक ‘द मिस्टीरियस बुक’ है।

यह भी पढ़ें - 
चंडीगढ़ : छठी से बारहवीं की कक्षाओं का समय बदलेगा, एक फरवरी से दोपहर दो बजे तक होंगी क्लास 

आरुषि ने बताया कि उनकी कहानी की मुख्य पात्र जूलियट मार्टन है। उनकी नायिका अधिवक्ता बनना चाहती है, लेकिन परिजन उसके विचार से खुश नहीं होते हैं। एक दिन वह पुस्तकालय में एक किताब पढ़ रही होती है तो अचानक उसका ध्यान किताब के बीच में से मुड़े हुए पेजों पर जाता है। किताब की कहानी और उसमें दिए गए चित्र आपस में मेल भी नहीं खाते हैं। 

इसके बाद वह उस किताब की कहानी के बारे में खोजबीन करने में जुट जाती है। जूलियट के किताब का रहस्य पता लगाने पर ही किताब आधारित है। आरुषि आठवीं कक्षा में पढ़ती हैं। किताब लिखने से पहले वह स्कूल प्रतियोगिताओं के लिए कविताएं भी लिखती रही हैं। आरुषि ने बताया कि उनके दोस्त किताब पढ़ने को लेकर काफी उत्साहित हैं। आरुषि के पिता राजेंद्र सिंह पेशे से पत्रकार और माता पुष्पा सिंह गृहिणी हैं।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ पुलिस की कारगुजारी, पीड़ित पर बनाया समझौते का दबाव, पीएमओ पहुंचा मामला तो दर्ज किया केस 

चंडीगढ़ यूटी पुलिस का एक नया कारनामा सामने आया है। तीन महीने पहले औद्योगिक क्षेत्र में गलत दिशा से आ रही आई-20 कार की टक्कर से बाइक चालक के पैर की हड्डी टूट गई। डॉक्टरों ने पैर काटने तक को कह दिया। इसके बावजूद यूटी पुलिस पीड़ित को इंसाफ दिलाने के बजाय समझौता करवाने पर अड़ी रही। 

तंग आकर पीड़ित के भाई ने डीएसपी, एसपी सिटी, एसएसपी, डीआईजी समेत डीजीपी दफ्तर में इंसाफ की गुहार लगाई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। शिकायतकर्ता ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को चिट्ठी लिखकर इंसाफ की गुहार लगाई तो औद्योगिक क्षेत्र थाना पुलिस ने कार चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया, लेकिन गिरफ्तारी अभी तक नहीं हुई है। 

यह भी पढ़ें - 
किसान आंदोलन में हिंसा की साजिश: अब गिरफ्तार युवक बोला- किसानों के दबाव में दिया बयान 

नाजिम खान ने बताया कि वह सेक्टर-29/बी निवासी है। 21 अक्तूबर 2020 की सुबह करीब 9 बजे उनका छोटा भाई आजम खान (23) अपनी केटीएम बाइक से औद्योगिक क्षेत्र से कुछ जरूरी सामान लेने जा रहा था। आरोप है कि औद्योगिक क्षेत्र स्थित सेंट्रा मॉल के पास गलत दिशा से आ रही दिल्ली नंबर की आई-20 कार ने बाइक को टक्कर मार दी।

हादसे में आजम के दाहिने पैर की हड्डी निकलकर बाहर आ गई। उसे सेक्टर 32 के सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने संक्रमण के चलते पैर तक काटने को कह दिया, लेकिन उन्होंने सेक्टर-34 स्थित एक निजी अस्पताल में इलाज करवाया, जहां करीब दो लाख रुपये खर्च के बाद पैर में रॉड डाली गई। हालांकि डॉक्टरों ने उसे एक साल तक चलने फिरने से मना किया है। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में पर्यटकों को मिलेगी नई सुविधा, सुखना के रेगुलेटरी एंड तक जाने के लिए मुफ्त ई-कार्ट शुरू 

चंडीगढ़ यूटी प्रशासन ने सुखना लेक पर वरिष्ठ नागरिकों, गर्भवती महिलाओं और दिव्यांगों के लिए एक नई सुविधा शुरू की है। ऐसे लोगों के लिए प्रशासन ने दो ई-कार्ट चलाई हैं, जो उन्हें सुखना के मुख्य गेट से रेगुलेटरी एंड तक मुफ्त में ले जाएंगी। वहां जाकर वह प्रवासी पक्षियों को देख सकेंगे। 

प्रशासक के सलाहकार मनोज परिदा ने हरी झंडी दिखाकर दोनों ई-कार्ट को रवाना किया। साथ ही उन्होंने इसके फायदे भी गिनाए। प्रत्येक ई-कार्ट में ड्राइवर समेत 9 लोगों के बैठने की सुविधा होगी। 

यह भी पढ़ें -
चंडीगढ़ नगर निगम ने बनाया अगले वित्त वर्ष का बजट, 445 करोड़ खुद जुटाने का दावा

प्रशासन ने करीब डेढ़ साल पहले सेक्टर-17 में ई-कार्ट चलाने शुरू किए थे। चंडीगढ़ स्मार्ट सिटी लिमिटेड की तरफ से इसे शुरू किया गया था। सेक्टर-17 के सौंदर्यीकरण प्रोजेक्ट में ही इसे भी शामिल किया गया था। मनोज परिदा ने पर्यावरण विभाग के कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह अलग तरह का प्रयास है, जिससे पर्यावरण को सुरक्षित रखते हुए लोगों को सुविधाएं प्रदान की गई हैं। 

इस मौके पर चंडीगढ़ प्रदूषण नियंत्रण समिति ने लोगों को कपड़े से बने बैग भी वितरित किए और सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल लगे प्रतिबंध के बारे में जागरूक किया गया। 

यह भी पढ़ें - किसान आंदोलन में हिंसा की साजिश: अब गिरफ्तार युवक बोला- किसानों के दबाव में दिया बयान 

पर्यावरण विभाग के निदेशक देबेंद्र दलाई ने कहा कि शहर में हर साल सैकड़ों प्रवासी पक्षी सुखना लेक पर आते हैं। इन प्रवासी पक्षियों का आना नवंबर महीने से शुरू हो जाता है, जो मार्च के आखिर और अप्रैल के शुरुआत तक रुकते हैं। इस कार्यक्रम में पर्यावरण विभाग के निदेशक देबेंद्र दलाई के अलावा शहर के डीसी मनदीप सिंह बराड़, उप वन संरक्षक डॉक्टर अब्दुल क्यूम, जनसंपर्क विभाग के निदेशक राजीव तिवारी समेत अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ नगर निगम ने बनाया अगले वित्त वर्ष का बजट, 445 करोड़ खुद जुटाने का दावा

सुखना पर ई कार्ट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।
चंडीगढ़ नगर निगम ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए बजट तैयार कर लिया है। इस बार निगम ने 1526 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया है। बजट में 1176 करोड़ रुपये ग्रांट इन एड के रूप में प्रशासन से लेने की बात कही गई है। हालांकि इतना बजट प्रशासन की ओर से मिलना संभव नहीं है। वहीं, निगम ने अपने संसाधनों से 445 करोड़ रुपये का राजस्व लाने का दावा किया है। 

इसमें 150 करोड़ रुपये पानी के बिलों से, 55 करोड़ संपत्ति कर से, 113 करोड़ एस्टेट विभाग से और 127 करोड़ अन्य विभागों से आने की उम्मीद जताई गई है। वहीं, पिछले बजट के भी 115 करोड़ के कार्य इस बजट में रखे गए हैं, जो कोरोना के चलते नहीं हो पाए थे। 


वित्तीय संकट से जूझ रहे निगम ने इस साल के बजट के लिए फिर से कसरत शुरू कर दी है। दिल्ली हाईकमीशन की रिपोर्ट को ध्यान में रखकर निगम ने 1526 करोड़ का बजट तैयार कर लिया है। इसमें 445 करोड़ रुपये अपने संसाधनों से जबकि शेष रकम प्रशासन से ग्रांट इन एड में लेने का खाका तैयार किया है। कोरोना काल में वैसे ही केंद्र ने ज्यादातर फंड में कटौती कर दी है। ऐसे में निगम के लिए यह सिर्फ सपनों का बजट ही साबित होगा। निगम ने इसमें 40 करोड़ रुपये प्रॉपर्टी टैक्स और 15 करोड़ रुपये आवासीय टैक्स से लाने की बात कही है।

पिछले साल मांगे थे 1470 करोड़ रुपये, मिले 425 करोड़
निगम ने पिछले साल 1470 करोड़ का बजट पास किया था। वहीं अपने संसाधनों से 397 करोड़ का राजस्व जुटाने की बात कही थी। प्रशासन की ओर से निगम को 425 करोड़ रुपये देने की बात कही गई। उसमें भी कोविड के कारण 20 प्रतिशत की कटौती हो गई। इससे बजट 325 करोड़ रह गया। बाद में जब निगम ने वित्तीय समस्याओं का हवाला दिया तो प्रशासन ने वीरवार को बचे हुए 100 करोड़ भी जारी कर दिए।
... और पढ़ें

भाजपा नेता के विरोध में किसानों-पुलिस के बीच धक्कामुक्की, कड़ी सुरक्षा में निकले नेता जी   

किसान आंदोलन में हिंसा की साजिश: अब गिरफ्तार युवक बोला- किसानों के दबाव में दिया बयान 

हरियाणा के कुंडली बॉर्डर से शुक्रवार को पकड़ा गया युवक सोनीपत के ही न्यू जीवन नगर का रहने वाला है। युवक से अपराध जांच शाखा की टीम लगातार पूछताछ कर रही है। वहीं अब आरोपी युवक का भी एक वीडियो सामने आया है जिसमें युवक कह रहा है कि किसानों के दबाव में ही उसने पत्रकारों से बातचीत की थी। 

सीआईए की टीम अब उसे दिल्ली उसके मामा के घर लेकर गई है। शुक्रवार रात को कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों ने एक युवक को पकड़कर पत्रकारों के सामने उसकी बातचीत कराई थी। इस दौरान युवक ने चार किसानों की हत्या की साजिश से लेकर राई थाना के एसएचओ प्रदीप का नाम लिया था। किसानों का आरोप था कि कुछ युवक उनके आंदोलन को बदनाम करने के साथ ही चार किसान नेताओं की हत्या कराने की साजिश रच रहे हैं। 

युवक ने भी कहा था कि उनके करीब 50-60 साथी हैं, जिसमें से दस साथी राठधना गांव से है। उनमें से कुछ युवक किसानों में मिलकर पुलिस पर फायरिंग करेंगे। जिससे हंगामा हो सके। साथ ही उसने कहा था कि राई थाना प्रभारी प्रदीप कुमार ने उन्हें ऐसा करने की ट्रेनिंग दी थी। 




जांच में सामने आया था कि राई में थाना प्रभारी प्रदीप नहीं बल्कि विवेक मलिक हैं। इससे उसके बयान पर संदेह हो गया था। युवक को सीआईए के हवाले किया गया है। युवक से सीआईए की टीम लगातार पूछताछ कर रही है। युवक ने दिल्ली में अपने मामा के घर से आने की बात कही है। जिसे लेकर उसे उसके मामा के घर भी ले जाया जा रहा है।

अब आरोपी युवक का भी वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें उसने पुलिस के सामने कहा है कि उसे किसानों ने मारपीट कर प्रेस के सामने झूठ बोलने के लिए विवश किया था। युवक ने बताया कि उसके मामा के घर बेटे का जन्म हुआ था। वह वहां से लौट रहा था। उसे किसानों ने एक दिन पहले पकड़ा था। उससे मारपीट कर उसे प्रेस के सामने झूठ बोलने को विवश किया गया था। जिसके चलते सीआईए अब पूरे मामले की सच्चाई जानने का प्रयास कर रही है। 

वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस मामले में कहा कि पुलिस पकड़े गए युवक से पूछताछ कर रही है। जांच पूरी होने तक कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। हमारी तरफ से गणतंत्र दिवस के कार्यक्रमों के लिए सुरक्षा व्यवस्थाएं की गई हैं। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में टीकाकरण अभियान का पांचवा सत्र शुरू, मनीमाजरा में भी बना केंद्र, जीएमएसएच 16 में दो केंद्र बने

चंडीगढ़ में शनिवार को कोरोना टीकाकरण अभियान का पांचवां सत्र शुरू हुआ। पांचवां सत्र सुबह 9.30 बजे शुरू हुआ। इसके अंतर्गत गवर्नमेंट मेडिकल स्पेशलिटी हॉस्पिटल सेक्टर 16 में बनाए गए दोनों केंद्रों में 12:00 बजे तक 18 और 11 लाभार्थियों को टीका लगाया जा चुका था। 

पहले केंद्र पर सबसे पहले टीका लगवाने वाले अस्पताल के उपचिकित्सा अधीक्षक डॉ. परमजीत सिंह का कहना है कि टीका हमारे लिए संजीवनी है। इसलिए हम सबको इसे अवश्य लगवाना चाहिए। टीका लगवाकर हम अपने साथ ही अपने परिवार और अपने समाज व अपने देश को इस महामारी से बचाने में सहयोग देंगे। दूसरी तरफ शनिवार से मनीमाजरा में भी एक टीकाकरण केंद्र बना दिया गया है। 


मनीमाजरा के सिविल अस्पताल में बनाए गए केंद्र में दोपहर 12 बजे तक 16 लाभार्थियों को टीका लग चुका है। सेक्टर 45 के सिविल अस्पताल में भी लाभार्थियों की संख्या 50 हो गई है जबकि जीएमसीएच 32 पर रफ्तार धीमी है। वहां अब तक दोनों केंद्रों पर क्रमशः 8 और 10 लाभार्थियों का टीकाकरण हुआ है। पीजीआई में आज टीकाकरण सत्र नहीं चलाया जा रहा।

सोमवार से 10 केंद्रों पर होगा टीकाकरण
सोमवार से शहर में टीकाकरण केंद्रों की संख्या छह से बढ़ाकर 10 कर दी जाएगी। डॉ. अमनदीप कंग ने बताया कि पीजीआई में चार, मनीमाजरा सिविल अस्पताल में एक, जीएमएसएच 16 में दो, जीएमसीएच 32 में दो और सेक्टर 45 के सिविल अस्पताल में एक केंद्र का संचालन किया जाएगा। इन सभी केंद्रों पर एक दिन में 100-100 लाभार्थियों को टीका लगाने का लक्ष्य रहेगा। 

पीजीआई को छोड़कर अन्य सभी केंद्रों पर यह व्यवस्था शनिवार से लागू हो जाएगी। पीजीआई में अगला टीकाकरण सत्र सोमवार को आयोजित किया जाएगा। डॉ. कंग ने बताया कि टीकाकरण सत्र के साथ ही काउंसलिंग का क्रम भी जारी है। लाभार्थी अपने सहयोगियों से संपर्क कर लगातार उन्हें जागरूक कर रहे हैं । वहीं चिकित्सा अधिकारी अपने कर्मचारियों से मिलकर उन्हें टीकाकरण से जुड़ी जानकारियां देकर टीकाकरण करवाने की सलाह दे रहे हैं।  इसका असर साफ दिखाई देने लगा है।

टीकाकरण में चौथे सत्र का परिणाम ये है
पीजीआई के दो केंद्रों पर 70, 74
जीएमसीएच 32 के दो केंद्रों में 20, 20 
जीएमएसएच 16 में 100
सेक्टर 45 सिविल अस्पताल में 110
एयर फोर्स स्टेशन में 10
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X