अंकल मुझे पढ़ा दो...और बच्ची के मुंह से यह सुनकर हाईकोर्ट के वकालत छोड़कर ये बन गए टीचर

अमर उजाला नेटवर्क, मोहाली Updated Mon, 09 Mar 2020 02:41 PM IST
विज्ञापन
तरसेम सिंह
तरसेम सिंह - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
पांच साल की उस बच्ची का नाम था रवीना। वो पार्क में बैठे एक बुजुर्ग के पास आई और मासूमियत से बोली... अंकल मुझे पढ़ा दो। यह अंकल पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के वकील तरसेम सिंह थे, जो उस दौरान एक रोड एक्सीडेंट के बाद हुई सर्जरी से उबर रहे थे। पांच साल की बच्ची रवीना ने हाईकोर्ट के वकील तरसेम सिंह के जीवन की धारा ही बदल दी। आज तरसेम सिंह एक एडवोकेट नहीं, बल्कि एक टीचर हैं। जो स्लम एरिया के जरूरतमंद बच्चों को फ्री ट्यूशन देकर उन्हें पढ़ा रहे हैं।
विज्ञापन

पांच साल पहले रवीना ने सात बच्चों के साथ जो कारवां शुरू करवाया था, उससे आज करीब 150 बच्चे जुड़े हुए हैं। जिसमें प्री-नर्सरी से लेकर 10वीं तक के स्टूडेंट शामिल हैं। मोहाली के सेक्टर-69 में रहने वाले एडवोकेट तरसेम सिंह ने वर्ष-2015 में ‘फ्री फ्रैग्नेंस ट्यूशन-69’ के नाम से अकेले ही संस्था की शुरूआत की। परेशानियां तो बहुत आईं पर उन्होंने हार कतई नहीं मानी। उन्होंने शुरूआत की सेक्टर-69 के पार्क नंबर-15 में बच्चों को पढ़ाने से। जब पार्क में बच्चों को पढ़ाना शुरू किया तो पहले सब ठीक रहा और स्लम एरिया के बच्चे भी पढ़ने के लिए आने लगे।
कुछ समय बीता तो लोगों ने पार्क में बच्चों को पढ़ाने पर आपत्ति जतानी शुरू कर दी। आखिरकार करीब एक साल के बाद ही उन्हें पार्क से हटना पड़ा। इसके बाद इस फ्री ट्यूशन का ठिकाना बनी सेक्टर-69 में गमाडा की ओर से अलाट की गई स्कूल की खाली जगह। धीरे-धीरे यहां भी उन्हें वहीं समस्या पेश आई। लोगों ने बच्चों के शोर को मुद्दा बनाकर तरसेम सिंह को वहां से भी हटने के लिए मजबूर कर दिया। इस पर तरसेम अपनी ‘फ्री फ्रैग्नेंस ट्यूशन-69’ को लेकर पहुंचे ग्रेशियन अस्पताल के पास वाले पार्क में। लेकिन समस्या यहां भी जस की तस रही, बल्कि थोड़ी ज्यादा ही समस्या आई।
बकौल तरसेम सिंह यहां तो लोगों ने उन्हें धमकी भरी चेतावनी ही दे डाली। इस सबसे तंग आकर तरसेम सिंह पंजाब शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार से मिले और अपनी दास्तां उन्हें सुनाई। कृष्ण कुमार ने ‘फ्री फ्रैग्नेंस ट्यूशन-69’ के लिए कुंभड़ा के सरकारी स्कूल के ओपन कंपाउंड में बच्चों को पढ़ाने की अनुमति दे दी। इसके बाद 10 दिसंबर, 2018 से ‘फ्री फ्रैग्नेंस ट्यूशन-69’ की क्लास शाम 4 से 5 बजे तक कुंभड़ा के सरकारी स्कूल में आज भी चल रही है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पेक के प्रोफेसर और आइसर के स्टूडेंट्स कर रहे मदद

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us