कोरोना और लॉकडाउनः हरियाणा में होमगार्ड की तैनाती लटकी, हथियार चलाना सिखाने की ट्रेनिंग बंद

मोहित धुपड़, चंडीगढ़ Updated Wed, 01 Apr 2020 10:57 AM IST
विज्ञापन
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ख़बर सुनें
कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण हरियाणा में लॉकडाउन का असर अब सरकार के विभिन्न महत्वपूर्ण कार्यों पर भी पड़ने लगा है। इस लॉकडाउन की वजह से सैकड़ों होमगार्ड जवानों की सरकारी अस्पतालों में तैनाती लटक गई है। तैनाती की प्रक्रिया अब लॉकडाउन के बाद शुरू की जाएगी। इसके अलावा, हर जिले में नागरिक सुरक्षा एवं गृह रक्षी विभाग द्वारा लोगों को  हथियार चलाने की दी जाने वाली ट्रेनिंग भी अगले आदेशों तक बंद कर दी गई है।
विज्ञापन

स्वास्थ्य महकमा अभी नहीं चाहता तैनाती हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सभी सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों, मरीज़ों और अस्पताल परिसर की सुरक्षा के लिए 1652 होमगार्ड जवानों को नियुक्त करने की योजना बनाई थी। सरकार ने भी इस योजना को स्वीकृति देते हुए 1 अप्रैल 2020 से इन होमगार्ड जवानों की तैनाती सरकारी अस्पतालों में करने के आदेश दिए थे। सरकार के इस फैसले से 1652 होमगार्ड जवानों को लंबी समयावधि तक रोजगार मिलने की उम्मीद जगी थी।
लॉकडाउन ने होमगार्ड जवानों की इन उम्मीदों को तोड़ दिया है। स्वास्थ्य महकमे की ओर से नागरिक सुरक्षा एवं गृह रक्षी विभाग हरियाणा को पत्र भेजा गया है कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए इस तैनाती को फिलहाल रोक दिया जाए। तैनाती की इस प्रक्रिया को लॉकडाउन के बाद अमल में लाया जाएगा। हर माह 1 से 5 तक होने वाली वेपन ट्रेनिंग बंद नागरिक सुरक्षा एवं गृह रक्षी विभाग द्वारा सभी जिलों में हर महीने 1 से 5 तारीख तक दी जाने वाली हथियार चलाने की ट्रेनिंग अगले आदेशों तक बंद रहेगी। विभाग द्वारा ये ट्रेनिंग इच्छुक आम लोगों को दी जाती है।
इसके अंतर्गत ट्रेनिंग लेने वाले व्यक्ति को 1 हज़ार रुपये फीस जमा करवानी पड़ती है। उसके बाद 5 दिन तक रोजाना तो 2 घंटे की ट्रेनिंग विभाग के विशेषज्ञों द्वारा दी जाती है। इस ट्रेनिंग में चेकोस्लोवाकिया निर्मित पॉइंट 22 राइफल चलाना और थ्योरी का ज्ञान दिया जाता है। इस दौरान पॉइंट 22 राइफल की 10-10 राउंड फायरिंग भी करवाई जाती है। यह ट्रेनिंग इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस ट्रेनिंग के बाद विभाग संबंधित व्यक्ति को सर्टिफिकेट देता है और इसी सर्टिफिकेट के आधार पर ही व्यक्ति अपनी सुरक्षा के लिए हथियार रखने का लाइसेंस प्रशासन के समक्ष अप्लाई कर सकता है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

1 जुलाई तक होमगार्ड जवानों की अस्पतालों में नियुक्ति नहीं होगी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us