विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अनिल थापरः कूड़ा बीनने वाले बच्चों को पाठशाला खोल कर रहे शिक्षित, मिल चुका राज्य पुरस्कार

समाज सेवी अनिल थापर स्लम एरिया निवासी और कूड़ा बीनने वाले बच्चों के हाथ में किताब थमाने का काम करना अपने जीवन का अहम हिस्सा मानते हैं।

16 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चंडीगढ़

मंगलवार, 31 मार्च 2020

तारीखों को लेकर असमंजस...जेईई मेन्स व अन्य प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी में लेगे विद्यार्थी चिंतित

कोरोना से बचाव के चलते ज्वॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (मेन्स) व अन्य प्रवेश परीक्षाओं की तारीखें नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने आगे बढ़ा दी है। लेकिन अब तक एग्जाम की तारीखें तय नहीं की हैं। इस  कारण विभिन्न इंजीनियरिंग और आर्केटेक्चर इंस्टीट्यूट में दाखिला की चाह रखने वाले विद्यार्थी चिंतित हो रहे हैं।

परीक्षा एनटीए की ओर से पहले 5, 7, 9 और 11 अप्रैल को जेईई मेन्स की परीक्षा आयोजित करवाई जानी थी। लेकिन कोरोना से बचाव के चलते 18 मार्च को इसे रद्द कर तारीखें आगे बढ़ा दी। उस दौरान 31 मार्च के बाद नई तारीखों की घोषणा की बात की गई थी। लेकिन बाद में केंद्र सरकार की ओर से पूरे देश में लॉकडाउन को 15 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया है।

इस कारण विद्यार्थियों में नई तारीखों को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इसके साथ यह भी डर बना है कि लॉकडाउन मई माह तक ना बढ़ जाए।
... और पढ़ें

Coronavirus: हरियाणा में अब कुल मरीज 24, सात ठीक होकर घर पहुंचे, 187 की रिपोर्ट बाकी

हरियाणा में शुक्रवार को तीन नए केस मिले। इसके बाद प्रदेश में अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब 24 हो गई है। इनमें से अभी सात मरीज ही ठीक हो पाए हैं। वहीं लगातार बढ़ते जा रहे मामलों को लेकर प्रदेश सरकार पूरी तरह चिंतित और गंभीर है।

प्रदेश में 24 पॉजिटिव केसों में से 10 मरीज गुरुग्राम, 4-4 मरीज फरीदाबाद और पानीपत व एक-एक मरीज पंचकूला, अंबाला, पलवल, सोनीपत, सिरसा और हिसार के हैं। इन पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में 348 लोग अभी तक आ चुके हैं। जिन पर स्वास्थ्य महकमे की लगातार निगरानी बनी हुई।

243 संदिग्ध मरीजों को अस्पताल में भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा है। 13621 लोगों को स्वास्थ्य महकमे ने मेडिकल सर्विलांस में हैं। 666 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, जिनमें से 459 सैंपल नेगेटिव आ चुके हैं। 187 सैंपल की रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

हरियाणा स्वास्थ्य महकमे के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा के अनुसार, प्रदेश में इस वायरस का प्रभाव ज्यादा न बढ़े, इसे लेकर हरियाणा सरकार बेहद गंभीर है। उनके अनुसार इसी के मद्देनजर लगातार लोगों पर चिकित्सा निगरानी का दायरा बढ़ाया जा रहा है। लोगों से भी आग्रह है कि वे भी स्वास्थ्य विभाग की हिदायतों का पालन करें और स्वास्थ्य कर्मचारियों को पूरा सहयोग करें।
... और पढ़ें

पंजाब में कोरोना से तीसरी मौत, तीन नए केस आए सामने, पीड़ितों की कुल संख्या पहुंची 41

पंजाब में सोमवार तक कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर तीन हो गई। अमृतसर में रविवार देर रात एक व्यक्ति की मौत के बाद सोमवार शाम छह बजे पटियाला के अस्पताल में भर्ती महिला ने भी दम तोड़ दिया। वह लुधियाना की रहने वाली थी। इसके साथ ही, सोमवार को प्रदेश में कोरोना के पॉजिटिव केसों की संख्या भी 38 से बढ़कर 41 पर पहुंच गई। वहीं फिरोजपुर में कोरोना के एक संदिग्ध 31 वर्षीय युवक की मौत हो गई है। उसके सैंपल जांच के लिए अमृतसर भेजे गए हैं। पंजाब में कर्फ्यू की अवधि भी 14 अप्रैल तक बढ़ा दी गई। 

मोहाली के नया गांव में सोमवार को एक 65 वर्षीय बुजुर्ग कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उसे पीजीआई में भर्ती किया गया है। वहीं, दुबई से लौटा एक पटियाला निवासी भी पाजिटिव पाए जाने के बाद अस्पताल में दाखिल किया गया है। सेहत विभाग इन मरीजों के संपर्क में रहे लोगों की तलाश कर रहा है। उधर, हरियाणा में अंबाला के सिविल अस्पताल और जालंधर से सामने आए मामले में मरीज के पारिवारिक सदस्यों की जांच कर ली गई है। उनकी जांच रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। 

राज्य सरकार द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार सेहत विभाग द्वारा अब तक 1051 संदिग्धों की जांच के लिए सैंपल लिए गए जिनमें से 881 की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। फिलहाल 129 लोगों की जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। फिलहाल राज्य सरकार और सेहत विभाग के लिए विदेश से लौटे ऐसे एनआरआई बड़ा सिरदर्द बने हुए हैं, जिन्होंने सरकार के आदेश के बावजूद अब तक अपनी स्वास्थ्य जांच नहीं कराई है और राज्य में इधर-उधर छिप रहे हैं। सरकार ने इनकी तलाश का काम राज्य पुलिस को सौंपा है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः यूटी प्रशासन का फरमान, कर्फ्यू तोड़ा तो सार्वजनिक होंगे फोटो-नाम, सोशल बॉयकॉट भी

चंडीगढ़वासी अभी भी कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं और कर्फ्यू के बावजूद घर से बाहर निकल रहे हैं। ऐसे लोगों से अब प्रशासन सख्ती से निपटेगा। कर्फ्यू के बावजूद बेवजह बाहर घूमने वालों के नाम और फोटो प्रशासन सार्वजनिक करने और सोशल बायकॉट करने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए प्रशासन ने पार्षदों और रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन की मदद मांगी है।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए कर्फ्यू लगा है, लेकिन शहर के कई हिस्सों में लोगों को कर्फ्यू भी घर में नहीं रोक पा रहा है। कर्फ्यू को मजाक समझकर लोग पुलिस को चकमा देकर शहर में घूम रहे हैं। इसे रोकने के लिए ही प्रशासन नेम एंड शेम की तैयारी कर रहा है। एडवाइजर मनोज परिदा ने बताया कि कर्फ्यू तोड़ने वालों के नेम एंड शेम और सोशल बायकॉट करने पर विचार कर रहे हैं।

अगले एक-दो दिनों में इस पर फैसला ले लिया जाएगा क्योंकि लोग अभी भी बेवजह सड़कों पर दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसमें प्रशासन की पार्षद, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन और एनजीओ सहायता कर सकते हैं क्योंकि सिर्फ पुलिस और प्रशासन ही सब कुछ नहीं कर सकता है। नेम एंड शेम के तहत अगर ऐसा होता है तो कर्फ्यू तोड़ने वाले व्यक्तियों के नाम और तस्वीरें शहर के सार्वजनिक जगहों पर लगाई जाएंगी। 
... और पढ़ें
कर्फ्यू तोड़ने वालों का चालान काटता ट्रैफिक पुलिसकर्मी कर्फ्यू तोड़ने वालों का चालान काटता ट्रैफिक पुलिसकर्मी

#Ladengecoronase: नर्सिंग इंचार्ज परमिंदरजीत दे रहीं 12 घंटे ड्यूटी, बच्चे कहते- मम्मी मत जाओ

कोरोना जानलेवा महामारी बनती जा रही है, लेकिन देश के डॉक्टर और नर्स इस मुसीबत के समय में भी अस्पतालों में डटे हैं और अपना फर्ज निभा रहे हैं। मां आप हमारी बात क्यों नहीं मानतीं। आखिर आप ही कोरोना पॉजिटिव मरीजों के वार्ड में ड्यूटी क्यों करेंगी, बाकी नर्सिंग स्टाफ भी तो है।

मेरा जवाब यही होता है कि सीनियर होने के नाते मेरी जिम्मेदारी बाकियों से ज्यादा है। जहां तक कोरोना की बात है तो रब सबकी रक्षा करेगा। यह कहना है सेक्टर 16 स्थित गवर्नमेंट मल्टी स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में कार्यरत परमिंदरजीत का। परमिंदर दो हफ्ते से लगातार अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में 12 घंटे ड्यूटी कर रही हैं। परमिंदरजीत के पति सरकारी नौकरी करते हैं। वो उनका घर संभालने में सहयोग कर रहे हैं।

नर्सिंग के शपथ से मिलती है ताकत
परमिंदरजीत का कहना है कि जब कभी ड्यूटी के दौरान खुद को कमजोर महसूस करती हूं नर्सिंग की पढ़ाई के दौरान ली गई शपथ को याद कर लेती हूं, जिसमें मानव सेवा के लिए खुद को समर्पित करने की सीख दी गई है। मैं खुद के साथ ही अन्य स्टाफ को भी उसके बारे में बताकर उनका मनोबल बढ़ाने का प्रयास करती हूं। इस समय मेरे साथ 7 अन्य नर्सिंग स्टाफ भी आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी कर रहे हैं। फर्क इतना है कि मेरे वार्ड में सिर्फ पॉजिटिव मरीजों को ही रखा जा रहा है जबकि अन्य वार्ड में संदिग्ध मरीज भर्ती किए गए हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः पंजाब में एनआरआई की वेरिफिकेशन के लिए प्रोफार्मा जारी, लोगों से मांगी जानकारी

पंजाब को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने उन एनआरआई और विदेशी यात्रियों के लिए स्व-घोषणा (सेल्फ डिक्लेरेशन) फार्म जारी किया है। 30 जनवरी, 2020 के बाद एनआरआई पंजाब में दाखिल हुए हैं, लेकिन उन्होंने अभी तक डिप्टी कमिश्नर, सिविल सर्जन, स्वास्थ्य विभाग या पुलिस कार्यालयों को अपनी जानकारी देने के लिए संपर्क नहीं किया है।

प्रवक्ता ने बताया कि 30 जनवरी, 2020 के बाद पंजाब में दाखिल हुए अनेक प्रवासी भारतीयों ने अपने जिले में संबंधित अथॉरिटी को जानकारी दे दी है। जिन प्रवासी भारतीयों /विदेशी यात्रियों की अभी तक डिप्टी कमिश्नर, सिविल सर्जन, स्वास्थ्य विभाग या पुलिस कार्यालयों द्वारा तस्दीक नहीं हुई, उनके लिए यह स्व-घोषणा फार्म जारी किया गया है।

उन्होंने कहा कि ऐसे प्रवासी भारतीय और विदेशी यात्री यह स्व-घोषणा फार्म ‘डायल -112 ’ नेशनल इमरजेंसी रिस्पांस सिस्टम (ईआरएसएस) में तुरंत जमा करवा दें। उन्होंने आगे कहा कि ऐसे प्रवासी भारतीय / विदेशी यात्री अपने विवरण ‘डायल -112 एप’ पर भेज सकते हैं।

उन्होंने कहा कि इस तरह के विवरण व्हाट्सअप नंबर 97799 -20404 पर भी भेजे जा सकते हैं। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि 112 नंबर तभी डायल किया जाए, जब कोई बताए गए प्लेटफार्मों पर जानकारी भेजने से असमर्थ रहता है।
... और पढ़ें

कोरोना और कर्फ्यू: पंजाब में कंपनियां करने लगी हैं छंटनी, आईटी कंपनी ने भेजे मुलाजिमों को नोटिस

कोरोना महामारी के चलते निजी कंपनी व संस्थानों में काम करने वाले मुलाजिमों को वेतन आदि के लिए धक्के न खाने पड़ें, इसके लिए जिला प्रशासन काफी गंभीर है। प्रशासन द्वारा निजी व व्यापारिक संस्थानों को आदेश तक दिए गए हैं कि वह अपने यहां काम करने वालों को पूरा वेतन दें। इसके विपरीत निजी क्षेत्र की कंपनियों ने मुलाजिमों को परेशान करना शुरू कर दिया है। मोहाली की एक कंपनी ने पहले मुलाजिमों को बिना सैलरी से घर भेजा। वहीं, अब उनकी नौकरी से छुट्टी कर दी है। पीड़ितों इस संबंधी जिला प्रशासन से गुहार लगाई है।

मुलाजिमों का कहना है कि डीसी ने उन्हें विश्वास दिलाया है कि वह इस मामले की जांच करेंगे। जानकारी के अनुसार मोहाली के इंडस्ट्रियल एरिया में एक नामी आईटी कंपनी है जो मोबाइल सॉफ्टवेयर बनाने का काम करती है। कंपनी को कोरोना महामारी के चलते प्रशासन ने आदेश दिए कि वह कुछ समय के लिए अपना काम बंद रखे। इसके बाद कंपनी ने अपने मुलाजिमों को घर भेज दिया था। कंपनियों ने मुलाजिमों को उस समय कहा था कि छुट्टी वाले समय में उन्हें सैलरी नहीं दी जाएगी। मुलाजिम भी कंपनी प्रबंधकों की बात मानकर घर चले गए।

परंतु अब कंपनी के प्रबंधकों ने मुलाजिमों को बिना नोटिस दिए नौकरी से निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। कंपनी की तरफ से इस संबंध में बकायदा लोगों को नोटिस भेजे जा रहे हैं जिससे मुलाजिम काफी आहत हैं। करीब 20 मुलाजिम कंपनी के इस रवैये से परेशानी में हैं। इसके बाद मुलाजिम सारा मामला डीसी के ध्यान में लेकर आए। डीसी ने उन्हें विश्वास दिलाया है कि वह इस मामले में किसी के साथ भी धक्का नहीं होने देंगे। उन्होंने प्रशासन के अधिकारियों को इस संबंधी उचित कार्रवाई के आदेश दिए हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः कर्फ्यू तोड़ने वालों की ड्रोन से होगी निगरानी, यूटी कर्मियों ने दी एक दिन की सैलरी

नोटिस
कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के चलते लगे कर्फ्यू को तोड़कर शहर में बेवजह घूम रहे लोगों को अब ड्रोन की मदद से पकड़ा जाएगा। ड्रोन से सड़कों पर घूम रहे लोगों और गाड़ियों की तस्वीरें लेकर पुलिस कंट्रोल रूम को भेजा जाएगा, जिसके बाद ऐसे लोगों पर तुरंत कार्यवाई की जाएगी।

सोमवार को प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने एक बैठक के दौरान यह आदेश चंडीगढ़ पुलिस के डीजीपी को दिए हैं। इसके अलावा चंडीगढ़ प्रशासन के सभी कर्मचारियों ने अपनी एक दिन की सैलरी पीएम रिलीफ फंड में दान की है, यह राशि करीब 5 करोड़ रुपये है।

प्रशासन के सभी अधिकारियों के साथ हुई बैठक में प्रशासक को बताया गया कि शहर में 56 मेडिकल टीमें कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने वालों की जांच कर रही हैं। इनमें से अगर किसी को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ती है तो उन्हें भर्ती भी किया जा रहा है। प्रशासक ने शहरवासियों से अपील की है कि वह अपने पड़ोस में विदेश से आने वाले व्यक्तियों की जानकारी तुरंत चंडीगढ़ प्रशासन को दें।

बैठक में डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि रविवार को 32000 खाने के पैकेट जरूरतमंदों को बांटे गए हैं। प्रशासक ने कोरोना महामारी में सक्रिय भागीदारी निभाने के लिए शहर की सभी एनजीओ, चैरिटेबल संस्थाओं आदि का धन्यवाद किया।

नगर निगम के कमिश्नर केके यादव ने बताया कि शहर में दूध, फल, सब्जियों आदि की होम डिलीवरी जारी है। इसके अलावा जोमैटो, मार्कफेड, बिग बाजार और पंजाब एग्रो भी जल्द ही लोगों से ऑनलाइन ऑर्डर लेकर सामान की डिलीवरी शुरू कर देंगे।

सभी शहरवासी सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे के बीच अपने पास के मार्केट और एटीएम में जाकर पैसे निकलवा व राशन का सामान आदि खरीद सकेंगे। हालांकि उन्हें पैदल ही जाना होगा, किसी भी मार्केट में गाड़ी से जाने पर पाबंदी होगी। अगर ऐसा किसी ने किया तो उसकी गाड़ी को जब्त कर लिया जाएगा।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार किसी भी प्रवासी मजदूर को शहर से बाहर नहीं जाने दिया जाएगा। इन सभी मजदूरों के रहने और खाने-पीने की व्यवस्था मलोया के कम्युनिटी सेंटर में की गई है। यहां पर वर्तमान में 52 प्रवासी मजदूर रह रहे हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः चंडीगढ़ में लॉकडाउन के दौरान अव्यवस्था के लिए डीसी होंगे जिम्मेदार, निर्देश जारीकोरोना वायरसः चंडीगढ़ में लॉकडाउन के दौरान अव्यवस्था के लिए डीसी होंगे जिम्मेदार, दिशा-निर्देश जारी

लॉकडाउन में किसी तरह की अव्यवस्था फैली तो उसकी जिम्मेदारी उपायुक्त की होगी। गृह मंत्रालय की ओर से उपायुक्त मनदीप सिंह बराड़ को लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने को कहा गया है। साथ ही प्रवासी दिहाड़ी मजदूरों के रहने-खाने के साथ ही चिकित्सकीय सेवाएं भी उपलब्ध कराने को निर्देशित किया गया है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से लॉकडाउन की घोषणा के बाद चंडीगढ़ में कर्फ्यू लगाकर शहर की सीमाओं को लॉक कर दिया गया था। इसके बाद चंडीगढ़ में कार्य कर रहे अन्य राज्यों के दिहाड़ी मजदूरों ने पलायन शुरू कर दिया। इन मजदूरों का पलायन रोकने के लिए प्रशासनिक स्तर पर कई कदम उठाए जा रहे हैं।

रविवार देर रात 12.30 बजे केंद्रीय गृह सचिव द्वारा प्रभावित राज्यों के उपायुक्तों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए हालातों का जायजा लिया गया। चंडीगढ़ के उपायुक्त मनदीप सिंह बराड़ ने भी उन्हें शहर के हालातों से रूबरू कराया गृह सचिव ने उपायुक्त को निर्देश दिए कि लॉकडाउन में किसी प्रकार की कोई लापरवाही न बरती जाए, यदि लॉकडाउन में किसी तरह की अव्यवस्था फैलती है तो उसके लिए डीसी जिम्मेदार होंगे।

गृह सचिव से मिले निर्देशों के बाद डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने एसएसपी नीलांबरी विजय जगदले से शहर से लगती सीमाओं पर स्थिति का जानकारी ली। साथ ही एसएसपी को लॉकडाउन और शहर की सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद करने के निर्देश दिए।

शेल्टर होम का लिया जायजा
प्रवासी दिहाड़ी मजदूरों के लिए शहर में बनाए गए शेल्टर होम का उपायुक्त मनदीप सिंह बराड़ और एसएसपी नीलांबरी विजय जगदले ने जायजा लिया। शेल्टर होम में लगे अधिकारियों और कर्मचारियों से शेल्टर होम में की गई व्यवस्थाओं की जानकारी ली। साथ ही प्रवासी दिहाड़ी मजदूरों के साथ चर्चा की।

उन्होंने शेल्टर होम में रहने वाले दिहाड़ी श्रमिकों से उन्हे किसी प्रकार की यहां कोई परेशानी नहीं होगी। चिकित्सकीय सेवाओं के साथ ही उन्हें शेल्टर होम में खाना भी खिलाया जाएगा। उपायुक्त ने दिहाड़ी श्रमिकों से कहा कि शहर में लॉकडाउन है, इसलिए वह शेल्टर होम के बाहर न जाएं।
... और पढ़ें

Coronavirus: चंडीगढ़ में एक दिन में कोरोना के पांच नए मामले, मरीजों की कुल संख्या पहुंची 13

तीन दिन की राहत के बाद सोमवार को एक साथ पांच मरीजों में कोरोना की पुष्टि से हड़कंप मच गया। प्रशासनिक अधिकारियों के साथ स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की चिंता बढ़ गई। तमाम प्रयास के बावजूद कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। सोमवार को पांच नए मरीजों में कोरोना की पुष्टि के बाद अब चंडीगढ़ में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 8 से बढ़कर 13 हो गई है। इसके अलावा मोहाली (पंजाब) जिले के नयागांव में भी 65 वर्षीय बुजुर्ग में कोरोना की पुष्टि हुई है।

खास बात यह है कि इन पांच नए मरीजों में से तीन में आठवें पॉजिटिव मरीज से संक्रमण फैला है। वहीं दो अन्य पॉजिटिव मरीज कनाडा से यहां आया एक दंपती है। फिलहाल सभी पॉजिटिव मरीज सेक्टर-32 स्थित जीएमसीएच में भर्ती हैं। उधर, जीएमसीएच में भर्ती मोहाली निवासी 33 साल के युवक की रिपोर्ट निगेटिव आई है।  

इनकी रिपोर्ट आई पॉजिटिव
  • जीएमसीएच में भर्ती कनाडा से लौटे दंपती।
  • आठवें पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आए 23 वर्षीय दो युवक। 
  • 40 वर्षीय एक महिला।
जागरूकता की कमी या प्रशासन की असफलता     
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद 22 मार्च को जनता कर्फ्यू को शहरभर में भारी समर्थन मिला था। लोगों ने अपनी जिम्मेदारी समझी और घरों से नहीं निकले। इसके बाद 21 दिनों के लॉकडाउन और कर्फ्यू की घोषणा के दौरान प्रशासन ने हर व्यक्ति तक आवश्यक सामान पहुंचाने का आश्वासन दिया था। 

इस दौरान कोई नया कोरोना पॉजिटिव केस सामने नहीं आया। जब शहर के लोगों तक आवश्यक सामान नहीं पहुंचा तो लोग सड़कों पर निकलने लगे। कुछ लोगों का कहना है कि यहीं से पॉजिटिव केस बढ़ने शुरू हुए। पॉजिटिव केस का आंकड़ा पहले 6 फिर 8 और अब पांच मरीजों के बढ़ने से सीधे 13 पर पहुंच गया है। लोगों का कहना है कि एक प्रशासन की योजना फेल रही, वहीं लोगों ने भी कर्फ्यू को गंभीरता से नहीं लिया। 
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः वर्करों को काम से निकालने पर चंडीगढ़ में दर्ज हुआ पहला केस, ठेकेदार गिरफ्तार

आठ कर्मचारियों को निकालने के आरोप में चंडीगढ़ पुलिस ने पंचकूला सेक्टर-25 निवासी ठेकेदार महेश के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है।

चंडीगढ़ में 23 मार्च की मध्य रात्रि से कर्फ्यू लगाया गया है। इससे मजदूर व अन्य लोगों का काम पूरी तरह ठप है। लोगों के कमाई के रास्ते बंद हो गए है, जिस कारण ज्यादा मजदूर अलग-अलग जगहों से पलायन कर रहे हैं। सोमवार को चंडीगढ़ के सभी बॉर्डर एरिया पर पलायन कर रहे लोगों पर पूरी तरह रोक लगा दी। इसके बाद पुलिस ने पलायन कर रहे 68 पुरुष, 2 महिलाएं और 2 बच्चों को मलोया के शेल्टर होम में भेजा है। इनके खाने-पीने का बंदोबस्त किया गया है।

अहाते में काम करते थे सभी कर्मचारी
सोमवार को सिपाही मंजीत सिंह गश्त कर रहे थे। अंडर रेलवेब्रिज के पास 7-8 लोग रेलवे स्टेशन की तरफ जाते देखे। उन्होंने बताया कि वह ओल्ड रोपड़ पर शराब के ठेके के पास अहाते में काम करते हैं। यह अहाता पंचकूला के महेश कुमार ने लिया था। 22 मार्च से शराब के ठेके और अहाते बंद हैं।

सोमवार को ठेकेदार महेश ने उन्हें यह कहकर अहाते से निकाल दिया कि अब वो उनका खर्चा नहीं उठा सकते। इसलिए तुम लोग अपना अपना इंतजाम देख लो। इसके बाद पुलिस ने शिव कुमार, मनजीत, रिंकू, अनिल यादव, राम, सुनील, भीम दास और विकास शर्मा को मलोया शेल्टर होम भेज दिया। जबकि सेक्टर25 निवासी महेश के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

इन धाराओं के तहत होगी कार्रवाई
पुलिस ने कहा है कि कोई भी मकान मालिक 1 महीने तक अपने किराएदार को किराए के लिए तंग नहीं करेगा और ना ही उसे बाहर निकालेगा। अगर कोई किराया मकान मालिक ऐसा करते हुए पाया गया तो पुलिस उसके खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 10 (2) (एल) के तहत कार्रवाई करेगी।

शहर से अंदर बाहर नहीं जा सकेगा कोई
एसएसपी नीलांबरी विजय जगदले ने डीएसपी थाना प्रभारियों के साथ मीटिंग की। सख्त निर्देश दिए गए कि एसएचओ/बीट स्टाफ अपने अपने संबंधित एरिया में गश्त बढ़ा दें। अगर कोई भी पलायन करता हुआ पाया जाता है तो शेल्टर होम पहुंचाएं। साथ ही बॉर्डर एरिया पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है, कि अन्य राज्य से कोई प्रवासी चंडीगढ़ में प्रवेश न करे और किसी भी प्रवासी को चंडीगढ़ से जाने की अनुमति नहीं है।
... और पढ़ें

नयागांव में मिला कोरोना का मरीज, पीजीआई-जीएमएसएच के 12 डॉक्टरों समेत 45 स्टाफ क्वारंटीन

पंजाब में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। सोमवार सुबह मोहाली जिले के नयागांव इलाके में कोरोना का नया केस मिलने से हड़कंप मच गया। पॉजिटिव पाए गए 65 वर्षीय बुजुर्ग का पीजीआई चंडीगढ़ में इलाज चल रहा है। बुजुर्ग में कोरोना की पुष्टि होते ही पीजीआई से लेकर चंडीगढ़ सेक्टर-16 स्थित जीएमएसएच प्रशासन तक सकते में आ गया क्योंकि बुजुर्ग में पहले कोरोना के लक्षण नहीं दिखे थे और उसका इलाज सामान्य रूप से चल रहा था। 

कोरोना की पुष्टि के बाद आनन-फानन में पीजीआई प्रशासन ने मरीज के संपर्क में आए 36 स्टाफ को क्वारंटीन कर दिया है। इनमें 5 डॉक्टर, 22 नर्सिंग स्टाफ, 5 सैनिटेशन अटेंडेंट और 4 हॉस्पिटल अटेंडेंट शामिल हैं। वहीं, जीएमएसएच के मेडिसिन डिपार्टमेंट के पांच डॉक्टरों समेत दो इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर, एक रेडियोग्राफर और एक स्टाफ नर्स को भी क्वारंटीन कर दिया गया है। 

जानकारी के अनुसार, 65 वर्षीय बुजुर्ग मरीज को सांस में तकलीफ होने पर 26 मार्च को दूसरे लक्षणों के आधार पर पीजीआई में भर्ती किया गया था, लेकिन धीरे-धीरे कोरोना के लक्षण सामने आने पर उसकी 29 मार्च को कोरोना की जांच कराई गई। जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। यह मरीज पीजीआई आने से पहले सेक्टर-16 स्थित जीएमएसएच में भी दो बार गया था। 
... और पढ़ें

हरियाणाः कोरोना और लॉकडाउन से जूझ रहे कर्मियों के वेतन के लिए तीन सौ करोड़ की राशि जारी

हरियाणा को कोरोना से बचाने के लिए क्षेत्र में उतरे शहरी स्थानीय निकाय के सभी कर्मचारियों के वेतन से जुड़ी समस्या को हल करने के लिए सरकार ने 300 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी है। सरकार का कहना है कि कि हमारे सभी कर्मचारी हमारे लिए सर्वप्रिय हैं। इस महामारी में कार्यरत कर्मचारियों को किसी भी तरह की आर्थिक दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। उनके खाते में समय पर वेतन पहुंचाया जाएगा।

इसके अलावा मंत्री अनिल विज ने सभी अधिकारियों को आदेश किए हैं कि दूसरों की सुरक्षा करने से पहले सभी कर्मचारी स्वयं को सुरक्षित करें। इसके लिए उन्हें सुरक्षा के लिए मास्क, ग्लब्स सहित अन्य सुविधाएं प्रदान की जाएं। इसके साथ ही 31 मार्च को रिटायर होने वाले कर्मचारियों की सेवाएं भी एक महीने के लिए बढ़ा दी गई हैं।

गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि कोरोना की रोकथाम के लिए सभी नगर निगमों के आयुक्तों और उपायुक्तों को पालिकाओं की देखरेख के लिए 18 तालमेल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। सभी उच्च अधिकारियों का क्षेत्र में हो रही गतिविधियों पर निगरानी के लिए वाटसएप ग्रुप बनाया गया है। सभी बस अड्डों, रेलवे स्टेशनों, सरकारी कार्यालयों सहित सभी क्षेत्रों में सेनिटाइजेशन करवाया जा रहा है। इसके लिए प्रदेश के सभी 87 पालिकाओं में 22440 सफाई कर्मचारी कार्यरत है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us