विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

एक आईएएस अफसर, जो मोटे इंसान को कर देते हैं पतला और कहते हैं- डॉक्टरी मेरा पहला प्यार

एक साधारण परिवार से संबंध रखने वाले चंडीगढ़ के ट्रांसपोर्ट सेक्रेटरी डॉ. अजय कुमार सिंगला ने डॉक्टर की पढ़ाई करने के बाद सिविल सेवा को ज्वाइन किया।

20 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चंडीगढ़

मंगलवार, 21 जनवरी 2020

अमेरिका के 106 गुरुद्वारा साहिब के प्रतिनिधि बोले- सभ्याचारक बुतों को स्थापित करना ही बड़ी गलती

सचखंड श्री हरमंदिर साहिब के रास्ते में स्थापित सभ्याचारक बुतों को गिराने की कोशिश की गूंज अमरीका में भी सुनाई देने लगी है। इस संदर्भ में सिख कोआर्डिनेशन कमेटी ईस्ट कॉस्ट और अमेरिकन गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्यों के बीच एक टेली कांफ्रेंस हुई। इस दौरान अमेरिका में स्थित 106 गुरुद्वारा साहिब के प्रतिनिधियों ने कई पंथक मुद्दों पर चर्चा की।

इस टेली कांफ्रेंस में श्री हरमंदिर साहिब के रास्ते में स्थापित किए गए बुतों, नागरिकता संशोधन कानून, निजी चैनल द्वारा श्री हरमंदिर साहिब में प्रसारित हुकमनामे और गुरबाणी कीर्तन पर अपना हक जताने और अमरीका में जनगणना के दौरान सिखों की गिनती को अलग करने के मुद्दों पर सभी प्रतिनिधियों ने अपने विचार रखे।

सिख संगठनों के प्रतिनिधियों ने एक सुर में कहा कि श्री हरमंदिर साहिब के मुख्य रास्ते में बुतों को स्थापित करना बहुत बड़ी गलती थी। जिन सिख नौजवानों ने इन बुतों को गिराने की कोशिश की, उन्होंने इस गलती को सुधारने का प्रयास किया है। इन नौजवानों को अरेस्ट नहीं किया जाना चाहिए था। इस दौरान पंजाब सरकार के रवैये पर चिंता जताई गई।

कोऑर्डिनेटर हिम्मत सिंह ने बताया कि पंजाब सरकार अभी तक बेअदबी के आरोपियों को अरेस्ट करने में असफल रही है जबकि इन नौजवानो पर तुरंत मुकदमा दायर कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

 
... और पढ़ें

बड़े-बड़े दावे करने वाली पंजाब यूनिवर्सिटी की हकीकत, ‘चंडीगढ़ साइंस कांग्रेस’ करवाने का समय नहीं

पंजाब यूनिवर्सिटी रिसर्च व इनोवेशन को बढ़ाने के लिए दावे बड़े-बड़े करती है, लेकिन इन्हें प्रमोट करने के लिए 15 साल पहले शुरू किए गए कार्यक्रम को लेकर पीयू गंभीर नहीं है। यही कारण है कि चंडीगढ़ साइंस कांग्रेस के लिए दिसंबर में जारी होने वाला नोटिफिकेशन अब तक जारी नहीं हुआ। शिक्षक व रिसर्च स्कॉलर इसके इंतजार में हैं। जानकारों का कहना है कि पीयू किसी अन्य कार्य में लगा हुआ है जबकि पुराने कार्य को आगे बढ़ाना चाहिए था। पीयू के पूर्व वीसी प्रो. आरसी सोबती ने रिसर्च व इनोवेशन को शुरू करने के लिए एक मंच तैयार किया था।

इसका नाम चंडीगढ़ साइंस कांग्रेस रखा गया। तय हुआ कि हर माह दिसंबर में इस कार्यक्रम के लिए नोटिफिकेशन जारी होगा और उसके बाद जनवरी व फरवरी में समय के मुताबिक इसका आयोजन होगा। इसका मुख्य उद्देश्य रिसर्च व इनोवेशन को बढ़ावा देना था। साथ ही रिसर्च स्कॉलर, दूसरे संस्थानों के विद्यार्थियों को अपने रिसर्च पेपर प्रस्तुत करने का भी मौका मिलता था। इसके अंक भी बाकायदा विद्यार्थियों को मिलते हैं जो उनकी नौकरी व प्रमोशन में काम आते हैं। बाहर से बुलाए जाने वाले विशेषज्ञों के जरिये लोगों को ज्ञान बांटा जाता है।

तीन दिन चलने वाले इस कार्यक्रम के जरिये पीयू को काफी जानकारी मिलती है। 15 साल से यह कार्यक्रम तेजी से दौड़ रहा है और पीयू के रिसर्च को भी इसके जरिये काफी मजबूती मिली। इस कार्यक्रम को पीयू को आगे बढ़ाते हुए समय से इसका नोटिफिकेशन दिसंबर में जारी करना था। साथ ही चंडीगढ़ व आसपास के इंस्टीट्यूट को निमंत्रण भेजना था, लेकिन अब तक यह कार्यक्रम नहीं हो पाया। रिसर्च स्कॉलर से लेकर संस्थान तक इस कार्यक्रम के बारे में जानकारी ले रहे हैं, लेकिन उनकी जिज्ञासा शांत नहीं हो रही है।

कुछ संस्थानों ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि वह पीयू को चिट्ठी लिख रहे हैं कि इस कार्यक्रम में देरी क्यों की जा रही है? कई अन्य सवाल भी उठाए हैं जो पीयू को चिट्ठी आने के बाद देने होंगे। कुछ शिक्षक भी कहते हैं कि यह कार्यक्रम हर साल समय पर होता था, लेकिन इस बार समय पर होने की उम्मीद नजर नहीं आ रही है।
... और पढ़ें

पंजाबः कैप्टन सरकार के पहले 'श्वेत पत्र' में निजी कंपनियों का जिक्र नहीं, क्या लिखा इसमें जानिए

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार निजी थर्मल प्लांटों से हुए समझौते और उनसे सरकार को हो रहे भारी वित्तीय नुकसान का खुलासा करने के लिए व्हाइट पेपर लाने जा रही है। विधानसभा के आगामी मानसून सत्र में यह व्हाइट पेपर लाया जाएगा, लेकिन इस नए व्हाइट पेपर पर मौजूदा सरकार के ही घिरने का अंदेशा है।

तीन साल पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह के सत्ता संभालने पर जून, 2017 को भी सरकार जो व्हाइट पेपर लाई थी, उसमें बिजली घाटे का जिक्र करते हुए कहीं भी निजी कंपनियों से हुए समझौतों को जिम्मेदार नहीं ठहराया गया, बल्कि अकाली-भाजपा शासन द्वारा लागू की गई उदय योजना के तहत पीएसपीसीएल का घाटा खत्म करने के असफल प्रयासों का ही उल्लेख किया गया है। राज्य में मौजूदा सरकार के गठन के बाद से अब तक 12 बार बिजली के दाम बढ़ाए जा चुके हैं।

हाल ही में प्रति यूनिट 30 पैसे की बढ़ोतरी के ऐलान को विपक्ष मुख्यत: आम आदमी पार्टी के हाथ बड़ा मुद्दा आ गया और निजी कंपनियों से हुए बिजली खरीद समझौतों पर आप ने विशेष सत्र में प्राइवेट मेंबर बिल लाने का भी एलान किया, लेकिन स्पीकर द्वारा विशेष सत्र में शासकीय कामकाज के अलावा अन्य कामकाज पर रोक लगाए जाने के चलते यह बिल सदन में नहीं आ सका।

हालांकि सीएम ने विशेष सत्र के पहले ही दिन यह एलान कर दिया कि अकालियों द्वारा निजी कंपनियों से किए विवादित बिजली खरीद समझौतों पर उनकी सरकार विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान श्वेत पत्र लाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि यह श्वेत पत्र पिछली अकाली-भाजपा सरकार द्वारा पावर प्लांट स्थापित करने संबंधी किए समझौतों से जुड़े सभी दस्तावेज़ों का खुलासा करेगा।
... और पढ़ें

ऐसे बचेंगी बेटियां: लिंग परीक्षण करने वाले लोगों को पकड़वाओ, एक लाख इनाम पाओ

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' मुहिम के तहत अब लिंग परीक्षण करने वाले की सूचना देने वाले को एक लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा। चंडीगढ़ के डीसी मनदीप सिंह बराड़ और स्वास्थ्य विभाग के निदेशक जी दीवान ने संयुक्त रूप से इस महत्वपूर्ण निर्णय की घोषणा की। ऐसा करने वाला देश में चंडीगढ़ पहला राज्य बन गया है।

पंजाब में इस घोषणा को लेकर प्रस्ताव तो बन गया है, लेकिन अभी अधिकारिक रूप से इसकी घोषणा नहीं की गई है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ सप्ताह के दौरान डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि अभी तक चंडीगढ़ में बेटी बचाओ मुहिम को लेकर कई कार्यक्रम किए जा रहे हैं।

20 सालों में इस उद्देश्य को लेकर किए गए कार्यों के कारण चंडीगढ़ में पुरुषों और महिलाओं के लिंगानुपात में 4 फीसदी का इजाफा हुआ है। अब लिंगानुपात को 100 प्रतिशत लाने के लिए स्वास्थ्य विभाग शहर या शहर की सीमा के बाहर लिंग परीक्षण के खिलाफ पुलिस के साथ मिलकर अभियान चलाएगा।

अभियान के तहत यदि किसी के द्वारा इसकी सूचना दी जाएगी तो उसका नाम गुप्त रखते हुए 1 लाख रुपये का नकद इनाम भी दिया जाएगा।
... और पढ़ें
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

पंजाब में बीएसएफ ने की किसानों के साथ मीटिंग, सरहदी इलाकों में सतर्क रहने को कहा

सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से ड्रोन और नशे की खेपों को भेजने की बढ़ रही गतिविधियों को लेकर बीएसएफ की 10 बटालियन के उच्चाधिकारियों ने मंगलवार को बैठक की। सरहद के नजदीक लगती जमीनों के किसानों के साथ सरहदी ब्लॉक डेरा बाबा नानक की आबाद बीओपी चेक पोस्ट पर हुई बैठक में बीएसएफ के अधिकारियों ने ड्रोन और नशा खेपों की गतिविधियों को लेकर सतर्क रहने को कहा। 

वहीं सीमा के पास लगती जमीनों में खेती के दौरान किसानों को आती मुश्किलों को भी सुना और मौके पर हल भी किया। बीएसएफ के कंपनी कमांडेंट वीरेंद्र ने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से सरहद पार से भारत की तरफ ड्रोन और नशे को भेजने की गतिविधियां चलाई जाती है। ऐसी गतिविधियों के प्रति सतर्क रहने के लिए सरहद के नजदीक लगती जमीनों के किसानों को बताया गया। 

किसान अपनी सीमा पर स्थित अपने खेतों में ज्यादातर समय वहीं रहते हैं। अधिकारियों ने किसी भी संदिग्ध गतिविधि पर बीएसएफ को सूचित करने को कहा है। इस अवसर पर टूआई हरमिंदर गिल, टूआईसी कुलदीप राजू, डिप्टी कमांडेंट राम सिंह यादव, कंपनी कमांडर परमजीत सिंह, कंपनी कमांडर बीर सिंह, कंपनी कमांडर एमएल चाहल, सनी कुमार कंपनी कमांडर के अलावा सरपंच सरबजीत सिंह, प्रितपाल सिंह, उपिंदर सिंह, सुखजिंदर सिंह, हरभजन सिंह, मनजीत सिंह, सुरिंदर सिंह, दलेर सिंह, कर्मजीत, चरणजीत सिंह मौजूद थे।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर 23 जनवरी से लागू होंगे नए पार्किंग रेट, साढ़े तेईस गुना बढ़ी फीस

चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर पार्किंग के नाम पर लोगों की जेब काटने की तैयारी पूरी कर ली गई है। नए पार्किंग रेट को 23 जनवरी से लागू करने के लिए आईआरएसडीसी (इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कारपोरेशन) ने अधिसूचना जारी कर दी है। विभाग ने साइकिल पार्किंग फीस तीन गुना, स्कूटर-मोटरसाइकिल पार्किंग साढ़े तेईस गुना और कार पार्किंग 18 गुना बढ़ा दी है।

इसके विरोध में सोमवार को अंबाला, कुरुक्षेत्र से चंडीगढ़ ड्यूटी करने के लिए आने वाले रोजाना के यात्रियों ने आईआरएसडीसी के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। रेल यात्री आईआरएसडीसी के डायरेक्टर से भी मिले। डायरेक्टर ने रेल यात्रियों को मंगलवार को फिर से मिलने के लिए बुलाया है।

एकाएक सही नहीं है किराया बढ़ाना
यात्रियों का कहना है कि नए पार्किंग रेट को एकाएक इतना बढ़ाना सही नहीं है आईआरएसडीसी को इस फैसले को बदलना होगा। ट्राइसिटी और अंबाला मंडल के दूसरे रेलवे स्टेशनों पर पार्किंग का रेट कम हैं, तो चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर इतना रेट क्यों बढ़ाया जा रहा है। अगर ऐसा ही रहा तो कोई भी यात्री यहां पार्किंग करने के लिए वाहन नहीं लाएगा।

इसके अलावा कार और ऑटो स्टैंड वालों ने भी मासिक पास के विरोध में प्रदर्शन किया। टैक्सी चालक मंजीत ने बताया कि पहले जहां पार्किंग के 600 रुपये मासिक पास के लिए देते थे, अब उन्हें नए पार्किंग रेट के हिसाब से चार हजार रुपये देने पड़ेंगे।
... और पढ़ें

दिल्ली में भाजपा-अकाली गठबंधन टूटा, अब पंजाब में चढ़ेगा सियासी पारा, दरार आने के तीन कारण

फाइल फोटो
शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी का गठबंधन दिल्ली में टूटने से पंजाब की सियासत पर इसका काफी असर पड़ेगा। बेशक अकाली दल की तरफ से दिल्ली में चुनाव न लड़ने की घोषणा कर दी गई है, लेकिन पंजाब में भारतीय जनता पार्टी के तमाम नेताओं ने कमर कस ली है।

हाल ही में भाजपा के प्रदेश प्रधान अश्विनी शर्मा की ताजपोशी समारोह में जब भाजपा के नेताओं ने मंच से घोषणा की कि पंजाब में भारतीय जनता पार्टी अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी कर 2022 में अपनी सरकार का गठन कर सकती है तो पंडाल अमित शाह जिंदाबाद के नारों से गूंज उठा था।

यह किसी से छिपा नहीं है कि शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी में खटास दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और अकाली दल लगातार टूट रहा है। भाजपा और अकाली दल का गठबंधन पंजाब में तीन बार सत्ता प्राप्त कर चुका है और अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल पांच बार सूबे के सीएम रह चुके हैं।
... और पढ़ें

मां मुकरी, छह साल की मासूम बोली- अंकल ने गलत काम किया, जज ने सुनाई 20 साल की सजा

मां तो मुकर गई, लेकिन जज के सामने छह साल की बच्ची ने अपने साथ हुई ज्यादती की पोल खोल दी, जिसके बाद आरोपी को कड़ी सजा सुनाई गई। अदालत ने पहली कक्षा की छह वर्षीय मासूम से अप्राकृतिक यौनचार के मामले में दोषी करार दिए गए सतीश को 20 साल की कैद की सजा सुनाई है।

सतीश को पोस्को में 10 और दुष्कर्म की धारा में 20 साल की कैद दी गई। उस पर 20 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है। उसे नहीं भरने पर अतिरिक्त सजा काटनी होगी। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश रजनीश बंसल की कोर्ट ने शनिवार को 12 गवाहों को सुनने के बाद उसे दोषी करार दिया था। सजा पर फैसला सोमवार सुरक्षित रखा गया था।

ये घटना शहर के महिला थाने में अगस्त, 2018 को दर्ज की गई थी। सुनाई के दौरान सबसे महत्वपूर्ण पहलु यह रहा कि किसी के दबाव में आई मां बयानों से पलट गई थी, लेकिन मासूम ने अदालत के सामने अपने साथ हुई ज्यादती बयां कर दी कि अंकल ने उसके साथ ऐसा किया। बच्ची के बयानों को ही सजा का आधार बनाया गया।

घटना के बाद से ही जमानत न मिलने के कारण सतीश जेल में बंद है। दोषी को सोमवार अन्य बंदियों के साथ अदालत लाकर बक्शीखाने में रखा गया गया। दोपहर बाद अभियोजन व बचाव पक्ष ने सजा अवधि पर अपना पक्ष रखा। करीब साढ़े चार बजे सजा सुनाने के बाद उसे वापस केंद्रीय कारागार भेज दिया गया।
... और पढ़ें

गुड़िया हत्याकांड: सीबीआई ने आरोपी आईजी जहूर जैदी की जमानत खारिज करने को दी अर्जी

शिमला के चर्चित गुड़िया हत्याकांड में आरोपी सूरज सिंह की पुलिस हिरासत में हुई मौत मामले में जिला अदालत में सोमवार को सुनवाई हुई। मामले की अगली सुनवाई 24 जनवरी को होगी। इस दौरान सीबीआई ने आरोपी आईजी पुलिस जहूर जैदी की जमानत को खारिज करने के लिए अर्जी दायर की। साथ ही सीबीआई ने जैदी की गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वारंट जारी करने की भी प्रार्थना की है।

सीबीआई ने अर्जी में सौम्या के बारे में उल्लेख किया कि किस प्रकार उस पर बयान बदलने के लिए जैदी की ओर से दबाव डाला गया। सीबीआई ने कहा कि जैदी को जमानत इस आधार पर दी गई थी कि वह गवाहों पर किसी प्रकार से दबाव नहीं डालेंगे लेकिन आरोपी जहूर जैदी ने अदालत द्वारा दी जमानत का दुरुपयोग किया है इसलिए जैदी की जमानत को खारिज कर उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया जाए।
... और पढ़ें

स्नैचिंगः संशोधित धारा 379 ‘ए’ के तहत चंडीगढ़ में पहला मामला दर्ज, ये है सजा का प्रावधान

संशोधित धारा 379 ‘ए’ के तहत चंडीगढ़ में पहला मामला दर्ज किया गया है। आरोप साबित होने पर पांच से दस साल की सजा हो सकती है। चंडीगढ़ के एसडी कॉलेज की छात्रा से दो झपटमारों ने पर्स छीन लिया। घटना रविवार रात करीब 10 बजे की है। खास बात यह है कि पुलिस ने नई धाराओं के तहत यह पहला केस दर्ज किया है।

इससे पहले झपटमारी में 356 और 379 के तहत केस दर्ज होता था। अब झपटमारों पर शिकंजा कसने के लिए धारा 379 में ‘ए’ जोड़ दिया है। इसमें दोषी को पांच से दस साल तक सजा हो सकती है। मूलरूप से कुल्लू निवासी टशी ने बताया कि उसकी बहन डीचेन (20) चंडीगढ़ सेक्टर-32 स्थित एसडी कॉलेज में बीए तृतीय वर्ष की छात्रा है। वह सेक्टर-32 में पीजी में रहती है।

रविवार रात वह अपनी सहेली के साथ मार्केट से लौट रही थी। सेक्टर-32 के वाटर वर्क्स आईटीबीपी क्वार्टर्स के पास पहुंची तो ज्यादा अंधेरा होने की वजह से बाइक सवार दो युवक उसका पर्स झपटकर ले गए। वह बाइक का नंबर भी नोट नहीं कर सकी। पर्स में मोबाइल, चार हजार और जरूरी कागजात थे। शोर शराबे के बाद लोग जमा हो गए, जिसके बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई।

डीचेन ने बताया कि झपटमार काले रंग की बाइक पर थे और हेलमेट पहना हुआ था। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों को खंगालना शुरू कर दिया है।
... और पढ़ें

श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार बोले- पंजाबी और सिख सभ्याचार में बहुत अंतर

श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि हम पंजाबी भी हैं, सिख भी हैं। पंजाबी सभ्याचार का सम्मान है लेकिन सिख सभ्याचार और पंजाबी सभ्याचार के बीच बहुत बड़ा अंतर है। जिन सिख युवकों पर श्री हरमंदिर साहिब को जाने वाली हेरिटेज स्ट्रीट पर लगे बुतों को तोड़ने के आरोप में 307 का पर्चा दर्ज किया गया है, उसे रद्द किया जाना चाहिए।

इस मामले पर अभी तक चुप्पी साधे ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सचखंड श्री हरमंदिर साहिब की तरफ जाने वाले रास्तों में सिख भावनाओं को दर्शाने वाली वस्तुएं ही स्थापित की जानी चाहिए थी। इन युवकों ने भावुक होकर यह कदम उठाया है। जिस स्थान पर बुत स्थापित किए गए हैं, वहां सिख सभ्याचार की पेशकारी होनी चाहिए थी, न कि पंजाबी सभ्याचार को दिखाने वाले बुतों की। पंजाबी सभ्याचार तो पंजाब में रहने वाले सभी धर्मों के लोगों का साझा है लेकिन सिख विरासत और संस्कृति पर सिखों का अधिकार है। श्री हरमंदिर साहिब सिखों का केंद्र है। इस कारण वहां के रास्ते में इस प्रकार के बुत स्थापित नहीं किए जाने चाहिए थे। 

सिख प्रचारकों का विवाद सुलझाएगा श्री अकाल तख्त साहिब 
ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिस प्रचारक श्रेणी को सिख मानसिकता के भीतर गुरमत का ज्ञान व गुरमत के प्रति श्रद्धा भाव भरना है, वही आपस में जुबानी जंग में उलझे हुए हैं। यह ठीक नहीं है। श्री अकाल तख्त साहिब जल्द इन सभी प्रचारकों से संवाद करने का प्रयास करेगा। इनके आपसी विवाद को भी सुलझाया जाएगा। 

एक सवाल के जवाब में ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि रंजीत सिंह ढढरियांवाले के विरुद्ध जांच के लिए गठित कमेटी अपना काम कर रही है। इस कमेटी ने ढढरियांवाले को उन पर लगे आरोपों का स्पष्टीकरण देने के लिए गुरुद्वारा दुख निवारण साहिब में आने को कहा था ताकि स्थिति स्पष्ट हो सके। उन्हें अपना पक्ष पांच सदस्यीय कमेटी के समक्ष रखना चाहिए।
... और पढ़ें

कांग्रेस ने भंग की पंजाब की सभी जिला समितियां, जाखड़ अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब के सभी पदाधिकारियों, कार्यकारी समिति (पीसीसी) और जिला कांग्रेस समितियों को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। हालांकि पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अपने पद पर बने रहेंगे। पार्टी अध्यक्ष द्वारा अचानक लिए गए इस फैसले से पंजाब की राजनीति में कयासबाजी तेज हो गई हैं। हालांकि इस संबंध में पंजाब कांग्रेस पार्टी प्रधान सुनील जाखड़ का कहना है कि यह एक नियमित प्रक्रिया है और विभिन्न कमेटियों में शामिल कई नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं को बोर्ड, निगमों में नियुक्त किए जाने से काफी पद खाली हो गए थे। इसके चलते आलाकमान ने यह फैसला लिया है कि नए सिरे से कमेटियों और कार्यकारी समितियों को गठित किया जाएगा। इस फैसले से पार्टी के नए नेताओं को जिम्मेदारी मिलेगी। वहीं केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने पंजाब की राज्य कार्यकारी समिति और जिला कांग्रेस समिति को भंग कर दिया है। बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा से चल रहे विवाद के बीच कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक कैप्टन ने बाजवा और कैबिनेट विस्तार पर चर्चा की।

सोमवार को, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा और उनके बीच चल रहे झगड़े के मध्य पार्टी अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक कैप्टन ने राज्यसभा सदस्य प्रताप सिंह बाजवा और मंत्रिमंडल विस्तार के मुद्दों पर भी चर्चा की। वहीं सोनिया गांधी ने सभी कांग्रेस शासित राज्यों में एक समन्वय और घोषणापत्र कार्यान्वयन समिति का गठन भी किया है।

सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विवादस्पद नागरिकता संशोधन कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की अपनी योजना के बारे में पार्टी सुप्रीमो से बात की। बता दें कि पिछले हफ्ते नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पंजाब विधानसभा में ध्वनि मत से प्रस्ताव पारित किया गया था। केरल के पाद प्रस्ताव पारित करने वाला पंजाब दूसरा राज्य बना। वहीं पंजाब सरकार ने सुप्रीम कोर्ट जाने का भी एलान किया था।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us