विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

छत्तीसगढ़

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से मुठभेड़ में 11 जवान घायल

छत्तीसगढ़ के उग्रवाद प्रभावित सुकमा जिले के जंगलों में शनिवार को नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में ग्यारह जवान घायल हो गए। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एल्मगुंदा के पास नक्सलियों की मौजूदगी की जानकारी के आधार पर पुलिस की जिला रिजर्व गार्ड (डीआरजी), स्पेशल टास्क फोर्स और कोबरा (कमांडो बटालियन फॉर रिजॉल्यूट एक्शन) की एक संयुक्त टीम के जवानों ने चिंतागुफा, बुरकापाल और तिमेलवाड़ा शिविरों से तलाशी अभियान शुरू किया।

टीम के रायपुर से लगभग 450 किलोमीटर दूर स्थित चिंतागुफा इलाके में खजगुड़ा पहाड़ियों पर दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई। अधिकारी ने बताया कि इस मुठभेड़ में डीआरजी के ग्यारह जवान घायल हो गए। उनमें से दो की हालत गंभीर बनी हुई है। उन्होंने बताया कि प्राप्त जानकारी के आधार पर सुरक्षा बलों के जोरदार हमले में कम से कम चार से पांच नक्सली मारे गए, जबकि इतने ही नक्सली घायल हुए हैं। 
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़ में पहले कोरोना वायरस मामले की पुष्टि, लंदन से लौटी 24 वर्षीय युवती संक्रमित

छत्तीसगढ़ में लंदन से लौटी 24 वर्षीय एक युवती के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि राज्य में कोरोना वायरस का यह पहला मामला है। युवती और उसके माता पिता को रायपुर के एम्स में निगरानी में रखा गया है। रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के अधीक्षक करन पीपरे ने बताया कि रायपुर निवासी 24 वर्षीय एक युवती के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।

डाक्टर पीपरे ने बताया, युवती इस महीने की 15 तारीख को लंदन से मुंबई होते हुए रायपुर लौटी थी। युवती लंदन में पढ़ाई करती है। युवती को जब सर्दी, खांसी की शिकायत हुई तब 17 तारीख को युवती का नमूना लिया गया था। उन्होंने बताया कि चिकित्सकों ने उसे और उसके माता-पिता को घर में रहने की सलाह दी थी। बुधवार को युवती के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई तब युवती और उसके माता पिता को तत्काल एम्स में भर्ती कर लिया गया। परिवार को पृथक वार्ड में रखा गया है।

वरिष्ठ चिकित्सक ने बताया कि युवती का इलाज किया जा रहा है तथा उसकी स्थिति सामान्य है। वहीं उसके माता पिता के भी नमूने ले लिए गए हैं और जांच कराई जा रही है। परिवार एम्स में चिकित्सकों की निगरानी में है। डाक्टर पीपरे ने बताया कि एम्स में राज्य भर से आए कोरोना वायरस के नमूनों की जांच की जा रही है तथा इलाज की व्यवस्था की गई है। उन्होंने लोगों से कहा है कि वे डरे नहीं बल्कि सावधानी बरतें।

इधर राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को बताया था कि राज्य से 114 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं जिनमें से 102 की रिपोर्ट मिल चुकी है। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में बृहस्पतिवार को राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक होगी। बैठक में कोविड-19 के संबंध में कार्ययोजना आदि पर चर्चा की जाएगी।
... और पढ़ें

नक्सली हिंसा में शहीद के परिजनों को अब मिलेंगे 20 लाख रुपये

छत्तीसगढ़ सरकार ने नक्सली हिंसा में शहीद जवानों के परिजनों को दी जाने वाली राशि को बढ़ाकर 20 लाख रुपये कर दिया है। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, इससे पहले नक्सल हिंसा में शहीद जवानों के परिजनों को तीन लाख रुपये एक्सग्रेशिया राशि (अनुग्रह अनुदान) दिया जाता था। अब इसमें 17 लाख की वृद्धि की गई है।

छत्तीसगढ़ सरकार के गृह विभाग द्वारा बुधवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। राज्य शासन द्वारा पुलिस मुख्यालय के प्रस्ताव पर भारत सरकार की नवीन एसआरई गाइडलाइन के अनुसार नक्सली हिंसा में शहीद जवानों के परिजनों को दी जाने वाली एक्सग्रेशिया राशि में यह वृद्धि की गई है।
... और पढ़ें

Coronavirus in Chattisgarh: कोरोना से ठीक होने के बाद नौंवें मरीज को मिली अस्पताल से छुट्टी

रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से सोमवार को 21 वर्षीय व्यक्ति को छुट्टी मिल गई जो गत 31 मार्च को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। यह जानकारी छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य अधिकारियों ने दी।

अधिकारियों ने बताया कि कोरबा के रहने वाले इस व्यक्ति ने लंदन की यात्रा की थी और वह राज्य में कोविड-19 का नौवां मरीज हैं, जिसे ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिली है। राज्य में अब कोरोना वायरस का एक ही व्यक्ति है जो अभी भी संक्रमित है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट किया कि एक और अच्छी खबर, एक और कोरोना मरीज को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। संक्रमित 10 में से नौ व्यक्ति ठीक हो चुके हैं। अब एक ही संक्रमित व्यक्ति है।
... और पढ़ें
छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस

छत्तीसगढ़: कोरोना वायरस के तीन मरीज ठीक हुए, तीन अब भी अस्पताल में

 छत्तीसगढ़ में कोविड-19 के तीन मरीज ठीक हो गए हैं और उन्हें रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। राज्य में संक्रमण से ठीक हुए रोगियों की संख्या अब सात पहुंच गई है।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित तीन मरीज अब भी अस्पताल में भर्ती हैं। विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राजधानी रायपुर की रहने वाली एक महिला सहित तीन मरीजों की जांच रिपोर्ट में दोबारा संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई। इसके बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इनकी उम्र 21 से 24 साल के बीच है। वे विदेश यात्रा पर गए थे।

उन्होंने बताया कि अब भी तीन लोग संक्रमित हैं, जिनमें लंदन से लौटा 21 साल का युवक है जिसे 31 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी के साथ 16 वर्षीय तब्लीगी जमात का सदस्य है और राजनंदगांव का एक व्यक्ति है जिसके 25 मार्च को संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट किया कि ठीक होने के बाद कोरोना वायरस के तीन और मरीजों को एम्स से छुट्टी दे दी गई है। 10 में से सात मरीज ठीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि तीन मरीज भी जल्दी ठीक हो कर अपने घर लौट जाएं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दौरान पैदा हुए जुड़वां बच्चों का नाम रखा 'कोरोना' और 'कोविड'

कोरोना और कोविड ये वो दो शब्द हैं, जिसने पूरी दुनिया को घुटनों पर ला दिया है। ये दो शब्द दूसरों के मन में भय पैदा कर सकते हैं, लेकिन रायपुर के दंपती ने अपने नवजात जुड़वां बच्चों का नाम 'कोरोना' और 'कोविड' रखा है।

दंपती के लिए जुड़वां बच्चों के रूप में कठिनाइयों पर विजय का प्रतीक हैं। जुड़वां बच्चों में एक लड़का और एक लड़की है। लोगों के मन से महामारी के भय को दूर करने के लिए महिला और उसके परिवार ने जुड़वां बच्चों का नाम ही कोरोना और कोविड रख दिया है।

नाम को लेकर उन्होंने कहा कि उनके बच्चों के ये नाम हमेशा इस लॉकडाउन की याद दिलाते रहेंगे। बच्चों की मां कहती हैं कि मैं इस दिन को जिंदगी भर नहीं भूल सकती। शुक्रवार की शाम से पेट में दर्द शुरू हुआ ऐसे में रायपुर के आंबेडकर अस्पताल तक पहुंचने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ी।

नवजात बच्चों की 27 वर्षीय मां प्रीति वर्मा ने बताया मुझे जुड़वां बच्चों के रूप में 27 मार्च की सुबह आशीर्वाद मिला। हमने अभी के लिए उनका नाम कोविड (लड़का) और कोरोना (लड़की) नाम रख दिया है।

उन्होंने कहा कि जब अस्पताल के कर्मचारियों ने भी बच्चों को कोरोना और कोविड के नाम से बुलाना शुरू किया, तो हमने आखिरकार यह नाम पर रखने का फैसला किया। मूल रूप से उत्तर प्रदेश का रहने वाला यह दंपती राज्य की राजधानी रायपुर की पुरानी बस्ती इलाके में किराए के मकान में रहता है।

रिश्तेदार बता रहे हैं साहसिक फैसला

उन्होंने बताया कि 26 मार्च की देर रात  मुझे अचानक गंभीर दर्द का अनुभव हुआ। किसी तरह मेरे पति ने 102 महतारी एक्सप्रेस सेवा के तहत संचालित एक एम्बुलेंस की व्यवस्था की। विनय वर्मा ने कहा कि बंद के कारण सड़कों पर वाहनों की आवाजाही की अनुमति नहीं थी, हमें विभिन्न स्थानों पर पुलिस ने रोक दिया था, लेकिन उन्होंने मेरी हालत को देखते हुए हमें जाने दिया। मां और बच्चे तीनों स्वस्थ हैं। अस्पताल में बच्चों को देखने पहुंच रहे दोस्त और रिश्तेदार भी बच्चों के नामकरण को साहसिक फैसला बता रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मैं सोच रही थी कि आधी रात को अस्पताल में क्या होगा, लेकिन सौभाग्य से डॉक्टर और अन्य कर्मचारी बहुत सहयोग कर रहे थे। वर्मा ने कहा कि हमारे रिश्तेदार, जो अस्पताल पहुंचना चाहते थे, वो बंद के कारण नहीं पहुंच पा रहे थे, क्योंकि लॉकडाउन के कारण बस और ट्रेन सेवाएं बंद हैं।

बीआर आंबेडकर मेमोरियल अस्पताल के जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ), शुभ्रा सिंह ने कहा कि मां और नवजात शिशुओं को हाल ही में छुट्टी दे दी गई थी और वे अच्छे स्वास्थ्य में थे। सिंह ने कहा कि जैसे ही प्रीति वर्मा अपने पति के साथ अस्पताल पहुंची, तुरंत एक सीजेरियन सेक्शन करने की व्यवस्था की गई क्योंकि यह एक जटिल मामला था।

उनके आने के 45 मिनट के भीतर ही डिलीवरी सफलतापूर्वक हो गई। सिंह ने कहा कि जुड़वां बच्चे कोविड और कोरोना के नाम अस्पताल में आकर्षण का केंद्र बन गए थे।
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़ सरकार ने दी राहत, निजी स्कूल लॉकडाउन के दौरान नहीं ले सकते फीस

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से देश में लॉकडाउन लागू है। स्कूल, कॉलेज बंद हैं। लेकिन कई राज्यों में कुछ निजी शैक्षणिक संस्थान अभिभावकों से ऐसे समय में फीस भरने की मांग कर रहे हैं। ऐसे मामलों को छत्तीसगढ़ की राज्य सरकार ने काफी गंभीरता से लिया है। राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के सभी निजी स्कूलों से कहा है कि वो लॉकडाउन के दौरान फीस न मांगें।

इसके लिए बुधवार को सरकार ने निजी स्कूलों के लिए निर्देश भी जारी किए हैं। इसके मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान निजी स्कूल के फीस वसूलने पर रोक लगा दी है। छत्तीसगढ़ सरकार ने अभनपुर क्षेत्र के ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को भी निलंबित कर दिया है। अधिकारी पर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने और पद का दुरुपयोग करने का आरोप था।

क्या है पूरा मामला

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने निजी स्कूल ने संचालकों से कहा कि वे स्कूल में पढ़ने वालों छात्र-छात्राओं से लॉकडाउन के दौरान फीस न लें। लेकिन इसके बाद भी परिजनों की ओर से राज्य सरकार को बार-बार शिकायत मिल रही थी कि निजी स्कूलों उनके ऊपर बच्चों की फीस भरने के लिए दबाव बना रहे हैं।

इसके बाद राज्य सरकार ने आदेश जारी किया और मुख्यमंत्री ने ट्वीट में लिखा कि लॉकडाउन के दौरान अनेक निजी शालाओं द्वारा स्कूल फीस जमा करने संबंधी संदेश पालकों को लगातार भेजे जा रहे हैं, ऐसे समय में फीस भुगतान के लिए दबाव डालना उचित नहीं है। सभी शालाओं को लॉकडाउन की अवधि में स्कूल फीस वसूली स्थगित रखने के निर्देश दिए गए हैं।


 


... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: एक युवती के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि, मरीजों की संख्या बढ़कर नौ हुई

भूपेश बघेल
छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर नौ हो गई है। दरअसल मंगलवार को एक युवती के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई। इस तरह पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के दो नए मामले सामने आने के बाद इस वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर नौ हो गई है। इनमें से दो लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

जानकारी के अनुसार, रायपुर निवासी लगभग 25 वर्षीय युवती में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। युवती को रायपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया है। युवती कुछ दिनों पहले लंदन से लौटी है।

इससे पहले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया था कि सोमवार रात कोरबा शहर के एक युवक में कोरोना की पुष्टि होने के बाद उसे एम्स में भर्ती कराया गया। राज्य में पिछले 24 घंटों में दो लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की गई है।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि संक्रमित हुए दो लोगों रायपुर निवासी 68 वर्षीय वृध्द और भिलाई निवासी 33 वर्षीय युवक को इलाज के बाद एम्स से छुट्टी दे दी गई। बता दें कि रायपुर एम्स में पांच मरीजों को तथा बिलासपुर और राजनांदगांव जिले के अस्पतालों में एक-एक मरीज भर्ती हैं।

अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल 787 संभावित व्यक्तियों की पहचान कर उनके नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। अभी तक 732 के परिणाम निगेटिव मिले हैं और 46 की जांच जारी है।

अधिकारियों ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक ने बैठक लेकर कहा है कि छत्तीसगढ़ में अभी तक कोरोना संक्रमित लोगों में ब्रिटेन से आए व्यक्तियों की संख्या सर्वाधिक है। इसलिए ब्रिटेन से आए सभी लोगों के नमूनों की जांच की जाए।

उन्होंने बताया कि मंगलवार तक ब्रिटेन से आए 95 व्यक्तियों का नमूना लिया गया है। जिनमें से चार लोगों में कोरोना की पुष्टि की गई है तथा 47 नमूनों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। शेष नमूनों की रिपोर्ट नहीं आई है।
... और पढ़ें

Chhattisgarh: गाना गाकर लोगों को जागरूक करते दिखे पुलिस अधिकारी, लोग कर रहे तारीफ

देशभर में कोरोना वायरस से बचने के लिए लोगों को जागरुक किया जा रहा है। प्रधानमंत्री जहां लोगों को घरों में रहने और साफ सफाई रखने की सलाह दे रहे हैं वहीं आम लोग भी सरकार का पूरा सहयोग करते दिख रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के एक पुलिस अधिकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है। अभिनव उपाध्याय नाम के ये पुलिस अधिकारी लोगों को गाना गाकर जागरुक करते हुए दिख रहे हैं। 'एक प्यार का नगमा है' गाने की तर्ज पर एक नया गाना तैयार किया गया है जिसमें लोगों से सेनिटाइजर से हाथ धोने और घर से बाहर न जाने की अपील की जा रही है।

अभिनव उपाध्याय ने बिलासपुर के सिविल लाइंस में COVID-19 के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एक गीत गाया। इलाके में एक महिला के सऊदी अरब से लौटने के बाद उसका टेस्ट किया गया था जो कि पॉजिटिव आया। राज्य में अब तक 7 कोविड-19 मामले सामने आ चुके हैं। जिसे ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने मार्च महीने में विदेश यात्रा से आए सभी लोगों को कोरोना जांच में कवर करने और आइसोलेशन में रखने का भी निर्णय लिया है।

पेट्रोलिंग पुलिस वैन में लगे लाउडस्पीकर में पुलिसकर्मी गाना गाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग इस कदम की खूब तारीफ कर रहे हैं। पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन होने के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में लोग घरों में रहने को मजबूर हैं। ऐसे में पुलिस इस तरह के वीडियो से लोगों का मनोबल बढ़ा रही है। इन दिनों सोसल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो वायरल हो रहे हैं।
 
... और पढ़ें

कोरोना: हफ्तों बाद लौटे छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस देव अब क्वारंटीन, राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई सात

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में बड़ी तबाही मचाई है। 30 हजार से अधिक लोगों की जान लेने के बाद सब इस महामारी ने भारत में भी तेजी से फैलना शुरू कर दिया है। लगातार बढ़ रहे मामलों की वजह से रविवार को संक्रमितों की संख्या हजार के पार हो गई।

इसे रोकने के लिए केंद्र से लेकर राज्य सरकारें भी पूरे दमखम के साथ लगी हुई हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस देव सिंह पर सवाल उठने लगे हैं। राज्य में बढ़ते मामलों के बीच और लगातार हो रहे विरोध के बाद वे लंबे ब्रेक के बाद रायपुर लौटे। लेकिन लौटने के बाद उन्होंने खुद को क्वारंटीन कर लिया।

दरअसल, कोरोना वायरस के छ्त्तीसगढ़ में पैर पसारते ही राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस देव पहले तो बीमार रिश्तेदार का हवाला देकर मुंबई चले गए। इसके बाद लॉकडाउन के बहाने हफ्तेभर तक मुंबई में जमे रहे।

जब राज्य की जनता ने महामारी से लड़ने के लिए स्वास्थ्य मंत्री की खोजबीन की और सवाल पूछने शुरू किए तो दबाव बढ़ता देख टीएस देव आनन फानन में रायपुर पहुंचे।  लेकिन हद तो तब हो गई जब जनता की सुध लेने के बजाय मंत्री जी गाइडलाइन का हवाला देकर क्वारनटाइन हो गए। 

हालांकि उन्होंने आते ही सोशल मीडिया पर एक ट्वीट के माध्यम से राज्य में चल रही तैयारियों के बारे में जानकारी दी। अधिकारियों की मानें तो इस महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री लगातार इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं। बता दें कि राज्य में कोरोना से जुड़े मामले बढ़कर सात हो गए हैं।
... और पढ़ें

विधायक निवास के बाहर राशन लेने उमड़ी भीड़, कांग्रेस एमएलए के खिलाफ मामला दर्ज

कांग्रेस विधायक शैलेश पांडे के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। उनपर कथित तौर पर सीआरपीसी की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन करने का आरोप है। उन्होंने बिलासपुर में मुफ्त राशन देने की घोषणा की जिसके बाद उनके घर के बाहर भीड़ इकट्ठा हो गई।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओपी शर्मा ने कहा, 'हमें जानकारी मिली थी कि बड़ी संख्या में लोग आवश्यक वस्तुओं को लेने के लिए विधायक के आवास पर एकत्र हुए हैं। वहां पर लगभग एक हजार लोग थे। यह राज्य सरकार द्वारा लगाई गई धारा 144 का उल्लंघन है। भारतीय दंड संहिता की धारा 188 और 279 के तहत कार्रवाई की जाएगी।' 

कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली सरकार ने राज्य में धारा 144 लगाई हुई है। अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई देते हुए पांडे ने कहा, 'जब मैं अपने आवास पर पहुंचा तो वहां बहुत बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ जमा थी। मैंने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओपी शर्मा को इसकी जानकारी दी।'

उन्होंने कहा, 'मैंने पुलिस को फोन करके भीड़ को तितर-बितर करने के लिए कहा। मैं बस जरुरतमंद लोगों की मदद करने की कोशिश कर रहा था, इसमें कुछ भी गलत नहीं है। उस वक्त पुलिस ने भीड़ को रोका क्यों नहीं? यह अपराध कैसे हो सकता है? मैंने लोगों को आने के लिए नहीं कहा था।'
 


विधायक का कहना है कि लोग वहां इसलिए आए क्योंकि कर्फ्यू में ढील दी गई। पुलिस को लोगों को रोकना चाहिए था। उन्होंने इस घटना के पीछे भाजपा का हाथ होने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि मुझे नहीं पता कि आखिर पुलिस ने कार्रवाई क्यों नहीं की।
... और पढ़ें

मां की मौत के बाद पैदल ही रायपुर से वाराणसी जा रहा है युवक, तीन दिन में पहुंचा बैकुंठपुर

देश में 21 दिनों की संपूर्ण देशबंदी जारी है। ऐसे में रेल, बस, विमान और सभी तरह की सेवाएं बंद हैं। जिसकी वजह से कई लोग पैदल ही अपने गांव लौट रहे हैं। हालांकि इस बीच कई ऐसे लोग हैं जो अपनों को खोने के बावजूद पैदल ही रास्ता तय कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला छत्तीसगढ़ में सामने आया है। जहां अपनी मां को खोने के बाद युवक रायपुर से पैदल चलकर वाराणसी जा रहा है।

इस युवक का नाम मुराकीम है। वह अपने दो दोस्तों विवेक और परवीन के साथ रायपुर से उत्तर प्रदेश के वारणसी पैदल चल रहे हैं। मुराकीम की मां की 25 मार्च को मौत हो गई थी। वे तीन दिनों में रायपुर के कोरिया जिले के बैकुंठपुर पहुंचे।

मुराकीम के एक दोस्त ने कहा, 'हम लगभग 20 किलोमीटर पैदल चल चुके हैं और हमने दो-तीन लोगों से रास्ते में लिफ्टी ली। जब हम बैंकुठपुर पहुंचे तो यहां मौजूद एक मेडिकल दुकान के मालिक ने हमारी मदद की।'
 


केवल मुराकीम ही नहीं कई लोग अपने गांव, राज्यों को लौट रहे हैं। ये लोग खुद को जिंदा रखने के लिए सैकड़ों मील का सफर पैदल ही तय कर रहे हैं। इनकी जद्दोजहद घर पहुंचने की है ताकि उन्हें भूख से न मरना पड़े। कुछ इसलिए वापस अपने घर कजा रहे हैं ताकि उनके बच्चों को भूख से तड़पना न पड़े। सरकार बेशक सभी लोगों की सहायता करने की कोशिश कर रही है लेकिन मौजूदा हालात में यह हालात नाकाफी साबित हो रहे हैं।
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के पांच नए मामले, प्रदेश में छह हुई संक्रमित मरीजों की सख्या

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस भारत को तेजी से अपनी पकड़ में ले रहा है। शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक इस वायरस से देश में 17 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 700 ले ज्यादा लोग संक्रमित हैं। ये जानलेवा वायरस छत्तीसगड़ तक भी पहुंच गया है। 

छत्तीसगढ़ में एक ही दिन में कोराना वायरस संक्रमण के पांच नए मामले सामने आने के बाद राज्य में कोरोना प्रभावित मरीजों की संख्या बढ़कर छह हो गई है। देर रात राज्य में तीन और नए मामले सामने आने के बाद प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या छह हो गई है। 

इन तीनों में से एक मरीज रायपुर, एक महिला बिलासपुर से और एक अन्य मरीज दुर्ग जिले से है। छह मरीजों में से रायपुर के तीन मरीजों और दुर्ग जिले के एक युवक का इलाज रायपुर के एम्स में किया जा रहा है। जबकि दो अन्य लोगों का इलाज उनके जिला मुख्यालय में स्थित अस्पतालों में किया जा रहा है। 

छत्तीसगढ़ में कोरोना का पहला मामला एक सप्ताह पहले सामने आया था। लंदन से लौटी 24 वर्षीय संक्रमित मिली थी। उसकी रिपोर्ट में वायरस के संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उसे एम्स में भर्ती कराया गया था। वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य के सभी पत्रकारों से आग्रह किया है कि कोरोना वायरस महामारी के कवरेज के दौरान पूरी सावधानी बरतें, सुरक्षा प्रोटोकॉल का पूरा पालन करें और प्रेस कांफ्रेंस आदि से बचें। 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन