विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

छत्तीसगढ़

सोमवार, 21 अक्टूबर 2019

गोडसे को 'जी' कह कर फंसे भाजपा विधायक, सीएम बघेल बोले- नकाब उतर गया

महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे के नाम में 'जी' लगाने के बाद छत्तीसगढ़ के भाजपा विधायक नेता अजय चंद्राकर विवादों में आ गए हैं। विधानसभा के विशेष सत्र के दूसरे दिन भाजपा नेता चंद्राकर ने गांधी पर चर्चा करते हुए 'गोडसे जी' कह डाला। इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उनपर तंज कसा कि दिखावे का नकाब उतर गया। वहीं, अजय चंद्राकर ने कहा कि मृत व्यक्ति के प्रति सम्मान दिखाने का ये उनका तरीका है।

सीएम भूपेश बघेल ने अपने भाषण में कहा कि 'गोडसे जी' वाले बयान की निंदा की जानी चाहिए और उसके खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाये जाने चाहिए। इस पर चंद्राकर ने कहा कि अगर सीएम गोडसे की विचारधारा जानना चाहते हैं तो पहले उन्हें यह साफ कर देना चाहिए कि ये सत्र महात्मा गांधी जी के लिए है या गोडसे? 

पूर्व मंत्री चंद्राकर ने ये भी कहा कि बघेल अगर चाहें तो छत्तीसगढ़ विधानसभा का विशेष सत्र एक दिन के लिए और बढ़ा सकते हैं ताकि गोडसे पर चर्चा हो सके। 

सीएम बोले- सावरकर के चेले थे गोडसे

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा था कि वे भाजपा और आरएसएस के महात्मा गांधी को सम्मान देने की बात तभी मानेंगे जब वे 'गोडसे मुर्दाबाद' कहना शुरू कर देंगे। बघेल ने कहा कि गोडसे दरअसल वीर सावरकर के चेले थे और गांधी की हत्या में एक भूमिका सावरकर की भी रही।

बघेल ने मीडिया से कहा कि गोडसे असल में सावरकर का चेला था। यह ऐतिहासिक तथ्य है और इससे कोई इनकार नहीं कर सकता। सावरकर भी गांधी की हत्या की योजना के एक भाग थे और इससे कोई इनकार नहीं करेगा।
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: विधानसभा में बोलने का मौका न मिलने पर कांग्रेस विधायक ने छोड़ा सदन, भाजपा ने मनाया

छत्तीसगढ़ विधानसभा के दो दिवसीय विशेष सत्र गुरुवार को समाप्त हुआ। पक्ष-विपक्ष में इन दो दिनों में काफी तकरार देखने को मिली। वहीं, गुरुवार को बड़ा दिलचस्प मामला देखने को मिला, जब सत्ता पक्ष के विधायक ने ही सदन से वॉक आउट कर दिया। 


कांग्रेस विधायक अमितेश शुक्ल विधानसभा में बोलने का मौका नहीं मिलने से नाराज थे। जिसके बाद उन्हें मानने के लिए भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल आगे आए और समझाया। 

बता दें कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर छत्तीसगढ़ विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र दो व तीन अक्तूबर को आयोजित कर दी गई थी। दोनों दिन विधायक अमितेश शुक्ल को बोलने का मौका नहीं मिला, जिससे नाराज होकर उन्होंने सदन से वॉकआउट कर दिया। विधायक गांधी जी पर अपना वक्तव्य रखना चाहते थे। 

अमितेश ने सदन से बाहर कर मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि मुझे बोलने का मौका नहीं दिया गया, मैं खुद स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार से आता हूं। मैं गांधी जी के बारे में बातें कहना चाहता था। लेकिन मुझे अवसर नहीं दिया गया। इसलिए मैं बाहर चला गया।

उन्होंने आगे कहा कि वे इस बात से बेहद दुःखी हैं, पार्टी फोरम पर वे अपनी बात रखेंगे। इसके बाद भाजपा के वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल उन्हें मनाने आए। विधायक के मनाने के बाद अमितेश ने कहा कि वे वापस सदन में जा रहे हैं। 
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा- इतिहास गवाह है, गोडसे सावरकर का चेला था

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि नाथूराम गोडसे के बहाने सावरकर पर निशाना साधा है। बघेल ने कहा है कि गोडसे सावरकर का शिष्य था और यह एक ऐतिहासिक तथ्य है जिसे कोई नकार नहीं सकता है। सावरकर गांधी जी की हत्या की साजिश का हिस्सा था। इससे कोई इनकार नहीं कर सकता। 


साल 1948 में महात्मा गांधी की हत्या की साजिश में शामिल होने के आरोप में सावरकर को गिरफ्तार किया गया था। सावरकर को बापू की हत्या के छठवें दिन मुंबई से गिरफ्तार किया गया था। हांलाकि 1949 की फरवरी में उन्हें बरी कर दिया गया था। 

बता दें कि वीर सावरकर न तो कभी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सदस्य रहे और न ही भारतीय जनसंघ के सदस्य थे। बावजूद इसके संघ परिवार में विनायक दामोदर सावरकर का नाम बहुत सम्मान के साथ लिया जाता है। 

साल 2000 में वाजपेयी सरकार ने सावरकर को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की सिफारिश की थी। लेकिन तत्कालीन राष्ट्पति केआर नारायणन ने इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया था।  ... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: चित्रकोट उपचुनाव के लिए मतदान, 74 फीसदी वोटिंग

छत्तीसगढ़ की नक्सल प्रभावित चित्रकोट विधानसभा सीट में हो रहे उपचुनाव के लिए सोमवार सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ। यहां शाम पांच बजे तक 74 फीसदी मतदान हुआ। 

राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र की इस विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक दीपक बैज को बीते लोकसभा चुनाव में सांसद चुन लिए जाने के बाद से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित यह सीट रिक्त है।

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि चित्रकोट विधानसभा सीट के लिए सुबह आठ बजे मतदान प्रारंभ हुआ। मतदाता शाम पांच बजे तक अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

अधिकारियों ने बताया कि इस मतदान में क्षेत्र के कुल 1,67,911 मतदाता मताधिकार का प्रयोग करेंगे जिनमें 79,284 पुरूष, 88,626 महिलाएं और एक तृतीय लिंग मतदाता शामिल है।

उन्होंने बताया कि इस विधानसभा सीट में शांतिपूर्ण मतदान के लिए 229 मतदान केंद्र बनाए गए हैं जिनमें 213 मतदान केंद्र बस्तर जिले में तथा 16 मतदान केंद्र पड़ोसी सुकमा जिले में है। इन मतदान केंद्रों में 54 अतिसंवेदनशील और 93 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं।

अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। क्षेत्र में आठ हजार जवानों को तैनात किया गया है जिसमें अर्द्धसैनिक बलों और राज्य के बलों के जवान शामिल हैं। इसके अलावा स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान के लिए ड्रोन कैमरे से भी नजर रखी जा रही है।

इस उपचुनाव में इसी महीने की 24 तारीख को मतों की गिनती की जाएगी। चित्रकोट विधानसभा सीट के लिए छह उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। हालांकि मुख्य मुकाबला सत्ताधारी कांग्रेस और मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के मध्य है।
... और पढ़ें
डेमो इमेज डेमो इमेज

छत्तीसगढ़: भूपेश बघेल को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, सीडी कांड की सुनवाई पर लगी रोक

उच्चतन न्यायालय ने उस कथित सेक्स सीडी मामले की सुनवाई पर रोक लगा दी है जिसमें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आरोपी हैं। न्यायालय ने मुख्यमंत्री पर गवाहों को धमकाने का आरोप लगाते हुए कथित सेक्स सीडी मामले को छत्तीसगढ़ से बाहर स्थानांतरित करने का अनुरोध करने वाली सीबीआई की याचिका पर नोटिस भी जारी किया है।
 


अदालत ने जब यह पूछा कि जांच एजेंसी उनके मामले को बाहर हस्तांतरित करना क्यों चाहती है तो सीबीआई की तरफ से पेश हुए सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि दो गवाहों ने शिकायत दर्ज कराई है कि उन्हें मुख्यमंत्री के खिलाफ बयान देने की वजह से धमकाया जा रहा है। 

बघेल सहित चार अन्य लोगों पर कथित तौर पर राज्य के पूर्व पीडब्यूडी मंत्री राजेश मुनात की एक फर्जी अश्लील सीडी वितरित करने का आरोप है। सीबीआई मे सितंबर 2018 में बघेल के खिलाफ मुनात की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि बघेल ने पूर्व पत्रकार विनोद वर्मा और अन्य के साथ मिलकर फर्जी अश्लील सीडी वितरित की।

यह घटना पिछले साल छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से कुछ हफ्तों पहले घटित हुई। बघेल को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था। उन्होंने तब अदालत से कहा था कि वह निर्दोष हैं और वह न तो जमानत के लिए अर्जी लगाएंगे और न ही किसी वकील की मदद लेंगे। वह जेल के अंदर सत्याग्रह (भूख हड़ताल) करेंगे। हालांकि सीबीआई की अदालत ने बाद में उन्हें जमानत प्रदान कर दी थी।
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: फलों पर स्टिकर चिपकाने पर प्रतिबंध, नहीं माना निर्देश तो होगी कार्रवाई

छत्तीसगढ़ में खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) ने फलों के ऊपर स्टिकर चिपकाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। एफडीए ने स्टिकर में लगने वाले गोंद का लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले बुरे असर का हवाला देते हुए गुरुवार को यह निर्देश जारी किया है। 

शुक्रवार को एफडीए के एक अधिकारी ने बताया कि फल बिक्रेताओं को फलों पर स्टिकर चिपकाना बंद करने को कहा गया है। साथ ही लोगों से अपील की जा रही है कि स्टिकर लगे फल न खरीदें। 

मालूम हो कि बाजार में सेब, आम, नारंगी, अमरूद और अन्य फलों पर स्टिकर चिपका कर बेचे जाते हैं। स्टिकर चिपकाने के पीछे बिक्रेताओं का उद्देश्य फलों को उच्च गुणवत्ता का साबित करना होता है। कई बार स्टिकर का प्रयोग फलों की खराबी छिपाने के लिए भी किया जाता है। स्टिकर लगे फल बाजार में महंगे भी बेचे जाते हैं। 

अधिकारी ने बताया कि इन स्टिकर में प्रयुक्त रसायन उत्पाद को दूषित कर सकते हैं और इसे मानव उपभोग के लिए असुरक्षित बना सकते हैं। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) अधिनियम के तहत व्यापारियों और फल विक्रेताओं को ऐसे फलों के भंडारण, वितरण और बेचने की अनुमति नहीं है। 

अधिकारी ने कहा कि कोई भी दुकानदार असुरक्षित खाद्य उत्पादों का भंडारण और बिक्री करता है, उस पर खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम 2006 की धारा 59 के तहत कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

यूपी: भूपेश बघेल ने सरकार पर साधा निशाना, बोले- अनुच्छेद 370 को हटाकर भाजपा ने कोई एहसान नहीं किया

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में रैली को संबोधित किया। इस दौरान उनको सुनने के लिए भारी भीड़ मौजूद रही।  रैली में उन्होंने सरकार पर जमकर हमला बोला और अनुच्छेद 370 को लेकर अपनी बात रखी। 

बता दें कि बघेल कांग्रेस उम्मीदवार नीरज के पक्ष में चुनावी जनसभा को संबोधित करने आए थे। उन्होंने इस दौरान कहा कि सरकार ने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर कोई एहसान नहीं किया। भाजपा के एजेंडे में था अनुच्छेद 370 को हटाना। 

उन्होंने कहा कि भाजपा गाय के नाम पर वोट मांगती है। यूपी में गायों की हालात बेहद खराब, यूपी के किसानों से अच्छी स्थिति छत्तीसगढ़ के किसानों की है। यहां समर्थन मूल्य का फायदा किसानों को नहीं मिलता, विचौलियों को लाभ मिल रहा है।

बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में किसानों की धान 25 रुपये में खरीदा जाता है। हमारी गौशालाएं बेहतर हैं और चारे की व्यवस्था भी की है। यहां गौशाला में गायों को चारा नहीं मिल रहा है जिसके कारण वो मर रही हैं। सरकार आम आदमी की जेब से पैसा लेकर पूंजीपतियों को दे रही है।
... और पढ़ें

पुलवामा में आतंकवादियों ने की मजदूर की हत्या, इलाके में तलाशी अभियान शुरू, हाई अलर्ट पर सुरक्षाबल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल
पुलवामा में आतंकवादियों ने एक सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया। यहां आतंकवादियों ने ईंट-भट्टे पर काम करने वाले एक मजदूर की हत्या कर दी। मामले की जानकारी होते ही पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे हैं। इस घटना को वारदात देने वाले आतंकी व उसके समूह की अभी तक कोई पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

पुलवामा के काकपोरा इलाके में आतंकवादियों द्वारा मारे गए व्यक्ति की पहचान छत्तीसगढ़ के सेठी कुमार सागर के रूप में हुई है। वह नेहामा में एक ईंट भट्टे पर काम कर रहा था।

इससे पहले दक्षिणी कश्मीर में आतंकियों ने मंगलवार को लगातार दूसरे दिन हमला किया। सोमवार को शोपियां में सेब लाद रहे ट्रक के चालक की हत्या के बाद मंगलवार शाम को पुलवामा चौक पर सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर ग्रेनेड हमला किया। हालांकि, ग्रेनेड सड़क पर गिरकर फटा नहीं। इससे किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ।

इस बीच शोपियां में ट्रक चालक की हत्या के बाद पुलिस ने 15 संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। प्रारंभिक छानबीन में पुलिस को पता चला है कि घटना में चार आतंकी शामिल थे, जिनमें एक के पाकिस्तानी होने का शक है। बताते हैं कि दो आतंकी ट्रक के आगे और दो पीछे थे। 
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: 23 हजार आदिवासियों के भाग्य का फैसला करने के लिए बनी समिति

छत्तीसगढ़ सरकार ने अनुसूचित जाति के आदिवासियों और नक्सली क्षेत्र के अन्य नागरिकों के खिलाफ दर्ज मामलों की समीक्षा करने के लिए एक समिति का गठन किया है। यह समिति इस महीने से अपना काम शुरू कर देगी। यह 23,000 आदिवासियों से जुड़े मामलों को देखेगी।

उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त जज जस्टिस एके पटनायक समिति पहली बैठक 30-31 अक्तूबर को रायपुर में करेंगे। समिति पुलिस द्वारा कई मामलों में आरोपी ठहराए गए 16,475 आदिवासियों के मामलों को देखेगी। वह 6,743 उन मामलों को भी देखेंगे जिनमें आरोपी अंडरट्रायल का सामना कर रहे हैं। खासतौर से बीजापुर, सुकमा और बस्तर जिले के।

सूत्रों का कहना है कि समिति अपना कार्य शुरू करेगी और 11 सितंबर तक मामलों को राज्य सरकार को रेफर कर देगी। यदि समिति को किसी मामले में आरोपी के खिलाफ सबूत नहीं मिलेंगे तो वह अभियोजन की वापसी या उन मामले को बंद करने की सिफारिश कर सकती है जिसमें पुलिस ने अभी तक अदालत में रिपोर्ट दाखिल नहीं की है। समिति की सिफारिशों पर राज्य सरकार अंतिम फैसला लेगी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार समिति अनुसूचित जातियों वाले सात जिलों में पुलिस जांच का सामना कर रहे 1,141 मामलों के 4,007 आरोपियों के मामलों की समीक्षा करेगी। जिसमें से 1.552 आरोपियों को नक्सली मामले में आरोपी बताया गया है। सबसे ज्यादा नक्सली मामले सुकमा जिले में हैं इसके बाद बीजापुर का नंबर आता है। वहीं नक्सली मामलों के तहत अंडरट्रायल का सामना कर रहे लोगों में सबसे ज्यादा बस्तर जिले से हैं, इसके बाद सुकमा का नंबर है।

30 अप्रैल 2019 तक 6,743 आदिवासी जेल में अंडरट्रायल का सामना कर रहे थे। जिसमें से 1,039 के खिलाफ नक्सल मामले दर्ज हैं। इसके अलावा 16,475 आदिवासी राज्य में विभिन्न मामलों में आरोपों का सामना कर रहे हैं। जिसमें 5,239 नक्सली मामलों के तहत आरोपी हैं।

इसमें कुछ ऐसे आदिवासी शामिल हैं जिन्होंने खुद को हिरासत में लिए जाने के खिलाफ अपील नहीं की है। जिसकी वजह उनकी गरीबी या नजरअंदाजी होना या फिर कानूनी मदद न मिलना शामिल है। 25 अप्रैल, 2019 तक राज्य की सात जेलों में ऐसे 1,977 अनुसूचित आदिवासी बंद हैं। जिसमें से 589 दोषी ठहराए गए हैं लेकिन उन्होंने अपील नहीं की है। 
... और पढ़ें

मैं पार्टी का ही हूं, कांग्रेस छोड़ने की अटकलों पर विराम लगाते हुए हार्दिक

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस पार्टी छोड़ने की अटकलों पर उन्होंने विराम लगा दिया है। हार्दिक का कहना है कि वे कांग्रेस के ही हैं। हार्दिक रविवार को एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ के रायपुर पहुंचे थे। यहां मीडियाकर्मियों के सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'मैं कांग्रेस का ही हूं इस बात को आप समझिए।' इस मौके पर उन्होंने कहा कि उन्हें छत्तीसगढ़ या झारखंड आने का मौका बहुत कम मिलता है। मैं पहली बार रायपुर आया हूं यहां आकर मैंने देखा कि हमारी भूपेश बघेल की सरकार अच्छा काम कर रही है।

हार्दिक बोले कि पांच सालों में बदल जाएगा छत्तीसगढ़

हार्दिक ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में ना सिर्फ किसानों और गरीबों के लिए काम कर रही है, बल्कि महिला उत्थान की विचार को लेकर आगे बढ़ रही है। आने वाले पांच सालों में राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश और गांवों के लिए काफी अच्छा काम करेंगे। साथ ही जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि निश्चिंत रहें आने वाले पांच साल बेहतर होंगे। हार्दिक रविवार को होने वाले एक गरबा रास कार्यक्रम में हिस्सा लेने छत्तीसगढ़ गए थे।

गौरतलब है 11 अक्तूबर को जब मानहानि मामले में पेशी के लिए राहुल गांधी अहमदाबाद गए थे तो वह एक रेस्टोरेंट में हार्दिक के साथ नजर आए थे। इसके बाद चर्चा शुरू हो गई थी कि हार्दिक कांग्रेस पार्टी का दामन छोड़ सकते हैं। राहुल से मुलाकात के दौरान पार्टी के नेताओं ने हार्दिक को मनाने की कोशिश की थी, ये सुर्खियां भी मीडिया में छाई रहीं। लेकिन अब हार्दिक ने इन सभी बातों का खंडन किया है।

... और पढ़ें

छत्तीसगढ़ के कुसमी गांव में दूषित पानी पीने से तीन लोगों की मौत

छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले में कुसमी के डुमरखोली गांव में कथित तौर पर दूषित पानी से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत का मामला सामने आया है। मृतकों में एक बच्चा भी है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां का पानी काफी दूषित है। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने दूषित पानी पीने से मौत होने की बात से इनकार किया है।





समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, इस संबंध में कुसमी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी का कहना है कि डुमरखोली पंचायत में 16 हैंडपंप लगे हैं। बलरामपुर के स्वास्थ्य अधिकारी ने भी दूषित पानी पीने से मौत होने की बात का खंडन किया है।

उनका कहना है कि ये मौतें दूषित पानी पीने से नहीं बल्कि अन्य बीमारियों से हुई हैं। स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है कि तीनों लोगों की मौत अलग-अलग तारीखों को हुई है, जिनमें से एक मामला पेचिस लगने से जुड़ा है, जबकि दूसरे में बच्चे की मौत बुखार के कारण हुई है। 

उन्होंने बताया कि बुखार के मामलों की जांच के लिए एक सर्वे किया जा रहा है। सितंबर में यहां एक मेडिकल कैंप लगाया गया था जो अगले महीने फिर से लगाया जाएगा। ... और पढ़ें

बोधगया-पटना बम धमाकों का आरोपी सिमी कार्यकर्ता हैदराबाद से गिरफ्तार, छह साल से था फरार

छत्तीसगढ़ के रायपुर निवासी सिमी के कथित कार्यकर्ता को एटीएस ने हैदराबाद से गिरफ्तार किया है। बोधगया और पटना बम धमाकों के आरोपी इस कार्यकर्ता को पुलिस रायपुर लाई है। रायपुर के एसएसपी आरिफ शेख ने शनिवार को बताया कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने अजहरूद्दीन उर्फ अजहर उर्फ केमिकल अली को शुक्रवार को हैदराबाद विमानतल से गिरफ्तार किया गया।

शेख ने बताया, एटीएस को जानकारी मिली थी कि अजहर सऊदी अरब से हैदराबाद पहुंच रहा है। इसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया। 2013 में हुए बिहार के बोधगया और पटना बम विस्फोट मामले में शामिल होने का आरोपी अजहर छह वर्ष से फरार था।

दिसंबर 2013 में रायपुर पुलिस ने सिमी का स्लीपर सेल ध्वस्त करते हुए उसके मुखिया उमेर सिद्दिकी सहित 16 अन्य गुर्गों को गिरफ्तार किया था। इन पर बोधगया और पटना में विस्फोट में शामिल होने का आरोप है। सिमी के कार्यकर्ताओं को पनाह देने तथा आतंकी घटनाओं में शामिल होने का आरोपी अजहर इस दौरान फरार हो गया था।

पुलिस के मुताबिक अजहर जाली पासपोर्ट के सहारे सऊदी अरब गया और वहां सुपर मार्केट में सहयोगी तथा वाहन चालक के रूप में काम कर रहा था। पुलिस को सूचना मिलने के बाद से उस पर नजर रखी जा रही थी। पुलिस ने अजहर से दो ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट बोर्डिंग पास और वोटर आईडी बरामद की है।
... और पढ़ें

छत्तीसगढ़: एक ने भाई के लिए चाकू मारा तो एक ने भाई को जिंदा जलाया

छत्तसीगढ़ के रायगढ़ जिले के अलग-अगल थाना क्षेत्रों में दो घटनाएं हुई। दोनों घटनाएं बुधवार के दिन हुई। एक युवक के बड़े भाई का क्षेत्र के ही लोगों से झगड़ा हो गया जिसका बदला लेने के लिए आरोपी ने युवक पर चाकू से तीन बार वार दिया। चाकू से घायल युवक अस्पताल में भर्ती है। वहीं दूसरी ओर दो सगे भाइयों का मोबाइल को लेकर मामूली विवाद हो गया और विवाद इतना बढ़ गया कि बड़े भाई ने छोटे भाई पर मिट्टी का तेल डालकर उसे आग लगा दी। युवक 80 फीसदी जली हालत में अस्पताल में भर्ती हैं और उसकी जान खतरे में है।

सगे भाइयों का विवाद, बड़े ने छोटे को जिंदा जलाया

भूपदेवपुर थाना क्षेत्र के देवरी गांव में रोशन उरांव नाम के युवक ने अपने छोटे भाई पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी। दो महीने पहले दोनों भाइयों, प्रमोद उरांव और रोशन उरांव में मोबाइल को लेकर झगड़ा हुआ था जिसमें रोशन ने प्रमोद का मोबाइल तोड़ दिया था। इसी बात को लेकर बुधवार को दोनों भाइयों में फिर से विवाद हो गया और वह इतना बढ़ गया कि पहले रोशन ने प्रमोद को पीटा और बाद में केरोसीन डालकर आग लगा दी। घटना को अंजाम देकर आरोपी भाग निकला हालांकि बाद में उसे गांव के बाहर पकड़ लिया गया।
  

बड़े भाई के हुए झगड़े पर छोटे भाई ने चाकू मारा

वहीं चक्रधर थाना क्षेत्र के महापल्ली इलाके में बुधवार सुबह निकल रहे दुर्गा विसर्जन जुलूस के दैरान एक युवक ने अमित नाम के व्यक्ति को चाकू मार दिया। इसी विसर्जन जुलूस में नाचने के दौरान दो युवक अमित और मुकेश का आपस में झगड़ा हो गया। जिसके बाद लोगों ने मुकेश को समझा-बुझा कर घर भेज दिया। सारी घटना जानने के बाद मुकेश के छोटे भाई अक्षय ने वापस जुलूस में आकर अमित के पेट में लगातार तीन बार चाकू से वार किया। घटना को अंजाम देकर आरोपी मौके से फरार हो गया। 

घटना से गुस्साई भीड़ आरोपी के घर पहुंचकर धरने पर बैठ गई जिसके बाद चक्रधर नगर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पीड़ित के परिजनों और पुलिस के डर से आरोपी भागने के इरादे से रायगढ़ रेलवे स्टेशन पहुंच गया। जिसके बाद पुलिस ने उसके पिता से फोन करवा कर उसकी लोकेशन का पता लगाया और उसे मौके पर गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने पूछने पर बताया कि वह घबरा गया था इसलिए उसने चाकू चलाया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
विज्ञापन