विज्ञापन
विज्ञापन

अब्दुल जब्बार स्मृति शेषः भोपाल के लाखों गैस पीड़ितों का फ़रिश्ता चला गया

Rajesh Badalराजेश बादल Updated Fri, 15 Nov 2019 01:12 PM IST
अब्दुल जब्बार ने लंबे समय तक भोपाल गैस पीड़ितों की लड़ाई लड़ी
अब्दुल जब्बार ने लंबे समय तक भोपाल गैस पीड़ितों की लड़ाई लड़ी - फोटो : Social Media
ख़बर सुनें
अब्दुल जब्बार अब नहीं हैं। दिल इस हकीक़त को मानने के लिए तैयार नहीं है। पैंतीस बरस से लाखों गैस पीड़ितों के लिए संसद से लेकर सड़क तक और सरकार से लेकर सुप्रीमकोर्ट तक अथक लड़ाई लड़ने वाले जब्बार इन दिनों अपने शरीर पर अनेक आक्रमणकारियों से लड़ाई लड़ रहे थे। सारी जवानी पीड़ित मानवता की खिदमत में होम करने वाले अब्दुल जब्बार गैस त्रासदी के सताए लोगों के लिए एक फ़रिश्ते से कम नहीं थे।
विज्ञापन
यूनियनकार्बाइड के इस घिनौने जुर्म के बाद पीड़ितों के लिए अनगिनत हितैषी और स्वयंसेवी संगठन सामने आए और अपनी दुकानें चमका कर चले गए। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय अवॉर्ड जीतकर चले गए। एक अब्दुल जब्बार था, जो मोर्चे पर डटा रहा। न हारा,न टूटा,न बिखरा। हत्यारी गैस ने उनके माता-पिता और भाई को छीन लिया था। उनके पचास फ़ीसदी फेफड़े खराब हो गए थे, लेकिन दिल के तूफ़ान कभी चेहरे पर नहीं आए। शायद ही कोई होगा जिसने मिलने पर उनके चेहरे पर मुस्कराहट न देखी हो। ज़िंदगी में अनेक झंझावात आए। कभी-कभी जब्बार भाई के चेहरे पर एक फ़ीकी उदासी दिखी, लेकिन अगले दिन से फिर वही जब्बार। लोगों की सेवा के लिए तैयार ।

पैंतीस बरस पहले मेरी मुलाक़ात जब्बार भाई से हुई थी। गैस त्रासदी के फौरन बाद। वह सत्ताईस साल के एक नौजवान सामजिक कार्यकर्ता और एक पत्रकार की मुलाक़ात थी। इसके बाद वे कब जब्बार भाई हो गए- याद नहीं। मुझसे साल डेढ़ साल बड़े थे, लेकिन बराबर जैसा ही मान दिया। कभी परेशान होते तो दिल के जख्म भी दिखाते और बाद में ख़ुद ही मरहम लगा लेते। यह सोचकर कि इनका कोई इलाज नहीं। दिल्ली प्रवास के कारण मुलाकातें कम हुईं ,लेकिन जब भी मिलते, उसी खूलूस के साथ। कभी संघर्ष में नया मोड़ आता या कोई नई सूचना आती तो उनका फ़ोन आता" राजेश भाई! कैमरा लेकर आ जाओ। मैं समझ जाता कि कोई बड़ी बात है। 

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके
सब कुशल मंगल

सब कुशल मंगल के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गूंजे दर्शकों के ठहाके

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

हैदराबाद एनकाउंटरः गैर न्यायिक प्रक्रिया को जन समर्थन क्यों? पक्ष और विपक्ष में क्यों बंटे हैं लोग?

अब सवाल ये है कि इस प्रकार की गैर न्यायिक प्रक्रिया को इतना जन समर्थन क्यों मिल रहा है। इस तुरत-फुरत के न्याय की आशा हमारे समाज को क्यों कर है।

7 दिसंबर 2019

विज्ञापन

उन्नाव केस | उन्नाव पीड़िता के परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवजा और घर देगी योगी सरकार

उन्नाव मामले में पीड़िता की मौत के बाद देशभर में गुस्से का माहौल है। वहीं अब योगी सरकार ने परिवार को मुआवजे का ऐलान किया है।

7 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election