मप्र: पत्रकार को कोरोना के चलते दहशत में मप्र के नेता, अफसर और मंत्री

Satish Aliaसतीश एलिया Updated Thu, 26 Mar 2020 12:17 PM IST
विज्ञापन
मप्र का यह वरिष्ठ पत्रकार प्रेस कांफ्रेंस के दिन सभी लोगों से मिलता रहा. इसमें वीआईपी भी शामिल थे.
मप्र का यह वरिष्ठ पत्रकार प्रेस कांफ्रेंस के दिन सभी लोगों से मिलता रहा. इसमें वीआईपी भी शामिल थे. - फोटो : Social Media
ख़बर सुनें
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बुधवार को कोरोनावायरस के संक्रमण का जो दूसरा मामला सामने आया उससे प्रशासन, सरकार, राजनेता और पत्रकारों के होश उड़े हुए हैं। वजह है जिस पत्रकार को कोरोना पाजिटव पाया गया, उनकी बेटी को कोरोना संक्रमित पाए जाने के बावजूद वे विधानसभा की प्रेस दीर्घा से लेकर सेट्रल हाल में पत्रकार, अधिकारी, नेता, मंत्री और विधायक सबसे मिलते रहे थे। वे बतौर मुख्यमंत्री कमलनाथ की आखिरी प्रेस कांफ्रेंस में भी थे, जिसमें कमलनाथ ने इस्तीफे का ऐलान किया था।
विज्ञापन

खास बाात यह है की तकरीबन 200 पत्रकार, इतने ही नेता अफसर इस पत्रकार की लापरवाही से पैदा हुए खौफ से हलाकान हैं। जिला प्रशासन भी दो तरह की बात कहकर खौफ को बढ़ा रहा है। सेल्फ आइसोलेशन की सलाह दी जा रही है, जबकि पत्रकार के संपर्क में आए सभी लोग जनता कर्फ्यू और तब से अब तक अपने अपने परिवार के संपर्क में ही बने रहे हैं। 
बीते रविवार को प्रोफेसर कॉलोनी में पॉजिटिव मिली लड़की के पिता में भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। लड़की के पिता। अपने खुद के अखबार के प्रधान संपादक हैं। उनके भाई प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ताओ के पैनल में है और वे टीवी चैनलों पर डिबेट में शामिल होते हैं। पत्रकार की बेटी लंदन से से लौटी थी। कुछ दिन बाद बीमार हुई तो जिला अस्पताल भोपाल में टेस्ट कोरोना पाजिटव पाया गया। उसे होम कोरोन्टाइन और परिवार को आइसोलेशन में रखा गया। लेकिन पत्रकार ने इसकी खबर छपने पर अखबारों और पत्रकारो को एफ आई आर कराने की धमकी दी।
यही नहीं वे खुद आइसोलेशन के बजाय सब जगस घूमते भी रहे। वे 20 मार्च को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए थे।  इसमें कमलनाथ ने इस्तीफे का ऐलान किया था। पत्रकार में संक्रमण सामने आने पर कमलनाथ ने भी खुद को आइसोलेट कर लिया है। सीएम हाउस में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिग्विजय सिंह, कांग्रेस के सभी विधायक और प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों समेत करीब 200 पत्रकार मौजूद थे।

मध्य प्रदेश के 6 जिलों में संक्रमण पहुंच चुका है। अब तक जबलपुर में 6, इंदौर में 4, भोपाल में 2, उज्जैन, ग्वालियर और शिवपुरी में एक-एक पॉजिटिव केस मिल चुका है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या 15 हो गई है। उज्जैन की संक्रमित 65 वर्षीय महिला की बुधवार को मौत हो चुकी है। यह मप्र में कोविद -19 संक्रमण से हुई पहली मौत है। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us