सिंधिया को भाजपा ही सुरक्षित ठिकाना क्यों नजर आता है?

Atul SinhaAtul Sinha Updated Wed, 11 Mar 2020 01:43 AM IST
विज्ञापन
नरेंद्र मोदी-ज्योतिरादित्य सिंधिया
नरेंद्र मोदी-ज्योतिरादित्य सिंधिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
कुछ साल पहले कांग्रेस की यूथ ब्रिगेड की देशभर में खासी चर्चा थी। राहुल गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, सचिन पायलट, जितिन प्रसाद, मिलिंद देवड़ा से लेकर तमाम युवा चेहरों के पार्टी में बढ़ते दबदबे के बीच एक नई कांग्रेस की रूपरेखा बनाए जाने की बात कही जा रही थी, यहां तक कि भाजपा में भी इस युवा नेतृत्व को एक चुनौती की तरह देखा जाने लगा था।
विज्ञापन

लेकिन कुछ ही सालों में यह यूथ ब्रिगेड अपनी ही आंधी में बह गई। 2014 चुनाव से पहले राहुल गांधी और उनकी यूथ ब्रिगेड खूब सक्रिय रही, गांव गांव घूमी, जमीनी राजनीति और जनता के सवालों पर धुआंधार प्रचार किया, लेकिन चुनावी नतीजों ने कांग्रेस की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया।
अगले पांच साल इसी उधेड़बुन में निकल गए कि मोदी की आंधी और भगवा लहर को कैसे रोकें। अमित शाह की चाणक्य नीति से कैसे लड़ें। राहुल गांधी यूथ ब्रिगेड के नेता बने रहे, लेकिन उनके बाकी सिपहसालार धीरे धीरे दरकिनार होते रहे।  
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us