अमर उजाला फाउंडेशन नजरिया 2019: शिक्षा की सार्थकता को बढ़ावा दे रहे हैं सोनम वांगचुक

अमर उजाला डेस्क नई दिल्ली Updated Sat, 07 Sep 2019 07:43 PM IST
विज्ञापन
Sonam Wangchuk
Sonam Wangchuk - फोटो : Social Media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
भारत तेजी से प्रगति कर रहा है लेकिन शिक्षा के मामले में विकसित देशों की तुलना में भारत अब भी बेहद पिछड़ा है। शिक्षा क्षेत्र को लेकर जिस तरह का विकास हो रहा है उस लिहाज से शिक्षा के स्तर तक भारत को पहुंचने में काफी समय लग जाएगा। हालांकि ऐसा नहीं है कि शिक्षा पर काम करना सरकार की केंद्र में  नहीं है।
विज्ञापन

दरअसल, शिक्षा को लेकर सर्वशिक्षा अभियान, राइट टू एजुकेशन एक्ट जैसे कदम सरकार की शिक्षा के प्रति गंभीरता दर्शाते हैं। यही नहीं सरकार शिक्षा पर खर्च भी बहुत कर रही है लेकिन स्कूल जाने वाले छात्रों का बड़ा हिस्सा गुणवत्ता युक्त शिक्षा से मरहूम है।
सरकार फीस नियंत्रित कर रही है लेकिन अभिभावक फीस वृद्धि की समस्या से फिर भी परेशान हैं। अध्यापकों को प्रशिक्षित करने के तमाम उपाय किए जा रहे हैं, लेकिन यह गुणवत्ता युक्त शिक्षा के रूप में फिर भी दिखाई नहीं दे रही है।
अमर उजाला फाउंडेशन नजरिया 2019ः रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू, मिस्ड कॉल देकर करें पंजीकरण  
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us