बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर
Myjyotish

श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अमर उजाला  टीका ही बचाएगा अभियान : ग्राम प्रधान ने ठानी है, जन-जन को वैक्सीन लगवानी है

तुंगनाथ घाटी की ग्राम पंचायत दैड़ा के 35 वर्षीय ग्राम प्रधान योगेंद्र सिंह नेगी कोरोना टीकाकरण अभियान में एक मिसाल बनकर उभरे हैं।

17 जून 2021

विज्ञापन
Digital Edition

कोरोना संक्रमण: कोविड निगेटिव रिपोर्ट बनी परेशानी, उत्तराखंड आने के बजाय हिमाचल जा रहे पर्यटक

पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश ने दूसरे राज्यों से आने वाले पर्यटकों के लिए कोविड निगेटिव जांच रिपोर्ट की शर्त हटा दी है। जिससे पर्यटक उत्तराखंड आने के बजाय हिमाचल जा रहे हैं।

प्रदेश में चारधाम यात्रा बंद होने के साथ ही जांच की शर्त से पर्यटक उत्तराखंड नहीं आ रहे हैं। पर्यटन कारोबारियों ने सरकार से मांग की है कि हिमाचल की तर्ज पर पर्यटकों को छूट दी जाए। कोविड वैक्सीन की दो डोज लगाने वाले दूसरे राज्यों के लोगों को प्रदेश में आने की अनुमति दी जाए। इससे बंद पड़े पर्यटन उद्योग उभर सकेगा। 

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में 264 नए संक्रमित मिले, सात की मौत, 345 मरीज हुए ठीक 

कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में दो साल से चारधाम यात्रा बंद होने से पर्यटन उद्योग को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। कोविड संक्रमण कम होने से हिमाचल में बाहरी राज्यों से आने वाले पर्यटकों के लिए आरटीपीसीआर कोविड निगेटिव रिपोर्ट हटाने से वहां दिल्ली, पंजाब, हरियाणा समेत अन्य राज्यों के पर्यटक जाने शुरू हो गए हैं।

इधर, उत्तराखंड के पर्यटन कारोबारी पर्यटकों के आने का इंतजार कर रहे हैं। चारधामों में कोविड संक्रमण से सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम करने के लिए हाईकोर्ट ने पर्यटन सचिव को फटकार लगाई है। जिससे सरकार को फिर से पूरी तैयारी के साथ हाईकोर्ट समक्ष कार्य योजना प्रस्तुत करनी होगी। जिससे चारधाम यात्रा शुरू होने में अभी समय लग सकता है। 
... और पढ़ें
पर्यटक पर्यटक

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में 264 नए संक्रमित मिले, सात की मौत, 345 मरीज हुए ठीक 

उत्तराखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 264 नए मामले सामने आए हैं। वहीं सात मरीजों की मौत हुई है। इसके अलावा आज 345 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। वहीं, आज कुल संक्रमितों की मौत का आंकड़ा सात हजार पार पहुंच गया है। 

कुंभ में कोविड जांच में फर्जीवाड़ा : मैक्स कॉरपोरेट कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, गुरुवार को 28671 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं, अल्मोड़ा में 17, बागेश्वर में 12, चमोली में आठ, चंपावत में 26, देहरादून में 55, हरिद्वार में 45, नैनीताल में 12, पौड़ी में 14, पिथौरागढ़ में 27, रुद्रप्रयाग में सात, टिहरी में 11, ऊधमसिंह नगर में 24 और उत्तरकाशी में छह मामले सामने आए हैं।

प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल मामलों की संख्या तीन लाख 38 हजार 66 हो गई है। इनमें से तीन लाख 21 हजार 807 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 3471 पहुंच गई है। राज्य में कोरोना के चलते अब तक चुल 7011 लोगों की जान जा चुकी है।

ब्लैक फंगस के 10 नए मरीज, दो की मौत
प्रदेश में ब्लैक फंगस के मामले और मौतें लगातार बढ़ रहे हैं। बृहस्पतिवार को देहरादून जिले में 10 नए मरीज मिले हैं, जबकि दो की मौत हुई है। अब तक ब्लैक फंगस के कुल मामलों की संख्या 423 हो गई है, जबकि 73 मरीजों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार बृहस्पतिवार को एम्स ऋषिकेश में छह और हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट में चार मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। दोनों ही अस्पतालों में भर्ती एक-एक मरीज ने इलाज के दौरान दमतोड़ा है। अब तक देहरादून जिले में ब्लैक फंगस के 374 मामले सामने आ चुके हैं। जबकि नैनीताल में 44, उत्तरकाशी में दो, हरिद्वार जिले में तीन मामले मिले हैं। वहीं, 49 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।
... और पढ़ें

कुंभ में कोविड जांच फर्जीवाड़ा: आमने-सामने आए सीएम तीरथ और त्रिवेंद्र सिंह रावत, पढ़ें किसने क्या कहा

हरिद्वार कुंभ में कोविड जांच फर्जीवाड़े के मामले में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के बयान जुदा-जुदा हैं। दोनों अपने पाले की गेंद दूसरे के पाले में डालना चाह रहे हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह ने कहा कि यह मामला उनके मुख्यमंत्री बनने से पहले का है। उनके बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की प्रतिक्रिया भी सामने आई।

त्रिवेंद्र ने कहा कि यह जांच में पता चल जाएगा कि मामला किस कालखंड का है। बकौल त्रिवेंद्र, जहां तक मेरी जानकारी है, कुंभ मेले की अधिसूचना हमारे समय में हुई थी, जो पहली अप्रैल से 30 अप्रैल तक के लिए थी। बहरहाल, प्रदेश की भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के बयानों की सियासी हलकों में खूब चर्चा है।

कुंभ कोविड जांच फर्जीवाड़ा: मैक्स सर्विस, लाल चंदानी और नलवा लैब पर मुकदमा दर्ज

कुंभ मेले में कोविड जांच के फर्जीवाड़े को लेकर बृहस्पतिवार को मीडियाकर्मियों ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से सवाल पूछे थे। गढ़ी कैंट में कोविड केयर अस्पताल का लोकार्पण करने के बाद मुख्यमंत्री ने मीडिया कर्मियों से कहा कि ये मामला पुराना है। मैं मार्च में आया हूं। जब मैंने इसकी छानबीन की। मैं दिल्ली में था, मैंने दिल्ली से आते ही मामले की जांच बैठाई। मैं चाहता हूं कि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी।

मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह हत्या के प्रयास का मामला है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि मामले की न्यायिक जांच कराएं। कहा कि जनता के सामने यह भी आना चाहिए कि यह किस दौरान का मामला है। आखिर कब इस तरह के लाखों टेस्ट हुए और कब उन्हें नेगेटिव दिखा दिया गया। मुख्यमंत्री के बयान का स्वागत करता हूं। उस पर मैं गहरी जांच की मांग करता हूं। 

उन्होंने कहा, मुझे ऐसा ध्यान है कि कोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश दिए थे। इसमें टेंडर हमारे समय में नहीं हुआ। यदि टेंडर हुआ होगा तो मेला प्रबंधन के द्वारा हुआ होगा। नोटिफिकेशन हमारे समय में हुआ था, जो एक अप्रैल से 30 अप्रैल तक का था। अब यह जांच का विषय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दूध का दूध और पानी का पानी होना चाहिए।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: नौकरी का सुनहरा मौका, पटवारी और लेखपाल के 513 पदों पर निकली भर्ती, 22 जून से करें आवेदन

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने पटवारी और लेखपाल के 513 पदों पर भर्ती का विज्ञापन जारी कर दिया है। इन पदों के लिए 22 जून से ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू होने जा रही है।

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव संतोष बडोनी के मुताबिक, इस भर्ती परीक्षा से राजस्व उपनिरीक्षक (पटवारी) के 366 और राजस्व उपनिरीक्षक (लेखपाल) के 147 पदों पर भर्ती की जाएगी। पटवारी के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है।

इन पदों के लिए आयु 21 से 28 वर्ष के बीच होनी चाहिए। वहीं, लेखपाल के लिए ग्रेजुएशन के साथ ही आयु 21 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए। जनरल, ओबीसी के लिए 300 रुपये और एससी, एसटी, दिव्यांग और ईडब्ल्यूएस उम्मीदवारों के लिए 150 रुपये शुल्क तय किया गया है। 

किस जिले में कितने पदों पर मौका
चूंकि यह जिला संवर्ग के पद हैं, इसलिए आयोग ने जिलावार पदों का विवरण भी जारी किया है। इसके तहत पटवारी के अल्मोड़ा में 50 पद, बागेश्वर में 18, चमोली में 26, चंपावत में 23, देहरादून में नौ, नैनीताल में 27, पौड़ी गढ़वाल में 79, पिथौरागढ़ में 38, रुद्रप्रयाग में 13, टिहरी में 45 और उत्तरकाशी में 38 पदों पर मौका दिया गया है। वहीं, लेखपाल के चंपावत में एक, देहरादून में 29, हरिद्वार में 35, नैनीताल में 26 और ऊधमसिंह नगर में 56 पदों पर भर्ती निकाली गई है। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: एक जुलाई से चारधाम यात्रा शुरू करने पर विचार, 20 जून तक सभी तैयारियां पूरी करने निर्देश

यूकेएसएसएससी
उत्तराखंड सरकार एक जुलाई से चारधाम यात्रा चरणबद्ध ढंग से शुरू करने पर विचार कर रही है। सरकार 22 जून से यात्रा शुरू करने की स्थिति में नहीं है।

बृहस्पतिवार को उन्होंने सचिवालय में चारधाम यात्रा की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। बैठक में उच्च न्यायालय के दिशा-निर्देशों के आलोक में तैयारियों को अमलीजामा पहनाने पर मंथन हुआ।

उत्तराखंड : केदारनाथ धाम में हर दिन शीर्षासन कर पुरोहित जता रहे विरोध, इसके पीछे है ये वजह

बैठक में ऊर्जा, पेयजल, गृह, दूरसंचार, चिकित्सा, लोनिवि समेत अन्य विभागों के अफसरों ने अपनी अभी तक की तैयारियों के बारे में जानकारी दी। कोविड-19 महामारी के चलते अभी तकरीब सभी विभाग अपनी तैयारी पूरी नहीं कर पाए हैं। मुख्य सचिव ने उन्हें 20 जून तक तैयारी पूरी करने के निर्देश दिए। सूत्रों के मुताबिक बैठक में यात्रा एक जुलाई से शुरू करने की संभावना पर गहराई से विचार हुआ।  

22 जून से एक जुलाई से यात्रा संभव
मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि 22 जून से चरणबद्ध चारधाम यात्रा संभव नहीं हो पाएगी। हालांकि उन्होंने एक जुलाई से चारधाम यात्रा शुरू होने की संभावना से इनकार नहीं किया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड मौसम: शुक्रवार को तीन जिलों में भारी बारिश की संभावना, रेड अलर्ट जारी

उत्तराखंड के पिथौरागढ़, नैनीताल और चंपावत जैसे जिलों में शुक्रवार को बहुत भारी बारिश की संभावना है। जबकि, चमोली बागेश्वर अल्मोड़ा उधमसिंह नगर में भारी बारिश के आसार हैं। इसके मद्देनजर मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है। 

पिथौरागढ़-घाट हाइवे: 46 घंटे बाद भी नहीं खुली सड़क, चीन सीमा को जोड़ने वाला रास्ता भी बंद

मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि इन जिलों में छोटी नदियों, नालों के समीप रहने वाले लोगों को सावधान रहने की जरूरत है। इतना ही नहीं मौसम विभाग के मुताबिक मौसम के बदले मिजाज के चलते राज्य के मैदानी इलाकों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के चलने की भी संभावना जताई गई है। वहीं, देहरादून समेत कई जिलों में आकाशीय बिजली गिरने के साथ ही तेज बौछार पड़ने की संभावना व्यक्त की है। 

दून में बारिश से मौसम हुआ सुहाना
राजधानी दून और आसपास के इलाकों में मौसम का मिजाज बृहस्पतिवार की शाम अचानक बदल गया। बादल छाए और कुछ इलाकों में बारिश भी हुई। इससे मौसम सुहाना हो गया। बारिश और ठंडी हवाओं के चलते पारे में भी गिरावट दर्ज की गई। इसके चलते लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली।
... और पढ़ें

कुंभ कोविड जांच फर्जीवाड़ा: मैक्स सर्विस, लाल चंदानी और नलवा लैब पर मुकदमा दर्ज

महाकुंभ के दौरान श्रद्धालुओं की कोरोना जांच में घपले के आरोप में स्वास्थ्य विभाग ने तीन लैब के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। हरिद्वार के सीएमओ की तहरीर पर पुलिस ने मैक्स कॉरपोरेट सर्विस, हिसार की नलवा लेबोरेट्रीज प्राइवेट लिमिटेड और सेंट्रल दिल्ली की डॉक्टर लाल चंदानी लैब के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मैक्स काॅरपोरेट कोविड नमूनों का कलेक्शन सेंटर था जबकि नलवा लेबोरेट्रीज और डॉक्टर लाल चंदानी लैब ने सैंपलों की जांच की थी।

कोविड सुपर स्प्रेडर बना कुंभ: 13 महीनों पर भारी पड़े 30 दिन, कई संतों और श्रद्धालुओं ने गंवाई थी जान

बृहस्पतिवार को हरिद्वार के सीएमओ डॉ. शंभू कुमार झा ने नगर कोतवाली में तहरीर देकर बताया कि पंजाब निवासी एक व्यक्ति ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में कहा गया था कि उनके आधार और मोबाइल नंबर का इस्तेमाल हरिद्वार महाकुंभ में कोविड-19 की रैपिड एंटीजन टेस्टिंग करने में किया गया है, लेकिन उन्होंने कभी न तो कोई सैंपल दिया और न ही वह कुंभ में हरिद्वार गए थे। आईसीएमआर ने यह शिकायत उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भेजी। शिकायत में रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए सैंपल कलेक्शन सेंटर का नाम मैसर्स मैक्स काॅरपोरेट सर्विस, कुंभ मेला अंकित किया गया है। वहीं, जिस लैब में शिकायतकर्ता का सैंपल जांचा गया था, वह हिसार स्थित नलवा लेबोरेट्रीज प्राइवेट लिमिटेड है।

उत्तराखंड में कोरोना: संदेह के घेरे में हरिद्वार कुंभ के दौरान हुई एक लाख एंटीजन जांच

सीएमओ ने तहरीर में कहा है कि मामला संज्ञान में आने के बाद अपर निदेशक/चीफ ऑपरेशन ऑफिसर उत्तराखंड कंट्रोल रूम कोविड-19 की ओर से जांच के आदेश दिए गए। स्वास्थ्य विभाग ने मामले की जांच कराई। जांच के दौरान मैक्स कंपनी से सैंपल कलेक्ट करने वाले कर्मचारियों के मोबाइल नंबर मांगे गए। कंपनी की ओर से दिए गए नंबरों पर जब विभागीय अधिकारियों ने बात की तो नंबर फर्जी निकले। नंबरों पर जिन लोगों से बात हुई उनका न तो कलेक्शन सेंटर मैक्स सर्विस से कोई संबंध था और न ही जांच करने वाली नलवा लैब और डॉ. लाल चंदानी लैब से। तहरीर में आरोप लगाया गया है कि संबंधित फर्म ने सैंपल कलेक्टर (कर्मियों) की एंट्री भी फर्जी दर्शाई है। इससे वर्तमान में लागू आपदा अधिनियम और महामारी अधिनियम की धाराओं का उल्लंघन हुआ है। 
... और पढ़ें

तीरथ सरकार के 100 दिन: सीएम बोले, कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए सरकार तैयार

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह से तैयार है। इसके लिए सरकार ने बचाव व उपचार के लिए ऑक्सीजन बेड, आईसीयू, वेंटीलेटर व अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं की पूरी तैयारी कर ली है।  

उन्होंने कहा कि 100 दिन में डेढ़ माह का कार्यकाल कोविड महामारी से संघर्ष का रहा। 10 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के कुछ दिन में ही वे स्वयं कोविड संक्रमित हो गए। इस पर गाइडलाइन का पालन कर 17 दिन घर पर ही आइसोलेशन में रहे।

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में 264 नए संक्रमित मिले, सात की मौत, 345 मरीज हुए ठीक 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब विकास की रणनीति बना रहे थे तो कोविड की दूसरी लहर आ गई। किसी को पता नहीं था कि कोविड की दूसरी लहर इस तरह का रूप लेगी लेकिन जल्द ही स्थिति को पूरी तरह से संभाल लिया गया। पिछले लगभग तीन माह में आईसीयू बेड, आक्सीजन बेड, वेंटीलेटर की संख्या 10 गुणा तक बढ़ा दी गई है। 

प्रत्येक जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए हैं। सीएससी तक भी आक्सीजन प्लांट लगा रहे हैं। प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री के निर्देशों पर डीआरडीओ ने ऋषिकेश में 500 बेड का कोविड अस्पताल 14 दिन में तैयार किया। जबकि हल्द्वानी में 21 दिन के भीतर पांच सौ बेड का अस्पताल तैयार हुआ है। इन अस्पतालों में संक्रमित बच्चों के साथ उनके माता-पिता के रहने और आधुनिक चिकित्सा सुविधाएं हैं। यदि कोरोना की तीसरी लहर आती है तो इसके लिए राज्य में पूरी तैयारी कर ली गई हैं। 
... और पढ़ें

CBSE 12th Result :  सीबीएसई 12वीं के मूल्यांकन के लिए दून रीजन के फॉर्मूला पर लगी मुहर

सीबीएसई के 12वीं के छात्रों के मूल्यांकन के लिए फॉर्मूला तय कर दिया गया है। खास बात है कि दून रीजन से जो फॉर्मूला भेजा गया था, उसे ही पूरे देश में लागू किया गया है।
इस फॉर्मूला के अनुसार, 10वीं व 11वीं के 30-30 और 12वीं कक्षा के 40 प्रतिशत अंक लिए जाएंगे। वेटेज अंक भी दिए जाएंगे, जो इसी में शामिल हैं।

मूल्यांकन के लिए 10वीं कक्षा में जिन तीन विषयों में छात्र ने सबसे ज्यादा स्कोर किया होगा, उन्हीं को रिजल्ट तैयार करने के लिए चुना जाएगा।

सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक रणबीर सिंह ने कहा कि मूल्यांकन की स्कीम बहुत अच्छी है। इससे सभी छात्रों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि 12वीं के बाद छात्रों के लिए कई विकल्प खुलते हैं।

इसलिए 40 फीसदी अंक लेना अच्छा है। उन्होंने कहा कि दसवीं में दो प्रतिशत वेटेज था, उससे बच्चों को नुकसान हो रहा था। उसे बढ़ाकर पांच फीसदी करना भी छात्र हित में है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us