बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
ये उपाय करें, होंगी रुपए-पैसे से जुड़ी परेशानियाँ दूर
Myjyotish

ये उपाय करें, होंगी रुपए-पैसे से जुड़ी परेशानियाँ दूर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

उत्तराखंड: दक्षिण कोरिया के दर्शकों को भा गई सृष्टि की ‘एक था गांव’ फिल्म, मिला ऑडियंस च्वाइस अवॉर्ड 

उत्तराखंड के टिहरी के सेमला गांव की सृष्टि लखेड़ा की फिल्म एक था गांव (वन्स अपॉन ए विलेज) दक्षिण कोरिया के लोगों को भा गई है।

15 जून 2021

विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड : आईआईटी रुड़की तैयार करेगा 2041 की दिल्ली का नक्शा, डीडीए के साथ हुआ करार 

वर्ष 2041 में जिस सपनों की दिल्ली के निर्माण की बात हो रही है, उसका नक्शा आईआईटी रुड़की तैयार करेगा। इसके लिए दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) और संस्थान के बीच एमओयू साइन किया गया है।

पहले फेज में करीब सात करोड़ खर्च होंगे, जिसमें वर्तमान की दिल्ली का खाका तैयार करने के बाद भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) आधारित मास्टर प्लान तैयार किया जाएगा। 160 बिंदुओं को शामिल करते हुए तैयार होने वाले मास्टर प्लान में अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल होगा। इसमें स्मार्ट सिटी के स्तर की सभी सुविधाएं शामिल होंगी।

पिछले दो दशकों में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का विकास तेजी से हुआ है, लेकिन वर्ष 1962 के बाद से यहां कोई मास्टर प्लान तैयार नहीं हुआ है। अब डीडीए ने आने वाले 20 वर्षों में दिल्ली के नवनिर्माण की कवायद शुरू की है।

इसके तहत बड़ी आबादी को रहन-सहन की तमाम सुविधाओं को ध्यान में रखा जा रहा है। इस सपने को साकार करने के लिए डीडीए की ओर से एडिशनल कमिश्नर के श्रीरंगन और स्पांसर्ड रिसर्च एंड इंडस्ट्रियल कंसलटेंसी, आईआईटी रुड़की की तरफ से सिविल डिपार्टमेंट के वैज्ञानिक प्रो. कमल जैन ने एमओयू साइन किया है।

प्रो. कमल जैन ने बताया कि एमओयू के अनुसार, वर्ष 2041 के मास्टर प्लान के तहत करीब 1500 वर्ग किमी क्षेत्र का नक्शा तैयार किया जा रहा है। इस पर काम शुरू कर दिया गया है। नक्शा तैयार होने के बाद पूरी दिल्ली के सभी भवनों का फील्ड सर्वे होगा। अगले चरण में मास्टर प्लान में सुविधाओं का खाका तैयार किया जाएगा।

इसमें ड्रेनेज, अतिक्रमण, वाटर सप्लाई समेत स्मार्ट सिटी के स्तर की कम्यूनिटी फैसिलिटी का पूरा प्लान होगा। प्रो. जैन ने बताया कि यह योजना चार चरण में होगी। पहले चरण में करीब सात करोड़ में दिल्ली की वर्तमान तस्वीर तैयार की जाएगी। 
... और पढ़ें
इंडिया गेट (प्रतीकात्मक तस्वीर) इंडिया गेट (प्रतीकात्मक तस्वीर)

उत्तराखंड : बदरीनाथ हाईवे खुला, दूसरे दिन भी पिथौरागढ़-घाट राष्ट्रीय राजमार्ग बंद

बदरीनाथ हाईवे बिरही के समीप कोड़िया में बुधवार देर रात से बंद हाईवे गुरुवार को सुबह साढ़े 10 बजे सुचारू हो गया है। रात 2 बजे यहां पहाड़ी से भारी मात्रा में मलबा और बोल्डर हाईवे पर आया और हाईवे बंद हो गया। हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी लाइन लग गई थी। 

मुसीबत: मलबा आने से पिथौरागढ़-घाट हाईवे बंद, दिनभर भूखे-प्यासे फंसे रहे सैकड़ों यात्री, तस्वीरें...

 टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्टीय राजमार्ग लोहाघाट-पिथौरागढ़ के बीच भारतोली में बंद है। दूसरे दिन भी पिथौरागढ़-घाट राष्ट्रीय राजमार्ग नहीं खुला है। यहां सैकड़ों वाहन फंसे हैं।

भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाले हाईवे की मरम्मत का काम रुकने से आवाजाही ठप
भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाले मलारी हाईवे के टूटे हिस्से को बनाने का काम तीसरे दिन भी शुरू नहीं हो पाया। प्रशासन लगातार ग्रामीणों से वार्ता कर रहा है, लेकिन अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। ग्रामीणों का कहना है कि ऋषिगंगा की आपदा से पहले ही उनका गांव खतरे की जद में आ गया था। अब गांव के नीचे से हाईवे के लिए जमीन कटेगी तो मकान धंस सकते हैं। इसलिए पहले गांव को विस्थापित किया जाए।

सोमवार सुबह हुई तेज बारिश में रैणी गांव के नीचे हाईवे का करीब 40 मीटर हिस्सा पूरी तरह से टूट गया था। अब यहां पर जमीन काटकर सड़क बनाई जाएगी। इसके लिए रैणी गांव की जमीन काटनी पड़ रही है। साथ ही पंचायत भवन भी इसकी जद में आ रहा है।

भारत-चीन सीमा:  तीसरे दिन भी नहीं खुला जोशीमठ-मलारी हाईवे, लोग विस्थापन की मांग पर अड़े

ग्रामीणों से जमीन देने को लेकर प्रशासन तीन दिन से लगातार बैठक कर रहा है। लेकिन अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। इस संबंध में तहसीलदार चंद्रशेखर वशिष्ठ का कहना है कि बातचीत का दौर जारी है। ग्रामीणों की सहमति मिलते ही काम शुरू कर दिया जाएगा। 
... और पढ़ें

महंगाई की मार: उत्तराखंड में बढ़ी देश से अधिक महंगाई, अप्रैल से मई में 1.85 फीसदी बढ़ गए वस्तुओं के दाम

कोविड 19 महामारी से उबरने के लिए जद्दोजहद कर रहे उत्तराखंड पर महंगाई की मार भी पड़ रही है। अप्रैल से मई महीने के दौरान उत्तराखंड देश से अधिक महंगाई बढ़ी।

आंकड़ों के अनुसार, उत्तराखंड राज्य में अप्रैल से मई महीने के मध्य महंगाई की मासिक वृद्धि दर 1.85 प्रतिशत रही। जबकि राष्ट्रीय स्तर पर मासिक वृद्धि दर 1.64 प्रतिशत रही है। देश के प्रमुख राज्यों से तुलना करने पर उत्तराखंड में दिल्ली (1.57 प्रतिशत), हिमाचल प्रदेश (1.17), जम्मू और कश्मीर (1.41), चंडीगढ़ (0.06), गुजरात (1.65), हरियाणा (1.64) पंजाब (1.69) और राजस्थान (1.42 प्रतिशत) से अधिक महंगाई दर्ज हुई है।

महंगाई बेलगाम: सालभर में दोगुने हुए सरसों के तेल के दाम, देहरादून में 200 रुपये तक पहुंची कीमत

पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में उत्तराखंड से अधिक महंगाई है। वहां पिछले एक महीने में वस्तुओं के मूल्यों में 2.14 प्रतिशत की वृद्धि हुई। उत्तराखंड के गांवों में अप्रैल से मई में महंगाई 1.73 प्रतिशत और शहरी क्षेत्रों में 2.03 प्रतिशत की दर से बढ़ी। यानी राज्य के शहरी क्षेत्रों में कुल मासिक दर से अधिक महंगाई में बढ़ोतरी हुई।

नाम    मुद्रा स्फीति दर    शहर में    गांव में
भारत          1.64              1.07       2.15
उत्तराखंड    1.85               1.73      2.03
नोट: आंकड़े प्रतिशत में
... और पढ़ें

कोविड सुपर स्प्रेडर बना कुंभ: 13 महीनों पर भारी पड़े 30 दिन, कई संतों और श्रद्धालुओं ने गंवाई थी जान

कोरोनाकाल में कुंभ का आयोजन संक्रमण के प्रसार का बड़ा कारण बना। श्रद्धालुओं की फर्जी निगेटिव कोविड जांच रिपोर्ट के बावजूद कुंभ अवधि के 30 दिन पूरे कोरोनाकाल के 13 महीनों पर भारी रहे। कुंभ अवधि में 17317 पॉजिटिव मरीज मिले थे। जांच रिपोर्ट में खेल नहीं होता तो मरीजों की संख्या कई गुना अधिक हो सकती थी। 

हरिद्वार कुंभ: फर्जी टेस्टिंग मामले की उच्चस्तरीय जांच को लेकर सरकार पर दबाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की अपील पर 27 अप्रैल का आखिरी स्नान भी सांकेतिक हुआ। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की कोविड जांच नहीं थमी। मेला स्वास्थ्य विभाग ने 11 निजी लैब को कुंभ अवधि में आने वाले श्रद्धालुओं की कोविड की आरटीपीसीआर और एंटीजन जांच के लिए हायर किया था। 

लैबों ने फर्जी तरीके से हजारों उन लोगों की निगेटिव रिपोर्ट जारी कर दी जो कुंभ में आए ही नहीं थे। अखाड़ों के संतों की भी बिना सैंपल के निगेटिव रिपोर्ट जारी कर दी। इसके बाद भी कुंभ के 30 दिनों में नए पॉजिटिव मरीजों की संख्या 17317 पहुंच गई। सैकड़ों लोगों ने जान गवाई। इनमें कई संतों की भी मौत हुई। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड में कोरोना: 24 घंटे में 353 नए संक्रमित मिले, छह की मौत, 398 मरीज हुए ठीक 

हरिद्वार कुंभ
उत्तराखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 353 नए मामले दर्ज किए गए। वहीं छह मरीजों की मौत हुई है। इसके अलावा 398 मरीजों को आज ठीक होने के बाद घर भेजा गया। 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, बुधवार को 24165 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं, अल्मोड़ा में 20, बागेश्वर में दो, चमोली में नौ, चंपावत में सात, देहरादून में 75, हरिद्वार में 94, नैनीताल में 30, पौड़ी में 27, पिथौरागढ़ में 24, रुद्रप्रयाग में 15, टिहरी में 20, ऊधमसिंह नगर में 10 और उत्तरकाशी में 20 मामले सामने आए हैं।

हरिद्वार : कुंभ के दौरान कोविड दवा किट में भी घोटाले की बू, साधुओं की जांच में इस तरह किया गया घालमेल

प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल मामलों की संख्या तीन लाख 37 हजार 802 हो गई है। इनमें से तीन लाख 21 हजार 462 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 3572 पहुंच गई है। राज्य में कोरोना के चलते अब तक चुल 6997 लोगों की जान जा चुकी है।

ब्लैक फंगस के छह नए मामले, दो की मौत
प्रदेश में ब्लैक फंगस के मामले और मौतें थम नहीं रही है। बुधवार को देहरादून जिले में छह नए मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। जबकि एम्स ऋषिकेश में दो मरीजों ने इलाज के दौरान दमतोड़ा है। प्रदेश में ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या 413 हो गई है। जबकि 71 मौतें हुई है। 

स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ बुलेटिन के अनुसार देहरादून जिले में एम्स ऋषिकेश में पांच और श्री महंत इंदिरेश हास्पिटल में ब्लैक फंगस का एक मरीज मिला है। एम्स ऋषिकेश में दो मरीजों की मौत हुई है। अब तक 47 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।
... और पढ़ें

हरिद्वार: हरकी पैड़ी पर हरियाणा के युवकों ने गुड़गुड़ाया हुक्का, किन्नरों का हुलिया बनाकर कर रहे थे नौटंकी, तस्वीरें...  

किन्नरों का हुलिया बनाए हरियाणा के युवकों ने मंगलवार रात को हरकी पैड़ी के पास हुक्का पीकर खूब धुआं उड़ाया। इन युवकों ने वहां जमकर नौटंकी की। इनकी नौटंकी देखने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ एकत्र हो गई। किसी की सूचना पर पहुंची पुलिस ने युवकों को वहां से भगा दिया। पुलिस ने युवकों को चेतावनी दी कि यदि दोबारा ऐसी हरकत की तो मुकदमा दर्ज किया जाएगा। 

कोविड कर्फ्यू में कुछ छूट मिलने के बाद बाहरी प्रदेशों से काफी संख्या में लोग हरिद्वार पहुंचने लगे हैं। कुछ लोग इस छूट का दुरुपयोग कर रहे हैं। ऐसा ही नजारा मंगलवार की रात को हरकी पैड़ी पर देखने को मिला। जानकारी के अनुसार मंगलवार रात साढ़े 11 बजे हरकी पैड़ी पर हरियाणा के कुछ युवक पहुंचे। युवकों ने किन्नरों का हुलिया बनाया था। हरकी पैड़ी पर घंटाघर के पास चादर बिछाकर बैठ गए।

इन लोगों ने वहीं हुक्का पीना शुरू कर दिया। हुक्का गुड़गुड़ाकर धुएं के छल्ले उड़ाने लगे। इन युवकों की अजीबो-गरीब हरकत को देख लोगों की भीड़ जुटने लगी। कुछ लोगों को हरकी पैड़ी जैसी जगह पर युवकों की यह हरकत बुरी लगी।

उन्होंने पुलिस को इसकी जानकारी दी। सूचना पर हरकी पैड़ी चौकी इंचार्ज अरविंद रतूड़ी फोर्स के साथ पहुंचे। पुलिस ने फर्जी किन्नरों को भगा दिया। उन्होंने बताया कि युवक नौटंकी कर रहे थे। 
... और पढ़ें

मुसीबत: मलबा आने से पिथौरागढ़-घाट हाईवे बंद, दिनभर भूखे-प्यासे फंसे रहे सैकड़ों यात्री, तस्वीरें...

भारी बारिश के बीच बोल्डर और मलबा आने से बुधवार को टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो गया। भूस्खलन से भारतोली के पास 100 मीटर क्षेत्र में सड़क का बड़ा हिस्सा धंस गया। इससे पूरे दिन आवाजाही बंद रही। मार्ग पर सब्जी, रसोई गैस, पेट्रोल-डीजल के टैंकर, बसों समेत दर्जनों वाहन फंस गए हैं, जिससे यात्रियों को भी तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

रात तक मलबा साफ नहीं हो सका था, हालांकि टनकपुर से बाराकोट तक का हिस्सा सुचारु है। चंपावत के डीएम विनीत तोमर और एसपी लोकेश्वर सिंह ने भारतोली का मौका मुआयना किया। मार्ग पर खतरे के मद्देनजर आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। 

उत्तराखंड : कुमाऊं में अधिक तो गढ़वाल में मानसून कम सक्रिय, लोहाघाट में भारी बारिश ने मचाई तबाही

मंगलवार-बुधवार की रात पर्वतीय क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश हुई जिससे टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर दिल्ली बैंड के पास मलबा आ गया। सुबह दिल्ली बैंड के साथ ही मीना बाजार और चुपकोट बैंड के पास भी पहाड़ियां दरकने से सड़क पर मलबे के ढेर लग गए।

एनएच खंड ने जेसीबी और पोकलैंड भेजकर सड़क खोलने का काम शुरू किया लेकिन विशाल बोल्डर और टनों मलबा हटाने में मशक्कत करनी पड़ी। पहाड़ी से बार-बार पत्थर और मलबा गिरने से सड़क खोलने के काम में बाधा आई। इससे दोनों ओर सैकड़ों की संख्या में वाहनों की कतारें लग गईं। 
... और पढ़ें

रुद्रपुर डबल मर्डर: एक ही चिता पर हुआ दोनों भाइयों का अंतिम संस्कार, हर आंख से बहे आंसू, तस्वीरें... 

उत्तराखंड में रुद्रपुर के प्रीतनगर गांव में मेड़ के विवाद में हुई दो किसान भाइयों की हत्या के बाद बुधवार को दोनों के शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। सगे भाइयों के अटूट प्रेम को देखते हुए उनके शवों को एक ही चिता पर मुखाग्नि दी गई। श्मशान घाट में दो भाइयों के शव एक चिता पर जलते देख हर किसी की आंखे भर आईं। 

उत्तराखंड डबल मर्डर: पिता की आंखों के सामने हुई जिगर के टुकड़ों की हत्या, खून से लथपथ शव देख सहमे लोग, तस्वीरें...

इस दौरान एएसपी ममता बोहरा और एसडीएम विशाल मिश्रा भी मौजूद रहे। पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ भी सैकड़ों लोगों के साथ अंतिम यात्रा में शामिल हुए। बता दें कि मंगलवार को ग्राम लंका मलसी निवासी गुरकीर्तन सिंह (30) और उसके भाई गुरपेज सिंह (28) की प्रीतनगर गांव में हत्या के बाद परिजनों और ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया था। देर शाम डीएम की अनुमति के बाद शवों का पोस्टमार्टम हुआ।

बुधवार की सुबह पुलिसकर्मियों ने दोनों शव उनके घर पहुंचाए। गांव में बवाल की आशंका को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। सुबह नौ बजे मृतक गुरकीर्तन सिंह और गुरपेज सिंह का गांव के पास श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया। वहां पर सीओ सिटी अमित कुमार पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष संदीप चीमा, भाजपा नेता अजय तिवारी, विक्रमजीत सिंह आदि थे।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: तालाबनुमा गहरे गड्ढे में नहाने गए थे पांच किशोर, दो की डूबने से हुई मौत, तस्वीरें...

उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जिले में केलाखेड़ा में गांव भव्वानगला स्थित एक ईंट के भट्ठे के पास पानी से भरे गहरे गड्ढे में नहाते समय दो किशोरों की डूबकर मौत हो गई। उनके साथी तीन किशोर सकुशल बाहर निकल आए। उनकी चीख पुकार सुनकर लोग मौके पर पहुंचे और डूबे किशोरों को बाहर निकाला। इस हादसे से गांव में कोहराम मचा हुआ है। 

तस्वीरें: बहन को विदा करने ससुराल गए थे भाई समेत आठ किशोर, नदी में डूबने से हुई पांच की मौत

गांव भव्वानगला निवासी फरमान अली (11), फैजान (15), अलफैज (10), बिलाल (10), साहिल (12) बुधवार की दोपहर गांव स्थित एक ईंट भट्ठे के पास खेल रहे थे। इसी दौरान पांचों नहाने के लिए पानी से भरे गड्ढे में चले गए।

नहाते समय फरमान अली और फैजान गहरे गड्ढे में डूबने लगे। दोनों साथियों को डूबता देख अलफैज, बिलाल, साहिल शोर मचाते हुए गड्ढे से बाहर निकल आए। चीख पुकार सुनकर आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। मौके पर पहुंचे परिजनों ने गड्ढे से फैजान और फरमान को अचेत अवस्था में बाहर निकाला।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us