विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

कोरोना वायरस को हराने के लिए अरविंद केजरीवाल का '5 टी' प्लान

CoronaVirus in Delhi: दिल्ली सरकार ने तब्लीगी जमात से जुड़े 1950 नंबर पुलिस को सौंपे, जहां घूमे वो इलाके होंगे सील

देश में लॉकडाउन के बीच दिल्ली-एनसीआर में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। अकेले दिल्ली में अब तक 525 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें मरकज से निकले तब्लीगी जमातियों में 329 संक्रमित मिल चुके हैं। हालांकि गाजियाबाद और नोएडा से जरूर अच्छी खबर है कि पिछले 24 घंटे में वहां से कोई पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है। इस बीच मंगलवार सुबह दिल्ली सरकार की तरफ से जानकारी आई है कि आने वाले कुछ दिनों में दिल्ली में एक लाख टेस्ट करवाए जाएंगे। जानिए दिनभर के सभी अपडेट्स...
 


दिल्ली पुलिस ने प्राइवेट अस्पतालों से की अपील 
दिल्ली पुलिस पीआरओ, एम. एस. रंधावा ने कहा कि मैं सभी प्राइवेट अस्पतालों से अपील करना चाहूंगा कि उनके पास कोई भी कोरोना के लक्षण वाला मरीज आता है तो दिल्ली पुलिस या कोरोना अधिकृत अस्पतालों को सूचित करें। यदि इसका पालन नहीं किया जाता है, तो इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।:

दिल्ली सरकार ने तब्लीगी जमात से जुड़े 1950 नंबर पुलिस को सौंपे 
दिल्ली सरकार ने बताया कि उन्होंने तबलीगी जमात से जुड़े 1950 लोगों के फोन नंबर दिल्ली पुलिस को दिए हैं। इन सभी लोगों को निजामुद्दीन मरकज से हाल ही में हटा दिया गया था।

केजरीवाल पुलिस को देंगे मरकज से बाहर लाए गए दो हजार लोगों के फोन नंबर
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि आज हम दिल्ली पुलिस को उन दो हजार लोगों के फोन नंबर देंगे जो मरकज से बाहर लाए गए हैं, जिससे पता चल सके कि कहीं ये लोग मरकज के बाहर तो नहीं घूमे थे। उन सभी इलाकों को जहां वह गए होंगे सील किया जाएगा और उन पर नजर रखी जाएगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कोरोना से लड़ने के लिए एक फाइव टी योजना बनाई  जिसके तहत सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए कमर कस ली है।

एम्स अस्पताल अपने मेडिकल स्टाफ को 20 दिन के लिए देगा एन95 मास्क
एम्स ने मंगलवार को जानकारी दी है कि वह अपने डॉक्टरों समेत तमाम मेडिकल स्टाफ और सुरक्षा गार्ड तक को सिर्फ एन95 मास्क ही उपलब्ध कराएंगे। इसकी अवधि 20 दिन की होगी। एम्स द्वारा जारी सर्कुलर में कहा गया है कि एक एन95 मास्क को उपयोगकर्ता साफ करके कम से कम चार बार इस्तेमाल कर सकता है। इस तरह 20 दिन तक इसे इस्तेमाल किया जा सकेगा।

नरेला कैंप में सेना के डॉक्टरों ने काम शुरू किया
भारतीय सेना के सूत्रों के अनुसार नरेला में जिस मेडिकल कैंप में कोरोना के मरीजों का इलाज चल रहा है उसमें सेना के अतिरिक्त डॉक्टरों ने वर्तमान में सिविल चिकित्सा पेशेवरों के साथ स्क्रीनिंग का काम संभालना शुरू कर दिया है। बता दें कि इसके लिए सेना से अनुरोध किया गया था। इसके साथ ही सूत्रों कहना है कि आने वाले दिनों में सेना धीरे-धीरे इस कैंप की पूरी बागडोर अपने हाथ में ले लेगी ताकि कैंप का संचालन सुचारू रूप से चलता रहे।

नूंह में मिले 16 नए संक्रमित कुल संख्या हुई 30
नूंह जिले में कोरोना के 16 नए पॉजिटिव केस की पुष्टि हुई है। अब जिले में कुल संख्या 14 से बढ़कर 30 हो गई है। इनमें श्रीलंका के 6, साउथ अफ्रीका के 1, इंडोनेशिया के 1, थाईलैंड के 1, केरला के 5, जम्मू कश्मीर के 3, बिहार के 4, उत्तर प्रदेश के 5, महाराष्ट्र के 2 और तमिलनाडु के 1 और एक मेवात के गांव खानपुर घाटी सहित 30 कोरोना पॉजिटिव केस मेवात में हो गए हैं। अभी 134 और सैंपलों के रिपोर्ट का इंतजार है।

दिल्ली सरकार कराएगी एक लाख टेस्ट
दिल्ली सरकार ने एलान किया है कि अगले कुछ दिनों में दिल्ली सरकार एक लाख टेस्ट करवाएगी। दिल्ली में जो हॉटस्टपॉट हैं वहां रैंडम टेस्टिंग करवाई जाएगी। वहीं क्वारंटीन केंद्र भी बड़ी संख्या में स्थापित किए जा रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल यहां बढ़ रहे कोरोना के मामलों को लेकर आज दोपहर एक बजे प्रेसवार्ता कर 5 बिंदुओं वाली योजना बताएंगे।

नरेला क्वारंटीन सेंटर में भर्ती तब्लीगी जमात के दो लोगों पर एफआईआर दर्ज
दिल्ली में तब्लीगी जमात कार्यक्रम में भाग लेने वाले दो लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। वर्तमान में उन्हें नरेला के एक क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है। एफआईआर में कहा गया है कि नियमित सफाई स्टाफ ने 31 मार्च को सफाई के दौरान कुछ यात्रियों द्वारा एक कमरे के सामने शौच करने के बारे में बताया।
... और पढ़ें

राष्ट्रपति ट्रंप ने प्रधानमंत्री को नहीं, भारत की 135 करोड़ जनता को धमकी है: संजय सिंह

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत को दी गई धमकी की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान में साफ तौर से देखा जा सकता है कि वह किस प्रकार से कह रहे हैं कि या तो भारत-अमेरिका को दवाइयां निर्यात करे, नहीं तो हम भारत के खिलाफ कार्यवाई करेंगे।
 
संजय सिंह ने कहा कि यह बड़ा ही निराशाजनक है कि ऐसे समय में जब भारत की 135 करोड़ जनता संकट के दौर से गुजर रही है, देश भुखमरी के कगार पर खड़ा हुआ है, लोगों की जान जा रही है, ऐसे समय में अमेरिकी राष्ट्रपति भारत को धमकी देते हैं और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी कड़े शब्दों में उसका जवाब देने की बजाय, भारत की सरकार अमेरिका के सामने घुटने टेकती हुई नजर आ रही है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका की यह धमकी केवल प्रधानमंत्री के लिए नहीं बल्कि भारत की 135 करोड़ जनता को धमकी है, भारत की संप्रभुता को धमकी है।
 
उन्होंने कहा कि जहां एक ओर देश कोरोना नामक संकट से जूझ रहा है, वहीं दूसरी ओर केंद्र में बैठी भाजपा सरकार की सोच और नीतियां समझ से परे हैं। जहां हमारा देश खुद इस महामारी से जूझ रहा है, वहां केंद्र में बैठी भाजपा सरकार 19 मार्च तक भिन्न-भिन्न देशों को सैनिटाइजर, मास्क और वेंटिलेटर निर्यात कर रही है।

जहां एक और हमारे देश  के अस्पतालों में कोरोना से लड़ने में इस्तेमाल होने वाली जरूरी चीजें पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं हैं, बावजूद उसके केंद्र सरकार, 31 मार्च तक सर्बिया को कई टन सर्जिकल इक्विपमेंट्स, सैनिटाइजर और वेंटिलेटर  निर्यात कर रही है।
 
संजय सिंह ने कहा कि क्लोरोक्वीन नामक दवा, जो विश्वभर के अब तक के शोध में कोरोना बीमारी से लड़ने में सबसे सार्थक सिद्ध हुई है, ऐसी मुसीबत की घड़ी में जब देश खुद इस महामारी से जूझ रहा है, वह दवाई अमेरिका को निर्यात करने का निर्णय बेहद ही बचकाना और आधारहीन है।
... और पढ़ें

दिल्ली: द्वारका क्वारंटीन सेंटर में अज्ञात लोगों ने फेंकी मूत्र से भरी बोतलें, मामला दर्ज

पूरे देश समेत दिल्ली के कई क्वारंटीन केंद्रों में मेडिकल स्टाफ से किए जा रहे दुर्व्यवहार की बातें तो सामने आ ही रही थीं, अब दिल्ली के द्वारका केंद्र से भी कुछ ऐसी ही बात सामने आई है। जानकारी के अनुसार द्वारका नॉर्थ पुलिस स्टेशन क्षेत्र में आने वाली एक क्वारंटीन केंद्र में मूत्र से भरी दो बोतलें बरामद की गई हैं। इसकी बरामदगी को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 269 और 270 के तहत एक एफआईआर दर्ज की गई है।

दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (DUSIB) के सिविल डिफेंस कर्मियों ने इसकी एफआईआर दर्ज कराई थी। उन्होंने एफआईआर में शिकायत की है कि कुछ लोगों ने क्वारंटीन फैसिलिटी परिसर में मूत्र से भरी बोतलें फेंकी थीं।
 
... और पढ़ें
कोरोना वायरस (फाइल फोटो) कोरोना वायरस (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस के एक एएसआई में कोरोना की पुष्टि, एम्स में भर्ती

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के एक सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। बुखार की शिकायत पर पिछले हफ्ते उनका टेस्ट किया गया था और सात अप्रैल को उनकी रिपोर्ट आई। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें एम्स में शिफ्ट कर दिया गया है।



एएसआई के परिवार को होम-क्वारंटीन रहने को कहा गया है। इस बात की जानकारी दिल्ली पुलिस ने दी है। जिस कॉलोनी में एएसआई रहते थे अब वो कड़े लॉकडाउन में है। पुलिस उनके संपर्क में आए लोगों और वो कैसे संक्रमित हुए इसका पता लगाने की कोशिश कर रही है।

दिल्ली में मंगलवार को हुई थी कोरोना से दो और की मौत, 51 नए रोगी भी मिले
कोरोना वायरस से संक्रमित दो और मरीजों की राजधानी में मौत हो गई। इन्होंने मंगलवार को अलग-अलग अस्पतालों में दम तोड़ दिया। उधर, 51 नए कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इसी के साथ, दिल्ली में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की सख्या बढ़कर 576 हो गई है। इससे मृतकों की संख्या भी 9 हो गई है। इसके अलावा, 20 मरीजों को अब तक अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, मरकज से निकाले गए लोगों में से अब तक 333 संक्रमित मिल चुके हैं। 203 संक्रमित मरीजों में विदेश यात्रा करके लौटने वाले और एक-दूसरे से संपर्क में आने वाले हैं।

विभाग का कहना है कि 40 संक्रमित मरीजों के बारे में फिलहाल जांच चल रही है। सरकारी अस्पतालों में 546 मरीजों का उपचार चल रहा है। मंगलवार को 51 नए मरीज सामने आए हैं। इनमें 35 विदेश से यात्रा करने वाले या उनके संपर्क में आने से संक्रमित होने वाले हैं।

इसके अलावा मरकज से निकाले गए 4 जमातियों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव है। अभी 1157 सैंपल की रिपोर्ट आनी बाकी है। अस्पतालों में भर्ती संक्रमित मरीजों में से 35 की हालत गंभीर है। इन्हें आईसीयू में रखा गया है। वहीं 8 मरीज वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं। अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती 1066 मरीजों में से 546 संक्रमित हैं।
... और पढ़ें

कोरोना से निपटने के उपायों की खोज करेंगे युवा

वैश्विक महामारी कोरोना को देखते हुए अब सरकार सुरक्षा एजेंसियों, स्वास्थ्य सेवाओं, अस्पतालों और अन्य सेवाओं को ऐसी चुनौतियों से निपटने पर पहले तैयारी करेगी। इसी के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय मेगा ऑनलाइन चैलेंज समाधान की शुरुआत कर रहा है। इसमें छात्रों को ऐसी चुनौतियों का त्वरित समाधान उपलब्ध करवाने के उपायों की खोज करनी होगी।

इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन विंडो ओपन हो गई है। इच्छुक छात्र 14 अप्रैल तक आवेदन कर सकेंगे। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को इस समाधान चैलेंज प्रतियोगिता शुरू करने की घोषणा की।

एचआरडी इनोवेशन सेल और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के फोर्ज व इनोवेशिओक्यूरिस इस समाधान प्रतियोगिता को आयोजित करेगा। समाधान का मकसद किसी भी संकट को रोकने और चुनौतियों का सामना करने के लिए लोगों को जागरूक करना होगा।

इस चैलेंज में भाग लेने वाले छात्र-छात्राएं ऐसे उपायों की खोज करेंगे जो कि सरकारी एजेंसियों, स्वास्थ्य सेवाओं, अस्पतालों एवं अन्य सेवाओं को अचानक आने वाली चुनौतियों का त्वरित समाधान उपलब्ध करवाया जा सके।

इसके अलावा "समाधान" चैलेंज के द्वारा नागरिकों को जागरूक बनाने, किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए प्रेरित करने, किसी भी संकट को रोकने और लोगों को आजीविका दिलवाने में सहायता करने पर काम होगा।

छात्रों और फैकल्टी के लोगों को नए प्रयोग व नई खोज के लिए प्रेरित करना और उनको उस प्रयोग या खोज का परिक्षण करने के लिए एक मजबूत बेस उपलब्ध करवाना भी है। इस चैलेंज के माध्यम से तकनीकी व व्यावसायिक रूप से ऐसे समाधान निकालना है, जोकि कोरोनावायरस जैसी महामारी से लड़ने में मदद करें। अधिक जानकारी के लिए छात्र मानव संसाधन विकास मंत्रालय की वेबसाइट पर लॉगइन कर सकते हैं।
... और पढ़ें

'जामिया नगर में क्वारंटीन है तब्लीगी मरकज का मौलाना साद'

देशभर में कोरोना संक्रमण फैलाने वाले निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज के मौलाना मोहम्मद साद ने खुद को दिल्ली के जामिया नगर में ही क्वारंटीन किया है। मरकज मामले की जांच कर रही अपराध शाखा की टीम के विश्ववसनीय सूत्रों के मुताबिक, यहां के जाकिर नगर में मौलाना की बहन का घर है। अपराध शाखा अभी मौलाना साद के खिलाफ सबूत जुटा रही है। इसके बाद ही कानूनी कार्रवाई होगी।

सूत्रों ने बताया कि अपराध शाखा की टीम सीधे नहीं, बल्कि कुछ लोगों के जरिए मौलाना के संपर्क में है। पहले नोटिस का जो जवाब अपराध शाखा को मिला, उसमें मौलाना साद के हस्ताक्षर हैं। हालांकि साद ने पहले नोटिस का बहुत ही गोल-मोल जवाब दिया है। साद ने कहा कि सब कुछ मरकज में बंद है। इसके खुलने पर ही कुछ जानकारी मिल पाएगी। दिल्ली पुलिस ने दूसरा नोटिस भेजकर मौलाना साद से और जानकारियां मांगी हैं। पुलिस ने जल्द ही सवालों के जवाब देने को कहा है।




उधर, अपराध शाखा की जांच में पता चला है कि मरकज में साफ-सफाई का बिल्कुल ध्यान नहीं रखा जाता था। रोहिणी स्थित फोरेंसिक लैब की टीम ने वहां से काफी जैविक सैंपल उठाए हैं। इनमें थूक, बलगम व नेजल फ्लूड शामिल हैं। टीम के सूत्रों के मुताबिक, इसी कारण मरकल के लोगों में कोरोना तेजी से फैल गया। हालांकि मरकज से किसी तरह का कैमिकल नहीं मिला है।

जांच के लिए गई थीं चार फोरेंसिक टीमें

रोहिणी स्थित एसएफएल के अधिकारियों ने बताया कि अपराध शाखा के पुलिसकर्मियों के साथ मरकज में चार तरह जैविक, केमिकल, बायोलोजिकल और फोर्टा एक्सपर्ट टीमें गई थीं। फोटो एक्सपर्ट टीमों ने अच्छा काम किया है। पूरे मरकज की वीडियोग्राफी की है और काफी फोटो खींचे हैं।
... और पढ़ें

दिल्ली के हॉटस्पॉट्स में एक लाख लोगों का होगा कोरोना टेस्ट, मरीज बढ़े ...और मौत के मामले भी

निजामुद्दीन मरकज का एक दृश्य (फाइल फोटो)
कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली सरकार बड़े स्तर पर टेस्टिंग करेगी। हॉटस्पॉट वाले इलाकों में एक लाख लोगों का रैपिड टेस्ट करके जरूरत के हिसाब से मरीजों को इलाज या क्वारंटीन में भेजा जाएगा। राजधानी में मंगलवार को दो और मरीजों की मौत हो गई। इससे मृतकों की संख्या भी 9 हो गई है। 51 नए मरीज के साथ, संक्रमितों की सख्या बढ़कर 576 हो गई है।
मरीजों की संख्या बढ़ने की आशंका को देखते हुए दिल्ली सरकार ने तीस हजार बेड तक की क्षमता विकसित करने का खाका तैयार कर लिया है। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को दिल्ली सरकार की तैयारियों की जानकारी देते हुए कहा कि शुक्रवार से एक लाख अतिरिक्त किट भी पहुंचने लगेगी। इसके सहारे अलग-अलग इलाकों में रैपिड टेस्ट करवाया जाएगा। निजामुद्दीन, दिलशाद गार्डन जैसे हॉट स्पॉट इलाकों में शुक्रवार से रैंडम टेस्ट होगा। इससे पता चलेगा कि कोरोना इलाके में फैल तो नहीं रहा है।

अब तक 6 हजार से ज्यादा सैंपलों की जांच
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि विशेषज्ञों की सलाह पर सरकार ने कोरोना वायरस को जड़ से खत्म करने के लिए 5 बिंदुओं की योजना तैयार की है। इस योजना का नाम 5-टी (टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, टीमवर्क और ट्रैकिंग एंड मॉनिटरिंग) है।

अपनाएंगे द. कोरिया मॉडल
दक्षिण कोरिया का उदाहरण देते हुए केजरीवाल ने कहा कि वहां की सरकार ने एक-एक व्यक्ति का टेस्ट करवाकर बीमारी पर काबू किया है। इसी मॉडल पर दिल्ली सरकार भी बड़े स्तर पर जांच कराएगी।
... और पढ़ें

दिल्ली में कर्फ्यू पास का शराब तस्करी में इस्तेमाल करते कई गिरफ्तार

लॉकडाउन में कर्फ्यू पास बनवाकर शराब की तस्करी करने वाले कई लोगों को मुंडका के टिकरी बॉर्डर से मंगलवार को पकड़ा गया है। इन सभी आरोपियों के पास से बॉर्डर पर चेकिंग के दौरान अंग्रेजी शराब की बोतलें बरामद हुई है। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर उनका पास रद्द कर दिया है। 

मुंडका पुलिस ने टिकरी बॉर्डर के पास बाइक सवार मंगोलपुरी निवासी हरिओम को गिरफ्तार किया है। उसके बैग से 5 बोतल अवैध शराब बरामद की है। वह पुलिस से जारी एक कर्फ्यू पास का इस्तेमाल शराब तस्करी के लिए कर रहा था। 

आरोपी के खिलाफ कानूनी दिल्ली एक्साइज एक्ट और 188 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं दक्षिण दिल्ली नगर निगम से जारी  पास के उल्लंघन के लिए अविनाश और शिवपूजन नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है। इनके पास से भी बैग में शराब बरामदद हुई है। उनके पास को रद्द करने के लिए दक्षिणी दिल्ली नगर निगम को पत्र भेजा दिया गया है। 

उधर, रानी बाग पुलिस ने सार्वजनिक स्थान पर शराब का सेवन करने के लिए दीपक शर्मा को गिरफ्तार किया है। वह संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में केमिस्ट की दुकान चलाता है। पुलिस की तरफ से पास के दुरुपयोग करने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है।
... और पढ़ें

दिल्ली: दो बार अस्पताल पहुंचे कोरोना संक्रमित को भेज दिया घर, रेलवे अस्पताल की बड़ी लापरवाही उजागर

उत्तर रेलवे के नई दिल्ली स्थित केंद्रीय रेलवे अस्पताल की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। रेलवे का ही एक कर्मचारी तबीयत खराब होने पर दो बार अस्पताल आया लेकिन डॉक्टरों को उसके अंदर कोरोना के लक्षण नहीं दिखने पर साधारण इलाज कर वापस घर भेज दिया। अब उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

गौरतलब है कि निजामुद्दीन स्टेशन पर तैनात 59 वर्षीय आरक्षण सुपरवाइजर कोरोना से संक्रमित पाया गया है। 31 मार्च और 2 अप्रैल को तबीयत बिगड़ने की वजह से उसने खुद को उत्तर रेलवे के नई दिल्ली स्थित केंद्रीय रेलवे अस्पताल में डॉक्टर को दिखाया था। लेकिन डॉक्टरों ने उसकी बीमारी को गंभीरता से नहीं लिया और उसे आइसोलेशन वार्ड में नहीं रखा गया।

बाद में उसने निजी लैब में जांच कराई तो कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद संक्रमित रेलवे कर्मी को आरएममएल अस्पताल में भेजा गया। उनके संपर्क में आने वाले डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी और अन्य लोगों की पहचान की जा रही है।

संक्रमित सुपरवाइजर लाजपत नगर के रहने वाले हैं। वह आखिरी बार 21 मार्च को ड्यूटी पर आए थे। उस दिन उनके संपर्क में आने वाले रेल कर्मचारियों की कोरोना वायरस संक्रमण की जांच कराई जा रही है।
... और पढ़ें

जामिया नगर में चार संक्रमित, दो लोग गए थे मस्जिद में नमाज पढ़ने

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज से निकलकर इलाके की मस्जिदों में गए जमातियों ने वहां भी संक्रमण फैला दिया है। जामिया नगर में चार और लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें दो लोगों को कोरोना संक्रमण मस्जिदों में नमाज पढ़ने से हुआ। दो अन्य पीड़ित पति-पत्नी हैं। चार कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद पूरे जामिया नगर में दहशत है।

दक्षिण-पूर्व जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार, जामिया नगर के जाकिर नगर में कोरोना पॉजिटिव केस पाए गए हैं। इनमें से दंपती के मंगलवार को सामने आए। तीसरा केस 5 अप्रैल का और चौथा केस 2 अप्रैल का है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, पति बेटे की शादी का कार्ड देने के लिए मुंबई गया था।

इसके बाद वह और उसकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इन दोनों को मंगलवार को आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया। उन्हें ले जाने के लिए एंबुलेंस को घर बुलाया गया था। दो अन्य लोगों की कोई यात्रा डिटेल नहीं है। वे मस्जिदों में नमाज पढ़ने जाते थे। उन्हें भी आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जाकिर नगर में कोरोना के चार पॉजिटिव केस मिलने के बाद इलाके में दहशत है। लोग अब बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। कोरोना संक्रमित पाए गए लोगों के घर के पास भी वे नहीं जा रहे हैं। इतने केस मिलने के बाद पुलिसकर्मी भी गश्त में सावधानी बरत रहे हैं।

869 घरों की हुई जांच, 43 ने जानकारी देने से किया इनकार  
निजामुद्दीन में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए घरों में पहुंचकर नगर निगम व दिल्ली सरकार लोगों की जांच कर आंकड़े जुटा रही है। कुछ लोग इसमें सहयोग नहीं कर रहे हैं। अब तक इलाके में 869 घरों की जांच की गई। इनमें से 43 घरों में मौजूद लोगों ने किसी भी प्रकार की जानकारी देने से इनकार कर दिया। 

संक्रमण रोकने के लिए टीम घर-घर पहुंचकर संपर्क कर रही हैं। उन लोगों की भी जानकारी जुटाई जा रही है, जो जमातियों के संपर्क में आए थे। कई लोग सर्वे करने पहुंची निगम की टीम से सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसे लेकर टीम में शामिल लोग परेशान हैं। बहरहाल, राहत की बात यह है कि जिन घरों में जांच हुई है, वहां कोई कोरोना पॉजिटिव नहीं निकला है। निगम ने दिलदारनगर, निजाम नगर और खुसरू नगर में अभियान चलाया। 

निजाम नगर में 360 घरों की जांच की गई। यहां 10 घरों ने जानकारी देने से इनकार किया। दिलदार नगर के 228 घरों में से नौ ने जानकारी देने से इनकार किया। उधर, खुसरू नगर में 279 घरों की जांच की गई। यहां 24 घरों के लोगों ने जानकारी देने से इनकार कर दिया। निगम अनुसार, कुछ घरों पर ताले लटके हैं। वहां से किसी प्रकार की जानकारी नहीं मिल सकी है।
... और पढ़ें

हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय में अब 25 अप्रैल तक करें आवेदन

हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय महेंद्रगढ़ ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 में विभिन्न डिग्री प्रोग्राम में दाखिला आवेदन पत्र भरने की तिथि 25 अप्रैल तक बढ़ा दी है। स्नातक, स्नातकोत्तर, एमफिल और पीएचडी प्रोग्राम के सभी छात्र अब नई तिथि के तहत आवेदन कर सकेंगे। पहले छात्र 11 अप्रैल तक ही आवेदन कर सकते थे।

कुलपति प्रो. आरसी कुहाड़ के मुताबिक, लॉकडाउन से पहले ऑनलाइन दाखिला आवेदन विंडो खोल दी गई थी। हालांकि बीच में अचानक कोरोना वायरस से बचाव के चलते शिक्षण संस्थानों को बंद करना पड़ा।

इस कारण काफी छात्र आवेदन करने से छूट गए थे। इसलिए छात्रों को सुविधा देने के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र भरने की तिथि बढ़ाई गई है। विश्वविद्यालय में दाखिला केंद्रीय विश्वविद्यालय संयुक्त प्रवेश परीक्षा (सीयूसीईटी)-2020 के आधार पर होता है। स्नातक, स्नातकोत्तर प्रोग्राम में दाखिले के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा 30 व 31 मई और शोध पाठ्यक्रमों के लिए छह व सात जून को होगी।
... और पढ़ें

वार्षिक परीक्षा, अगले सत्र में दाखिला, पढ़ाई व सेमेस्टर का अकेडमिक कलेंडर बनाएगी UGC की एक्सपर्ट कमेटी

देशभर के विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों में लॉकडाउन के चलते वार्षिक परीक्षा में देरी और शैक्षणिक सत्र 2020-21 में दाखिला, सेमेस्टर व पढ़ाई के समाधान को लेकर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सात सदस्यीय एक्सपर्ट कमेटी गठित की है। इस कमेटी की अध्यक्षता केंद्रीय विश्वविद्यालय महेंद्रगढ़ के कुलपति प्रो. आरसी कुहाड़ करेंगे।

कमेटी देशभर के विश्वविद्यालय प्रबंधन से बात करने के आधार पर अपनी रिपोर्ट 13 अप्रैल को सौंपेगी। कमेटी अगले सत्र के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों का अकेडमिक कलेंडर भी बनाकर देगी। इसी एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिशों के आधार पर आगे की रणनीति तय होगी।

यूजीसी के सचिव प्रो. रजनीश जैन के मुताबिक, कोरोना से बचाव के चलते लॉकडाउन भी जरूरी है। ऐसे में देश के सभी उच्च शिक्षण संस्थान बंद पड़े हैं। विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों में शैक्षणिक सत्र 2019-20 के तहत वार्षिक परीक्षा आयोजित नहीं हुई है।

ऐसे में परीक्षा आयोजित करवाने से लेकर रिजल्ट जारी करना भी बड़ी दिक्कत है। वहीं, आगामी शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए भी दाखिला प्रक्रिया शुरू करना, दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा और उसके बाद अगले साल का अकेडमिक कलेंडर तैयार होगा। इसी कलेंडर में सेमेस्टर सिस्टम में किस प्रकार कितना पाठ्यक्रम, परीक्षा आदि की रूपरेखा बनेगी।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन