विज्ञापन
विज्ञापन
अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल
Kundali

अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

दिल्लीः ऑनलाइन क्लास न कर पाने वाले बच्चों के लिए कांस्टेबल बने सहारा, मंदिर में ले रहे क्लास

दिल्ली पुलिस का एक कांस्टेबल कोरोना काल में जरूरतमंद बच्चों के लिए मदद का बड़ा हाथ बनकर सामने आया है। कांस्टेबल ने कोरोनाकाल के दौरान गरीब और जरूरतमंद...

20 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

दिल्लीः एम्स मारपीट मामले में सोमनाथ भारती को दो साल की सजा, एक लाख का जुर्माना, अपील के लिए मिली जमानत

एम्स मारपीट मामले में आप विधायक व पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती को अदालत ने शनिवार को दो साल की कैद और एक लाख जुर्माने की सजा सुनाई है। हालांकि उच्च अदालत में अपील के लिए वक्त देते हुए अदालत ने भारती को जमानत दे दी है। कानून के तहत तीन वर्ष या उससे कम सजा वाले मामलों में अपील दायर करने तक जमानत का प्रावधान है। दिल्ली की राउज एवेन्यू अदालत ने शुक्रवार को ही सोमनाथ भारती को इस मामले में दोषी ठहराया था और चार अन्य आरोपियों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया था।

अदालत ने आम आदमी पार्टी के मालवीय नगर से विधायक सोमनाथ भारती को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के कर्मचारियों से मारपीट करने व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में दोषी ठहराया था। अदालत ने कहा कि सभी साक्ष्यों व गवाहों के बयानों से आरोपी का अपराध साबित हुआ है।

राउज एवेन्यू कोर्ट के अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट रविंद्र कुमार पांडे ने अपने फैसले में शुक्रवार को कहा था कि अभियोजन पक्ष भारती पर लगे आरोप साबित करने में सफल रहा है। गवाहों के बयानों से स्पष्ट है कि आरोपी ने अपने साथियों के साथ आकर एम्स में हंगामा किया। उसे रोकने पर कर्मचारियों से मारपीट की गई और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। वहीं अदालत ने चार अन्य आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था।

अदालत ने भारती को आईपीसी की धारा 323, 353, 143 के तहत व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने संबंधी धारा तीन के तहत दोषी ठहराया। वहीं अदालत ने मामले में सह-आरोपी जगत सैनी, दलीप झा, संदीप उर्फ सोनू एवं राकेश पांडे को बरी कर दिया है। अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष इन आरोपियों का बिना शक अपराध साबित करने में असफल रहा है ऐसे में वे संदेह का लाभ पाने के हकदार हैं।

यह मामला 2016 का है। पेश मामले में आप विधायक सोमनाथ भारती के खिलाफ 9 सितंबर 2016 को एम्स के मुख्य सुरक्षा अधिकारी ने हौजखास थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। सुरक्षा अधिकारी का आरोप था कि भारती व अन्य ने सरकारी संपत्ति पर अतिक्रमण करने की कोशिश की। इतना ही नहीं अस्पताल की शांति भंग करने का प्रयास भी किया।

शिकायत में कहा गया था कि तीन सौ अधिक समर्थकों के साथ आरोपी विधायक ने सुरक्षा अधिकारी की पिटाई की थी। इस मामले में भारती की गिरफ्तारी हुई थी। हालांकि उन्हें जमानत मिल गई थी।
... और पढ़ें
सोमनाथ भारती सोमनाथ भारती

किसान आंदोलनः ओडिशा से 500 किसान पहुंचे गाजीपुर बॉर्डर, ट्रैक्टर रैली को लेकर पुलिस संग बैठक जारी

ओडिशा से 500 किसान पहुंचे यूपी गेट
ओडिशा से नवनिर्माण किसान संगठन के बैनर तले करीब 500 किसान 6 बसों के साथ शनिवार दिन में यूपी गेट पहुंचे।, संगठन के कोऑर्डिनेटर उमाकांत ने कहा कि वह 15 जनवरी को भुवनेश्वर से बंगाल व झारखंड होते हुए उत्तर प्रदेश के यूपी गेट पर पहुंचे हैं।

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद पहुंचे यूपी गेट
कांग्रेस नेता और पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद शनिवार दिन में यूपी गेट पहुंचे। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को होने वाली ट्रैक्टर रैली ऐतिहासिक होगी।

यूपी गेट पर लाया गया गुरु गोविंद सिंह का 400 साल पुराना नगाड़ा
यूपी गेट पर किसान आंदोलन में गुरु गोविंद सिंह के 400 साल पुराने नगाड़े को भी लाया गया, इन नगाड़ों को लाने वाले बाबा निहंग ने बताया कि नगाड़ों को जंग शुरू होने से पहले बजाया जाता है। 26 जनवरी की सुबह में ट्रैक्टर रैली शुरू होने से पहले नगाड़ों को बजाया जाएगा।

गणतंत्र दिवस और ट्रैक्टर परेड के मद्देनजर रूट बंद
वैशाली कट से यूपी गेट पर किसी भी वाहनों को आने की अनुमति नहीं है। यहां सिर्फ एम्बुलेंस, किसान और मीडियाकर्मियों को आने की अनुमति है।

खिलाड़ी रेनू कादयान भी पहुंची गाजीपुर बॉर्डर
वर्ल्ड रेस वाकिंग में 5वीं रैंक पर मौजूद स्पोर्ट्स खिलाड़ी रेनू कादयान सेहरावत भी यूपी गेट पर किसान आंदोलन को समर्थन देने पहुंचीं।

वैशाली सेक्टर-1 के कट तक पहुंची ट्रैक्टरों की कतार
वैशाली सेक्टर-1 के कट तक ट्रैक्टर-ट्रॉली की कतार पहुंच गई है। इसी के चलते यूपी गेट की ओर ट्रैफिक नहीं आने दिया जा रहा है।

महाराजपुर बॉर्डर पर वाहनों की बढ़ रही कतार
महाराजपुर बॉर्डर पर वाहनों का दबाव बढ़ने से शनिवार दिन में जाम लग गया। कौशांबी-वैशाली समेत मोहननगर, दिल्ली-वजीराबाद रोड पर ट्रैफिक धीमी गति से घंटो चला। गणतंत्र दिवस को लेकर सुरक्षा बढ़ाई गई है। पीएसी बल भी तैनात किया गया है। 

किसान बिना लिखा-पढ़त दिल्ली जाएंगे
सरकार द्वारा डेढ़ साल तक कानूनों को रोक लगाने के प्रस्ताव पर पुनर्विचार करने के मामले में राकेश टिकैत ने कहा कि अब सरकार से बातचीत टूटेगी और फिर एक महीने बाद किसानों की बात सुनी जाएगी। ट्रैक्टर रैली को लेकर टिकैत ने कहा कि, किसान बिना कागज और लिखा-पढ़त के भी दिल्ली जाएगा। वहीं सिंघु बॉर्डर पर एक संदिग्ध द्वारा प्रेस वार्ता करने के मामले में टिकैत ने कहा कि किसान कमेटी ने उस संदिग्ध को हरियाणा दिल्ली और पंजाब पुलिस को सौंपा है, यदि ट्रैक्टर रैली के दौरान कोई दंगा होता है तो उसकी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की होगी।
... और पढ़ें

नोएडा एयरपोर्ट के पास खरीद सकेंगे सस्ते घर, अफोर्डेबल हाउसिंग योजना जल्द लाएगा यमुना प्राधिकरण

नोएडा एयरपोर्ट के आसपास घर का सपना देख रहे लोगों को यमुना प्राधिकरण एक मौका देने जा रहा है। यमुना प्राधिकरण जल्द ही अफोर्डेबल हाउसिंग (किफायती आवास) योजना लांच करने की तैयारी कर रहा है। इसमें 1920 फ्लैट होंगे। इनकी कीमत 11 लाख से 33 लाख रुपये तक होगी। सेक्टर-18 में पांच हेक्टेयर जमीन पर यह योजना प्रस्तावित है। इसका डिजाइन फाइनल हो गया है।

दरअसल, यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में सैकड़ों औद्योगिक इकाइयों के लिए जमीन आवंटित हो चुकी है। एयरपोर्ट का भी काम जल्द शुरू होगा। ऐसे में हर वर्ग के लोग इसके आसपास बसेंगे। इसे ध्यान में रखते हुए यमुना प्राधिकरण ने किफायती आवासीय योजना निकालने की तैयारी है।

इकोनॉमी फिजिबिलिटी देखने के लिए प्राधिकरण ने सलाहकार कंपनी का चयन करने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है। यह प्रक्रिया अंतिम चरण में है। सलाहकार कंपनी का चयन होने के बाद रिपोर्ट बनेगी। इसके बाद परियोजना के टेंडर निकाल दिए जाएंगे।

डेढ़ साल में परियोजना को पूरा कर लिया जाएगा। अप्रैल तक इस योजना को लांच करने की तैयारी है। यमुना प्राधिकरण ने इसके लिए सेक्टर-18 में पांच हेक्टेयर जमीन तय ली है। यमुना प्राधिकरण के मुताबिक ईडब्ल्यूएस और एलआईजी श्रेणी के फ्लैट होंगे।

एलआईजी के फ्लैट तीन श्रेणी में होंगे। ईडब्ल्यूएस और एलआईजी की पहली श्रेणी के फ्लैट चार मंजिला होंगे, जबकि एलआईजी के बाकी दो श्रेणी के फ्लैट 14 मंजिला होंगे। इस परियोजना का डिजाइन फाइनल हो गया है। लोगों को कम कीमत पर फ्लैट दिए जाएंगे। इसकी कीमत को जल्द अंतिम रूप दिया जाएगा। इस पूरी परियोजना को अंतिम रूप देने के लिए सलाहकार कंपनी के चयन की प्रक्रिया चल रही है। 
... और पढ़ें

सरकार के साथ दो-दो हाथ करने की तैयारी में किसान, बोले- लाठियां बरसीं तो भी नहीं हटेंगे पीछे

हाउसिंग सोसाइटी
किसान सरकार के साथ अब दो-दो हाथ करने के मूड में नजर आ रहे हैं। शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर बड़ी संख्या में किसान लाठियों के साहथ नजर आए। यहां पर बढ़ई लाठियां बनाने में जुटे हैं। किसानों ने लाठियों में किसान मजदूर एकता मंच का झंडा लगा रखा है। उनका कहना है कि यदि 26 जनवरी को उन्हें दिल्ली में ट्रैक्टर परेड करने से रोका गया और पुलिस ने यदि उनपर लाठियां बरसाईं तो वह भी पीछे नहीं हटेंगे।  

सिघु बॉर्डर पर मुख्य रूप से किसानों ने दो मंच बना रखे हैं। पहला मंच किसान मजदूर एकता संगठन पंजाब का है जबकि दूसरा मंच संयुक्त किसान मोर्चा दिल्ली के नाम से यहां पर स्थापित किया गया है। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा के मंच पर सामान्य चहल-पहल थी। सरकार के खिलाफ किसानों का मोर्चा यहां खुला हुआ था जबकि मजदूर किसान एकता संगठन के मंच पर आक्रोश तेज नजर आ रहा था। मंच के सामने पंजाब से आए सैकड़ों किसान हाथों में लाठियां थामे बैठे थे। हालांकि किसानों की लाठियों में झंडे लहरा रहे थे। 

गांव-गांव से लाठियां लेकर पहुंच रहे हैं किसान
सिंघु बॉर्डर पर शुक्रवार को भारी भीड़ थी। किसानों के मुताबिक पंजाब के प्रत्येक गांव से लगभग 30 से 50 लोग लाठियों के साथ यहां पहुंच रहे हैं। तरनतारन जिले के गांव पड़ा सौर से लखविंदर सिंह, नरवैल सिंह, मनोहर सिंह और गुरविंदर सिंह शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पहुंचे थे। गुरविंदर सिंह ने बताया कि उनके गांव से 25 लोगों का जत्था आज पहुंचा है। रात में इतने ही लोग और आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि अब तो मोर्चा फतह करके ही यहां से वापस जाएंगे।




यहां पर बढ़ई लाठियां बनाने में जुटे हैं
सिंघु बॉर्डर पर बढ़ई लोगों के लिये लाठियां बनाने में जुटे हैं। लाठियों को खरादकर तैयार कर रहे बढ़ई सुखराज सिंह रामगढ़िया ने कहा कि अब तो सरकार को मुंहतोड़ जवाब देंगे। हालांकि जिस तंबू के अंदर लाठियां बनाई जा रही हैं वहां की फोटो खींचने व इस विषय में जानकारी देने से यहां उपस्थित लोगों ने साफ मना कर दिया। बल्कि तुरंत वहां से जाने के लिये भी कहा गया।

किसान संगठनों ने कहा निर्णायक लड़ाई के नजदीक
सिंघु बॉर्डर पर शुक्रवार को ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर (एआईयूटीयूसी) के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भी पहुंचकर किसानों का साथ देने की बात कही। कहा अब हम निर्णायक लड़ाई के नजदीक हैं, 26 जनवरी को वह परेड में सैकड़ों ट्रैक्टरों के साथ शामिल होंगे। जबकि संयुक्त किसान मोर्चा दिल्ली ने कहा कि किसानों की लड़ाई लंबी है। अब उनका लक्ष्य केवल एमएसपी पर कानून बनवाना भर नहीं है। बल्कि अब वह नया पंजाब और नया भारत निर्माण कराके ही दिल्ली से वापस लौटेंगे।
... और पढ़ें

दिल्ली बॉर्डर पर पकड़े गए संदिग्ध ने किए कई खुलासे, बताया- परेड में करना था बवाल, हत्या की साजिश

सिंघु बॉर्डर पर किसानों ने एक संदिग्ध व्यक्ति को पकड़ा है। किसानों का दावा है कि उसने आंदोलन को बाधित करने की साजिश रची है। इसके बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया। 
समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार जिस शख्स ने 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च के दौरान चार किसान नेताओं की हत्या करने की साजिश का कथित रूप से खुलासा किया है उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया है। 

पुलिस की वर्दी पहनकर 60 युवकों को ट्रैक्टर परेड में बवाल और चार लोगों की हत्या करनी थी। साथ ही तिरंगा नीचे गिराकर बड़ा बवाल करने की योजना थी। उधर, इस मामले में पुलिस का कहना है कि नकाबपोश युवक से पूछताछ के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

किसान मोर्चा की ओर से मीडिया के सामने पेश ये शख्स ने कहा- हमें इस काम के लिए हथियार मिले थे। जैसे ही किसान 26 तारीख को आगे बढ़ने की कोशिश करेंगे, और अगर ये नहीं रूकते तो इन पर गोली चलाने का ऑर्डर था। हमारी 10 लोगों की दूसरी टीम पीछे से गोली चलाती जिससे दिल्ली पुलिस को ये लगता कि किसानों ने ये किया है। 

26 तारीख को जो रैली होगी उसमें आधे लोग घर के होंगे जो पुलिस की वर्दी में होंगे इन्हें तितर बितर करने के लिए। 24 तारीख को स्टेज पर जो चार लोग होंगे उन्हें मारना है, फोटो दे दी गई है।  

जो हमें सिखाता है उसका नाम प्रदीप सिंह है। राई थाने का एसएचओ है वो। वो जब भी हमसे मिलने आता था मुंह पर कवर लगाकर आता था। हमने उसका बैच देखा था। जिन्हें मारना था उनका नाम नहीं पता है, उनके फोटो हैं। 

किसान नेताओं ने कहा कि उनके आंदोलन और 26 जनवरी होने वाली ट्रैक्टर रैली को लगातार कमजोर करने की कोशिश हो रही है।  किसान नेताओं ने इस शख्स को मीडिया में पेश करने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया। 
... और पढ़ें

गणतंत्र दिवस की फुल ड्रेस रिहर्सल आज, 12 बजे तक बंद रहेंगे दो मेट्रो स्टेशनों के गेट

आज गणतंत्र दिवस समारोह की फुल ड्रेस रिहर्सल की जाएगी। गणतंत्र दिवस परेड की रिहर्सल के दौरान आज सुबह से दोपहर 12 बजे तक केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशन के पांच गेट बंद रहेंगे। हालांकि इस दौरान यात्रियों के लिए केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन पर इंटरचेंज की सुविधा रहेगी। सुबह से ही उद्योग भवन के गेट नंबर-1 और 2, जबकि केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन के गेट नंबर- 3, 4 और 5 भी बंद रहेंगे।

हालांकि केंद्रीय सचिवालय पर गेट नंबर-1 को प्रवेश और गेट नंबर-2 को बाहर जाने के लिए खुला रखा जाएगा। उधर, शुक्रवार शाम को राजीव चौक, चावड़ी बाजार और पटेल चौक मेट्रो स्टेशनों पर यात्रियों को ट्रेन के लिए 20 मिनट से अधिक इंतजार करना पड़ा। 



9.50 बजे से शुरू होगी रिहर्सल
बता दें कि रिहर्सल के चलते सड़क मार्गों को भी प्रतिबंधित और परिवर्तित किया गया है। रिहर्सल सुबह 9.50 बजे शुरू होगी। परेड विजय चौक से शुरू होकर नेशनल स्टेडिमय तक जाएगी। पहले ये परेड विजय चौक से 8.3 किमी की दूरी तय कर लालकिले तक जाती थी। इस बार कोरोना के चलते परेड के रूट को छोटा किया गया है और परेड विजय चौक से 3.3 किमी की दूरी तय कर नेशनल स्टेडियम तक जाएगी।

26 जनवरी को भी करीब-करीब यही अरेंजमेंट रहेगा। 26 जनवरी को परेड़ की झांकियां लालकिले तक जाएंगी। इस कारण 26 जनवरी को कुछ अतिरिक्त मार्ग बंद किए जाएंगे।

22 जनवरी को रात 11 बजे के बाद से ये रास्ते हैं बंद
दिल्ली पुलिस के संयुक्त पुलिस आयुक्त(ट्रैफिक) मनीष अग्रवाल ने बताया कि परेड विजय चौक से शुरू होकर राजपथ पर अमर जवान ज्योति, इंडिया गेट, प्रिंसेस प्लेस गोलचक्कर, तिलक मार्ग रेडियल रोड से लेफ्ट टर्न, सी-हेक्सागॉन राइट टर्न और लेफ्ट टर्न लेकर नेशनल स्टेडिमय के गेट नंबर एक पर खत्म होगी। फुल ड्रेस रिहर्सल को देखते हुए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस 22 जनवरी को रात 11 बजे के बाद विजय चौक, रफी मार्ग, जनपथ आदि मार्गों को बंद कर दिया जाएगा।  
... और पढ़ें

दिल्ली में सर्दी का सितम, शिमला से भी ठंडी रही राजधानी, आज से राहत की उम्मीद

दिल्ली-एनसीआर में सर्दी का सितम कम होने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली में आज सवेरे पालम और सफदरजंग में 9.4 और 9.8 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया। लेकिन कल दिल्ली का न्यूनतम तापमान शिमला से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार, शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन कम 4.2 और अधिकतम भी सामान्य से तीन कम 18.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उधर, शिमला का न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री और अधिकतम 15.5 डिग्री सेल्सियस रहा। इस लिहाज से न्यूनतम तापमान दिल्ली से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सिसय ज्यादा है। इस वजह से लोग दिनभर ठिठुरते रहे। 

मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर को ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है, लेकिन इसके बाद फिर ठंड का दौर शुरू हो जाएगा। वैसे, हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा अधिकतम तापमान सोलन और ऊना में 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 

मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में हवा में नमी का अधिकतम स्तर 100 ऱ न्यूनतम 70 फ़ीसदी रहा। वहीं, दिल्ली का लोदी रोड इलाका 4.6 डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम तापमान के साथ सबसे ठंडा रहा। स्काईमेट वेदर के प्रमुख मौसम विज्ञानी महेश पलावत के अनुसार, शुक्रवार से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है। इस वजह से पहाड़ों पर बर्फबारी शुरू हो गई है।

इसे देखते हुए दो दिन के भीतर न्यूनतम तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की जाएगी। इसके बाद के दिनों में यूनतम तापमान में दो से 4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट भी होगी। दिन का तापमान भी गिरेगा। इस वजह से सर्द हवाएं सताएंगी।

हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंची
मौसम में बदलाव की वजह से शुक्रवार को हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंच गई। इससे पहले यह खराब श्रेणी में थी। अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हवा की स्थिति में आंशिक सुधार की संभावना है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, शुक्रवार को राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 364 दर्ज हुआ। फरीदाबाद में अक्यूआई 376 रहा।

सफर के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ की वजह से वेंटिलेशन इंडेक्स में सुधार होगा और हवा की गति भी बढ़ेगी। इससे आंशिक सुधार की संभावना है। पिछले 24 घंटे में प्रदूषण के लिए जिम्मेदार तत्व पीएम10 का स्तर 306 और पीएम2.5 का स्तर 189 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया। पीएम10 का स्तर 100 से कम और पीएम2.5 का स्तर 60 से कम होने पर सुरक्षित माना जाता है।

एक्यूआई के हालात
दिल्ली    364
फरीदाबाद    376
गाजियाबाद    371 
ग्रेटर नोएडा    322
गुरुग्राम    315
नोएडा    360
... और पढ़ें

राजपथ पर दिखेगी भव्य राम मंदिर की झलक, परेड में पहली बार लद्दाख की झांकी शामिल

72वें गणतंत्र दिवस परेड के मौके पर दर्शकों को राजपथ पर भव्य राममंदिर की झलक देखने को मिलेगी। राजपथ पर दर्शकों को राममंदिर के साथ केदरानाथ, सिख गुरु का बलिदान, चांदनी चौकी की झांकी भी दिखेगी। खास बात यह है कि पहली बार लदद्ख अपनी झांकी लेकर आ रहा है। 

दिल्ली छावनी में शुक्रवार को रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने झांकियों की जानकारी दी।  इस वर्ष 18 राज्यों और केंद्र शसित प्रदेश व मंत्रालयों की झांकी होगी। इसमें उत्तर प्रदेश की झांकी में प्राचीन शहर अयोध्या की धरोहर, भव्य राममंदिर की प्रतिकृति, दीपोत्सव की झलक  और पौराणिक ग्रंथ रामायण की विभिन्न घटनाओं को प्रदर्शित किया जाएगा। इसके अलावा झांकी के अगले हिस्से में महर्षि वाल्मिकि की एक प्रतिमा  तो पीछे मंदिर का प्रारूप होगा। 



उत्तराखंड की झांकी में केदारनाथ धाम को दर्शाया गया है। झांकी के अगले भाग में राज्य पशु कस्तूरी मृग भी दिखेगा। झांकी में बारह ज्योतिर्लिगों में से एक बाबा केदार का भव्य मंदिर, मंदिर के पीछे विशालकाय दिव्य शिला होगी। 

पंजाब की झांकी में सिखों के नौवें गुरु गुरु तेग बहादुर के बलिदान को प्रदर्शित किया जाएगा। झांकी में सिख गुरु के 400वें प्रकाश पर्व भी देखने को मिलेगा। 

राफेल से लेकर विक्रांत व 1971 युद्ध  अभियान: 
परेड़ के दौरान दर्शकों को राफेल से लेकर विक्रांत व 1971 युद्ध अभियान दिखेगा। नौ सेना की झांकी में आईएनएस विक्रांत का मॉडल और 1971 में बांग्लादेश की आजादी के लिए पाकिस्तान केसाथ र्हु भारत की लड़ाई के नौसैन्य अभियानों की झलक दिखेगी। 

-श्रम सुधारों में आत्मविश्वास व सशक्त कामगार की झलक: 
श्रम और रोजगार मंत्रालय अपनी झांकी में सरकार द्वारा पिछले दिनों श्रम सुधारों को दर्शाएगा। इसमें मेहनत का सम्मान और अधिकार एक समान का संदेश होगा। इसमें स्वस्थ श्रमिक, स्वच्छ भारत का संदेश भी यि जाएगा। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X