विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

भीकाजी कामा प्लेस में लगी आग, कुछ समय बाद काबू

भीकाजी कामा प्लेस के एनबीसीसी टावर में आग लग गई है।

7 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

गाजियाबाद

शनिवार, 7 दिसंबर 2019

साढ़ू के धोखे से आहत एक और शख्स ने गले लगाई मौत, चार पर मुकदमा

साढ़ू के धोखे से आहत एक और शख्स ने दी जान, चार पर रिपोर्ट
गाजियाबाद। इंदिरापुरम में हत्या-आत्महत्या प्रकरण के बाद साढ़ू के धोखे से आहत होकर आत्महत्या करने का एक और मामला सामने आया है। घटना गत एक दिसंबर को कविनगर थानाक्षेत्र में हुई थी, जिसमें युवक का शव फंदे पर लटका मिला था। परिजनों ने आरोप लगाया है कि प्लॉट दिलाने के नाम पर साढ़ू ने 15 लाख रुपये ऐंठ लिए। इसी तनाव में युवक ने आत्महत्या कर ली। बुधवार रात तहरीर मिलने पर पुलिस ने मृतक के साढ़ू, पत्नी व दो सालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।
बागपत के गांव बली निवासी ओम कुमार का कहना है कि उसका भाई ओमवीर (35) पत्नी रजनी के साथ ढाई साल से राम पार्क लोनी में रहता था। कृष्णा विहार लालकुआं निवासी सतवीर ओमवीर का साढ़ू है, जो उसे प्लॉट दिलाने की बात कह रहा था। पत्नी के दबाव देने पर ओमवीर ने लॉटरी उठाकर व कर्ज लेकर 15 लाख रुपये सतवीर को दे दिए। पत्नी के कहने पर ही ओमवीर करीब 20 दिन पहले लालकुआं में साढ़ू के पास आकर रहने लगा था। ओम कुमार का कहना है कि रजनी ओमवीर से उनका संपर्क नहीं होने देती थी। ओम कुमार का कहना है कि गत 30 नवंबर की रात करीब 9.30 बजे ओमवीर ने मां को फोन करके बताया था कि साढ़ू ओमवीर ने न तो उसे प्लॉट दिलाया और ना रकम लौटाई। ओमवीर ने बताया था उसकी पत्नी भी साढ़ू से मिली हुई है। ओमवीर ने मां को यह भी बताया था कि थोड़ी देर पहले उसके साले गौरव व बबलू से उसकी कहासुनी हुई है। दोनों ने उसे घर आकर हत्या करने की धमकी दी है। सुबह को ओमवीर का शव कमरे में फंदे पर लटका मिला।
शादी में गए थे दोनों के परिवार, घर पर ओमवीर ने लगाया फंदा
ओमवीर सिंह पत्नी व दो बच्चों के साथ लालकुआं के समतल विहार में साढ़ू सतवीर सिंह के मकान में रहता था। 30 नवंबर को दोनों के परिवार शादी समारोह में गए थे। सिर्फ ओमवीर ही घर पर रुक गया था। एक दिसंबर की सुबह दोनों परिवार घर लौटे तो घटना का पता चला। एसएचओ अनिल कुमार शाही ने बताया कि मृतक के भाई ने तहरीर दी है। उसके आधार पर मृतक के साढ़ू सतवीर, पत्नी रजनी तथा साले गौरव और बबलू के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

बोरी में प्याज ले जाने वाले किलो पर उतरे

बोरी में प्याज ले जाने वाले किलो पर उतरे
साहिबाबाद। प्याज की महंगाई न केवल खरीदारों को रुला रही है, बल्कि आढ़तियों को भी परेशान किए हुए है। यहां तक कि जो अब तक बोरियों के हिसाब से प्याज खरीदते थे, अब किलो पर उतर आए हैं। मंडी में ही प्याज का भाव 100 के पार पहुंच चुका है, कॉलोनियों में तो इसके दाम 120 रुपये से शुरू हैं।
साहिबाबाद मंडी के आढ़तियों के अनुसार पिछले एक माह से महंगा चल रहा प्याज अभी कुछ दिन और रुलाएगा। आढ़तियों का कहना है कि वर्तमान में शादी का सीजन चल रहा है। इस सीजन में हमेशा ही प्याज की मांग कई गुना बढ़ जाती थी लेकिन इस बार स्थिति उलट है। पहले जहां शादी समारोह में प्याज की बोरियां जाया करती थीं अब लोग किलो का दाम करते हैं। बहुत से लोग सलाद के लिए प्याज की बजाय मूली लेकर जा रहे हैं। प्याज अचानक 100 रुपये किलो भाव पहुंचने की वजह आढ़ती नासिक में स्टॉक का खत्म होना बता रहे हैं। साहिबाबाद मंडी के आढ़ती पुजारी राज का कहना है कि मंडी में आमतौर पर नासिक का प्याज आता था, जिसका स्टॉक फिलहाल खत्म हो गया है। वर्तमान में मंडी में राजस्थान कैथल और हरियाणा से प्याज मंगवाया जा रहा है। यहां भी प्याज का स्टॉक बहुत सीमित है, जिसकी वजह से रेट में बढ़ोतरी हुई है। पुजारी राज का कहना है कि पिछले दिनों महाराष्ट्र व नासिक में आई बाढ़ की वजह से प्याज गल गई और अब नई फसल तैयार होने में करीब एक माह का समय लगेगा। नई फसल होने के बाद ही मंडी में प्याज की पर्याप्त मात्रा आ सकेगी। आढ़तियों का कहना है कि प्याज की मुख्य मंडी नासिक और महाराष्ट्र में ही है। इसके अलावा राजस्थान के कैथल और हरियाणा से प्याज की आवक होती है। प्याज की सबसे बड़ी मंडी में स्टॉक खत्म होने से परेशानी आ रही है।
आढ़तियों को मिल रहा 80 से 85 किलो का भाव
मंडी से सीधे खरीद में ही आढ़तियों को 80 से 85 रुपये किलो प्याज की कीमत पड़ रही है। जिसकी वजह से फुटकर में प्याज 100 से 140 रुपये किलो का भाव बिक रहा है। मंडी के आढ़तियों का कहना है कि अब शादी समारोह में सलाह के लिए लोग मूली के कट्टे उठवा रहे हैं। वहीं बहुत कम लोग शादी समारोह के लिए प्याज की खरीदारी कर रहे हैं। हालांकि ऐसे लोग भी प्याज पांच से दस किलो ही खरीद रहे हैं। इन दिनों प्याज की डिमांड कई गुना बढ़ जाती थी लेकिन इस बार महंगाई ने सब चौपट किया हुआ है।
किचन से गायब है प्याज
प्याज की कीमत आसमान छू रही है। ऐसे में मैंने तो प्याज लाना ही बंद कर दिया है। आलू और प्याज तो बेसिक सब्जियां है, इन्हें हमेशा सस्ता रहना चाहिए जबकि पता नहीं क्यों, यही महंगे हैं। - एकता शाह
किचन में प्याज रखना इन दिनों सोसायटी में भी चर्चा का विषय है। 100 से 120 रुपये किलो प्याज है। अब एक किलो प्याज को एक से दो सप्ताह तक चलाने का प्रयास करती हूं। - मधु भट्ट
... और पढ़ें

प्रतिनिध समेत दो गिरफ्तार, लोनी विधायक पर भी लटकी तलवार

प्रतिनिधि समेत दो गिरफ्तार, लोनी विधायक पर भी लटकी तलवार
लोनी। खाद्य सुरक्षा अधिकारी के साथ मारपीट के मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस ने बृहस्पतिवार सुबह विधायक प्रतिनिधि समेत दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के विरोध में व्यापार मंडल ने लोनी शिव मंदिर में पंचायत कर गिरफ्तारी का विरोध किया। उन्होंने अधिकारी पर कार्रवाई की मांगेकर सीओ को ज्ञापन सौंपा है। पंचायत में पहुंचे विधायक ने इंसाफ न मिलने पर इस्तीफा देने की बात कही है।
लोनी बार्डर थाने के एसएचओ शैलेंद्र सिंह ने बताया कि खाद्य सुरक्षा अधिकारी के साथ मारपीट के मामले में पुलिस ने दो नामजद आरोपी ललित शर्मा निवासी लक्ष्मी गार्डन और सुमित निवासी विकास कुंज को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने दोनों का मेडिकल कराया है। उन्होंने बताया कि मामले में जांच की जा रही है। उधर, मामले में ललित शर्मा और सुमित की गिरफ्तारी के विरोध में लोनी व्यापार मंडल ने लोनी शिव मंदिर में दोपहर करीब 11 बजे पंचायत बुलाई। इसमें बड़ी संख्या में लोनी के व्यापारी मौजूद रहे। व्यापार मंडल के अध्यक्ष रतन सिंह भाटी ने कहा कि पुलिस ने भ्रष्ट अधिकारी की शिकायत पर दबाव में विधायक नंदकिशोर गुर्जर समेत एक दर्जन से अधिक लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। उन्होंने दो लोगों की गिरफ्तारी और विधायक पर रिपोर्ट दर्ज होने का विरोध करते हुए बाजार बंद करने का आह्वान किया। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर भी पंचायत में पहुंचे। उन्होंने व्यापारियों को शांत कराया। उन्होंने कहा कि अधिकारी उनके कार्यालय पर आए थे। उन्होंने उसे वहां से भगा दिया था। खाद्य सुरक्षा अधिकारी के खिलाफ उनके पास बहुत सबूत हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकारी व्यापारियों से उगाही करता है। उन्होंने कहा कि उस समय ललित शर्मा उनके कार्यालय पर नहीं थे, फिर भी पुलिस ने उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। विधायक ने कहा कि उन्होंने प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर के पार्टी पदाधिकारियों से शिकायत की है। वह जल्द ही सीएम योगी अदित्यनाथ से मिलकर शिकायत करेंगे।
ललित शर्मा को रिहा न किया तो इस्तीफा देंगे
लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने पंचायत में कहा कि ललित शर्मा को जल्द रिहा नहीं किया गया और खाद्य सुरक्षा अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो वह व्यापारियों के हित में इस्तीफा दे देंगे। उन्होंने कहा कि लोगों ने उन्होंने चुना है। वह लोनी वासियों की समस्या के निदान करने के लिए हमेशा काम करते हैं। भ्रष्ट अधिकारी ने व्यापारियों को परेशान कर रखा था।
एसडीएम को दिया ज्ञापन
पंचायत की सूचना पर तीनों थानों की पुलिस और लोनी एसडीएम प्रशांत तिवारी मौके पर पहुंचे। यहां लोनी विधायक अपनी गिरफ्तारी देने की बात करने लगे, लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई। पंचायत के बाद व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में उन्होंने बताया कि विधायक समेत अन्य लोगों पर तीन दिन के भीतर दर्ज मुकदमे को वापस न लिया गया और खाद्य सुरक्षा अधिकारी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज न करने पर वह बाजार बंद कर आंदोलन करेंगे।
यह था मामला
लोनी विधायक के बलराम नगर स्थित कार्यालय पर बीती 27 नवंबर को खाद्य सुरक्षा अधिकारी आशुतोष सिंह द्वारा विधायक नंदकिशोर गुर्जर समेत एक दर्जन से अधिक लोगों पर उनके साथ मारपीट का आरोप लगाया था। एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। अधिकारी ने एसपी देहात नीरज जादौन से मिलकर आरोपियों के खिलाफ तहरीर दी थी। उनके आदेश पर लोनी बार्डर थाने में आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई थी।
संगठन ने हमें भरोसा दिया है कि आपके साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। यह हैरत की बात है कि अभी जांच भी पूरी नहीं हुई और पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया। जल्दी ही सीएम से मिलेंगे। - नंदकिशोर गुर्जर, विधायक, लोनी
... और पढ़ें

हर जिले में बने फास्ट ट्रैक कोर्ट, सख्त हो कानून

हर जिले में बने फास्ट ट्रैक कोर्ट, सख्त बने कानून
गाजियाबाद। उन्नाव, हैदराबाद में महिलाओं के साथ हुए अत्याचारों से हर किसी के मन में अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर भय है। खासतौर पर बेटियों की सुरक्षा को लेकर लोग डर में हैं। भले ही हैदराबाद में बलात्कार के आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया लेकिन क्या यह काफी है, इस पर चर्चा जोरों पर है। क्या इस तरह से बेटियों या महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों को रोका जा सकता है, यह बहस का मुद्दा बन रहा है। नारी सुरक्षा को लेकर क्या होना चाहिए, इसके लिए अमर उजाला ने शुक्रवार को संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया। विभिन्न क्षेत्रों से आए लोगों ने संवाद में विचार रखे। खासतौर पर महिलाओं ने इस दौरान सख्त कानून बनाए जाने की पैरवी की।
---
हैदराबाद में एनकाउंटर से थोड़ी खुशी मिली लेकिन एक सिस्टम नहीं मिला। दोषियों को सजा के लिए सख्त कानून बने। सात दिन, 15 दिन या महीने भर में दोषियों को सजा दी जाए। - राजकुमार
---
इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए हमें भी एकजुट होकर काम करना होगा। जो लोग इस तरह की घटनाओं के लिए महिलाओं के पहनावे को दोष देते हैं तो यह बर्बरता छोटी बच्चियों के साथ फिर क्यों होती है। - शिवानी राणा
---
जो अत्याचार नारी पर किया जाता है, दोषियों को वही सजा दी जानी चाहिए। सरेराह दोषियों को सजा दी जाए, जिससे महिला को होने वाले दर्द का अहसास इस तरह की वारदात को अंजाम देने वालों को हो। - अंजू जॉली
---
बच्चों को घर से संस्कारवान बनाने पर जोर दें। बच्चों को महिलाओं की इज्जत करना सिखाया जाए और महिलाओं से बलात्कार करने वालों के लिए सख्त कानून बनाया जाए। - गीता गुप्ता
---
हैदराबाद में पुलिस की कार्रवाई पर अच्छा लग रहा है लेकिन असली न्याय तब होता जब कोर्ट से दोषियों को सजा दी जाती। बेटियों का सवाल है इस लिहाज से सरकार से सख्त कानून के लिए लगातार मांग की जाए। - उदिता त्यागी
---
एजूकेशन बहुत जरूरी है। चाहे बेटा हो या बेटी दोनों के लिए समान एजूकेशन होनी चाहिए। स्कूलों में गुड टच, बैड टच के बारे में ज्यादा जागरूक किया जाए। बेटियां कहीं भी गलत होते देखें तो उसका विरोध करें। - डॉ. रितु गुप्ता
---
लोगों को गलत काम के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। ऐसी कितनी ही वारदातें होती हैं जो सामने नहीं आती। दोषियाें को सजा मिले, इसके लिए आवाज उठाना जरूरी है। - डॉ. आसिफा
---
जो भी हाल में घटनाएं हुईं, उन पर हर तरफ बात हो रही है लेकिन यह घटनाएं पिछले काफी समय से हो रही हैं। कई मामलों में लोग पुलिस तक शिकायत लेकर भी नहीं जाते, इससे वारदाताें को बढ़ावा मिलता है। - डॉ. ईरम
---
विदेशों में सख्त कानून हैं और लोगों में इनका भय भी है। हम अपनी केंद्र और प्रदेश सरकार से भी यही उम्मीद करते हैं। इसके अलावा परिवारों की जिम्मेदारी है कि मोबाइल छोड़कर आपस में बातचीत करें और एक-दूसरे की बात सुनें, समझें। - वसीम अली
---
जागरूकता बहुत जरूरी है। अभिभावक बच्चों को जागरूक करने का काम करें। सरकार अश्लीलता परोसने वाले सभी माध्यमों पर पाबंदी लगाए। बलात्कार जैसे अपराधों को करने वाले लोग सख्त सजा के हकदार हैं। - मनोज गर्ग
---
अभिभावक बच्चों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार रखें। इस तरह की घटनाएं रोकने के लिए फास्ट ट्रैक का गठन जरूरी है। एनकाउंटर परंपरा न बने तो बेहतर है। - मुशीर मंसूरी
... और पढ़ें

प्याज के दाम बढ़ने का आप ने किया विरोध

प्याज के दाम बढ़ने का आप ने किया विरोध
गाजियाबाद। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को कलक्ट्रेट पर धरना-प्रदर्शन कर प्याज के मूल्यों में हो रही बढ़ोत्तरी का विरोध किया। आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान के 32 हजार टन प्याज सड़ने के बयान पर भी कार्यकर्ताओं ने इसे प्याज घोटाला करार देते हुए सीबीआई जांच की मांग की। जिलाध्यक्ष चेतन त्यागी के नेतृत्व में कार्यकर्ता कलक्ट्रेट पहुंचे और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. छवि यादव ने कहा कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों के चलते प्याज के दाम में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। देश में महिलाओं पर अत्याचार के मामले बढ़े हैं। राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन में कार्यकर्ताओं ने प्याज को लेकर सीबीआई जांच कराने की मांग की। जिला सचिव सुजाता शर्मा ने कहा कि प्याज के दाम बढ़ने से लोगाें की रसोई का बजट बढ़ा है। केंद्रीय मंत्री के बयान से साफ है कि प्याज के भंडारण में बड़ी लापरवाही बरती गई। इस मौके पर मनोज त्यागी, डॉ. अरुण सिंह, मीनाक्षी श्रीवास्तव, तरुणिमा, संजय यादव, संदीप चौधरी, मोहित अग्रवाल, डॉ. गौरव चौहान, मुकेश प्रजापति, मुजीब सैफी, हिना खान, शरदेंदु शर्मा, राशिद सिद्दीकी, महेश शर्मा आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

चरित्र पर सवाल उठा रहे थे लोग, विवाहिता ने दे दी जान

ससुराल वालों ने उठाया चरित्र पर सवाल, विवाहिता ने दे दी जान
गाजियाबाद। सिहानी गेट थानाक्षेत्र में बृहस्पतिवार को एक महिला ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के बाद मायके पक्ष के लोगों ने ससुरालियों पर प्रताड़ना का आरोप लगाकर जमकर हंगामा किया। मृतका के भाई की तहरीर पर पुलिस ने मृतका केजेठ, जेठानी, देवरानी व देवरानी के जीजा के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मुकदमा दर्ज किया है। आरोप है कि उक्त लोग मृतका पर अवैध संबंध का आरोप लगाकर उसे प्रताड़ित करते थे। जिससे परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली।
नौझील, मथुरा निवासी व्यक्ति ने बताया कि उसकी 32 वर्षीय बहन की शादी 12 साल पहले सिहानी गेट थानाक्षेत्र निवासी युवक के साथ हुई थी। युवक की पहली पत्नी मर चुकी थी। यह उसकी दूसरी शादी थी। पहली पत्नी से बेटा-बेटी थे। दूसरी शादी के बाद बेटा हुआ था। महिला के भाई के मुताबिक बृहस्पतिवार सुबह कॉल आई कि उसकी बहन ने कमरे में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली है। आरोप है कि जेठ-जेठानी, देवरानी व देवरानी का जीजा उसकी बहन को काफी समय से प्रताड़ित कर रहे थे। पति व देवर इसका विरोध भी करते थे, लेकिन उसके बावजूद उसकी बहन को प्रताड़ित किया जा रहा था। इससे परेशान होकर उसकी बहन ने आत्महत्या कर ली। पुलिस के मुताबिक पांच दिसंबर की सुबह महिला ने खाना बनाकर पति को बच्चों को स्कूल छोड़ने के लिए भेजा। पति बच्चों को स्कूल छोड़कर वापस आया तो महिला फंदे पर लटकी हुई थी। एसएचओ गजेंद्र पाल सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें

पुलिसकर्मी बनकर एलिवेटेड रोड पर कार सवार को रोका

असली पुलिस को की कॉल तो बाइक छोड़ भागे फर्जी सिपाही
साहिबाबाद। टीएचए में इन दिनों पुलिसकर्मी बनकर लोगों को ठगने और लूटने वाला गिरोह सक्रिय है। इंदिरापुरम थाना क्षेत्र के वसुंधरा स्थित एलिवेटेड रोड पर बाइक सवार दो लोगों ने खुद को पुलिसकर्मी बताते हुए एक कार सवार को रोक लिया। इसके बाद गाड़ी के पेपर चेक करने लगे। पीड़ित ने विरोध करते हुए उनसे आईडी दिखाने को कहा और एसएचओ इंदिरापुरम को कॉल कर दी। इस पर आरोपी बाइक छोड़कर पैदल ही भाग निकले। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
दिल्ली के शकरपुर स्थित बी ब्लॉक में प्रिंस शर्मा परिवार के साथ रहते हैं। उन्होंने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि वह तीन दिसंबर की दोपहर करीब तीन बजे एलिवेटेड रोड से राजनगर एक्सटेंशन की ओर जा रहे थे। वह वसुंधरा चौकी क्षेत्र में पहुंचे। इस दौरान बाइक सवार दो युवकों ने उनकी गाड़ी रोक ली। इसके बाद खुद को पुलिसकर्मी बताकर कार के पेपर दिखाने को कहा। प्रिंस ने पुलिस का आईकार्ड दिखाने को कहा तो आरोपी धमकाने लगे। पीड़ित ने कंट्रोल रूम को कॉल की। कॉल नहीं लगने पर एसएचओ इंदिरापुरम को मामले की जानकारी दी। यह देखकर आरोपी बाइक छोड़कर भाग गए। एएसपी इंदिरापुरम केशव कुमार ने बताया कि पीड़ित की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। बाइक कब्जे में ले ली है।
यातायात पुलिसकर्मी की मदद से थाने पहुंचाई बाइक
प्रिंस ने बताया कि उन्होंने घटना के बाद कुछ दूरी पर खड़े एक यातायात पुलिसकर्मी को मामले की जानकारी दी। इसके बाद उनकी मदद से बाइक को इंदिरापुरम थाने में पहुंचाया। पीड़ित ने बताया कि बाइक पर पुलिस का साइन भी लगा था। वहीं, पुलिस का कहना है कि जांच में पता किया जा रहा है कि बाइक पर नंबर फर्जी है या असली।
लूट की घटना का भी नहीं हुआ खुलासा
लिंक रोड के सूर्यनगर में भी एक सप्ताह पूर्व ही भाजपा के सेक्टर संयोजक वीरेंद्र जैन से बाइक सवार दो बदमाशों ने खुद को क्राइम ब्रांच में तैनात पुलिसकर्मी बताकर चेकिंग के नाम पर बाइक रोक ली। इसके बाद अंगूठी और ब्रेसलेट लूटकर ले गए। रिपोर्ट दर्ज करने के बाद अभी तक पुलिस इस घटना का खुलासा नहीं कर सकी है।
... और पढ़ें

फास्टैग का ट्रायल शुरू, 15 दिसंबर से होगा लागू

फास्टैग का ट्रायल शुरू, 15 दिसंबर से होगा लागू
साहिबाबाद। 15 दिसंबर से छिजारसी (पिलखुवा) और ईस्टर्न पेरिफेरल टोल प्लाजा पर फास्टैग पूरी तरह से लागू हो जाएगा। इसके लिए एनएचएआई ने बृहस्पतिवार को मीटिंग कर 14 दिसंबर तक फास्टैग का ट्रायल जारी रखने का निर्णय लिया है। एनएचएआई के अधिकारियों का कहना है कि अभी तक टोल प्लाजा की तीन लेन में फास्टैग का ट्रायल चल रहा है। अगले दो-तीन दिनों में चार लेन को फास्टैग कर दिया जाएगा। उधर, हाइवे अथॉरिटी ने चालकों की समस्या कम करने को छिजारसी टोल और सराय काले खां के पास दो कैंप लगाकर फास्टैग देना शुरू कर दिया है।
नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने फास्टैग की व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए गाजियाबाद के दोनों टोल प्लाजा पर 14 दिसंबर तक ट्रायल करने का फैसला किया है। इसमें एनएचएआई ने सराय काले खां और छिजारसी टोल पर कैंप लगाकर फास्टैग बेचना शुरू कर दिया है। यह कैंप निजी कंपनी के सहयोग से लगाया गया है। जिसमें वाहन चालक बड़ी संख्या में टैग लेने पहुंच रहे हैं। एनएचएआई के डीजीएम मुदित गर्ग का कहना है कि फास्टैग की व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए अभी टोल प्लाजा की तीन लेन पर इसे ट्रायल के तौर पर लागू किया गया है। अगले दो दिनों में टोल के दोनों तरफ चार-चार लेन को फास्टैग के लिए खोल दिया जाएगा। इसी तरह हर-दूसरे-तीसरे दिन टोल प्लाजा की एक-एक लेन फास्टैग के लिए खुलती रहेगी। 14 दिसंबर तक यह व्यवस्था ट्रायल बेस पर जारी रहेगी। जबकि 15 दिसंबर से इसे व्यवस्था को केंद्र सरकार के आदेश अनुसार पूर्ण रूप से लागू कर दिया जाएगा। डीजीएम के मुताबिक, फास्टैग लगाने की दिशा में कुछ एडिशनल चार्ज लेने की शिकायत मिल रही थी। इस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए अथॉरिटी ने दोनों टोल प्लाजा पर रेट लिस्ट डिस्पले कर दी है। जिससे वाहन चालकों को किसी तरह की दिक्कत ना हो। उन्होंने कहा कि टोल प्लाजा पर टैग लगवाने वालों के लिए बैठने और पानी की भी व्यवस्था अथॉरिटी ने की है। इधर, 15 दिसंबर से पहले फास्टैग लगवाने पर छूट की व्यवस्था भी 14 दिसंबर की रात तक लागू है। जिसका चालक काफी फायदा ले रहे हैं।
... और पढ़ें

गाजियाबाद डिपो से हापुड़ के लिए बस सेवा बंद

गाजियाबाद बस स्टैंड से हापुड़ के लिए बस सेवा बंद
गाजियाबाद। गाजियाबाद डिपो से हापुड़ के लिए बस सेवा बंद हो गई है। हापुड़ के यात्रियों के लिए केवल एक बस चलती थी। आठ महीने पहले उस बस को भी बंद कर दिया गया है। अब यात्री कौशांबी डिपो की बस में बैठकर यात्रा करने को मजबूर हैं। जब यहां से बस नहीं मिलती तो लोग लाल कुआं से नोएडा या अन्य डिपो की बसों का सहारा लेते हैं। इससे हापुड़ जाने वाले यात्रियों को सबसे ज्यादा परेशानी होती है।
गाजियाबाद डिपो से 57 अनुबंधित बसें संचालित होती हैं। इस डिपो से मेरठ, बुलंदशहर के अलावा एक बस हापुड़ के लिए चलती थी। यह बस दिनभर में कई चक्कर लगाती थी। इससे गाजियाबाद से हापुड़ और हापुड़ से गाजियाबाद जाने वाले लोगों को काफी राहत होती थी। खासकर हर दिन एक जिले से दूसरे में नौकरी पर जाने वाले लोगों को इससे काफी आराम था। अब यात्रियों के सामने काफी समस्याएं आ रही हैं। उन्हें हापुड़ जाने के लिए कौशांबी डिपो की बसों का इंतजार करना पड़ता है। कौशांबी डिपो की बसें नहीं मिलती तो लोगों को लाल कुआं से बस सेवा लेनी पड़ती है। वहां से अन्य डिपो की बसों का सहारा लेना पड़ता है।
- नहीं रोकतीं कौशांबी डिपो की बसें
लोगों का कहना है कि कौशांबी डिपो की बसें रोडवेज बस अड्डे पर नहीं रुकती हैं। सवारियां खड़े होकर हाथ देती रहती हैं, लेकिन चालक बसों को नहीं रोकते हैं। इससे यात्रियों को और ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। रात में सबसे ज्यादा दिक्कत होती है।
- इसलिए बंद कर दी बस सेवा
डिपो के एक पदाधिकारी ने बताया कि हापुड़ के लिए जानी वाली बस सेवा को बंद कर दिया गया है। क्योंकि रोडवेज डिपो के पास ही कौशांबी डिपो की बसें जाती हैं। यात्री उन बसों में बैठकर चले जाते हैं। वहां के यात्रियों को किसी प्रकार की समस्या नहीं होती है।
वर्जन...
छह सात महीने पहले तक डिपो से एक बस चलती थी। उस बस को बंद कर दिया गया है। लोगों को रोडवेज डिपो के पास ही कौशांबी डिपो की बसें मिल जाती हैं। लोग उन बसों में बैठकर यात्रा करते हैं।
-सुरेंद्र सिंह, डिपो इंचार्ज
नहीं चली बस तो करेंगे आंदोलन
परिवहन निगम के अधिकारियों को हापुड़ के लिए बस संचालित करनी चाहिए। बस बंद होने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अगर, सुनवाई नहीं हुई तो आंदोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।
-मनोज कुमार
रोडवेज की बसें हापुड़ के लिए बढ़नी चाहिए थी, लेकिन एक मात्र बस को भी बंद कर दिया गया है। यह निगम की बड़ी गलती है। निगम को बसें संचालित करनी चाहिए, जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना न करना पड़े।
-देवेंद्र सिंह
काम से हापुड़ आना जाना लगा रहता है, लेकिन गाजियाबाद डिपो के अंदर से कोई बस नहीं मिलती है। काफी देर तक बसों का इंतजार करना पड़ता है। सरकार और अधिकारियों को बस संचालित करनी चाहिए।
-राहुल
हम सरकार से मांग करते हैं कि हापुड़ और गाजियाबाद के लिए बस संचालित करें। इससे यात्रियों को तो फायदा मिलेगा ही साथ ही निगम को भी फायदा पहुंचेगा। अगर, अधिकारी पहल नहीं करते हैं, तो इसके लिए आवाज उठाएंगे।
-दीपक
... और पढ़ें

इंदिरापुरम में हत्या-आत्महत्या मामला: एक और केस, मां को फोन कर फंदे पर लटका, यहां भी साढ़ू बना वजह

इंदिरापुरम में हत्या-आत्महत्या प्रकरण के बाद साढ़ू के धोखे से आहत होकर आत्महत्या करने का एक और मामला सामने आया है। घटना गत एक दिसंबर को कविनगर थानाक्षेत्र में हुई थी, जिसमें युवक का शव फंदे पर लटका मिला था। 

परिजनों ने आरोप लगाया है कि प्लॉट दिलाने के नाम पर साढ़ू ने 15 लाख रुपये ऐंठ लिए। इसी तनाव में युवक ने आत्महत्या कर ली। बुधवार रात तहरीर मिलने पर पुलिस ने मृतक के साढ़ू, पत्नी व दो सालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। 

बागपत के गांव बली निवासी ओम कुमार का कहना है कि उसका भाई ओमवीर (35) पत्नी रजनी के साथ ढाई साल से राम पार्क लोनी में रहता था। कृष्णा विहार लालकुआं निवासी सतवीर ओमवीर का साढ़ू है, जो उसे प्लॉट दिलाने की बात कह रहा था। 

पत्नी के दबाव देने पर ओमवीर ने लॉटरी उठाकर व कर्ज लेकर 15 लाख रुपये सतवीर को दे दिए। पत्नी के कहने पर ही ओमवीर करीब 20 दिन पहले लालकुआं में साढ़ू के पास आकर रहने लगा था। 
... और पढ़ें

यूपी: पति ने महिला को चार लाख में बेचा, खरीदारों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

बुलंदशहर के खानपुर थाना क्षेत्र निवासी एक महिला को उसके पति द्वारा चार लाख रुपये में बेच देने का मामला सामने आया है। आरोप है कि खरीदारों ने पीड़िता के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को भी अंजाम दिया। महिला ने मामले में आरोपी पति समेत पांच लोगों के खिलाफ एसएसपी के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कराई है। 

खानपुर थाना क्षेत्र निवासी एक महिला ने एसएसपी को शिकायती पत्र देकर बताया था कि उसकी शादी नरसेना थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी अजीत सिंह के साथ हुई थी। आरोप है कि अजीत ने महिला को घर से निकाल दिया था। 

जिसके बाद पीड़िता अपने मायके में आई तो मायके पक्ष ने भी महिला को नहीं रखा। इसके बाद वह अकेली रहने लगी। पीड़िता ने बताया कि उसके पति का खानपुर थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी पप्पन और रामवती के पास आना जाना था। 

यह दोनों खुद को भक्त बताते हैं और दरबार लगाते हैं। इसलिए महिला ने इन दोनों से अनुरोध किया कि वह उसके पति से उसका फैसला करा दे। इसके बाद रामकिशन और रामवती ने फैसला कराने के लिए अपने गांव में ही उसके पति, जेठ के बेटे कुलदीप और मेरठ के एक गांव निवासी अजब सिंह को बुला लिया। 
 
... और पढ़ें

दुकानें सील करने का विरोध सड़कों पर उतरे व्यापारी

दुकानें सील करने का विरोध सड़कों पर उतरे व्यापारी
गाजियाबाद। प्रदूषण फैलाने के नाम पर जीडीए की ओर से शास्त्रीनगर, अवंतिका, चिरंजीव विहार में सील की गई दुकानों का विरोध तेज हो गया है। जीडीए की कार्रवाई के विरोध में शास्त्रीनगर व्यापार मंडल के लोग बृहस्पतिवार को सड़कों पर उतर आए। व्यापारियों ने शास्त्रीनगर में मार्च निकालकर सीलिंग की कार्रवाई का जमकर विरोध किया। व्यापारियों ने सामान न होने पर भी बंद दुकानों को सील करने का आरोप लगाया है। व्यापारियों ने बंद दुकानों को सील करने का विरोध करने और अपनी मांगों को लेकर डीएम को ज्ञापन देने की बात कही है।
व्यापारियों ने सीलिंग की जीडीए की कार्रवाई के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। फिर लालबहादुर शास्त्री हॉकी मैदान में बैठक कर आगे की रणनीति तय की। शास्त्रीनगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष कुंवरपाल चौधरी ने बताया कि प्रदूषण के नाम पर जीडीए की ओर से मनमानी की जा रही है। कई ऐसी दुकानें जिनमें कोई सामान नहीं था, जीडीए की टीम उसे सील कर गई है। चिरंजीव विहार में सीमेंट के एक गौदाम में केवल चार बोरियां हीं रखी हुई थीं, उसे भी जीडीए की टीम सील कर गई। कई गरीब दुकानदारों ने किराए पर दुकान ली है। उनकी दुकान में नाम भर का भी सामान नही है, और जीडीए ने ऐसे गरीबों की रोजी-रोटी छींन ली है। ऐसे में अब जीडीए की ओर से बंद दुुकानों को सील करने की कार्रवाई का पुरजोर तरीके से विरोध किया जाएगा। दूसरी ओर जीडीए की मनमानी कार्रवाई और अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन शनिवार को डीएम को सौंपा जाएगा। उनकी ओर से शांती पूर्वक अपना प्रदर्शन किया गया है। व्यापार मंडल की हुई बैठक में चेयरमैन संग्राम सिंह, रघुराज चौधरी, दिलीप सक्सेना, राजेंद्र जिंदल, सुधीर चौधरी, रामअवतार, मनोज सिंह सहित तमाम लोग मौजूद रहे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election