पलवल: कांवड़ियों से भरी टाटा 407 पलटी, तीन की मौत, 13 गंभीर रूप से घायल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पलवल Updated Sat, 27 Jul 2019 11:32 AM IST
विज्ञापन
घायल का इलाज करते डॉक्टर
घायल का इलाज करते डॉक्टर - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
हरिद्वार से कांवड़ लेने जा रहे कांवड़ियों से भरी एक टाटा 407 टायर फटने से कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे (केएमपी) पर सदर थाना क्षेत्र के गांव महेशपुर में अनियंत्रित होकर पलट गई। हादसे में करीब तीन कांवड़ियों की मौत हो गई, जबकि 13 कांवड़िया गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को उपचार के लिए पलवल के नागरिक अस्पताल लाया गया। मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया गया, जबकि घायलों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें फरीदाबाद के लिए रेफर कर दिया गया। पुलिस ने घायल कांवड़िया की शिकायत पर मामले में 174 की कार्रवाई कर शवों का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया। 
विज्ञापन

सदर थाना प्रभारी सुमन कुमार के अनुसार सोहना के गांव ढानी निवासी घायल गंगाराम ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि शुक्रवार की रात को वह गांव से अपने करीब 20-25 साथियों के साथ टाटा 407 में सवार होकर हरिद्वार से 7वीं विशाल डाक कांवड़ लेने के लिए जा रहे थे। जैसे ही वह रात के करीब 9-10 बजे केएमपी मार्ग पर गांव महेशपुर पहुंचे तो अचानक गाड़ी का टायर फट गया और वाहन पलट गया।
हादसे में वाहन सवार गांव निवासी 21 वर्षीय नीरज, 24 वर्षीय अमरजीत, 28 वर्षीय गजराज सिंह, 21 वर्षीय दिनेश, 35 वर्षीय तरुण, 35 वर्षीय मोहित, 21 वर्षीय सचिन, 26 वर्षीय मोहित सैनी, 25 वर्षीय नीरज, 19 वर्षीय जतिन, 23 वर्षीय जसवंत, 21 वर्षीय नीरज, 22 वर्षीय गंगाराम घायल हो गए। जबकि 20 वर्षीय नीरज, 19 वर्षीय राहुल व 21 वर्षीय विक्रम की मौत हो गई। दुर्घटना की सूचना मिलते ही सदर पुलिस मौके पर पहुंच गई तथा सभी घायलों को उपचार के लिए जिला नागरिक अस्पताल में लाया गया। जहां से उन्हें फरीदाबाद के लिए भेज दिया गया। 
पलवल के सिविल अस्पताल में घायलों को उपचार देने वाले डॉक्टर आशुतोष कुमार ने बताया कि अधिकतर घायल कांवड़ियों को सिर में चोटें ज्यादा आई हैं। इस कारण घायलों की गंभीर हालत को देखते हुए सभी को प्राथमिक उपचार देने के बाद फरीदाबाद के लिए रेफर कर दिया गया। घायलों के परिजनों की मानें तो करीब 9-10 बजे ये हादसा हुआ था और सूचना मिलने के करीब आधे घंटे बाद वह मौके पर पहुंचे और एंबुलेंस की मदद से उन्हें उपचार के लिए पलवल के सिविल अस्पताल भिजवाया। परिजनों का कहना है कि अगर समय पर घायलों को एंबुलेंस की मदद से अस्पताल में लाया जाता और सही समय पर उन्हें उपचार मिल जाता तो शायद तीनों लोग बच सकते थे।
 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us