बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर
Myjyotish

श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

दिल्लीः ऑनलाइन क्लास न कर पाने वाले बच्चों के लिए कांस्टेबल बने सहारा, मंदिर में ले रहे क्लास

दिल्ली पुलिस का एक कांस्टेबल कोरोना काल में जरूरतमंद बच्चों के लिए मदद का बड़ा हाथ बनकर सामने आया है। कांस्टेबल ने कोरोनाकाल के दौरान गरीब और जरूरतमंद...

20 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

'कालिया' ने उगले राज: गुरुग्राम में बनी थी अलीगढ़ में कहर बरपाने वाली अवैध शराब, 109 लोगों की हुई थी मौत

पिछले दिनों अलीगढ़ में कहर बरपाने वाली अवैध शराब गुरुग्राम में बनाई गई थी। शराब की सप्लाई करने वाले फरीदाबाद निवासी मदन गोपाल उर्फ कालिया की निशानदेही पर बुधवार देर शाम अलीगढ़ पुलिस ने पालम विहार की दो मंजिला बिल्डिंग में छापा मारकर शराब बनाने की अवैध फैक्टरी का पर्दाफाश किया। हालांकि स्थानीय पुलिस ने इस संबंध में जानकारी से इनकार किया है। पुलिस ने मौके से भारी संख्या में खाली बोतलें, रेपर, अलग-अलग कंपनियों के ब्रांड के लेबल व क्यूआर कोड सहित पैकिंग में काम आने वाला सामान बरामद किया है। अलीगढ़ में अवैध शराब पीने से 109 लोगों की मौत हुई थी, हालांकि प्रशासन ने 50 मौतों की पुष्टि की है। आरोपी ने फरीदाबाद में भी नकली शराब बनाने की जानकारी दी है।

अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के अनुसार फरीदाबाद निवासी मदन कालिया के साथ इस धंधे में कई और लोगों के नाम सामने आए हैं। उसने अलीगढ़ के शराब माफिया अनिल चौधरी, ऋषि, मुनीश शर्मा, विपिन यादव एवं शिव कुमार से मित्रता स्वीकार की है। उसने यह भी बताया कि वह 15 साल से नकली शराब बनाने के धंधे  में लिप्त था। पहले वह हरियाणा की शराब अलीगढ़ में सप्लाई करता था। बाद में अधिक मुनाफे के लालच में नकली शराब बनाने लगा।

यह सामान बरामद हुआ 
पुलिस ने फैक्टरी से खाली बोतलें, सील रेपर, बार कोड, दो ब्लोइंग मशीन, दो स्टार्टर, अल्ट्रा कंपनी की ब्लोइंग चेन मशीने और कम्प्रेशर मशीन मय टेंक बरामद की है। इनके अलावा 9100 प्रीफोम, गुडइवनिंग ब्रांड के 470 लेबल, मिस इंडिया ब्रांड के 490 लेबल, 2370 क्यूआर कोड, ढक्कन, जले हुए लेबल और एक गाड़ी बरामद की।
 
अलीगढ़ जिले के कई थाना क्षेत्र में अवैध शराब पीने से लोगों की मौत का सिलसिला 28 मई को शुरू हुआ था, जो कि 31 मई तक चला। इसी दौरान पुलिस ने बड़े स्तर पर शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई की थी। इसी दौरान पांच जून को फरीदाबाद निवासी मदन गोपाल उर्फ कालिया की गिरफ्तारी हुई थी। उस पर आबकारी अधिनियम के तहत अलीगढ़ के पिसावा, मडराक और एनआईटी, फरीदाबाद में अलग-अलग मामलों में कई केस दर्ज हैं।

अलीगढ़ पुलिस गुरुग्राम के पालम विहार इलाके में छापा मारने आई थी। पुलिस ने वहां पर क्या कार्रवाई की। यह जानकारी अलीगढ़ पुलिस से ही पता चल सकेगी।
- सुभाष बोकन, प्रवक्ता, पुलिस कमिश्नर, गुरुग्राम
... और पढ़ें
शराब सप्लाई करने वाला मदन गोपाल उर्फ कालिया शराब सप्लाई करने वाला मदन गोपाल उर्फ कालिया

डरावनी यादें: दूसरी लहर के दो माह पहली के 10 माह पर भारी, 30% अधिक मौतें, दैनिक मामले भी चार गुना रहे

दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर थम चुकी है। यह पहली लहर के मुकाबले काफी घातक रही। इस बाद करीब 30 फीसदी मौतें ज्यादा हुईं। दैनिक मामले भी चार गुना ज्यादा रहे। पहली लहर में जहां अधिकतम सक्रिय मरीज 40 हजार तक ही पहुंचे थे। इस बार एक लाख के करीब हो गए थे। दैनिक मामले भी चार गुना ज्यादा रहे। पहली लहर के 10 महीनों पर ही दूसरी लहर के दो माह भारी पड़े हैं। अब संभावित तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। 

दिल्ली में मार्च के आखिरी सप्ताह में दूसरी लहर शुरू हो गई थी। हर दिन संक्रमित रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ रहे थे। 20 अप्रैल को संक्रमितों की जो संख्या 28,395 हो गई थी। आलम यह था कि 25 मार्च से 1 मई के बीच ही 91 हजार सक्रिय मरीज बढ़ गए थे। मौतें भी रोजाना 150 से ज्यादा हो रही थीं। संक्रमण दर 35 फीसदी तक पहुंच गई थी। पहली लहर में जहां 11 हजार से कम मौतें थीं तो वहीं दूसरी में करीब 14 हजार लोगों ने जान गंवाई थी। दूसरी लहर में मौत का आंकड़ा 448 तक पहुंचा था। यह सभी मानक पहली लहर के मुकाबले कई गुना अधिक थे। दूसरी लहर की इस भयानक तस्वीर के बाद अब संभावित तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना की अगली लहर आने की पूरी संभावना है, लेकिन अगर लोगों ने कोरोना से बचाव के नियमों का पालन जारी रखा और अधिक से अधिक टीकाकरण हो गया तो इसके खतरे का काफी हद तक कम किया जा सकता है। 
... और पढ़ें

दाढ़ी काटने का मामला: चार और आरोपी गिरफ्तार, दो की तलाश जारी, तांत्रिक की कहानी निकली झूठी

बुजुर्ग तांत्रिक के साथ मारपीट कर दाढ़ी काटने के मामले में लोनी बॉर्डर पुलिस ने चार अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मामले में अब तक आठ लोग गिरफ्तार हो चुके हैं, जबकि मुख्य आरोपी बंथला निवासी प्रवेश गुर्जर पहले से रंगदारी के मामले में जेल में है। गिरफ्तार आरोपियों से पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने घटना की कड़ी से कड़ी जोड़ दी। इसके बाद पीड़ित तांत्रिक द्वारा रिपोर्ट में लिखाई गई कहानी झूठी निकली।

बुलंदशहर के अनूपशहर निवासी 72 वर्षीय तांत्रिक अब्दुल समद गत पांच जून को बेहटा हाजीपुर आए थे। उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली गोल चक्कर से वह एक ऑटो में बैठ गए। रास्ते में ऑटो चालक के साथी भी आ गए, जिसके बाद ऑटो सवार अज्ञात लोग उन्हें सुनसान इलाके में ले गए। वहां तीन घंटे बंधक बनाकर यातनाएं दीं और फिर कैंची से उनकी दाढ़ी काटी। तांत्रिक समद की तहरीर पर लोनी बॉर्डर पुलिस ने अज्ञात ऑटो सवारों के खिलाफ बंधक बनाकर मारपीट करने का केस दर्ज किया था। नौ दिन बाद 14 जून को घटना की वीडियो वायरल हुई तो बखेड़ा हो गया। पुलिस ने धार्मिक भावना आहत करने की धारा बढ़ाकर दो आरोपियों आदिल व अभय उर्फ गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया। जबकि मुख्य आरोपी प्रवेश गुर्जर गत 12 जून से रंगदारी मांगने के मामले में जेल में बंद है। वहीं, बुधवार को बेहटा हाजीपुर निवासी इंतजार व उसके साले सद्दाम को गिरफ्तार किया।

ये चार आरोपी हुए गिरफ्तार
पुलिस ने गुरुवार को चार और आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान मुशाहिद व शावेज निवासीगण बेहटा हाजीपुर, अनस निवासी अमित विहार कॉलोनी और हिमांशु निवासी राम विहार कॉलोनी के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि मामले की जांच में दो अन्य आरोपी गुलशन उर्फ पोली और आवेश चौधरी फरार हैं। 

एक ही जिम में कसरत करते हैं सभी आरोपी
पुलिस के मुताबिक, प्रवेश के दोस्त इंतजार ने ही उसकी मुलाकात तांत्रिक समद से कराई थी। इंतजार व उसके साले सद्दाम के अलावा घटना में शामिल सभी आरोपी एक ही जिम में करसत करते हैं। यह जिम प्रवेश के दोस्त आदिल का है। पुलिस आदिल को पूर्व में ही गिरफ्तार कर चुकी है।

आरोपियों ने झुठलाई तांत्रिक की कहानी
आदिल और अभय उर्फ कल्लू गुर्जर : 5 जून को प्रवेश का फोन आने पर हम उसके घर बंथला गए थे। वहां तांत्रिक अब्दुल समद पहले से मौजूद था। उसके साथ घटना के दौरान हम मौजूद थे।

इंतजार : मैंने ही करीब तीन माह पहले तांत्रिक समद से प्रवेश को मिलवाया था। उसके लिए समद ने तंत्र-मंत्र व ताबीज की व्यवस्था की थी। समद ने 5 जून को आने के लिए कहा था। 5 जून को समद पहले सद्दाम के घर गए। प्रवेश का फोन आने पर मैंने ही सद्दाम के द्वारा समद को प्रवेश के घर भिजवाया था। वहां उनका विवाद हो गया। घटना के वक्त मैं मौके पर मौजूद था।

सद्दाम : 1 जून को मैंने सूफी समद से बेटे की परेशानी की बाबत की थी। उन्होंने 5 जून को आने के लिए कहा। सूफी समद पहले मेरे घर आए। उसके बाद इंतजार के कहने पर मैं समद को प्रवेश के घर लेकर गया। वहां विवाद हो गया। घटना के वक्त मैं वहां मौजूद था।

मुशाहिद, शावेज, अनस और हिमांशु : हम आदिल के जिम में कसरत करते हैं। 5 जून को प्रवेश ने आदिल को फोन किया था। आदिल के साथ हम लोग प्रवेश के घर पहुंचे। वहां तांत्रिक समद के साथ विवाद हो गया। घटना के दौरान हम मौके पर मौजूद थे।

समद के साथ हुई घटना में अब तक कुल आठ आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। मुख्य आरोपी प्रवेश, इंतजार व सद्दाम समद को पहले से जानते थे। दो आरोपी अभी फरार चल रहे हैं। उनकी तलाश में दबिश दी जा रही है। - डॉ. ईरज राजा, एसपी ग्रामीण
... और पढ़ें

दाढ़ी काटने का मामला: टीवी पर लाइव आया उम्मेद पहलवान, बोला- लोनी पुलिस को नहीं दूंगा गिरफ्तारी

भड़काऊ भाषण देने के मामले में नामजद फरार चल रहा उम्मेद पहलवान गुरुवार को टीवी चैनल में लाइव आया। उन्होंने स्थानीय पुलिस को गिरफ्तारी नहीं देने की बात कही है। एसएसपी के सामने पेश होकर अपनी बातें रखने की शर्त रखी है। वह खुद को नोएडा व बुलंदशहर के बीच में बता रहा है।

बुजुर्ग अब्दुल समद के साथ मारपीट, दाढ़ी काटने और पीड़ित के साथ फेसबुक लाइव आकर गलत जानकारी देने के मामले में पुलिस ने उम्मेद पहलवान पर दंगा भड़काने के प्रयास में रिपोर्ट दर्ज की है। एक तरफ तो पुलिस आरोपी को तलाश कर रही है, वहीं दूसरी ओर उम्मेद पहलवान ने एक टीवी चैनल पर आकर लोनी पुलिस को गिरफ्तारी नहीं देने की बात कही। उन्होंने स्थानीय पुलिस को गलत बताते हुए कहा कि उनके पास बहुत सबूत हैं। वह एसएसपी को ही देंगे। उन्हें स्थानीय पुलिस पर भरोसा नहीं है। 

उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि वहां ‘जय श्रीराम का नारा’ लगाया गया। यह भी नहीं पता था कि बुजुर्ग के साथ मारपीट करने वाले दोनों समुदाय के लोग थे और यह ताबीज की लड़ाई है। उसने कहा कि प्रवेश गुर्जर को उन्होंने पकड़वाया है। वह पुलिस से भाग रहे हैं, अपने लिए वकील करने जा रहे हैं। उसने एक विधायक पर भी आरोप लगाए।

बता दें कि उम्मेद पहलवान सहित पांच नामजद और 90-100 अज्ञात लोगों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत अनूपशहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। 
... और पढ़ें

बड़ी राहत: एम्स में शुक्रवार से शुरू होंगी ओपीडी सेवाएं, ऑनलाइन कराना होगा पंजीकरण

उम्मेद पहलवान
कोरोना संक्रमण के घटते मामलों के बीच शुक्रवार से एम्स में ओपीडी सेवाएं दोबारा से शुरू हो जाएगी। मरीजों को इलाज के लिए ऑनलाइन माध्यम से ही अपना पंजीकरण कराना होगा। अभी सीधे अस्पताल में जाकर पंजीकरण की सुविधा नहीं मिलेगी। इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों को कोविड से बचाव के नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। 

अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डी.के शर्मा की ओर से जारी आदेश के मुताबिक, अस्पताल में 18 जून से चरणबद्ध तरीके से ओपीडी सेवाओं को शुरू किया जाएगा। अभी ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाएगा। डॉक्टर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वाले मरीजों को ही ओपीडी में देखेंगे। सभी विभाग प्रमुखों को निर्देश दिया गया है कि वह ओपीडी के लिए तैयारी शुरू कर दें और प्रतिदिन आने वाले नए व पुराने मरीजों की संख्या का एक प्रस्ताव बनाकर भेंजे। एम्स में अन्य गंभीर बीमारियों के मरीजों को भी आपातकालीन विभाग के माध्यम से भर्ती करना शुरू कर दिया गया है। 




कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते छह अप्रैल को एम्स ने फैसला किया था कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के जरिए ही मरीज ओपीडी में दिखा सकेंगे।हालांकि बाद में  कोरोना के मामले जब बढ़ने लगे तो अप्रैल के दूसरे सप्ताह में ओपीडी को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। अब करीब दो महीने बाद शुक्रवार से यह सेवाएं फिर से शुरू की जा रही है। इससे मरीजों को काफी राहत मिलेगी। 
... और पढ़ें

लोनी विवाद: भड़काऊ वीडियो वायरल होने के मामले में गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर को नोटिस भेजा

गाजियाबाद के लोनी में बुजुर्ग की पिटाई के बाद उसकी दाढ़ी काटने के भड़काऊ वीडियो वायरल होने के मामले में गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर को नोटिस भेजा है। नोटिस में जिम्मेदार अधिकारी को विवेचना में शामिल होने के निर्देश दिया गया है। यह नोटिस साइबर सेल के जरिए भेजा गया है।

ट्विटर पर आरोप है कि भड़काऊ वीडियो पर उसने संज्ञान नहीं लिया और वह ट्रेंड हो गई। इसके अलावा पुलिस केस में नामजद किए गए अन्य आरोपियों का पता तस्दीक कर रही है। इसके बाद विवेचना में शामिल करने के लिए पुलिस उन्हें भी नोटिस भेजेगी।

बुजुर्ग तांत्रिक का भड़काऊ वीडियो ट्रेंड होने के बाद लोनी बॉर्डर पुलिस ने जुबैर अहमद, राना अय्यूब, सलमान निजामी, मशकूर उस्मानी, डॉ. समा मोहम्मद, सबा नकवी, ट्विटर आईएनसी व ट्विटर कम्यूनिकेशन इंडिया प्राइवेट के खिलाफ केस दर्ज किया था।

एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा का कहना है कि ट्विटर द्वारा भड़काऊ वीडियो रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया। कुछ लोगों ने उसका दुरुपयोग करते हुए माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। वीडियो ट्रेंड होने से लोगों की धार्मिक भावना आहत हुईं। एसपी ग्रामीण का कहना है कि भारत में ट्विटर का हेडक्वार्टर गुरुग्राम में है। उसके पते पर ट्विटर को नोटिस में भेजकर जिम्मेदार अधिकारी को विवेचना में शामिल होने की हिदायत दी गई है।

साढ़े 9 घंटे तक वीडियो को आगे बढ़ाते रहे आरोपी
दर्ज एफआईआर के मुताबिक, केस में नामजद किए गए सभी आरोपी सोमवार दोपहर साढ़े 12 बजे से रात करीब 10 बजे तक तक भड़काऊ वीडियो पर टिप्पणी कर ट्विटर पर उसे आगे बढ़ाते रहे। दोपहर 12.33 बजे मोहम्मद जुबैर, शाम 6.18 पर डॉ. समा मोहम्मद, 6.30 बजे सबा नकवी, 6.37 बजे मशकूर उस्मानी, 8.23 बजे राना अय्यूब, 9.56 बजे सलमान निजामी और 7.15 बजे एक वेब पोर्टल ने वीडियो को ट्वीट किया।

किसी भी आरोपी का पता पुलिस के पास नहीं
ट्विटर के अलावा नामजद किए गए किसी भी आरोपी का पता पुलिस के पास नहीं है। एसपी ग्रामीण का कहना है कि सभी आरोपियों के पते तस्दीक कराए जा रहे हैं। पते की जानकारी लगने के बाद उन्हें नोटिस भेजकर विवेचना में शामिल होने के लिए कहा जाएगा। माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने वाले किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा।

सोशल मीडिया की हो रही स्क्रीनिंग
पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सोशल मीडिया पर भड़काऊ वीडियो वायरल या उसे शेयर करने वालों को पहचान के लिए सोशल मीडिया की स्क्रीनिंग की जा रही है। जो भी भड़काऊ वीडियो को वायरल करेंगे, उनकी पहचान कर मुकदमे में शामिल किया जाएगा।
 
... और पढ़ें

दिल्ली में कोरोना: बीते 24 घंटे में मिले 158 नए मरीज, 10 की मौत, सक्रिय मरीज 2554 

राजधानी दिल्ली में कोरोना के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट जारी है, साथ ही मौत का आंकड़ा भी घट रहा है। गुरुवार को कोरोना के 158 नए मामले सामने आए, जबकि दस मरीजों की मौत हुई है।  

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 158 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई और 343 मरीजों को छुट्टी दी गई। जबकि 10 की मौत हुई। दिल्ली में अभी तक 14,31,868 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से 14,04,428  स्वस्थ हो चुके हैं। इस महामारी से अबतक 24,886 लोग दम तोड़ चुके हैं। 

मृत्युदर 1.74 फीसदी है। कोरोना के मामलों में कमी आने के साथ ही सक्रिय मरीज भी घटकर 2554 रह गए हैं। इनमें से अस्पतालों में 1561 मरीज भर्ती हैं। कोविड केयर केंद्रों में 89 और कोविड स्वास्थ्य केंद्र में 13 मरीज भर्ती हैं। होम आइसोलेशन में 733 रोगियों का उपचार चल रहा है। 

विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 77,542  लोगों की जांच हुई, जिसमें 0.20 फीसदी मरीज संक्रमित पाए गए। कुल जांच में आरटीपीसीआर से 55564 और रैपिड एंटीजन से 21978 टेस्ट किए गए। अब तक 2,05,49,834  टेस्ट हो चुके हैं। 
... और पढ़ें

गाजियाबाद: प्रेमी-प्रेमिका द्वारा गंगनहर में छलांग लगाने के मामले में नया मोड, गर्लफ्रेंड समेत तीन पर केस दर्ज

यूपी के नोएडा में प्रेमी-प्रेमिका द्वारा गंग नहर में छलांग लगाने के मामले में नया मोड़ आ गया है। नहर में डूबे प्रेमी आकाश के परिजनों ने प्रेमिका और उसके दो दोस्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। तीनों पर आकाश को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। 

बता दें कि नोएडा के गढ़ी चौखंडी निवासी प्रेमी युगल ने कल यानी बुधवार को मसूरी पहुंचकर गंगनहर में छलांग लगा दी थी। घटनास्थल के पास मौजूद ग्रामीणों ने दोनों को बचाने के लिए पानी में कूद पड़े। मशक्कत कर युवती को तो बाहर निकाल लिया, लेकिन युवक डूब गया। पुलिस के मुताबिक, दोनों में कई सालों से प्रेम-प्रसंग था। पता लगने पर परिजनों ने दोनों की अलग-अलग शादी कर दी थी। इसी बात से युवक तनाव में रहता था। 

तनाव में रहता था आकाश
थाना फेज-थ्री, नोएडा के गढ़ी चौखंडी गांव में रहने वाले आकाश (24) का पड़ोस में रहने वाली युवती से प्रेम-प्रसंग था। परिजनों को पता चला तो उन्होंने दोनों की अलग-अलग शादी करा दी थी, लेकिन इसके बाद भी दोनों की बातचीत जारी रही। परिजनों का कहना है कि प्रेमिका से शादी न होने के कारण आकाश तनाव में रहता था। बताया गया कि बुधवार सुबह करीब 11 बजे आकाश अपनी प्रेमिका के साथ मसूरी स्थित रेलवे पुल के पास गंगनहर पहुंचा। 

पहले युवक ने फिर युवती ने लगा दी छलांग
बातचीत के दौरान दोनों में किसी बात पर कहासुनी हो गई। इसी बीच युवती ने आकाश के दोस्तों को फोन कर बता दिया कि आकाश गुस्से में है। युवती कुछ समझ पाती, इससे पहले ही आकाश ने गंगनहर में छलांग लगा दी। आकाश को पानी में डूबता देख युवती भी पानी में कूद गई। घटनास्थल के पास मौजूद लोगों ने युवक-युवती को बचाने के लिए पानी में छलांग लगा दी। ग्रामीणों ने युवती को तो बचा लिया, लेकिन आकाश गहरे पानी में डूब गया। सूचना पर मसूरी पुलिस ने युवक-युवती के परिजनों को घटना की जानकारी देकर स्थानीय गोताखोरों से तलाश कराई, लेकिन आकाश का पता नहीं चला।

युवती व उसके साथियों पर डुबाने का आरोप
तीन भाई व एक बहन में दूसरे नंबर का आकाश गांव में ही बिरयानी का ठेला लगाता है। वह दो बच्चों का पिता है। बड़ा बेटा डालचंद तीन वर्ष और छोटा बेटा कुष एक वर्ष का है। आकाश के गंगनहर में डूबने की सूचना पर परिजन रोते-बिलखते हुए मौके पर पहुंच गए। युवक के चाचा व अन्य परिजनों ने युवती व उसके साथियों पर आकाश में नहर में डुबाने का आरोप लगाया। 
... और पढ़ें

अयोध्या भूमि विवाद: संजय सिंह बोले- राम भक्तों के चंदे में चोरी करने की नीयत से ही खरीदी गई जमीन

आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने एक बार फिर राम मंदिर के लिए जमीन खरीदने में भ्रष्टाचार होने का आरोप दोहराया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए खरीदी गई जमीन राम जन्मभूमि परिसर से ढाई से तीन किलोमीटर दूर है, जो अमरूद का एक बाग है। कहा कि ये जमीन राम भक्तों के चंदे में चोरी करने की नीयत से ही खरीदी गई है। इस जमीन को खरीदने के बाद अयोध्या के बीजेपी मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने अपने भतीजे के नाम पर 1.9 करोड़ की जमीन खरीदी है। 
 
उन्होंने कहा कि मंदिर के लिए 12080 वर्ग मीटर जमीन 18.50 करोड़ रुपये में खरीदी गई, जबकि उसके बगल में 10370 वर्ग मीटर जमीन सिर्फ 8 करोड़ रुपये में खरीदी है। इससे साफ पता चलता है कि जमीन की खरीद में भ्रष्टाचार किया गया है। अगर 8 करोड़ में 10370 वर्ग मीटर जमीन खरीदने के रेट को सही मान लें तो भी 18.50 करोड रुपये में करीब 26000 वर्ग मीटर जमीन खरीदी जा सकती थी, जबकि 18.50 करोड़ में सिर्फ 12080 वर्ग मीटर जमीन ही खरीदी।

उन्होंने कहा कि राम जन्म भूमि ट्रस्ट, भाजपा और विश्व हिन्दू परिषद जिस एग्रीमेंट का बार-बार जिक्र कर रहे थे वह 18 मार्च को कैंसिल हो गया था, उसमें रवी मोहन तिवारी का नाम नहीं था तो फिर बहनामे में उनका नाम क्यों शामिल कराया गया? उन्होंने कहा कि भाजपा के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय और रवि मोहन तिवारी रिश्तेदार हैं। रवि मोहन तिवारी का नाम एग्रीमेंट में इसलिए डाला गया ताकि इनके खाते में रुपये डाल कर करोड़ों रुपये की बंदरबांट की जा सके।

मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने 7 जून को भतीजे दीप नारायण उपाध्याय के नाम पर महेंद्र नाथ मिश्रा से 1.90 करोड़ रुपये की जमीन खरीदी। इसके आय के स्रोतों की जांच होनी चाहिए। सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी के खातों की जांच होनी चाहिए कि उनके खाते में जो 17 करोड़ गए तो वह कहां गए।
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us