विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

नौकरी न कर शुरू की खुद की कंपनी, 26 साल की उम्र में बन गए बड़े उद्योगपति

गाजियाबाद के तुषार अग्रवाल, ये वो नाम है जिसने मात्र 26 साल की उम्र में उद्यम के क्षेत्र में अपना लोहा मनवा लिया है। आज तुषार दो इंडस्ट्री के मालिक है...

3 अक्टूबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली-एनसीआर

शनिवार, 22 फरवरी 2020

सफदरजंग अस्पताल में अब रात तक होगी डायलिसिस

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में जल्द ही मरीजों को डायलिसिस की वेटिंग से छुटकारा मिल सकेगा। जल्द ही अस्पताल प्रबंधन इस सुविधा को रात तक करने जा रहा है।

अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग की ओर से डायलिसिस की सुविधा रात 8 बजे तक करने का विचार किया है। हालांकि इस पर अंतिम फैसला लिया जाना बाकी है लेकिन प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि एम्स से रैफरल मरीजों की संख्या काफी बढने के चलते सफदरजंग अस्पताल लगातार अपनी स्वास्थ्य सेवाओं को विस्तार देने में जुटा हुआ है।

अभी तक डायलिसिस शाम 4 बजे तक होता है, लेकिन अब इसमें चार घंटे की वृद्घि और की जाएगी। ताकि अस्पताल आने वाले मरीज को डायलिसिस की सुविधा मिल सके। दरअसल क्रोनिक किडनी रोग के मरीजों की लगातार बढ़ती जा रही है।

एम्स में लंबे समय से डायलिसिस के लिए मरीजों को जूझना पड़ रहा है। इसके चलते कई बार मरीजों को निजी डायलिसिस सेंटरों की मदद लेनी पड़ रही है। जबकि वहां ज्यादा कीमतें होने के चलते मरीज सरकारी अस्पताल पहुंचते हैं।

दिल्ली में कई अस्पतालों में डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध है, लेकिन सफदरजंग अस्पताल में इनकी संख्या काफी है। बताया जा रहा है कि अगले महीने से समय सीमा को बढ़ाया जा सकता है।
... और पढ़ें

पैसे वाले घरों को निशाना बनाकर करती थी शादी, समय देख माल संग चंपत हो जाती थी लुटेरी दुल्हन

शादी कर दूल्हे के परिवार को ठगी का शिकार बनाने वाली लुटेरी दुल्हन और उसकी सहयोगी महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर गैंग का पर्दाफाश कर दिया है। पुलिस ने लुटेरी दुल्हन से भारी मात्रा में जेवरात बरामद किए हैं। हाल ही में लुटेरी दुल्हन ने कोतवाली क्षेत्र के गांव मसौता निवासी युवक को ठगी का शिकार बनाया था। पुलिस लुटेरी दुल्हन के अन्य सहयोगी की तलाश में जुटी है। 

एएसपी गोपाल चौधरी ने बताया कि गत शनिवार को मनोज ने रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया कि 31 जनवरी 2020 को उत्तम नगर नई दिल्ली निवासी जानवी, उसके पति राम ने अपनी बहन पायल उर्फ पूजा के साथ उसकी शादी कराई थी।

बताया कि नौ फरवरी की रात में पायल ने अपनी बहन जानवी, बहनोई राम को फोन कर घर पर बुलाया और मौका पाकर रात में दस सोने का मंगलसूत्र, समेत अन्य जेवरात, घर में रखी 16 हजार रुपये की नकदी लेकर फरार हो गई। काफी तलाशने के बाद भी उसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली और उसका फोन भी बंद आ रहा है।

बताया कि घटना के खुलासे के लिए कोतवाली प्रभारी दिलीप सिंह को निर्देश दिए गए थे। बृहस्पतिवार को निरीक्षक दिलीप सिंह, एसआई मेजर सिंह के नेतृत्व में मुखबिर की सूचना पर पायल व जानवी को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों कई जाने की फिराक में थी।

बताया कि आरोपी दुल्हन व उसकी बहन से चोरी किए गए जेवरात बरामद कर लिए गए। बताया कि गिरफ्तारी करने वाली टीम में कांस्टेबल जनेश्वर, शोभित मलिक, मंजू, मिथिला शामिल रहे। एएसपी ने बताया कि पुलिस गैंग के फरार अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी हैं। 
... और पढ़ें

बेटी की फोटो वायरल करने की धमकी देकर बोला- डील मंजूर हो तो व्हाट्सएप स्टेटस पर ‘जय माता दी’ लिख देना

बेटी की एडिट फोटो वायरल करने की धमकी देकर कारोबारी को ब्लैकमेल करने का मामला सामने आया है। पीड़ित के मुताबिक आरोपी धमकी दे रहा है कि उसके बताए स्थान पर 15 लाख रुपये लेकर पहुंच जाना, नहीं तो वह उसकी बेटी को बदनाम कर देगा। पीड़ित कारोबारी ने कविनगर थाने में तहरीर दी है। पुलिस ने आरोपी का नंबर ट्रेसिंग पर लेकर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

शहर के एक प्रतिष्ठित कारोबारी की बेटी प्राइवेट कंपनी में कार्यरत है, जिसकी शादी हो चुकी है। पीड़ित कारोबारी का कहना है कि उनके बेटे के पास देर रात कॉल आई कि वह लोकेशन भेज रहा है। 15 लाख रुपये लेकर आ जाना।

कारोबारी का आरोप है कि आरोपी ने उनके बेटे के पास शादीशुदा बेटी के फोटो भी भेजे थे। साथ ही लिखा था कि अगर 15 लाख रुपये नहीं मिले तो वह इन फोटो को बेटी के पति व सास-ससुर के पास भेज देगा। उक्त कॉल व मैसेज आने के बाद बेटे ने उन्हें जानकारी दी, जिसके बाद परिवार के पैरों तले जमीन खिसक गई।
... और पढ़ें

जामिया से 16 सीसीटीवी फुटेज बरामद, पुलिस जांच पर कई सवाल

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की लाइब्रेरी के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की एसआईटी ने जांच जोर-शोर से शुरू कर दी है। एसआईटी ने लाइब्रेरी से कुल 16 सीसीटीवी कैमरों के वीडियो बरामद किए हैं। 

पुलिस ने लाइब्रेरी का डीवीआर भी कब्जे में लिया है। सवाल यह है कि हिंसा के दो महीने बाद पुलिस ने लाइब्रेरी से सीसीटीवी फुटेज क्यों बरामद की। पहले यह काम क्यों नहीं हुआ। उधर, छेड़छाड़ की आशंका के कारण एसआईटी डीवीआर को फोरेंसिक जांच के लिए भेजने की तैयारी कर रही है। 

अपराध शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वीडियो लाइब्रेरी की कई जगहों के हैं। ज्यादातर वीडियो में छात्र पत्थरबाजी करते हुए और पुलिसकर्मी लाठी भांजते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस अधिकारी ने बताया कि वीडियो से फोटो बनवाए जा रहे हैं। 

इनमें पत्थर फेंकने वाले छात्रों व लाठी भांजने वाले पुलिसकर्मियों की पहचान की जाएगी और उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। जो जवान लाठी भांज रहे हैं, वे सभी आरपीएफ के हैं। हालांकि वीडियो में दिख रहा है कि जवान पत्थरबाजों के पीछे भागते हुए लाइब्रेरी में घुस रहे हैं। इससे संबंधित 5 वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे।

एसआईटी ने जामिया मिल्लिया के छात्रों से पूछताछ शुरू कर दी है। अभी उन छात्रों से ही पूछताछ की जा रही है, जिनकी एमएलसी बनी है। पुलिस ने अब तक दो नेताओं आशु खान व आसिफ मोहम्मद खान समेत 12 छात्रों से पूछताछ की है। 

सभी छात्रों का कहना है कि वह दंगे में शामिल नहीं थे। उनके मुताबिक, दंगे के समय वह या तो यूनिवर्सिटी के गेट पर थे या फिर अंदर। पुलिस जिन छात्रों से पूछताछ कर रही है, उनसे उनके मोबाइल नंबर भी ले रही है, ताकि दंगे वाले दिन उनकी लोकेशन का पता लगाया जा सके।
... और पढ़ें
जामिया हिंसा जामिया हिंसा

दिल्ली एम्स ने बनाया कीर्तिमान, पहली बार एक साल में किए दो लाख से ज्यादा ऑपरेशन

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने एक बार फिर नया रिकॉर्ड कायम कर दिया है। एम्स ने पहली बार एक साल में 2 लाख से ज्यादा मरीजों के ऑपरेशन किए हैं। अभी तक देश ही नहीं, बल्कि अमेरिका, चीन और जापान तक के किसी भी अस्पताल में 2 लाख ऑपरेशन सालाना नहीं हुए हैं। शुक्रवार को आई एम्स की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार बीते एक साल में 2,01,792 ऑपरेशन हुए हैं। 

वहीं सालाना ओपीडी में मरीजों की संख्या 12.41 फीसदी कम हुई है। मुख्य ओपीडी में मरीजों की संख्या 20.68 फीसद तक कम हो गई है। एम्स की ओपीडी में कुल 38 लाख 14 हजार 726 मरीजों का इलाज हुआ।

जबकि वर्ष 2017-18 में यह आंकड़ा 43 लाख 55 हजार 338 थी। हालांकि एम्स के कैंसर, हार्ट, डेंटल, ट्रॉमा सेंटर और झज्जर में बने केंद्रों पर ओपीडी में आने वाले मरीजों की संख्या में वृद्घि हुई है।

इसके अलावा पिछले वर्षों की तुलना में एम्स में संक्रमण की स्थिति पहले से सुधारी है। वर्ष 2017-18 में एम्स के मुख्य अस्पताल में संक्रमण 6 फीसदी की दर से था लेकिन वर्ष 2018-19 के दौरान ये घटकर 5.8 फीसदी हुआ है। जबकि अस्पताल में प्रति मरीज रुकने की अवधि में वृद्घि देखने को मिली है। एम्स में प्रति मरीज रुकने की अवधि 9.3 से बढ़कर 9.5 दिन हो चुकी है।

इसके अलावा हार्ट व न्यूरो सेंटर में औसत बिस्तर अधिभोग (ऑक्यूपेंसी) दर में कमी आई है। ये दर 87.9 से कम होकर 84.9 फीसदी हो चुकी है। एम्स ट्रॉमा सेंटर में पहले 68 से बढ़कर 80 फीसदी बिस्तर वर्ष भर भरे रहने की स्थिति देखने को मिली है।
... और पढ़ें

प्रदर्शनकारियों ने वार्ताकारों से कहा- पुलिस दे लिखित भरोसा तो खुल सकता है एक ओर का रास्ता

शाहीन बाग का रास्ता खुलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकारों को तीसरे दिन भी प्रदर्शनकारियों से जद्दोजहद करनी पड़ी। पुरुषों को बाहर कर केवल महिला प्रदर्शनकारियों से वार्ता में उन्होंने कहा कि आप लोग यातायात सामान्य करने के लिए कम से कम एक तरफ का रास्ता खाली कर दें। 

किसी भी खतरे की स्थिति में पुलिस आपको पूरी सुरक्षा देगी। जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भरोसा न होने की बात कही। उनके सामने शाहीन बाग के एसएचओ ने चाक-चौबंध सुरक्षा का आश्वासन दिया, पर वे पुलिस के दावों को खोखला बताते रहे। 

प्रदर्शनकारियों ने वार्ताकार संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन के सामने पुलिस से सुरक्षा का लिखित भरोसा देने को कहा। उन्होंने इसके बाद ही आगे की रणनीति का खुलासा करने की बात कही है।

वार्ताकार संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन शुक्रवार देर शाम शाहीन बाग के प्रदर्शन स्थल पहुंचे। यहां साधना ने सबसे पहले पुरुष प्रदर्शनकारियों को मंच से बाहर जाने को कहा। उन्होंने केवल महिलाओं से वार्ता की बात कही। पुरुषों के जाने के बाद महिलाएं दो पंक्तियां बनाकर बैठ गईं। इसके बाद दोनों वार्ताकार मंच से उतरकर प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंच गए। 

प्रदर्शनकारी रास्ता खाली न करने पर अड़े रहे। वार्ताकार साधना ने कहा कि यहां इतने चेहरे हैं और हर कोई नेता नजर आता है। प्रदर्शनकारियों से कहा गया कि वे दूसरों की परेशानी भी समझें और कम से कम एक तरफ का ही रास्ता चालू होने दें। एक तरफ का रास्ता खाली करने की बात पर प्रदर्शनकारियों ने जामिया का हवाला देते हुए खुद को खतरा होने की बात कही।

वार्ताकारों ने मौके पर मौजूद शाहीन बाग के एसएचओ विजय पाल से पूछा तो उन्होंने पूरी सुरक्षा देने का आश्वासन दिया। पुलिस के इन दावों पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस से सुरक्षा की बात लिखित में मांगी। एसएचओ ने आला अधिकारियों से बातचीत कर आगे का निर्णय लेने की बात कही। 
... और पढ़ें

दिल्लीः मार्च से मिलने लगेंगे प्रदूषण के रीयल टाइम आंकड़े, स्रोत की भी मिलेगी जानकारी

निर्भया के दोषी
दिल्ली के वायु प्रदूषण का रीयल टाइम आंकड़ा मार्च से मिलने लगेगा। साथ ही सरकार को यह भी पता चलेगा कि प्रदूषण के स्रोत क्या-क्या हैं। इससे सरकार हर पल दिल्ली की आबोहवा पर नजर रख सकेगी। इसके आधार पर ही सरकार प्रदूषण से निपटने की कार्य योजना तैयार करेगी।

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शुक्रवार को ध्यान चंद स्टेडियम में बनाए जा रहे रीयल टाइम एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग सेंटर का दौरा किया। मौके का मुआयना करने के बाद वह निर्माण कार्य की प्रगति से संतुष्ट नजर आए। गोपाल राय ने बताया कि वाशिंगटन विश्वविद्यालय के सहयोग से इस केंद्र को तैयार किया जा रहा है। 

अभी दिल्ली के वायु प्रदूषण को बताने वाली तीन रिपोर्ट हैं। पुरानी होने के साथ तीनों रिपोर्ट में एक खास समय का डाटा लिया जाता है और उसके अनुमान पर वायु गुणवत्ता का आकलन किया जाता है। लेकिन नए केंद्र रीयल टाइम बेसिस पर प्रदूषण के स्रोत व स्तर का पता चल सकेगा। मार्च से सेंटर काम करने लगेगा। इससे योजना तैयार करने में सहूलियत होगी। 

गोपाल राय ने कहा कि केंद्र से आंकड़े मिलने की प्रक्रिया शुरू होने के बाद सरकार बड़ा अभियान लांच करेगी। इसमें दो बातों पर फोकस किया जाएगा। पहले से जो प्रदूषण है, उसे कैसे कम किया जाए और प्रदूषण को बढ़ने से रोका कैसे जाए। इसके आधार पर तैयार कार्य योजना दिल्ली का प्रदूषण घटाने में मददगार होगी।

मॉनिटरिंग केंद्र से मिलने वाले आंकड़े
. हर मिनट दिल्ली के प्रदूषण स्तर की मिलेगी जानकारी।
. समय विशेष का पीएम-10 और पीएम-2.5 का स्तर व इसके बढ़ने की वजह।
. सल्फर डाईऑक्साइड और कार्बन मोनो आक्साइड का स्तर।
. प्रदूषण का स्रोत, कितना पराली जलने से और कितना धूल से।
. कचरा जलाने से कितना हुआ प्रदूषण और कूड़ा चलाने से कितना प्रदूषण।
. मार्च में इस सेंटर से प्राथमिक रिपोर्ट सरकार को मिलने लगेगी।
... और पढ़ें

10 मिनट के लिए खुला शाहीन बाग का रास्ता, भड़क उठे प्रदर्शनकारी, सुरक्षाकर्मियों ने संभाला माहौल

कालिंदी कुंज के पास से फरीदाबाद की ओर जाने वाले रास्ते को शुक्रवार को दस मिनट के लिए खोल दिया गया। यह रास्ता नोएडा के यमुना पुल से होता हुआ कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन तक आता है। नोएडा ट्रैफिक पुलिस का कहना है कि पुल के पास एक गाड़ी के खराब होने से रास्ते पर जाम लग गया था। इसे देखते हुए कुछ देर के लिए रास्ते को चार पहिया वाहनों के लिए खोल दिया गया था। इससे पहले बैराज पुल से दोपहिया वाहन लंबे वक्त से आ रहे हैं। इस संबंध में कालिंदी कुंज के पास तैनात सुरक्षाकर्मियों का कहना है कि शाहीन बाग की ओर जाने वाला रास्ता अब भी बंद है। मामला कोर्ट में है। इसलिए बगैर किसी निर्देश के रास्ते को दोबारा शुरू नहीं किया जा सकता।
 
... और पढ़ें

वित्त मंत्री सीतारमण से मिले मनीष सिसोदिया, मांगा केंद्रीय करों में दिल्ली का हिस्सा

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री शुक्रवार दिन में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिले। दोनों नेताओं के बीच में काफी देर बैठक चली। मनीष सिसोदिया ने इस बैठक को सकारात्मक बताया।

मनीष सिसोदिया ने सीतारमण से मिलने के बाद कहा कि दिल्ली के विकास को लेकर हमारी सकारात्मक बातचीत हुई। मैंने उनसे मांग की कि केंद्रीय करों में दिल्ली की जो हिस्सेदारी है उसे वह हमें दें। उन्होंने आश्वासन दिया है कि वह इस मामले को देखेंगी।


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से केजरीवाल ने बुधवार को की थी मुलाकात
बेहद तल्ख चुनावी जंग जीतकर सत्ता हासिल करने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। गृह मंत्री के कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आवास में दोनों नेताओं के बीच करीब 15 मिनट तक बातचीत हुई। इस दौरान दिल्ली के विकास से जुड़े मसलों पर चर्चा हुई।

बैठक के बाद अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से वार्ता में कहा कि गृह मंत्री के साथ बैठक काफी सार्थक रही। इसमें दिल्ली के अलग-अलग मुद्दों पर विमर्श हुआ। मोटे तौर पर सहमति बनी कि दिल्ली के विकास के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार को मिलकर काम करना चाहिए। इसे दोनों ने स्वीकार किया और मिलकर काम करने का निर्णय लिया। शाहीन बाग से जुड़ा सवाल पूछने पर केजरीवाल ने कहा कि इस मुद्दे पर कोई बात नहीं हुई। 

बाद में अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा कि दिल्ली में अधिकार और जिम्मेदारी का बंटवारा है। दिल्ली देश की राजधानी है और इसके विकास के लिए केंद्र और राज्य मिलकर काम करेंगे। महिला सुरक्षा समेत विभिन्न मामलों पर साथ मिलकर काम होगा, ताकि किसी भी तरह के मतभेद से बचा जा सके।

उल्लेखनीय है कि आप संयोजक अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दिल्ली के चुनाव में अपनी-अपनी पार्टी का चेहरा थे। भाजपा व आप की तरफ से एक-दूसरे के खिलाफ तीखी बयानबाजी हुई थी। इससे चुनावी माहौल काफी तल्ख हो गया था। दिल्ली में सरकार बनने के बाद दोनों की पहली मुलाकात काफी सकारात्मक रही।
... और पढ़ें

महिला सुरक्षा को लेकर केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, हर मोहल्ले में चार मार्शल की होगी नियुक्ति

राजधानी में महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली सरकार मोहल्ला मार्शल नियुक्त करने जा रही है। बस मार्शल की तर्ज पर हर मोहल्ले में चार मार्शल की तैनाती होगी। मार्शल की जिम्मेदारी अपने मोहल्ले की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखने की होगी। महिला एवं बाल विकास विभाग इसका रोड मैप तैयार कर रहा है। जल्द ही इसका प्रस्ताव कैबिनेट में पेश किया जाएगा। सरकार की कोशिश है कि 2020 में पूरी दिल्ली में मोहल्ला मार्शल नियुक्त कर दिए जाएं।

इससे पहले शुक्रवार को महिला व बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने इस बारे में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के साथ बैठक की। इसमें दिल्ली महिला आयोग के कामों पर चर्चा हुई। बैठक के बाद राजेंद्र पाल गौतम ने बताया कि पूरी दिल्ली में 6,000-7,000 मोहल्ले हैं। हर मोहल्ले में चार मार्शल तैनात किए जाएंगे। इनकी शिफ्ट आठ-आठ घंटे की होगी। दिन की शिफ्ट में एक-एक मार्शल रहेगा, जबकि रात की शिफ्ट में दो की तैनाती होगी। इस काम में सिविल डिफेंस या होमगार्ड के जवानों को लगाया जाएगा। इससे महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी।

राजेंद्र पाल गौतम ने बताया कि विभाग अभी पूरी दिल्ली में मोहल्ला मार्शल तैनात करने का रोड मैप तैयार कर रहा है। जल्द ही इसका प्रस्ताव तैयार कर कैबिनेट में मंजूरी के लिए पेश किया जाएगा। गौतम के मुताबिक, विभाग की कोशिश है कि इस बजट में इसके लिए प्रावधान किया जाए। वहीं, इसी साल पूरी दिल्ली में इसकी तैनाती भी कर देनी है।

बुराड़ी के पॉयलट प्रोजेक्ट का परिणाम रहा बेहतर

स्वाति मालीवाल ने कहा कि महिला आयोग ने बुराड़ी में मोहल्ला मार्शल पर एक पॉयलट प्रोजेक्ट की शुरुआत की थी। इसमें सिविल डिफेंस के कर्मियों को लगाया था। मार्शलों की तैनाती उन जगहों पर की गई, जो सबसे ज्यादा असुरक्षित थी। इससे संबंधित इलाकों की सुरक्षा व्यवस्था बेहतर हुई है। अब इसे दिल्ली की सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में लागू किया जाएगा।

दिल्ली महिला आयोग में एससी/एसटी प्रकोष्ठ बने

राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि दिल्ली महिला आयोग में विशेष एससी/एसटी महिला कल्याण प्रकोष्ठ बनाया जाएगा। प्रकोष्ठ अनुसूचित जाति की महिलाओं और लड़कियों के कल्याण की दिशा में काम करेगा। इस सुझाव का स्वाति मालीवाल ने स्वागत करते हुए कहा कि इस दिशा में काम किया जाएगा।

ट्रांसजेंडर के लिए अलग से बोर्ड

राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि दिल्ली सरकार ट्रांसजेंडरों के लिए एक विशेष बोर्ड के गठन पर काम कर रही है। बोर्ड इस समुदाय के सदस्यों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए ओर काम करेगा।
... और पढ़ें

नोएडा से फरीदाबाद जाने वाला रास्ता खुलने के 10 मिनट बाद ही हुआ बंद

नागरिकता संशोधन कानून के चलते पिछले दो महीने से बंद नोएडा-फरीदाबाद का रास्ता शुक्रवार सुबह खुलते ही 10 मिनट के अंदर ही बंद हो गया। यह शाहीन बाग के प्रदर्शन के चलते 69 दिन से बंद था। जब रास्ता खुला तो मीडिया व सोशल मीडिया पर यह खबर तेजी से फैल गई। तब उत्तर प्रदेश ट्रैफिक पुलिस ने 10 मिनट बाद ही ये रास्ता बंद कर दिया गया। ट्रैफिक पुलिस का कहना है कि डीएनडी पर किसी गाड़ी के खराब हो जाने के चलते भारी जाम लग गया था, जिसके चलते कुछ देर के लिए रास्ता खोला गया था।

हालांकि 10 मिनट बाद ही यह रास्ता फिर बंद कर दिया गया। उत्तर प्रदेश पुलिस ने कालिंदी कुंज से फरीदाबाद और जैतपुर की तरफ जाने वाले रास्ते को खोला था।

नोएडा पुलिस ने यहां से बैरिकेडिंग हटा ली थी। यह रोड नोएडा के महामाया फ्लाईओवर से दिल्ली और फरीदाबाद की तरफ जाती है। हालांकि यहां से शाहीन बाग जाने वाला रास्ता अब भी बंद है।

इसी रास्ते को खोलने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने संजय हेगड़े, साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह को वार्ताकार के रूप में नियुक्त किया है। गुरुवार को वार्ताकारों ने बंद रास्ता भी देखा था। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि पुलिस ने कई रास्ते खुद ही बंद कर रखे हैं।
 


गुरुवार को दोबारा पहुंचे थे वार्ताकार, कहा- अपने अधिकारों के लिए आप दूसरों का रास्ता बंद नहीं कर सकते
अपने अधिकार के लिए आप दूसरों को तकलीफ नहीं पहुंचा सकते हैं। दो माह से बंद पड़े रास्ते की वजह से परेशान हो रहे लाखों लोगों के दर्द को समझने की जरूरत है। समझना पड़ेगा कि कोर्ट बंद रास्ते की सुनवाई कर रहा है। वह सीएए-एनआरसी की सुनवाई नहीं कर रहा है।

ये बातें सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त किए गए वार्ताकार संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन ने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से मंच से कहीं। उन्होंने कहा कि हमें बीच का रास्ता तलाशने के लिए कहा गया है। इसलिए शाहीन बाग प्रदर्शन को इतिहास के पन्नों में दर्ज कराने के लिए अपने धरने को किसी दूसरे स्थान पर ले जाए ताकि यातायात सुचारु हो सके। उन्होंने कहा कि आपको पुलिस का भी शुक्रगुजार होना चाहिए।

इस तरह के माहौल के बावजूद दिल्ली पुलिस ने सब्र से काम लिया। इसके बाद दोनों वार्ताकारों ने पुलिस सुरक्षा में दो प्रदर्शनकारियों के साथ दो माह से बंद पड़े कालिंदी कुंज के रास्ते का मुआयना किया। करीब बीस मिनट तक निरीक्षण करने के बाद वार्ताकार वहां से चले गए।
... और पढ़ें

नोएडाः दोस्तों की हत्या के मामले में आया नया मोड़, साजिश का आरोप

पिछले साल 27 दिसंबर को ग्रेनो वेस्ट स्थित सुपरटेक की ऑक्सफोर्ड स्क्वॉयर सोसायटी में रहने वाले दो दोस्तों की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने दोनों की मौत सड़क हादसे में होने का दावा किया था लेकिन परिजन का आरोप है कि दोनों युवकों की हत्या कर हादसा दिखाने की साजिश रची गई थी। 

परिजनों ने घटनास्थल की सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद पुलिस से मामले में कार्रवाई की मांग की थी। पुलिस के कार्रवाई नहीं करने पर अब परिजनों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। मूलरूप से रामपुर निवासी मोतीराम ने पुलिस को दी शिकायत में कहा था कि उनका इकलौता बेटा सहदेव (27) अपने दोस्त अपूर्व के साथ ऑक्सफोर्ड स्क्वॉयर सोसायटी में रहता था और कॉल सेंटर चलाता था। 

27 दिसंबर 2019 की सुबह लगभग 10 बजे सहदेव के बहनोई मनोज कुमार कॉल कर पुलिस ने सड़क हादसे की सूचना दी। मनोज सेक्टर 62 में रहते हैं। पुलिस ने कहा था कि सहदेव और अपूर्व हादसे में घायल हो गए हैं लेकिन जब मनोज रास्ते में थे तब पुलिस ने कहा कि वह आराम से आ जाएं, दोनों की मौत हो चुकी है। हालांकि अपूर्व की मौत बाद में सफदरजंग अस्पताल में हुई। 

पुलिस ने परिजनों को जानकारी दी थी कि दोनों युवक बुलेट से जा रहे थे। चार मूर्ति गोलचक्कर के पास उनकी बाइक डिवाइडर से टकरा गई। हादसे में दोनों की मौत हो गई। उस दौरान परिजनों ने पुलिस की बात मान ली और शव का अंतिम संस्कार कर लिया। सहदेव और अपूर्व माता-पिता के इकलौते बेटे थे। इसके चलते उनका परिवार सदमे में है और साजिश की बू आने पर न्याय की मांग कर रहे हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक सिर पर गंभीर चोट लगने से मौत हुई थी।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us