दक्षिण-भारतीय फिल्मों के कलाकार समय के अधिक पाबंद और पेशेवर: अक्षय कुमार

भाषा Updated Wed, 28 Nov 2018 03:01 PM IST
विज्ञापन
akshay kumar
akshay kumar

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
अभिनेता अक्षय कुमार का कहना है कि उन्होंने फिल्म ‘2.0’ में रजनीकांत के साथ काम कर काफी कुछ सीखा और साथ ही उन्हें इस बात का एहसास भी हुआ कि दक्षिण-भारतीय फिल्मों के कलाकार समय के पाबंद ही नहीं बल्कि काफी पेशेवर भी हैं। 
विज्ञापन

फिल्म में अक्षय डॉक्टर रिचर्ड का एक नकारात्मक किरदार निभाते नजर आएंगे। यह फिल्म ‘रोबोट’ का सीक्वल है। अक्षय ने कहा, ‘‘प्रौद्योगिकी के हिसाब से दक्षिण (भारतीय फिल्में) काफी विकसित हैं। वे हमसे कई अधिक पेशेवर हैं। अगर शूटिंग साढ़े सात बजे शुरू होनी है तो वह ठीक उसी समय शुरू हो जाएगी। यहां(बॉलीवुड में) साढ़े सात का मतलब आप साढ़े नौ तक आ सकते हैं। उनके सुपरस्टार समय पर सेट पर आते हैं।
अभिनेता का मानना है कि नए कलाकारों को बॉलीवुड में आने से पहले कम से कम पांच दक्षिण भारतीय फिल्में करनी चाहिए, क्योंकि दक्षिण भारत में समय की कीमत है। अक्षय ने कहा कि रजनीकांत से पहली बार मिलते ही वह उनकी विनम्रता के कायल हो गए।
उन्होंने कहा, ‘‘हम मराठी में ही बात करते थे। वह महाराष्ट्रियन हैं और मुझे भी वह भाषा(मराठी) आती है। वह महान व्यक्ति हैं। यह कमाल की बात है कि आप उन्हें एक डायलॉग देते हैं और वह उसे महान बना देते हैं। वह हर लाइन को मनोरंजक बना देते हैं।’’ 

फिल्म ‘2.0’ इस गुरुवार को रिलीज होगी।
विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us