विज्ञापन

नेपाली नागरिकों का फर्जी पासपोर्ट बनवाने का एक आरोपित गिरफ्तार, आठ साल से थी तलाश

डिजिटल न्यूज डेस्क, गोरखपुर। Updated Fri, 21 Feb 2020 05:16 PM IST
विज्ञापन
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। - फोटो : अमर उजाला।
ख़बर सुनें

सार

  • - शाहपुर में 2012 और कैंट थाने में 2015 में दर्ज कराई गई है एफआईआर
  • - 117 नेपाली नागरिकों को भारतीय बता बनाए गए हैं फर्जी पासपोर्ट
  • - कई साल बाद पुलिस को कामयाबी मिली

विस्तार

नेपाली नागरिकों को भारतीय बताकर फर्जी पासपोर्ट बनाए जाने के मामले में पुलिस ने एक आरोपित राजेश पासवान को गिरफ्तार कर लिया है। कैंट थाने में 2015 और शाहपुर थाने में 2012 में इस संबंध में एफआईआर दर्ज कराई गई थी लेकिन आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर था।
विज्ञापन
गिरफ्तार किए जाने के बाद नंदानगर के न्यू प्रोजेक्ट रोड निवासी राजेश ने बताया कि साथी परशुराम के साथ मिलकर उसने 117 नेपाली लोगों को भारत की नागरिकता दिलाने के लिए जीआरडी कूड़ाघाट के पते पर फर्जी पासपोर्ट बनवाया है। इस फर्जी पासपोर्ट की मदद से कई नेपाली विदेश भी जा चुके हैं।  

कैंट थाने में बृहस्पतिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सीओ कैंट सुमित शुक्ला ने बताया कि वर्ष 2009 में जीआरडी, कूड़ाघाट के पते के फर्जी कागजात से 26 नेपाली नागरिकों का भारतीय पासपोर्ट बनवा दिया गया। इसके सहारे कई नेपाली नागरिक विदेश भी चले गए।

भारत नेपाल मैत्री संघ के तत्कालीन अध्यक्ष मोहन लाल गुप्ता ने इसकी अधिकारियों से लिखित शिकायत की थी। तत्कालीन एसपी ग्रामीण द्वारा मामले की जांच के बाद मोहन लाल गुप्ता की तहरीर पर वर्ष 2015 में फर्जी पासपोर्ट बनवाने वाले 26 नेपाली लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और पासपोर्ट अधिनियम में केस दर्ज किया गया था।

जिसके बाद मामले की जांच चल रही थी। सीओ ने बताया कि विवेचना के दौरान दो लोगों का नाम प्रकाश में आया। जिन्होंने फर्जी पासपोर्ट को बनाया था। विवेचक शैलेंद्र शर्मा और उनकी टीम ने मुखबिर की सूचना पर एक आरोपित राजेश को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने उसे बृहस्पतिवार को कोर्ट में पेश कर जेल भेजवाया दिया। पुलिस ने दर्ज मुकदमे में पकड़े गए आरोपित के खिलाफ षडयंत्र रचने की धारा बढ़ा दी है। सीओ ने बताया कि इसके अलावा शाहपुर थाने में 2012 में 91 नेपाली लोगों पर फर्जी पासपोर्ट बनवाने का केस दर्ज हुआ था।

कैंट थाने में दर्ज केस के मुताबिक इनके पासपोर्ट फर्जी
सीमा राना, कल्पना थापा, मेनका थापा, विमला आले, रामा गुरूंग, सुनील की पत्नी सीमा, नरेश की बेटी सीमा, कमला थापा, प्रिया गुरूंग, सोनिया गुरूंग, आशा गुरूंग, आरती श्रेष्ठ, प्रीती गुरूंग, हेमा, संतोपी गुरूंग, अनिल गुरूंग, कुमारी रमा, गंगा थापा, आशा थापा, कल्पना गुरूंग, माया, रीता सुव्वा, रूपा लामा, सिबु रिमल, संगीता गुरूंग और सूरज राना का फर्जी पासपोर्ट वर्ष 2009 में बना था। इन सभी के खिलाफ केस दर्ज हुआ था।

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

फर्जी पासपोर्ट बनवाने वाली एक महिला पहुंच गई थी कोर्ट

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us