विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन

गोरखपुर

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

बस्ती: मां से झगड़ा कर घर से निकला था युवक, चार घंटे बाद इस हाल में मिला शव

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले से बड़ी खबर आ रही है। यहां कोतवाली क्षेत्र में एक युवक की पेड़ की डाली से लटकता शव मिलने से हड़कंप मच गया। ग्रामीणों की सूचना परह पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और जांच में जुट गई है।

ये है मामला
मिली जानकारी के मुताबिक शहर के कोतवाली क्षेत्र के पचपेड़िया मोहल्ले में 22 वर्षीय चिराग अली की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई। बृहस्पतिवार को घर के पास स्थित पेड़ की डाल से लटकी लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। नायलॉन की रस्सी से फंदा बनाकर गले में फंसा पाया गया। बताया जा रहा है कि चिराग अली आटो चालक था। सुबह मां ने किसी बात पर उसे डांट दिया था। माना जा रहा है कि इसी से क्रोधित होकर उसने यह कदम उठा लिया।
 
सीओ सिटी गिरीश कुमार सिंह ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस सभी सम्भावनाओं पर गौर करते हुए जांच कर रही है।

अधिक जानकारी मिलने पर खबर अपडेट किया जाएगा...
... और पढ़ें

Lockdown: गाजीपुर से पैदल चलकर सोनौली बार्डर पहुंचे आठ नेपाली, अपने ही देश में नहीं मिला प्रवेश, जानें क्या है पूरा मामला

उत्तर प्रदेश में मजदूरों का पलायन अब भी जारी है। भारत नेपाल सीमा सोनौली बॉर्डर पर बनारस, गाजीपुर से पैदल ही नेपाल अपने घर जाने के लिए पहुंचे आठ नेपाली नागरिकों को नेपाल प्रशासन ने प्रवेश देने से इनकार कर दिया।

इस पर भारतीय प्रशासन ने सभी को डॉक्टरों की देखरेख में नौतनवां में बने क्वारंटीन सेंटर में भेज दिया। अब ये सभी लोग लॉकडाउन तक नौतनवां क्वारंटीन सेंटर में ही रहेंगे।

बृहस्पतिवार की सुबह बनारस और गाजीपुर से आठ नेपाली नागरिकों का एक दल पैदल ही सोनौली पहुंच गया और नेपाल जाने के लिए सरहद तक गया। जिन्हें नेपाली प्रशासन ने नेपाल में लॉकडाउन का हवाला देकर प्रवेश की अनुमति नहीं दी।

काफी देर तक सीमा पर रुकने के बाद सोनौली पुलिस ने सभी को डॉक्टरों की देख रेख में नेपाली नागरिकों के लिए नौतनवां में बने विशेष क्वारंटीन सेंटर में भेज दिया।

क्षेत्राधिकारी नौतनवां राजू कुमार साव ने बताया कि बनारस और गाजीपुर से पैदल चलकर आठ नेपाली नागरिक सोनौली पहुंचे। उनको नेपाल प्रशासन ने प्रवेश करने की अनुमति दी। सभी लोगों को डॉक्टरों की देखरेख में नौतनवां क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है।




 
... और पढ़ें

जानिए कौन हैं ये सात कोरोना योद्धा, जो जोखिम की परवाह किए बिना पूरी कर रहे हैं ये चुनौतियां

Coronavirus in Gorakhpur: कोरोना से मृत युवक के चाचा की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, कुल संक्रमितों की संख्या हुई नौ

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या मृतक सहित अब नौ हो गई है। बृहस्पतिवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज में जांच के लिए आए 24 नमूनों में 23 की रिपोर्ट निगेटिव व एक की पॉजिटिव आई है। यह शख्स बस्ती में कोरोना संक्रमण मृतक युवक का चाचा है।

इस बात की पुष्टी बस्ती जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने की है। उन्होंने बताया कि बस्ती जिले में कोरोना वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या नौ हो गई है। इनमें से आठ एक ही परिवार से हैं, एक की मौत हो गई और एक मृतक का करीबी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

वहीं गोरखपुर मंडल की 33 नमूनों की जांच रात में हुई है। इसमें गोरखपुर के 5, महराजगंज के 19, देवरिया 5, कुशीनगर के 4 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। बता दें कि महराजगंज में पहले से ही छह लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ये सभी लोग तब्लीगी जमात से वापस आए थे।
... और पढ़ें
कोरोना वायरस। कोरोना वायरस।

CoronaVirus in Gorakhpur: दवा खरीदने जा रहे हैं तो पढ़ लें पूरी खबर, खाली हाथ आना पड़ सकता है घर

गोरखपुर शहर के मेडिकल स्टोर्स और जिला अस्पताल में दवा खरीदने के लिए मरीजों और उनके तीमारदारों को अब मास्क लगाना होगा। बिना मास्क के दोनों ही जगहों पर अब दवाएं नहीं मिलेंगी। बगैर मास्क या गमछे से मुंह ढंके दुकान पहुंचने पर दवाएं नहीं दी जाएंगी। यह फैसला जिला अस्पताल प्रशासन और दवा विक्रेता समिति ने लिया है।

प्रदेश में कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे हैं। इसे लेकर बुधवार को शासन ने मास्क को लगाना अनिवार्य कर दिया है। पालन न करने वालों पर कार्रवाई के लिए भी कहा गया है। शासन के निर्णय का स्वागत करते हुए दवा विक्रेता समिति ने यह फैसला लिया है कि बिना मास्क पहने या बिना गमछा बांधे लोगों को दवाएं नहीं दी जाएंगी।

दवा विक्रेता समिति के अध्यक्ष योगेंद्रनाथ दूबे और महामंत्री आलोक चौरसिया ने बताया कि शासन के इस फैसले के तहत अब दवा की बिक्री की जाएगी। थोक व फुटकर विक्रेताओं को दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। साथ ही बिना मास्क के आने वाले व्यापारियों और अन्य लोगों को दवाएं नहीं दी जाएंगी।

 
... और पढ़ें

लॉकडाउन: कोरोना के चक्कर में नहीं हो रही है इन बीमारियों की जांच, जानिए किस आफत में फंस सकते हैं मरीज

लॉकडाउन के चलते प्राइवेट अस्पताल, लैब और क्लीनिक बंद होने से शुगर, बीपी, हार्ट, न्यूरो सहित अन्य बीमारियों के मरीज परेशान हैं। उनका कहना है कि रूटीन चेकअप तक नहीं हो पा रहा है। टेलीफोन पर डॉक्टरों से सलाह लेकर ही दवाइयां ली जा रही हैं, लेकिन यह ज्यादा दिन कैसे चलेगा, बड़ा सवाल है।

शहर में शुगर और बीपी के मरीजों की बात करें तो इनकी संख्या 50 हजार से अधिक है, जो ज्यादातर प्राइवेट अस्पतालों में अपना इलाज कराते हैं। लॉकडाउन के कारण ये मरीज न तो घर से निकल पा रहे हैं और न ही कूरियर सेवा से दवा मंगा पा रहे हैं। लैब का लाभ भी नहीं मिल रहा है।

लॉकडाउन के पहले प्रतिदिन हजारों टेस्ट शुगर, बीपी, एक्सरे, सोनोग्राफी और एमआरआई होते थे, लेकिन इस वक्त यह बिल्कुल बंद हो चुके हैं।

बेतियाहाता में लाइफ केयर सेंटर लैब चलाने वाले डॉ. संतोष सिंह बताते हैं कि जब से लॉकडाउन हुआ है, तब से 10-15 जांच हो पाती है। लॉकडाउन से पहले जांच करने से फुरसत नहीं मिल पाती थी। रोजाना 500 से अधिक जांचें शुगर, बीपी, एक्स-रे सहित अन्य की हो जाती थी। अब समझ नहीं आ रहा है कि मरीज गए कहां? शुगर के मरीजों की रेगुलर जांच नहीं होगी तो उनके सामने बड़ा संकट खड़ा हो जाएगा।
... और पढ़ें

गोरखपुर में बन रहा प्रदेश का पहला क्वारंटीन मॉडल सेंटर, जानिए क्या होगा इसमें खास

सांकेतिक तस्वीर।
लॉकडाउन के दौरान जिले में प्रशासन की देखरेख में संचालित होने वाला प्रदेश का पहला ऑनलाइन डिलीवरी पोर्टल शुरू करने के बाद, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट गौरव सिंह सोगरवाल और अनुज मलिक की पहल पर गोरखपुर में प्रदेश के पहले दो मॉडल क्वारंटीन सेंटर भी तैयार किए जा रहे हैं।

गोरखनाथ क्षेत्र में स्थित सरस्वती बालिका विद्यालय सूरजकुंड और प्राथमिक  विद्यालय, भीटी रावत को मॉडल क्वारंटीन सेंटर के तौर पर विकसित किया जा रहा है। शुक्रवार तक यह सेंटर पूरी तरह तैयार हो जाएंगे।

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने बताया कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) और स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक दोनों विद्यालयों को मॉडल क्वारंटीन सेंटर के तौर पर विकसित किया जा रहा है। यहां क्वारंटीन किए जाने वाले लोगों के बीच निश्चित दूरी, स्वास्थ्य जांच, साफ-सफाई व हाईजिन, खेलने के लिए बड़े मैदान आदि की व्यवस्था होगी।

निर्धारित मेन्यू के मुताबिक खाना बनेगा। मॉडल सेंटर में स्वच्छता किट और सैनेटाइजर की व्यवस्था रहेगी। सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं।
... और पढ़ें

कोरोना को लेकर अफवाह फैलाई तो जाएंगे जेल, यह विशेष टीम करेगी कार्रवाई

कोरोना वायरस से संबंधित कोई भी अफवाह फैलाने वालों पर सीधे एफआईआर दर्ज कर जेल भेज दिया जाएगा। कोरोना वायरस रोकथाम के लिए लागू सख्त कदमों के बीच अफवाहों का दौर भी, तेज हो गया है, लिहाजा पुलिस-प्रशासन ने अफवाहबाजों के खिलाफ यह कठोर कदम उठाने का फैसला लिया है। अफवाहों को पकड़ने के लिए पुलिस की साइबर सेल और अफसर सक्रिय हो गए हैं।
 
जानकारी के मुताबिक, किसी भी अफवाह को रोकने के लिए हर थाने पर कोविड-19 दस्ते का गठन किया गया है, ताकि सूचना आने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ पुलिस महकमे का कर्मचारी भी जाए और अफवाह को फैलने से रोके।

बावजूद इसके, इस तरह की घटनाओं में इजाफा हुआ है। तिवारीपुर इलाके में दो दिन पहले ही कपड़ा फेंकने की सूचना पुलिस को देने से पहले वीडियो वायरल कर दिया गया था। हालांकि बाद में पुलिस ने आरोपित को पकड़ा तो वह मानसिक रुप से अस्वस्थ निकला। उसे हिदायत देकर छोड़ा गया।

केस 1. सिकरीगंज इलाके में एक युवक सड़क किनारे बैठा था। उसे कोरोना मरीज बताते हुए अफवाह फैला दी गई। बुधवार को इसकी जानकारी मिलते ही अफसर भी दौड़ पड़े। बाद में जांच में वह साधारण खांसी का मरीज निकला।

केस 2. देवरिया बाईपास के पास करीब पंद्रह दिन पहले भी इसी तरह का वीडियो वायरल किया गया। एक युवक को मरकज का बताकर सोशल मीडिया ने उसे कोरोना फैलाने वाला तक बता दिया। वह भी मानसिक रोगी निकला था।

सीओ क्राइम प्रवीण कुमार सिंह ने बताया- अफवाह न फैलाई जाए, इसकी अपील लगातार की जा रही है। पुलिस टीमें इस पर काम कर रही हैं। कोई भी सूचना हो तो सीधे पुलिस को दें ना कि सोशल मीडिया पर वायरल करें। अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में आप ही नहीं, इन पुलिसवालों के परिवार भी फंसे हैं, जानिए कैसे निभा रहे अपना फर्ज

मनमानी कीमत वसूल रहे हैं दुकानदार तो पढ़ लें ये खबर, इस मार्ट पर हो चुकी है कार्रवाई

सामान की ज्यादा कीमत वसूलने वाले तारामंडल रोड स्थित लक्ष्मी नारायण सुपर बाजार के मालिक के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करा दी गई है। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट गौरव सिंह सोगरवाल के निर्देश पर जिला पूर्ति विभाग ने बुधवार की देर शाम रामगढ़ताल थाने में 188 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कराया।

मनमानी कीमत वसूलने पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दो अप्रैल को ही रामगढ़ताल थाने से चंद कदमों की दूरी पर स्थित इस शॉपिंग मार्ट को सीज कर दिया था। मार्ट प्रबंधन के खिलाफ कई दिनों से अधिक दाम पर सामान बेचने की शिकायतें मिल रही थीं। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने अपने व्यक्ति को खरीदारी के लिए शॉपिंग मार्ट भेजा था।

संबंधित व्यक्ति ने खरीदारी की तो उसे प्रशासन द्वारा तय रेट से अधिक दाम पर सामान मिला था जिसके तत्काल बाद मार्ट सीज करने की कार्रवाई कर दी गई। अब एफआईआर कराई गई है। बताया जा रहा है कि मार्ट मालिक को जल्दी राहत नहीं मिलेगी। मामले की जांच पड़ताल शुरू हो गई है। लॉकडाउन के बाद ही मार्ट का शटर उठ सकेगा।  

ज्वांइट मजिस्ट्रेट गौरव सिंह सोगरवाल ने बताया- सीज हो चुके लक्ष्मी नारायण सुपर बाजार के मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है। प्रशासन ने जो रेट तय किए हैं उससे अधिक पर सामान बेचने की किसी ने भी कोशिश की तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सभी दुकानों, मार्ट आदि की नियमित निगरानी की जा रही है।
... और पढ़ें

कोरोना से डरकर दिल्ली से घर आना इस शख्स को पड़ा भारी, पुलिस ने ऐसे पहुंचा दिया जेल

कोरोना संक्रमण की दहशत से दिल्ली से भागकर घर आए 15 हजार के इनामी बदमाश धर्मेंद्र बिहारी को शाहपुर पुलिस ने बृहस्पतिवार को गिरफ्तार कर लिया। गुलरिहा पुलिस को भी उसकी लंबे समय से तलाश थी।

गुलरिहा के तरकुलहा निवासी धर्मेंद्र बिहारी शातिर बदमाश है। शाहपुर में चोरी-नकबजनी के आठ मुकदमों में  वह वांछित चल रहा था। एसएसपी ने उसके ऊपर 15 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। शाहपुर इलाके में हुई चोरी और नकबजनी की कई घटनाओं में उसका नाम सामने आया था। मार्च महीने की शुरुआत में ही वह पुलिस की नजर में आया था।

जब उसे पता चला कि पुलिस उसके पीछे पड़ गई है तो वह दिल्ली भाग गया था। पर लॉकडाउन के बीच वह दिल्ली से लौटा और अपनी बहन के घर चला गया। वहां कुछ दिन रहने के बाद यह अपने गांव आया था। उधर मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने उसे शाहपुर मोड़ से गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक छह अप्रैल को ही उसके ऊपर 15 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। शाहपुर पुलिस को यकीन है कि उसकी गिरफ्तारी के बाद इलाके में चोरी की वारदातों में कमी आएगी। पुलिस ने उसके पास से 1380 रुपये और चोरी के जेवरात बरामद किए हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us