विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 27-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन

गोरखपुर

सोमवार, 24 फरवरी 2020

गोरखपुर: मरीजों में बांटी गई थीं एक्सपायर दवाएं, अब अधिकारी करेंगे जांच

पाली ब्लॉक के डोहरिया कला में बांटी गई एक्सपायर दवाओं की जांच होगी। सीएमओ ने ठर्रापार सीएचसी अधीक्षक को इसकी जिम्मेदारी सौंपी है। एक सप्ताह के अंदर मामले की रिपोर्ट मांगी है। बताया जा रहा है कि जिस आयरन की दवाएं बांटी गई थीं उसकी आपूर्ति काफी समय से बंद है। ऐसे में सवाल यह है कि उन दवाओं को बांटा कैसे गया और वह दवाएं कहां से आईं?

जानकारी के अनुसार शनिवार को पॉली ब्लॉक के डोहरिया कला गांव में सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में सीएचसी ठर्रापार की टीम भी पहुंची थी। इस बीच सीएचसी की टीम ने लोगों के बीच आयरन की गोली बांट दी थी, जो जांच में एक्सपायर मिली।

मामला सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी तक पहुंचा तो उन्होंने मामले में जांच के निर्देश दिए है। डॉ. तिवारी ने बताया कि ठर्रापार सीएचसी अधीक्षक को जांच करने को कहा गया है। एक सप्ताह के अंदर पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी गई है। बताया कि जो दवाएं बांटी गई थीं उसकी आपूर्ति मौजूदा समय में बंद है। ऐसे में वह क्यों बांटी गई, यह अपने आप में बड़ा सवाल है। इसकी भी जांच कराई जाएगी।
... और पढ़ें

रामगढ़ताल के किनारे बनेगा रिंग रोड, जमीन का सर्वे कर रहे अधिकारी

रामगढ़ताल किनारे सात मीटर चौड़े रिंग रोड के निर्माण को जमीनों के अभिलेख जांचने का काम शुरू हो गया है। रिंग रोड के निर्माण में कितनी सरकारी और कितनी प्राइवेट जमीन आएगी, इसका आकलन करने के बाद प्रस्ताव तैयार किया जाएगा।

डीएम के मुताबिक जमीन चिह्नित करने के लिए सदर तहसील और जल निगम विभाग को जिम्मेदारी सौंपी गई है। मोहद्दीपुर से महादेव झारखंडी तक की सड़क पर ट्रैफिक लोड कम करने के लिए ताल किनारे चौड़े रिंग रोड की जरूरत महसूस की जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 21 फरवरी को डीएम, एसएसपी, नगर आयुक्त और सदर तहसीलदार ने मौके का निरीक्षण भी किया था।

आरकेबीके पंपिंग स्टेशन से सहारा इस्टेट तक 3.7 किलोमीटर लंबा बांध तकरीबन बन चुका है। वहीं पैडलेगंज से रेलवे कालोनी के पीछे से होते हुए आरकेबीके तक करीब 2.5 किमी लंबे पाथ-वे बनाने के लिए जल निगम की तरफ से पहले ही 24 करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेजा जा चुका है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर अब पैडलेगंज से आरकेबीके होते हुए सहारा इस्टेट तक सात मीटर चौड़ा रिंग रोड बनाने की कवायद शुरू हुई है।
... और पढ़ें

फर्जी पास बनाकर भूटान से मंगाई खैर की लकड़ी को अधिकारियों ने खपा दी, वन रक्षक निलंबित

भूटान से आयातित खैर की लकड़ी को रेंजर तमकुही ने फर्जीवाड़ा कर खपा दिया। मामला कुशीनगर प्रवर्तन दल की जांच में सामने आया है। आशंका है कि ऐसे ही विदेशी लकड़ी को बिना विभाग की जानकारी के फर्जी अभिवहन पास द्वारा आसानी से खपा दिया जाता है। दरअसल, कुछ दिनों पहले कुशीनगर प्रवर्तन दल ने खैर की लकड़ी से लदे ट्रक को पकड़ा था। जांच में तमकुही रेंज से फर्जी अभिवहन पास बरामद हुआ। शिकायत पर वन विभाग ने जांच कर दोषी वन रक्षक को निलंबित कर दिया।

वन प्रवर्तन दल कुशीनगर ने तीन फरवरी को खैर लदे ट्रक को पकड़ा था। उसके ड्राइवर के पास से टीम को तमकुही रेंज से बना फर्जी अभिवहन पास बरामद हुआ। पूछताछ में ड्राइवर ने बताया कि अभिवहन पास उसे तमकुही रेंज आफिस से मिला है। फर्जी पास की शिकायत प्रभागीय वनाधिकारी कुशीनगर से की गई। उन्होंने मामले की जांच कराई। जांच में आया कि पास फर्जी पाया गया।

इसके बाद उन्होंने लापरवाही में दोषी पाए गए एक वन रक्षक कल्पनाथ मौर्य को निलंबित कर दिया और रेंजर तमकुही से स्पष्टीकरण भी मांगा है। इस मामले में खैर लकड़ी के स्वामी भगवती वुड्स हिमाचल प्रदेश का कहना है कि उनका माल एक नंबर था। उन्होंने इस लकड़ी को विदेश से मंगवाया था। इसके सभी कागजात भी उनके पास हैं। तमकुही रेंजर ने ही एक शख्स दाऊद को विभाग का बताकर परिचय करवाया था।

इसी आधार पर उस शख्स से कागजात बनवाया था। अगर उन्हें जानकारी होती की अभिवहन पास फर्जी है तो अपने सामान के लिए फर्जीवाड़ा क्यों करवाता। दूसरी ओर इस पूरे मामले में वन प्रवर्तन दल कुशीनगर ने पुलिस अधीक्षक को मामले की तहरीर दी है, जबकि डीएफओ कुशीनगर बीसी ब्रह्मा ने भी फर्जीवाड़े के दोषियों पर मुकदमा दर्ज करने के लिए एसपी को पत्र लिखा है।

तमकुही रेंजर नृपेंद्र चतुर्वेदी ने कहा कि जिस दिन का पूरा मामला है, मैं अवकाश पर था। मामले का संज्ञान आने पर पूरे मामले की रिपोर्ट मुझसे मांगी गई थी। सभी कर्मचारियों के बयान डीएफओ को सौंप दिए हैं। 
... और पढ़ें

कई बैंकों की लूट में शामिल था इनामी बदमाश फिरोज पठान, पुलिस की गोली का ऐसे बना शिकार

फिरोज पठान की तलाश पुलिस को कई सालों से थी। फिरोज पठान की तलाश पुलिस को कई सालों से थी।

बस्ती में चलती कार बनी आग का गोला, छात्रों ने ऐसे बचाई जान, देखें वीडियो...

नवजात को मिला न्याय: दबंग आरोपी को नहीं था पुलिस से डर, अब पता चला 'कानून के हाथ लंबे हैं'

गोरखपुर: अभी तो बस एक नवजात को मिला है न्याय, बड़ी लड़ाई तो बाकी है...

यह चिंगारी 24 सितंबर 2019 की है जो 31 जनवरी 2020 को झाड़ियों में एक नवजात बच्ची की लाश मिलने पर भड़क कर शोला बन गई। बच्ची को जन्म के बाद पटक-पटककर मौत के घाट उतार दिया गया था। क्या हुआ था, 24 सितंबर को? गोरखपुर जंक्शन पर कपड़े में लिपटा एक लावारिस नवजात मिला। जीआरपी का रवैया इंतहा की हद तक असंवेदनशील। जैसे कोई लाश मिली हो, रोजनामचे पर अंकित किया, कृपा इतनी की कि पोस्टमार्टम के लिए नहीं भेजा, चाइल्ड लाइन भेज दिया।

यह सब तब जब, एकदम स्पष्ट कानून है, यदि कोई अभिभावक 12 साल से कम उम्र के बच्चे की जान जोखिम में डालते हुए असुरक्षित छोड़ता है तो उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 317 के तहत और यदि पैदाइश छिपाने के लिए कोई नवजात को मृत या जीवित फेंकता है तो धारा 318 के तहत कार्रवाई हो सकेगी। सवाल है, आखिर कार्रवाई होगी कब? जब मुकदमा दर्ज होगा न।

गोरखपुर में मासूम बच्चों के हित संरक्षण के इस कानून के तहत मुकदमा दर्ज करना तो पुलिस की अकर्मण्यता की भेंट चढ़ गया था। बहाना, वादी नहीं किसकी तहरीर पर मुकदमा दर्ज करें। संज्ञेय अपराध सात साल तक की सजा, कमाल है, इसमें भी पुलिस वादी तलाश रही है।

बहरहाल, अमर उजाला ने 24 सितंबर 2019 को ही ठान लिया कि उस हर लावारिस नवजात की कानूनी लड़ाई वह लड़ेगा, जिसे उसे मां-बाप ने चाहे लिंग भेद के लिए, चाहे अपने अनैतिक कृत्यों को छुपाने के लिए सड़कों, गलियों, नदी-नालों, झाडियों में फेंक दिया हो।

मकसद साफ है कि अगर ऐसे बेरहम माता-पिता की पहचान कर, उनके खिलाफ प्रभावी कानूनी कार्रवाई हो सकी तो ऐसा करने से पहले वे लाख बार सोचेंगे और अगर इस प्रयास में एक भी नवजात सड़क पर फेंके जाने से बच गया तो हमारी मुहिम सार्थक हो जाएगी। अमर उजाला के  संकल्प को तत्कालीन डीजीपी ओम प्रकाश सिंह का समर्थन मिला, उन्होंने आदेश जारी किए कि धारा 317-318 आईपीसी के तहत मुकदमे दर्ज करके कार्रवाई हो।

 
... और पढ़ें

नुसरत उल्लाह को 'नवाब' के नाम से जानती थी पुलिस, सीसीटीवी कैमरे से खुलेगा हत्या का राज

नवजात शिशु। फाइल

गोरखपुर: बच्चा पैदा होते ही नाबालिक मां ने पटक-पटककर ले ली थी जान, अब ऐसे मिला न्याय

पीपीगंज इलाके में नाबालिग से दुष्कर्म कर उसे मां बनाने, नवजात की हत्या करने के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर रविवार को नाबालिग मां को बालिका संरक्षण गृह और उसकी मां को जेल भेजा दिया है। जिस तरह से एक नाबालिग से दुष्कर्म कर मां बना दिया गया फिर उसके नवजात की हत्या करके आरोपित घूम रहा था, उससे गांव व आसपास के लोगों को भी यही लग रहा था कि आरोपित पर कोई कार्रवाई नहीं होगी।

आरोपित के घरवाले भी इलाके में अपने रुतबे का हवाला देकर गांव में लोगों को गाली दे रहे थे कि कोई आगे ना आए, क्योंकि कार्रवाई तो होनी नहीं है और ऐसे में जिसका भी नाम आएगा उसकी हत्या कर दी जाएगी। जानकारी के मुताबिक, आरोपित  विभाष्म कितना दुस्साहसी था, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि शादीशुदा होने के बावजूद  उसने घर की छत पर ही नाबालिग से दुष्कर्म किया। मां बनाने पर भी उसे डर नहीं था।

नाबालिग के घरवालों की मजबूरी यह थी कि उम्र कम होने की वजह से सरकारी अस्पताल नहीं जा सकते थे और आरोपित लगातार रुपये के दम पर सब कुछ निपटा लेने की धौंस देता था। हत्या का केस दर्ज होने के पंद्रह दिन बाद भी कार्रवाई नहीं होने से आरोपित के हौसले बुलंद हो गए थे। घूम घूम कर यही कहते थे कि कुछ नहीं होगा। यहां तक की कई प्रभावशाली लोग भी मुद्दा उठाने वाले से यही कहते फिरते थे कि सब बेदम है। मगर आज जब घटना का पर्दाफाश हो गया तो सबकी जुबां पर ताला है।

धौंस देकर घूमने वालों के मुंह से अब एक शब्द नहीं निकल रहा है। दुष्कर्म की सजा देने को पुलिस तलाश रही है तो आज कोई भी पैरवी को समाने नहीं आ रहा है। खैर इलाके के वे लोग जो न्यायप्रिय है, वह इस पर्दाफाश से खुश हैं। कई ने अमर उजाला दफ्तर में फोन कर बधाई भी दी।
... और पढ़ें

चैंपियन ट्रॉफी टी-20 प्रतियोगिता, मुक्तेश्वर नाथ मंदिर में विशेष पूजा, देखें आज के रियल टाइम अपडेट

गोरखपुर डीएम के नोटिस की मियाद खत्म, सोनू निगम ने नहीं लौटाए 40 लाख रुपये

गोरखपुर महोत्सव समिति को 40 लाख रुपये और जीएसटी की धनराशि वापस नहीं करने को लेकर जिला प्रशासन की तरफ से भेजे गए नोटिस पर न तो गायक सोनू निगम ने कोई स्पष्टीकरण दिया और न ही रुपये वापस किए। प्रशासन अब सोनू के खिलाफ विधिक कार्रवाई की तैयारियाें में जुट गया है।

डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने पहले ही चेता दिया था कि राजकीय शोक की वजह से गोरखपुर महोत्सव के 13 जनवरी का कार्यक्रम 14 जनवरी के लिए टाला गया था। मगर सोनू अगले दिन कार्यक्रम करने नहीं आए। ऐसे में उन्हें पर्यटन निगम के रुपये वापस करने ही होंगे। रुपये नहीं देने पर विधिक कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि डीएम ने सोनू निगम को 19 फरवरी को नोटिस जारी कर तीन दिन के भीतर संबंधित रकम जमा करने का निर्देश दिया था। सोनू को भेजे गए नोटिस के मुताबिक गोरखपुर महोत्सव के आखिरी दिन 13 जनवरी को सोनू निगम का कार्यक्रम तय था। इसके लिए समिति ने छह और नौ जनवरी को 40 लाख रुपये और जीएसटी की रकम उनके बैंक खाते में ट्रांसफर की थी।

कार्यक्रम के पहले ओमान के सुल्तान का निधन होने पर 13 जनवरी को राष्ट्रीय शोक घोषित कर दिया गया। इस वजह से महोत्सव के अंतिम दिन का कार्यक्रम 14 जनवरी के लिए टाल दिया गया। इस दिन सोनू नहीं आए। इसके बाद महोत्सव समिति के सचिव व क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी रविंद्र कुमार ने एडवांस रकम की वापसी के लिए ई-मेल के जरिये कई बार सोनू निगम को पत्र लिखा लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया, जिसपर नोटिस जारी करना पड़ा।
... और पढ़ें

खुशखबर: अब चाय के लिए नहीं भटकेंगे चालक व परिचालक, बस में ही मिलेगी ये सुविधा

रोडवेज के चालकों एवं परिचालकों को अब चाय के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। अब परिवहन निगम इन्हें थर्मल बॉटल देने जा रहा है। इस बॉटल में वे गरम चाय रखकर कभी भी पी सकेंगे। इसके लिए बजट जारी हो गया है। जल्द ही बॉटल बांटने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

रोडवेज बस स्टेशनों पर स्टॉपेज ज्यादा देर का नहीं होता है। ऐसे में जब चालक और परिचालक बसों को लेकर स्टेशन पर पहुंचते थे तो उनके पास बाजार से चाय लेकर पीने का समय नहीं होता है। चालकों एवं परिचालकों की चाय की समस्या को देखते हुए परिवहन निगम ने गोरखपुर परिक्षेत्र के सभी चालकों एवं परिचालकों को थर्मल बॉटल देने का निर्णय लिया है। निगम से बॉटल के लिए बजट जारी कर दिया है। इसी सप्ताह से चालकों को बॉटल बांटने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

इस गर्मी बस स्टेशन पर मिलेगा ठंडा पानी
गोरखपुर बस डिपो पर आने वाले यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। इस गर्मी से उन्हें रेलवे बस स्टेशन पर पीने के लिए ठंडा पानी मिलेगा। बस स्टेशन पर वाटर एटीएम का केबिन बनकर तैयार है। बस इसमें मशीन लगने की देरी है। एआरएम केके तिवारी ने बताया कि निगम से बजट मिलते ही यहां वाटर एटीएम लगा दिया जाएगा।

चालकों और परिचालकों की समस्या कोे देखते हुए थर्मल वाटर बॉटल बांटने का निर्णय लिया गया है। इस सप्ताह से बॉटल वितरण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
डीवी सिंह, आरएम
... और पढ़ें

काम को लेकर सभापद ने की थी शिकायत, चेयरमैन व उनके बेटे ने घर में घुसकर की मारपीट

निचलौल नगर पंचायत के चेयरमैन व उनके दो बेटो सहित छह लोगों पर निचलौल पुलिस ने बलवा सहित अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई में जुट गई है। पुलिस को दिए गए तहरीर में पीड़ित सभासद कमलेश ने बताया कि नगर पंचायत के जिगनहवा वार्ड से अनसूचित सीट पर सभासद हैं। बीते 7 फरवरी को नगर के दस सभासदों के साथ नगर में कराए गए कार्यो में धांधली को लेकर शिकायत किया था।

जिससे नाराज नगर पंचायत अध्यक्ष अपने दो बेटो व दो अज्ञात व्यक्तियों के साथ गोलबंद होकर बीते 23 फरवरी को उनके आवास पर आकर दुर्व्यवहार करने लगे। जिसका विरोध करने पर उन लोगों ने बेरहमी से पिटाई कर किसी से शिकायत करने पर जान से मरवाने की धमकी देते हुए चले गए। जिससे सहमे पीड़ित सभासद ने अपने साथी सभासदों के साथ थाने पहुंचकर चेयरमैन सहित अन्य लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग थी।

इस मामले में इंस्पेक्टर बिहागड़ सिह ने बताया कि आरोपी नगर पंचायत अध्यक्ष विश्वनाथ मद्धेशिया उनके बेटे अनूप मद्धेशिया, अमलेश मद्धेशिया तथा अंबरीश मद्धेशिया, दो अन्य लोगों के विरुद्ध बलवा सहित अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us