विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बजट : शिवालिक क्षेत्र की सिंचाई योजनाओं को मिले स्वीकृति, मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

हरियाणा के आगामी बजट से शिवालिक क्षेत्र को भी बड़ी उम्मीदें हैं। 2020-21 के बजट में शिवालिक क्षेत्र के लोग प्रस्तावित सिंचाई योजनाओं के लिए स्वीकृति चाह रहे हैं।

17 फरवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

अंबाला

सोमवार, 17 फरवरी 2020

रेलिंग से टकराकर बाइक सवार युवक की मौत

ओवरब्रिज की रेलिंग से टकराकर बाइक सवार युवक की दर्दनाक मौत हो गई। युवक को खून से लतपथ देख राहगीरों ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव कब्जे में लिया। मृतक की पहचान गांव तलहेड़ी निवासी गुरदीप सिंह के तौर पर हुई। जांच अधिकारी ने बताया कि वीरवार सुबह सूचना मिली थी कि ओवरब्रिज पर एक बाइक सवार युवक की लाश पड़ी है। मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया तो सामने आया कि घटना बुधवार रात की है। जो किसी के संज्ञान में नहीं आई। सिर पर घाव की वजह से युवक की मौके पर ही मौत हो गई। मृतक कुरुक्षेत्र के गांव तलहेड़ी का रहने वाला था। वह बाइक पर सवार होकर बराड़ा की तरफ जा रहा था जब वह ओव्रर ब्रिज के पास पहुंचा तो उसने ओवरब्रिज के पैदल चलने वाले रास्ते से बाइक निकालने की कोशिश में रेलिंग से टकरा गया। सुबह सैर पर जा रहे लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर मिले दस्तावेज के आधार पर परिजनों को सूचना दी। ... और पढ़ें

कैदी की काला पीलिया से मौत

काला पीलिया का कहर अंबाला में थमने का नाम नहीं ले रहा है। वीरवार को सेंट्रल जेल में काला पीलिया से ग्रस्त सजायाफ्ता कैदी की तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। सुबह के समय जेल से पुलिस गारद कैदी मनजीत सिंह (34 वर्ष) को काला पीलिया की दवाई दिलवाने के लिए चंडीगढ़ पीजीआई लेकर गए थे लेकिन दवा न मिलने पर वापस लौटते समय सेंट्रल जेल के गेट पर कैदी की तबीयत अचानक ज्यादा बिगड़ गई। पुलिस गारद कैदी को लेकर छावनी के नागरिक अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। गारद में शामिल पुलिस मुलाजिम ने मृतक के बेटे मनदीप को सूचित किया। मृतक के परिजनों ने प्राईवेट अस्पताल में इलाज न करवाने के आरोप लगाए। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया। शुक्रवार को आगामी कार्रवाई की जाएगी। छावनी के नागरिक अस्पताल में कैदी की मौत का यह दूसरा मामला है। बुधवार हार्ट सेंटर में 20 साल की सजा काट रहे साढ़ौरा निवासी ऋषिपाल की मौत हो गई थी। ऋषिपाल की मौत पर परिजनों ने जेल प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लगाए थे।
14 साल की सजा काट रहा था मनजीत
एनडीपीएस एक्ट के मामले में मनजीत सिंह को 14 साल की सजा सुनाई गई थी। वह पिछले चार साल से में बंद था। मनजीत सिंह के अलावा उसकी पत्नी, भाई, बहन और जीजा भी इसी मामले में सजा काट रहे हैं। इस दौरान उसकी दोनों किडनी खराब होने के कारण डायलसिस शुरू हो गया था। सप्ताह में दो बार वह छावनी के नागरिक अस्पताल में डायलसिस करवा रहा था। इसी बीच टेस्ट में पता चला कि उसे काला पीलिया हो चुका है। एक दिन पहले ही अस्पताल से डायलसिस करवाकर गया था।
बेटा बोला, अपने स्तर पर उपचार के लिए मांग रहे थे छुट्टी
मृतक के बेटे मनदीप सिंह व उसकी बुआ के लड़के विक्रम ने कहा कि कोर्ट में लंबे समय से उपचार के लिए जमानत मांग रहे थे। ताकि वह अपने पिता मनजीत की दोनों किडनी बदलवा सके। बावजूद उसे छुट्टी नहीं दी और जेल प्रशासन केवल डायलसिस करवाने तक ही सीमित रहा।
चार की मौत, 450 के पार काले पीलिया के मरीज
डायलिसिस के दौरान काले पीलिया के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। पिछले साल जहां चार की जान काले पीलिया ने ली थी और 450 के पार मरीजों की संख्या पहुंच गई थी। वहीं इस साल भी मरीजों का आंकड़ा करीब 20 से पार हो चुका है और अब सजायाफ्ता कैदी ने दम तोड़ दिया।
पीजीआई से लौटते समय सेंट्रल जेल के गेट पर कैदी की तबीयत बिगड़ी थी। जब तक अस्पताल पहुंचे डॉक्टरों ने जांच कर मृत घोषित कर दिया। कैदी काला पीलिया का मरीज था और उसी की दवा लेने पीजीआई गए थे। मौत के असल कारणों का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलेगा।
राजेश, एएसआई, सेंट्रल जेल
... और पढ़ें

मीत को मौत के घाट उतारने के बाद भी सहम गए थे हत्यारोपी जब पता चला कि चल रही हैं सांसे

नगला के मीत हत्याकांड में हलदरी के राजमिस्त्री शाम लाल व सगे भाई विरेंद्र उर्फ बिंदर ने लोहे की सब्बल से वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया था। हत्यारोपियों ने तो उसे अपनी तरफ से मार दिया था लेकिन अभी उसकी सांसे चल रही थी। लेकिन जब मीत के परिजन मौके पर पहुंचकर उसे अस्पताल ले जा रहे थे तो आरोपियों के मन में डर था कि अगर वह बच गया तो उनका राज खुल जाएगा परंतु मौत की खबर सुनकर आरोपियों ने राहत की सांस ली थी। अवैध संबंधों के कारण अंजाम दिए गए इस हत्याकांड में मृतक की प्रेमिका के पति देेवीलाल व उसके पिता गुरदेव सिह सहित चारों को बुधवार कोर्ट में पेश किया गया। सीआईए-टू ने कोर्ट से छह दिन के रिमांड की मांग की है। एक फरवरी को साहा में दर्ज हत्या के मामले की तफ्तीश सीआईए ने कॉल डिटेल व मुखबिरों की मदद से सुलझाई।
शामलाल ने देवीलाल को उसकी पत्नी व मीत के अवैध संबंधों के बारे में बताया था तो वह छुटकारा पाने की इच्छा जताने लगा। पिता गुरदेव के साथ शामलाल को सुपारी का ऑफर दिया कि यदि वह मीत को ठिकाने लगा दे तो लाखों देगा। शामलाल ने मीत के भाई बिंदर को लालच देकर अपने साथ मिला लिया कि मौत के बाद प्रॉपर्टी उसकी हो जाएगी। घटना की रात मीत प्रेमिका से मिलने बाहर निकला तब पिता-पुत्र ने लाइट जलाकर बाहर इंतजार कर रहे बिंदर व शामलाल को अलर्ट कर दिया ताकि हमला कर सकें।
मीत हत्याकांड में शामिल सभी आरोपियों का पांच दिन का रिमांड लिया गया है ताकि वारदात में प्रयोग की गई लोहे की सब्बल बरामद की जा सके। अपनी तरह से दोनों ने मीत को मौत के घाट उतार दिया था। आनन-फानन में वहां से निकल गए। उन्हें नहीं पता था कि वह जिंदा है। पहले वे घबरा गए लेकिन अस्पताल से मौत की खबर सूचना पर राहत की सांस ली। पूछताछ जारी है।
- अमन कुमार, इंचार्ज, सीआईए-टू।
... और पढ़ें

कनाड़ा में सैटल करने का लालच, 17.77 लाख ठगने के बावजूद न कनाड़ा भेजा न पैसे वापिस किए

विदेश भेजने के नाम पर लगभग 18 लाख रुपये ठगने के मामले में पुलिस ने एक महिला समेत तीन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। डीएसपी को दी शिकायत में गांव छोटी कोहड़ी के सत्येन्द्र कलेर ने कहा कि जून 2019 में उसे गांव के ही राजन सिंह और परविंद्र सिंह मिले थे। उन्होंने उसे स्थायी तौर पर कनाड़ा में सैटल करने की बात कही थी। इसके लिए उससे 15-20 लाख रुपये का खर्च होने की बात कही थी। युवक ने बताया कि आरोपियों ने उसे विदेश भेजने का पूर्ण विश्वास दिलाते हुए कहा कि चंडीगढ़ की एक महिला के बारे में भी बताया था। उन्होंने कहा था महिला उसका वीजा जरूर लगवा देगी। परिवादी ने बताया कि उसने आरोपियों की बातों पर विश्वास करते हुए उन्हें अपना आधार कार्ड, पासपोर्ट, लाइसेंस अपने सभी प्रमाण पत्र दे दिए। कुछ दिनों बाद राजन सिंह ने उसे बताया कि 26 जून 2019 को उसकी अप्वाइंटमेंट है। उसे अलांटे मॉल स्थित कनाड़ा एंबेसी चलना है। इसके लिए उसे लगभग 15 लाख रुपये का इंतजाम करने की भी बात कही। सत्येन्द्र ने बताया कि आरोपियों ने उस दिन उससे 12 हजार रुपये एंबेसी फीस के तौर पर लिए थे। 5 जुलाई 2019 को राजन ने उसके मोबाइल पर वीजा फोटोकापी व्हाट्सअप द्वारा भेजी और मुझे पैसे तैयार करने के लिए कहा। इसके लिए उसके पिता ने पैसे देने के लिए गांव में स्थित मलकीयत जमीन बेचने के लिए उसका ब्याना वासलपुर के एक व्यक्ति के साथ करके उससे 5 लाख रुपये लिए थे। 5 जुलाई 2019 को ही 2 लाख रुपये ओबीसी बैंक के खाता निकलवाए थे। सत्येन्द्र के अनुसार उसके बाद फिर राजन और परविन्द्र द्वारा 5 लाख रुपये मांगने पर अपने ताया जसबीर सिंह से लेकर दिए। 25 जुलाई 2019 को राजन व परविन्द्र उसके पिता को लेकर चंडीगढ़ गए। यहां मौजूद महिला हीना उर्फ शिखा ने उसके पिता से 1,12000/-रुपये लिए। इसके बाद आरोपी लगातार कनाड़ा वीजा के लिए उससे पैसे लेते रहे। 17 लाख 77 हजार रूपए के भुगतान के बावजूद आरोपियों ने न तो उसका वीजा लगवाया न ही अब उसके पैसे वापिस दे रहे हैं। जांच अधिकारी गुरमेल सिंह ने बताया कि पुलिस ने सत्येन्द्र कलेर की शिकायत पर गांव छोटी कोहड़ी के राजन सिहं व परविन्द्र सिंह तथा हिना उर्फ शिखा निवासी सेक्टर-47डी, चंडीगढ़ के खिलाफ आईपीसी की धारा 406 व 420 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। ... और पढ़ें

एजेंट से जर्मनी भेजने की हुई थी बात अवैध तरीके से भेज दिया अमेरिका, कई महीने जेल में रहने के बाद हुई वतन वापसी

गृहमंत्री अनिल विज के आवास पर रविवार को फरियादियों का तांता लगा रहा। दिनभर विज ने लोगों की समस्याएं सुनकर उनके समाधान के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि अब लोग उन्हें ई-मेल पर भी अपनी शिकायत भेज सकते हैं। जनता दरबार में रविवार को भी फरियादियों की लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिली। विज ने कहा कि जो लोग अपनी शिकायत लेकर उसके पास नहीं आ सकते, वे उसे अपनी शिकायत ई-मेल से भेज सकते हैं।
करनाल जिले के गांव खेड़ी मान सिंह के बलिंद्र सिंह ने विज को दी शिकायत में बताया कि उसने रमेश उर्फ बिल्लू के खिलाफ आय से अधिक संपत्ती जुटाने की शिकायत की थी। उसने शिकायत में यह भी बताया था कि बिल्लू ने फर्जी दस्तावेजों के माध्यम से वर्ष 1996 में सरकारी नौकरी हासिल की थी लेकिन बाद में उसे नौकरी से निकाल दिया गया। बलिंद्र ने बताया कि उसने मेेरे माता-पिता से फर्जी हस्ताक्षर करवाकर मुझे बेदखल कर दिया है। अब उसे जाने का खतरा है। शिकायत के बावजूद पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। सोनीपत के हसनपुर निवासी संजीव ने बताया कि वर्ष 2018 में उसने डीसी से आरटीआई के जरिए जानकारी मांगी थी लेकिन कुछ नहीं मिला। संबंधित कर्मचारी के खिलाफ उसने कार्रवाई की मांग की है। इसी तरह कैथल के घेरडू गांव के राजबीर ने शिकायत में कहा है कि वह बेरोजगार युवक है और उसे जर्मन व अमरीका में भेजने का झांसा देकर गांव कौल के एंजेट ने उससे लाखों रुपये हड़प लिये। पहले उसे जर्मन भेजने का सपना दिया गया। इसके बाद उसे अवैध रूप से अमरीका भेजे दिया। वहां उसे जेल भी जाना पड़ा। किसी प्रकार स्वदेश लौटने पर उसने सीएम विडो पर भी शिकायत की। वर्ष 2018 में पुलिस में केस भी दर्ज करवाया लेकिन पुलिस ने आरोपियों को काबू नहीं किया। भिवानी के मनजीत ने भैंस चोरी के मामले में आरोपी को पकडक़र पुलिस के हवाले किए जाने पर भी आरोपी के खिलाफ कार्रवाई न किए जाने बारे में शिकायत की। गांव सिंघाणी के रमेश कुमार ने रास्ते पर अवैध कब्जा हटवाने बारे, हिसार के रामदिया ने अपने लड़के विक्रम को होमगार्ड में दोबारा लगवाने के लिए पैसों की मांग किए जाने बारे शिकायत की। करनाल के गांव बड़थल के चमेल सिंह ने अपनी शिकायत में बताया कि उसकी बेटी की शादी 13 फरवरी 2005 में शमशेर वासी गांव कमालपुर गादियान जिला करनाल के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही उसका पति व ससुराल पक्ष के लोग उसकी बेटी के साथ मारपीट करते थे। जुलाई 2019 में मेरी बेटी के साथ ससुराल पक्ष के लोगों ने इतनी अधिक मारपीट की कि उसकी मृत्यु हो गई जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस में भी की थी, इस बारे मे एक लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक करनाल को भी अगस्त 2019 में दी थी। जिसकी तफतीश डीएसपी इंद्री द्वारा की गई। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि डीएसपी द्वारा तफतीश सही प्रकार से नहीं की गई। उन्होंने शिकायत में कहा है कि इस सारे मामले की दोबारा से जांच करवाकर आरोपित लोगों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। फरीदाबाद के शॉप की पर्स खोखा एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने प्रधान कृष्ण अदलक्खा के नेतृत्व में गृहमंत्री को एक शिकायत देकर आरोप लगाया कि फरीदाबाद के एनएच-वन मार्किट स्थित पुरानी सब्जी मंडी एरिया के दुकानदारों को माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों के बावजूद अभी तक दुकानें आबंटित नहीं की गई है। प्रवीन कुमार वासी गांव सिंघाना जिला जींद ने अपनी शिकायत में कहा कि वह सफीदों के हैफेड गोदाम में चौकीदार का काम करता है जिसे 1 फरवरी 2020 को चौकीदार पद से हटा दिया है। उसने कहा कि वह एसआईएस सिक्योरिटी में रजिस्ट्रेशन नंबर के अंदर नौकरी करता है। धमकी देकर उसे जबरन नौकरी से हटा दिया गया है। शिकायत में हैफेड गोदाम के इंस्पेक्टर और मैनेजर पर हेराफेरी का कथित आरोप लगाकर लाखों रुपये का नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगाया। इसी प्रकार जिला करनाल से नेताजी सुभाष मार्केट एसोसिएशन के प्रधान हंसराज व अंकुश ने नगर निगम द्वारा दुकानदारों को एनहांसमेंट की राशि अधिक जारी किए जाने बारे सम्बन्धित अधिकारियों को इस बारे अवगत करवाये जाने पर भी उनकी समस्या का समाधान नहीं हो रहा। इस अवसर पर जिला परिषद चेयरमैन सुरेंद्र राणा, मीडिया को-ऑर्डिनेटर विजेन्द्र चौहान, कमल किशोर जैन, राजीव डिंपल कई कार्यकर्ता भी मौजूद थे।
... और पढ़ें

एजेंट से जर्मनी भेजने की हुई थी बात अवैध तरीके से भेज दिया अमेरिका, कई महीने जेल में रहने के बाद हुई वतन वापसी

गृहमंत्री अनिल विज के आवास पर रविवार को फरियादियों का तांता लगा रहा। दिनभर विज ने लोगों की समस्याएं सुनकर उनके समाधान के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि अब लोग उन्हें ई-मेल पर भी अपनी शिकायत भेज सकते हैं। जनता दरबार में रविवार को भी फरियादियों की लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिली। विज ने कहा कि जो लोग अपनी शिकायत लेकर उसके पास नहीं आ सकते, वे उसे अपनी शिकायत ई-मेल से भेज सकते हैं।
करनाल जिले के गांव खेड़ी मान सिंह के बलिंद्र सिंह ने विज को दी शिकायत में बताया कि उसने रमेश उर्फ बिल्लू के खिलाफ आय से अधिक संपत्ती जुटाने की शिकायत की थी। उसने शिकायत में यह भी बताया था कि बिल्लू ने फर्जी दस्तावेजों के माध्यम से वर्ष 1996 में सरकारी नौकरी हासिल की थी लेकिन बाद में उसे नौकरी से निकाल दिया गया। बलिंद्र ने बताया कि उसने मेेरे माता-पिता से फर्जी हस्ताक्षर करवाकर मुझे बेदखल कर दिया है। अब उसे जाने का खतरा है। शिकायत के बावजूद पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। सोनीपत के हसनपुर निवासी संजीव ने बताया कि वर्ष 2018 में उसने डीसी से आरटीआई के जरिए जानकारी मांगी थी लेकिन कुछ नहीं मिला। संबंधित कर्मचारी के खिलाफ उसने कार्रवाई की मांग की है। इसी तरह कैथल के घेरडू गांव के राजबीर ने शिकायत में कहा है कि वह बेरोजगार युवक है और उसे जर्मन व अमरीका में भेजने का झांसा देकर गांव कौल के एंजेट ने उससे लाखों रुपये हड़प लिये। पहले उसे जर्मन भेजने का सपना दिया गया। इसके बाद उसे अवैध रूप से अमरीका भेजे दिया। वहां उसे जेल भी जाना पड़ा। किसी प्रकार स्वदेश लौटने पर उसने सीएम विडो पर भी शिकायत की। वर्ष 2018 में पुलिस में केस भी दर्ज करवाया लेकिन पुलिस ने आरोपियों को काबू नहीं किया। भिवानी के मनजीत ने भैंस चोरी के मामले में आरोपी को पकडक़र पुलिस के हवाले किए जाने पर भी आरोपी के खिलाफ कार्रवाई न किए जाने बारे में शिकायत की। गांव सिंघाणी के रमेश कुमार ने रास्ते पर अवैध कब्जा हटवाने बारे, हिसार के रामदिया ने अपने लड़के विक्रम को होमगार्ड में दोबारा लगवाने के लिए पैसों की मांग किए जाने बारे शिकायत की। करनाल के गांव बड़थल के चमेल सिंह ने अपनी शिकायत में बताया कि उसकी बेटी की शादी 13 फरवरी 2005 में शमशेर वासी गांव कमालपुर गादियान जिला करनाल के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही उसका पति व ससुराल पक्ष के लोग उसकी बेटी के साथ मारपीट करते थे। जुलाई 2019 में मेरी बेटी के साथ ससुराल पक्ष के लोगों ने इतनी अधिक मारपीट की कि उसकी मृत्यु हो गई जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस में भी की थी, इस बारे मे एक लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक करनाल को भी अगस्त 2019 में दी थी। जिसकी तफतीश डीएसपी इंद्री द्वारा की गई। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि डीएसपी द्वारा तफतीश सही प्रकार से नहीं की गई। उन्होंने शिकायत में कहा है कि इस सारे मामले की दोबारा से जांच करवाकर आरोपित लोगों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। फरीदाबाद के शॉप की पर्स खोखा एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने प्रधान कृष्ण अदलक्खा के नेतृत्व में गृहमंत्री को एक शिकायत देकर आरोप लगाया कि फरीदाबाद के एनएच-वन मार्किट स्थित पुरानी सब्जी मंडी एरिया के दुकानदारों को माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों के बावजूद अभी तक दुकानें आबंटित नहीं की गई है। प्रवीन कुमार वासी गांव सिंघाना जिला जींद ने अपनी शिकायत में कहा कि वह सफीदों के हैफेड गोदाम में चौकीदार का काम करता है जिसे 1 फरवरी 2020 को चौकीदार पद से हटा दिया है। उसने कहा कि वह एसआईएस सिक्योरिटी में रजिस्ट्रेशन नंबर के अंदर नौकरी करता है। धमकी देकर उसे जबरन नौकरी से हटा दिया गया है। शिकायत में हैफेड गोदाम के इंस्पेक्टर और मैनेजर पर हेराफेरी का कथित आरोप लगाकर लाखों रुपये का नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगाया। इसी प्रकार जिला करनाल से नेताजी सुभाष मार्केट एसोसिएशन के प्रधान हंसराज व अंकुश ने नगर निगम द्वारा दुकानदारों को एनहांसमेंट की राशि अधिक जारी किए जाने बारे सम्बन्धित अधिकारियों को इस बारे अवगत करवाये जाने पर भी उनकी समस्या का समाधान नहीं हो रहा। इस अवसर पर जिला परिषद चेयरमैन सुरेंद्र राणा, मीडिया को-ऑर्डिनेटर विजेन्द्र चौहान, कमल किशोर जैन, राजीव डिंपल कई कार्यकर्ता भी मौजूद थे।
... और पढ़ें

पत्नी की चुन्नी से युवक ने लगाया फंदा, मौत

छावनी के बीसी बाजार निवासी 30 वर्षीय अमर शक्ति ने अपने कमरे में चुन्नी से फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। रविवार को सुबह परिवार घरेलू कार्य के चलते पेहोवा गया था और पत्नी प्राइवेट अस्पताल में जॉब करने गई थी। पीछे से युवक ने पहली मंजिल पर बने कमरे में पंखे की ही चुन्नी से पंखें की कुंडी में फंदा लगाकर झूल गया। दोपहर के समय परिजन वापस लौटे तो काफी देर बाद अमर शक्ति को बुलाने के लिए ऊपर पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। आनन-फानन में उन्होंने फंदे से लटका देखकर बीसी बाजार चौकी में सूचित किया। पुलिस ने कार्रवाई शुरू करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए छावनी के नागरिक अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। जांच अधिकारी हवलदार जयदेव का कहना था कि अमर शक्ति शादीशुदा व एक बच्चे का बाप था और प्राइवेट जॉब करता था। फिलहाल मौत के असर कारणों का खुलासा नहीं हो गया। ... और पढ़ें

पत्नी की चुन्नी से युवक ने लगाया फंदा, मौत

छावनी के बीसी बाजार निवासी 30 वर्षीय अमर शक्ति ने अपने कमरे में चुन्नी से फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। रविवार को सुबह परिवार घरेलू कार्य के चलते पेहोवा गया था और पत्नी प्राइवेट अस्पताल में जॉब करने गई थी। पीछे से युवक ने पहली मंजिल पर बने कमरे में पंखे की ही चुन्नी से पंखें की कुंडी में फंदा लगाकर झूल गया। दोपहर के समय परिजन वापस लौटे तो काफी देर बाद अमर शक्ति को बुलाने के लिए ऊपर पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। आनन-फानन में उन्होंने फंदे से लटका देखकर बीसी बाजार चौकी में सूचित किया। पुलिस ने कार्रवाई शुरू करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए छावनी के नागरिक अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। जांच अधिकारी हवलदार जयदेव का कहना था कि अमर शक्ति शादीशुदा व एक बच्चे का बाप था और प्राइवेट जॉब करता था। फिलहाल मौत के असर कारणों का खुलासा नहीं हो गया। ... और पढ़ें

रिलायंस पेट्रोल पंप के सामने हाइवे पर फॉच्यूनर व ट्रक भिड़े, मां-बेटे समेत तीन लोग बुरी तरह जख्मी

शनिवार देर रात नेशनव हाईवे- 344 पर रिलायंस पेट्रोल पंप के सामने एक फॉरच्यूनर और ट्रक में भिड़ंत हो गई। टक्कर इतनी भीषण थी कि ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। हादसे में गाड़ी सवार मां-बेटा औरचालक घायल हो गए। दोनों को नागरिक अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। गाड़ी में चालक सहित पांच लोग सवार थे जोकि अपने चचेरे भाई की शादी समारोह में शामिल होकर वापस घर लौट रहे थे। वहीं हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया। जानकारी के मुताबिक बलदेव नगर का रहने वाला विक्रम अपने पिता अरुण कुमार, माता सुमन, भाई कुलदीप व ड्राइवर कुलदीप के साथ जिला यमुनानगर के गांव कलावड़ से अपने चचेरे भाई की शादी में शामिल होकर वापस घर लौट रहे थे। पंप के पास एक तेज गति से आ रहे ट्रक चालक ने अचानक कट मार दिया। इसके कारण फॉरच्यूनर और ट्रक की भिड़ंत हो गई। ट्रक की रफ्तार इतनी तेज थी कि वह अनियंत्रित होकर पलट गया। हादसे में फॉरच्यूनर ट्रक के नीचे आने से बच गई। हादसे में विक्रम की माता सुमन सहित भाई कुलदीप और चालक कुलदीप को चोटें आई है। गंभीर हालत में उन्हें निजी अस्पताल में ले जाया गया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
रविवार को फिर हुआ हादसा
नेशनल हाईवे- 344 पर रविवार शाम करीब पांच बजे एक तेज रफ्तार कार ने एक सवारियों से भरे ऑटो को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भीषण थी कि ऑटो पलट गया, जिससे मौके पर हाहाकार मच गई। कुछ सवारियां ऑटो के नीचे दब गई। जिन्हें राहगीरों की मदद से निकाला गया । हादसे में बरेली के रहने वाले सूरज, मोहित, योगेश व महेश घायल हुए है जबकि अन्य को हल्की चोटें आई। ऑटो में सवार सभी युवक शादी समारोह में चाट बनाने का काम करते हैं। सभी साढ़ौरा स्थित पूजा पैलेस से काम खत्म कर वापिस लौट रहे थे। घायलों को एमएम अस्पताल दाखिल कराया गया है। हादसे को अंजाम देकर कार चालक मौके पर कार छोड़कर फरार हो गया ।
... और पढ़ें

अंबाला: प्रसव पीड़ा से कराहती रही प्रसूता, फोन के आधा घंटे बाद भी नहीं पहुंची एंबुलेंस

सरकारी योजनाएं एक बार फिर धाराशाही हो गई। जब आधा घंटा तक 108 नंबर पर फोन करने के बाद भी सरकारी एंबुलेंस बस अड्डे पर नहीं पहुंची। जच्चा व बच्चा की जान खतरे में पड़ते ही अड्डा इंचार्ज विजेंद्र ने इंसानियत का फर्ज निभाया और गर्भवती महिला को अपनी कार से कर्मचारी सहित छावनी सिविल अस्पताल भेजा। यहां महिला ने बच्ची को जन्म दिया लेकिन कुछ देर बाद ही कर्मचारियों की लापरवाही के कारण महिला नवजात को लेकर अस्पताल से खिसक गई।

आधे घंटे तक नहीं आई एंबुलेंस
हालात उस समय खराब हो गए जब महिला बस अड्डा परिसर में ही बेसुध हो गई। मौके पर पहुंचे अड्डा इंचार्ज ने बिना देरी किए प्राइवेट गाड़ी का बंदोबस्त किया। अस्पताल पहुंचते ही महिला का उपचार शुरु कर दिया गया। नवजात के जन्म के बाद दोनों की डॉक्टरों द्वारा निगरानी की जा रही है। 

सुबह मांगे दस्तावेज
महिला के पति ने बताया कि वह काम के सिलसिले में एक स्थान से दूसरे स्थान पर घूमते रहते हैं। सुबह लगभग 9 बजे वह पहले छावनी सिविल अस्पताल गए थे लेकिन यहां उनसे पहले पहचान व अन्य कागज मांगे गए जो उनके पास नहीं थे। इसलिए अस्पताल में मौजूद कर्मचारियों ने उपचार करने से मना कर दिया और वह वापस लौट आए।
... और पढ़ें

अंबालाः गृह मंत्री अनिल विज के क्षेत्र में एफआईआर का रिकॉर्ड, एक दिन में 101 मामले हुए दर्ज

गृहमंत्री अनिल विज के गृह क्षेत्र छावनी में एक दिन में 101 एक जैसी धाराओं पर एफआईआर दर्ज हुई। इस तरह क्राइम का नया रिकॉर्ड अंबाला छावनी में दर्ज हो गया। जो 101 एफआईआर दर्ज हुई वह सभी भगौड़ों पर हुई हैं।

इसके अलावा चोरी, गुमशुदा, ठगी इत्यादि के केस इन एफआईआर अलग हैं। दरअसल, छावनी क्षेत्र में हुई मारपीट, छीना-झपटी, लूट-खसोट सहित अन्य आपराधिक मामलों में पकड़े गए कैदी पैरोल लेने के बाद गायब हो गए।

महीनों बीत जाने और बार-बार समन भेजने के बाद भी कैदी वापस जेल नहीं पहुंचे और न ही कोर्ट के समक्ष पेश हुए तो उन्हें कोर्ट के आदेश पर भगोड़ा घोषित कर दिया गया। अलबत्ता छावनी के अलग-अलग 3 थानों में 1 ही दिन में लगभग 101 एफआईआर दर्ज की गई। यह सब कोर्ट के आदेशों के बाद पुलिस को मजबूरी में करना पड़ा। मामला दर्ज करने के बाद घोषित किए गए भगोड़ों की तलाश में पुलिस ने छापामारी शुरु कर दी है ताकि जल्द से जल्द उन्हें कोर्ट में पेश किया जाए।

अलग-अलग थानों में दर्ज मामले
कैदी को भगोड़ा घोषित करने वाले 101 मामले छावनी के 3 थानों में दर्ज किए गए हैं। इसमें कैंट थाने में 66 एफआईआर, महेशनगर थाने में 14 एफआईआर और पड़ाव थाने में 21 एफआईआर शनिवार देर शाम तक दर्ज की गई।
... और पढ़ें

अब सुषमा स्वराज के नाम से मशहूर होगा अंबाला बस अड्डा, कॉलेज का भी होगा नामकरण

परिवहन मंत्री मूल चंद शर्मा ने कहा कि अंबाला शहर का बस अड्डा प्रदेश का पहला ऐसा बस अड्डा है जिसका नाम पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय सुषमा स्वराज के नाम पर रखा गया है। अब यह बस अड्डा सुषमा स्वराज बस अड्डा के नाम से जाना जायेगा। प्रदेश में अगले 6 महीने में 1500 नई बसें शामिल की जायेंगी, जिनमें पिंक बसें व वोल्वो भी शामिल हैं।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने अंबाला शहर के नवनिर्मित बस अड्डे का नामकरण करने के उपरांत लोगों को संबोधित करते हुए यह बात कही। इससे पहले यहां पंहुचने पर पुलिस की एक टुकड़ी ने परिवहन मंत्री को सलामी दी। मंत्री ने कहा कि 18 करोड़ रुपये की लागत से इस बस स्टैंड का निर्माण कार्य किया गया है। बहन सुषमा स्वराज के नाम से बस स्टैंड का नामकरण किया गया है जोकि गर्व की बात है।

बल्लभगढ़ में महिला कॉलेज का नाम रखा जाएगा सुषमा स्वराज
उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज एक राजनैतिक यूनिवर्सिटी रही हैं, उन्होंने देश को बहुत बड़े नेता, सांसद दिए हैं। विपक्ष में रहते हुए भी उन्होंने देश व प्रदेश के लिए ऐतिहासिक कार्य किए हैं। पूरी दुनिया व देश उनके द्वारा किए गये कार्यों से भली-भांति परिचित है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से आज उनके नाम से बस स्टैंड का नाम रखा गया है, उसी प्रकार बल्लभगढ़ में भी बहुत बड़े महिला कॉलेज का नाम भी सुषमा स्वराज के नाम से रखा जायेगा।

बसें गरीब वर्ग का जहाज
प्रदेश में वर्तमान समय में रोडवेज में 3600 बसें हैं, जिनमें से 3200 बसें रोड पर चल रही हैं। समय के अनुरूप प्रदेश में 4500 बसों की जरूरत है। बसें गरीब वर्ग का जहाज हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को बेहतर से बेहतर परिवहन सुविधाएं उपलब्ध करवाने की दिशा में काम किये जा रहे हैं।
... और पढ़ें

पढ़ाई के लिए विदेश गए युवक की हादसे में मौत, एक महीने बाद साइप्रेस से भारत पहुंचा शव

विदेश में पढ़ाई के लिए 23 वर्षीय सतिंद्र की साइप्रस में एक हादसे में मौत हो गई। देर शाम उसका शव मुलाना पहुंचा। कुछ देर बाद ही युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान भारी संख्या में ग्रामीणों ने युवक को नम आंखो से विदाई दी। करीब दो साल पहले सतिन्द्र चहल पढ़ाई के लिए साइप्रस गया था। उसकी पढ़ाई पूरी होने वाली थी लेकिन इससे पहले ही मौत ने उसे अपने आगोश में ले लिया। पता चला है कि 21 जनवरी को सतिन्द्र पर कोई भारीभरकम चीज गिर गई थी। काम के दौरान हुए इस हादसे में उसने दम तोड़ दिया था। लगभग एक महीन पहले सतिन्द्र को मौत की खबर उसके परिवार को दी गई। जिस के बाद सतिन्द्र के परिजनों ने भारतीय एंबेसी को सूचित कर आगामी कार्रवाई पूरी करने का आग्रह किया था। इसके बाद ही सतिन्द्र का शव भारत लाने की कवायद शुरू हुई। भारत से उसके दो रिश्तेदारों को साइप्रस से शव लेकर आने की अनुमति मिली थी। सतिन्द्र के पिता कुलवंत को तो इस अनहोनी पर विश्वास ही नहीं हो रहा है।
परिवार का उज्ज्वल भविष्य बनाने पंहुचा था विदेश
सतिन्द्र के दोस्तों का कहना है कि वह बहुत ही मिलनसार स्वभाव का था। उसके हर किसी के साथ मधुर संबंध बन जाते थे। सतिन्द्र का सपना विदेश में पढ़ाई कर अपना व अपने परिवार का भविष्य बनाएगा। इसलिए उस के परिजनों ने भी उस की विदेश में पढ़ने की इच्छा को स्वीकार कर लिया। लेकिन परिजनों को क्या मालूम था कि जिस आंखों के तारे को वह अपने से दूर भेज रहे है वह कभी वापस ही नही आएगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us