विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कोरोना वायरसः आइसोलेशन वार्ड में तब्दील हुई 24 कोच की ट्रेन, रेलमंत्री ने ट्वीट की तस्वीरें देखिए

कोरोना महामारी से लड़ने को भारतीय रेलवे ने एक सराहनीय कार्य किया है। विभाग की ओर से 24 कोच की ट्रेन को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील कर दिया गया है, देखिए तस्वीरें।

28 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चरखी दादरी

शनिवार, 28 मार्च 2020

अवैध इमारतें ढहाई

जिला स्तरीय लघु सचिवालय के निर्माण की कवायद जल्द शुरू होती नजर आ रही है। वीरवार को सचिवालय निर्माण के लिए चिह्नित जगह पर बनीं अवैध इमारतों को प्रशासनिक अमले ने ढहा दिया। डेमोलेशन (तोड़फोड़) की कार्रवाई का वहां मकान बनाकर रहने वाले लोगों ने विरोध किया लेकिन पुलिसकर्मियों ने सख्ती बरतते हुए खदेड़ दिया। कुछ जगहों पर कार्रवाई रुकवाने के लिए लोग बिल्डिंग में भी घुसे लेकिन पुलिस कर्मियों ने बाहर निकाल लिया। इसके चलते कुछ देर तक जेसीबी बंद भी करनी पड़ी।
लघु सचिवालय निर्माण के लिए कनीना रोड पर अनाज मंडी के सामने की जगह चिह्नित की गई है। यहां करीब 50 एकड़ जमीन पर कोर्ट कॉम्प्लेक्स और लघु सचिवालय का निर्माण किया जाना है। करीब साढ़े 23 एकड़ जमीन पर लघु सचिवालय और 26 एकड़ जमीन पर कोर्ट कॉम्पलेक्स का निर्माण करवाया जाना है।
इसके लिए जो जगह चिह्नित की गई है वो हुडा प्रशासन की है। हुडा लघु सचिवालय की जमीन को राजस्व विभाग को ट्रांसफर कर चुका है जिसके बदले करीब 48 करोड़ का भुगतान भी किया जा चुका है। कोर्ट कॉम्पलेक्स के लिए चिह्नित जगह पर कुछ अड़चने हैं जिन्हें दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। वीरवार को जिला प्रशासन ने लघु सचिवालय के लिए चिह्नित जगह पर बनीं अवैध इमारतों को जेसीबी से ढहा दिया।
दोपहर करीब साढ़े 12 बजे टीम ने नई अनाज मंडी के सामने से कार्रवाई शुरू की। कार्रवाई शुरू होते ही वहां पहुंचे लोगों ने जमीन पर मालिकाना हक बताते हुए कार्रवाई का विरोध किया। वहीं, टीम ने उनके दावों को झूठा बताते हुए निर्माण को अवैध बताया। इस कार्रवाई के लिए उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने बीडीपीओ सुभाषचंद्र को ड्यूटी मजिस्ट्रेट तैनात किया और पुलिस फोर्स को भी टीम के साथ भेजा गया। डेमोलेशन की कार्रवाई के दौरान राजस्व विभाग के अधिकारियों के अलावा पटवारी भी मौजूद रहे। यह कार्रवाई शाम करीब पांच बजे तक चली और करीब साढ़े चार घंटे की कार्रवाई में 20 से इमारतें तोड़ी गईं।
सरकार से राजस्व विभाग को मिले 102 करोड़ : प्रशासनिक सूत्रों की मानें तो करीब 50 एकड़ जमीन पर लघु सचिवालय और कोर्ट कॉम्पलेक्स का निर्माण किया जाना है। जिस जमीन पर इनका निर्माण कराने की प्लानिंग है वह कई साल पहले हुडा ने अधिग्रहित की थी। यह जमीन हुडा ने राजस्व विभाग को ट्रांसफर कर दी है और इसके बदले करीब दो करोड़ रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से भुगतान किया गया है। सरकार ने राजस्व विभाग को जमीन ट्रांसफर कराने के लिए 102 करोड़ रुपये दिए हैं। राजस्व विभाग लघु सचिवालय की जमीन के बदले करीब 47 करोड़ रुपये हुडा को दे चुका है।
लोग बोले: बिन नोटिस दिए ढहा दिए आशियाने : संतरा देवी व उमराव ने बताया कि उन्होंने 2007 में करीब 1525 गज जगह खरीदी थी। उन्हें यहां मकान बना रखा है। वीरवार को यहां पहुंची प्रशासनिक टीम ने जेसीबी से आशियाना ढहा दिया। इससे पहले उन्हें न तो कोई नोटिस दिया गया और न ही जमीन के बदले जमीन। उन्होंने बताया कि पहले झाड़ली प्लांट में उनकी जमीन एक्वायर हो गई थी और इसके बाद उन्होंने यहां जगह खरीदी थी। अब प्रशासन ने यह जगह उनसे छीन ली। वहीं, महिला शीला ने बताया कि उन्होंने भी 2008 में यहां 100 गज जमीन ली थी। प्रशासन ने बिना नोटिस दिए उनका मकान तोड़ दिया।
कार्रवाई के लिए मुझे ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है। लघु सचिवालय के चिह्नित जगह पर किए गए अवैध निर्माण ढहाए हैं। यहां लघु सचिवालय का निर्माण होना है। -सुभाषचंद्र, बीडीपीओ एवं ड्यूटी मजिस्ट्रेट।
कार्रवाई में हमने किसी को खलल नहीं डालने दी। लॉ एंड ऑर्डर को कायम रखने के लिए मौके पर पुलिस फोर्स तैनात थी। कुछ लोगों ने विरोध करने का प्रयास किया लेकिन उन्हें वहां से हटा दिया गया। -बलबीर सिंह, सिटी थाना प्रभारी।
... और पढ़ें

काफी समय से स्पेशल ग्रांट से खरीदीं ई-रिक्शा नप में खड़ी

चरखी दादरी। शहर की तंग गलियों से कचरे का उठान करने के लिए गत जुलाई में खरीदी गईं 20 ई-रिक्शा करीब नौ माह से नगर परिषद कार्यालय परिसर में धूल फांक रही हैं। अधिकारियों ने अब तक इन्हें सड़कों पर नहीं उतारा है। कई ई-रिक्शा के पहिये तो पंक्चर हो चुके हैं लेकिन इन्हें चलाने के लिए नगर परिषद के पास चालक तक नहीं है। नौ माह बाद भी 20 लाख के बजट से खरीदी गईं ई-रिक्शा वार्डों की तंग गलियों में न पहुंचने से लोगों को डोर-टू-डोर कचरा उठान सेवा का लाभ नहीं मिल पा रहा। वहीं, नप अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही इन ई-रिक्शा को गलियों में उतार दिया जाएगा। करीब पांच ई-रिक्शा इस समय वार्डों में भेजी जा रही हैं।
शहरी स्थानीय निकाय विभाग के प्रधान सचिव आनंद मोहन शरण ने दादरी शहर को गोद लिया हुआ है। करीब एक साल पहले वो नगर परिषद की व्यवस्थाओं का जायजा लेने दादरी आए थे। इस दौरान नप अधिकारियों और पार्षदों ने उन्हें संसाधनों की कमी की जानकारी दी थी। उन्हें बताया गया था कि सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए संसाधनों की कमी आड़े आ रही है। इसके बाद उन्होंने संसाधनों की खरीद के लिए नगर परिषद को एक करोड़ 63 लाख रुपये की ग्रांट दी थी। इस ग्रांट से स्वीपिंग मशीन, डंपर प्लेजर, ई-रिक्शा, डस्टबिन और अन्य उपकरण खरीदे गए थे।
20 ई-रिक्शा का उद्घाटन गत एक सितंबर को जन आशीर्वाद यात्रा के तहत दादरी आए सीएम मनोहर लाल से कराने की योजना थी, लेकिन व्यस्तता के चलते सीएम ई-रिक्शा को हरी झंडी नहीं दिखा पाए। उस दौरान नप अधिकारियों ने 20 दिन के अंदर ई-रिक्शा को तंग गलियों में भेजने के दावे किए थे, जिन्हें करीब नौ माह बीतने पर भी पूरा नहीं किया है। स्वीपिंग मशीन भी शहर में नियमित नहीं चलाई जा रही है।
तीन साल बाद भी पांच वार्डों में शुरू नहीं हुई डोर-टू-डोर कचरा उठान सेवा
शहर में 21 वार्ड हैं और जनसंख्या 80 हजार से पार है। नगर परिषद ने करीब तीन साल पहले शहर के पांच वार्डों में डोर-टू-डोर कचरा उठान सेवा शुरू की थी। इसके लिए ऑटो टीपर भी खरीदे गए थे। करीब एक साल बाद 12 वार्डों और दो साल बाद 16 वार्डों को इस सेवा से जोड़ा गया। इसके बाद एक साल से अधिक समय बीतने पर भी बाकी पांच वार्डों में डोर-टू-डोर कचरा उठान सेवा शुरू नहीं की गई है।
80 से अधिक हैं शहर में तंग गलियां, कैसे हो कचरा निस्तारण
शहर के 21 वार्डों में 80 से अधिक तंग गलियां हैं। कुछ गलियां तो इतनी संकीर्ण हैं जिनसे दुपहिया वाहन ही गुजर सकते हैं। ये 80 गलियां ऐसी हैं जहां नगर परिषद के ऑटो टीपर और ट्रॉली नहीं पहुंच सकती। एक गली में अगर 40 घर की औसत लें तो करीब दस हजार लोगों को इस समय कचरा निस्तारण संबंधी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है।
कुछ ई-रिक्शा से शहर में कचरे का उठान हमने शुरू कर दिया है। जल्द ही सभी 20 ई-रिक्शा को तंग गलियों से कचरे का उठान करने के लिए भेजा जाएगा। इस संबंध में सेनेटरी शाखा को दिशा-निर्देश दे दिए हैं। - सुंदर श्योराण, एक्सईएन, नगर परिषद।
... और पढ़ें

जिले में नहीं है एक भी बाल रोग विशेषज्ञ

जिले का दर्जा देने के तीन साल बाद भी चरखी दादरी में प्रदेश सरकार सिविल अस्पताल में बाल रोग विशेषज्ञ तैनात नहीं कर पाई है। सिविल अस्पताल में यह पद पिछले पांच सालों से खाली पड़ा है और इस समय बच्चों के उपचार की जिले में कोई सरकारी सुविधा नहीं है। इस समय जिले के प्राइवेट अस्पताल ही बच्चों का उपचार कराने का एकमात्र विकल्प है। जहां बच्चे के माता-पिता को अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग अधिकारियों का दावा है कि पीडिट्रिशियन तैनाती की डिमांड चार साल में 40 बार हेड ऑफिस भेजी जा चुकी है, लेकिन अभी तैनाती नहीं हो पाई है। इस समय दादरी सिविल अस्पताल से बच्चों को भिवानी या रोहतक पीजीआई रेफर किया जा रहा है।
सौ बेड का सिविल अस्पताल बने छह साल से अधिक समय हो चुका है लेकिन अब तक यहां चिकित्सकों की कमी दूर नहीं की गई है। जिले में चिकित्सकों के करीब 70 फीसदी पद खाली हैं और इनमें बाल रोग विशेषज्ञ भी शामिल है। सामान्य अस्पताल में बाल रोग विशेषज्ञ तैनात न होने के चलते जिले वासियों को बच्चों का उपचार कराने के लिए निजी अस्पतालों में जाकर जेब ढीली करनी पड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पिछले डेढ़ साल में 16 बार बाल रोग विशेषज्ञ तैनात करने की डिमांड हेड ऑफिस भेज चुके हैं लेकिन अब तक हालात जस के तस हैं। हेड ऑफिस ने पत्र लिखने के बाद तीन रिमाइंडर डालने के बाद भी दादरी सामान्य अस्पताल में पीडिट्रिशियन तैनात नहीं किया है। इस समय शहर के निजी अस्पताल में ही परिजन अपने बच्चों का उपचार कराने को विवश हैं। सिविल अस्पताल में बच्चों के उपचार की सुविधा नाममात्र ही है। यह स्थिति तब है जब पांच साल तक की उम्र के जिले में 47 हजार बच्चे हैं।
निजी अस्पतालों में हर माह चुकाने पड़ते हैं करीब 21 लाख
शहर में मुख्य पांच अस्पतालों में छोटे बच्चों को उपचार के लिए इस समय ले जाया जा रहा है। विभागीय सूत्रों की मानें तो एक अस्पताल की दैनिक ओपीडी औसतन 40 रहती है और प्रति बच्चा ओपीडी फीस 150 से 170 रुपये निर्धारित है। इस दौरान कम से कम 200 रुपये की दवा भी दी जाती है। इस लिहाज से एक बार उपचार पर करीब 350 रुपये खर्च आता है। इस लिहाज से एक अस्पताल में प्रतिदिन 14 हजार और एक माह में करीब चार लाख बीस हजार की इनकम होती है। शहर में पांच अस्पताल हैं और इस लिहाज से उपचार के लिए प्रति माह वहां बच्चों के माता-पिता को करीबन 21 लाख रुपये चुकाने होते हैं।
बाल रोग विशेषज्ञ की तैनाती की डिमांड हम हेड ऑफिस भेज चुके हैं। बाल-शिशु नर्सरी का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। जल्द ही सरकार सिविल अस्पताल में पीडिट्रिशियन की तैनाती कर देगी। एक अप्रैल से बाल शिशु नर्सरी शुरू कराने का हम प्रयास करेंगे। - प्रदीप शर्मा, सीएमओ, चरखी दादरी।
... और पढ़ें

हिसार से पैदल जा रहे श्रमिकों को रैन बसेरे में ठहराया, भोजन कराकर बार्डर भेजने का किया इंतजाम

कोरोना वायरस के लिए लॉकडाउन के मद्देनजर दूसरे राज्यों के प्रवासी मजदूर यातायात साधन बंद होने की वजह से पैदल ही अपने घर जा रहे है। हिसार से राजस्थान के दौसा तक जा रहे ऐसे ही 17 मजदूरों को चरखी दादरी पहुंचने पर जिला प्रशासन ने रैन बसेरे में ठहराया। उनको भोजन कराकर नारनौल में राजस्थान बार्डर तक पहुंचाने का भी इंतजाम किया।
दोनों शहरों से पैदल ही ये श्रमिक राजस्थान के गांव दौसा जाने के लिए निकल पड़े। 12 श्रमिक 155 किलोमीटी और पांच श्रमिक 100 किलोमीटर की दूरी तय कर वीरवार देर शाम पैदल चरखी दादरी शहर पहुंचे। उन पर डीसी श्यामलाल पूनिया और एसपी बलवान सिंह राणा की नजर पड़ गई। दोनों अधिकारियों ने मानवीयता की मिशाल पेश करते हुए उन श्रमिकों के पास अपनी गाड़ियां रोकीं। डीसी और एसपी से बातचीत में श्रमिकों ने बताया कि वो राजस्थान के दौसा से कैथल और हिसार की लोहामंडी में काम करने आए थे। ठेकेदार ने उनसे पल्ला झाड़ लिया। ऐसे में ये सभी दो दिन पहले पैदल ही राजस्थान के लिए चल पड़े। पास में जो थोड़ा बहुत पैसा था, वह खत्म हो गया।उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने फौरन दादरी तहसीलदार अजय सैनी व नायब तहसीलदार सतपाल सिंह को निर्देश दिए कि इनके ठहरने का प्रबंध किया जाए।
... और पढ़ें
चरखी दादरी में  हिसार से राजस्थान पैदल जा रहे  श्रमिकों से बातचीत करते डीसी और एसपी। संवाद चरखी दादरी में हिसार से राजस्‍थान पैदल जा रहे श्रमिकों से बातचीत करते डीसी और एसपी। संवाद

शॉपिंग मॉल व किरयाणा मार्ट का किया निरीक्षण

लॉकडाउन के तीसरे दिन जिला पुलिस कप्तान बलवान सिंह राणा ने शहर में एक दर्जन जगहों का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। एसपी ने शहर के सभी बाजारों का दौरा किया और इस दौरान बैंक, ईजी-डे और विशाल मेगामार्ट पहुंचकर व्यवथाओं का जायजा लिया। पुलिस अधीक्षक ने हालातों की फोटो अपने फोन में कैद की। उन्होंने प्रबंधकों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।
एसपी ने रेलवे रोड, रोहतक रोड, कोर्ट रोड, बस स्टैंड रोड, पुराना शहर, कॉलेज रोड सहित एक दर्जन से अधिक जगहों का वीरवार सुबह से दोपहर तक जायजा लिया। इसके अलावा पुलिस अधीक्षक ने नाकों पर पुलिस कर्मियों की मुस्तैदी भी जांची। परशुराम चौक पर पहुंचे पुलिस अधीक्षक ने पुलिस कर्मियों को दिशा-निर्देश भी दिए। उन्होंने स्पष्ट हिदायत दी कि अगर कोई बेवजह घुमता मिलता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। विकट परिस्थिति में भी वाहन लेकर सड़क पर निकलने वाले लोगों के चालान या वाहन इंपाउंड की कार्रवाई अमल में लाई जाए। रोहतक रोड पर पुलिस अधीक्षक ने मेडिकल और किरयाणा स्टोर संचालकों को आदेश दिए कि ग्राहकों से उचित दूरी बनाएं और प्रशासन ने दुकानों के बाहर जो घेरे बनवाए हैं, दुकानदारों को उन्हीं में खड़ा करके सामान दें। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों पर भी पुलिस की पूरी नजर है। बेवजह घरों से निकलने वालों पर अब पुलिस सख्ती करेगी और सख्ती का दायरा लगातार बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने लोगों से घरों में रहने की अपील की है ताकि समाज और देश भी सुरक्षित रह सके।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में बाहर घूमने वाले युवकों पर पुलिस ने कसा शिकंजा

लॉकडाउन के तीसरे दिन जिला प्रशासन ने सख्ती और बढ़ा दी है। बुधवार तक पुलिस जहां बाहर निकलने वालों के चालान करने और नाम नोट करने तक सीमित थी तो वीरवार को बेवजह बाहर निकलने वालों पर कोई रहम नहीं किया गया। वीरवार को पुलिस ने बाहर निकलने का कारण न बता पाने वालों पर लाठियां भी भांजी। इतना ही नहीं परशुराम चौक पर तैनात पुलिस कर्मियों ने बाहर घुमने वालों से उठक-बैठक भी लगवाई। अब तक 120 वाहनों का चालान किया गया। इस दौरान सब्जी मंडी भी बंद करवा दी।
लॉकडाउन को देखते हुए जिला प्रशासन डोर-टू-डोर सब्जियां पहुंचाने के लिए बुधवार को 45 वेंडर नियुक्त कर चुका है। हालांकि पूरे शहर में वीरवार शाम तक भी डोर-टू-डोर सब्जी सेवा शुरू नहीं हुई थी। जिला प्रशासन और वेंडरों को जोड़ने और दूध की सप्लाई भी शुरू करने की योजना पर तेजी से काम कर रहा है। सूत्रों के अनुसार जल्द ही दूध की डोर-टू-डोर सप्लाई भी जिला प्रशासन जल्द शुरू करवा देगा ताकि इसके बाद लोग घरों से बाहर निकलने का कारण आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी न बता सकें।
वीरवार को भी एसडीएम संदीप अग्रवाल के अलावा डीएसपी शमशेर सिंह दहिया ने चरखी दादरी शहर में मोर्चा संभाले रखा। बेवजह घर से निकलने वालों पर पूरी सख्ती बरती गई। वहीं, लोगों की सहुलियतों के लिए वार्डों में ई-रिक्शाओं के जरिए सब्जी भेजी गई। लॉकडाउन के चलते तीसरे दिन भी दादरी शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों की मार्केट भी बंद रही। समझदार लोग घर में रहकर समाज और देश को सुरक्षित रखने में अपना योगदान दे रहे हैं लेकिन अभी भी कुछ नासमझी दिखाते हुए बेवजह घरों से बाहर निकल रहे हैं, जो गलत है। जिला प्रशासन लोगों से घरों के अंदर ही रहने की अपील कर रहा है लेकिन इसके बाद भी लोग बाज नहीं आ रहे हैं। इसके चलते बुधवार को आयोजित बैठक में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के मुख्य प्रशासक पंकज यादव जिला प्रशासन को सख्त कार्रवाई के आदेश दे चुके हैं। वीरवार को जिला प्रशासन ने इन आदेशों पर अमल करते हुए लोगों पर सख्ती बरती।
दुकानों के सामने ग्राहकों के खड़े होने के लिए बनवाए घेरे
राशन, मेडिकल स्टोर और अस्पताल वीरवार को भी खुले रहे। जिला प्रशासन ने वीरवार को आवश्यक वस्तुओं की सभी दुकानों के आगे लाल और सफेद घेरे बनवा दिए। जो भी व्यक्ति सामान खरीदना आया उसे इन घेरों में खड़ा करके सामान दिया गया। जिला प्रशासन ने दुकानदारों को ग्राहकों से उचित दूरी बनाए रखने के निर्देश भी दिए। इन निर्देशों का सख्ती से पालन करने की हिदायतें भी दी गई।कुछ ग्राहकों ने घेरे में खड़े होने से मना किया लेकिन पुलिस कर्मियों ने उन्हें इसका मकसद बताया और इसके बाद वो सामान लेने के लिए घेरे में जाकर खड़े हो गए।
किरयाणा स्टोर संचालक को मिला दंड, ग्राहकों को भेजा दूसरी दुकान पर
परशुराम चौक पर किरयाणा स्टोर संचालक ने घेरे वाली जगह तक काउंटर और अन्य सामान रख लिया जिसके चलते घेरे वाली पूरी जगह कवर हो गई। इसी दौरान डीएसपी शमशेर सिंह दहिया की इस पर नजर पड़ गई। उन्होंने दुकानदार को दंड देने के लिए एक पुलिसकर्मी वहां बैठा दिया। पुलिसकर्मी ने उक्त दुकान पर आने वाले ग्राहकों को दूसरी दुकान पर भेजना शुरू कर दिया। इसके बाद पुलिस कर्मियों ने उक्त किरयाणा स्टोर को भी बंद करवा दिया। हालांकि दुकानदार ने भविष्य में ऐसा न करने का तर्क भी दिया।
एसडीएम और डीएसपी ने बंद करवाई सब्जी मंडी
सुबह करीब दस बजे तक नई सब्जी मंडी खुली रही। इस दौरान काफी लोग सब्जी और फ्रूट खरीदने भी पहुंचे। इसके बाद वहां एसडीएम और डीएसपी पुलिस फोर्स सहित पहुंच गए। उन्होंने लोगों की भीड़ को देखकर सब्जी मंडी बंद करवा दी। बता दें कि प्रशासन ने बुधवार से ही डोर-टू-डोर सब्जी आपूर्ति शुरू करवाई थी और वीरवार को इस सेवा में और विस्तार किया गया। सब्जी की सप्लाई डोर-टू-डोर शुरू होने के चलते ही अगले आदेशों तक मंडी बंद रखने के आदेश दिए गए हैं।
चालान काटने के साथ वाहन किए जब्त
पुलिस ने लॉकडाउन के चलते लगातार तीसरे दिन भी चालान काटने और वाहनों को इंपाउंड करने की कार्रवाई जारी रखी। वहीं इंपाउंड वाहनों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। लोग चालान से बचने के लिए इधर-उधर फोन घुमाते नजर आए लेकिन पुलिसकर्मियों ने उनकी एक न सुनी और कार्रवाई जारी रखी।
----------------
 युवकों को पुशप करवते पुलिस कर्मचारी ।
युवकों को पुशप करवते पुलिस कर्मचारी ।- फोटो : CharkhiDadri
... और पढ़ें

विधायक ने एक माह वेतन रिलीफ फंड में दान किया

युवकों को बैठाकर समझाते एसडीएम ।
हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के चेयरमैन एवं हलके के निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने अपने एक माह के वेतन के अलावा अपने निजी कोष से एक लाख रुपया की सहायता राशि कोरोना रिलीफ फंड में दी है।
विधायक ने प्रेेस बयान में कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में प्रदेश सरकार सभी संभव कदम उठा रही है। ऐसे में सरकार और प्रशासन की मदद करना हर नागरिक का कत्र्तव्य बनता है।
उन्होंने व्यापारी,सामाजिक संगठनों और साधन संपन्न लोगों से कोरोना आपदा राहत कोष में ज्यादा से ज्यादा आर्थिक मदद का आह्वान किया है। विधायक सोमवीर सांगवान ने अपनेे एक माह के वेतन के अलावा अपने निजी कोष से एक लाख रुपये कोरोना राहत कोष में दिया है।
सोमवीर सांगवान ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल के कुशल नेतृत्व में सरकार ने जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए तत्काल 12 सौ करोड़ रुपये बतौर राहत देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

पिकअप से 128 पेटी शराब के साथ दो गिरफ्तार

पुलिस ने पिकअप से 128 पेटी शराब बरामद कर दो लोगों को गिरफ्तार किया। दोनों आरोपी बिरही कलां के रहने वाले हैं।
मंगलवार रात झोझूकलां थाना पुलिस ने मैहड़ा मोड़ के पास नाकाबंदी की। इस दौरान पुलिस को एक पिकअप आती दिखाई दी। पिकअप को रुकवाकर जांच की गई तो उसमें शराब की पेटियां लदी मिलीं। पिकअप सवार लोगों ने शराब का परमिट और लाइसेंस मांगा गया तो वो पेश नहीं कर पाए। इसके तुरंत बाद पुलिस ने पिकअप सहित शराब को अपने कब्जे में लेकर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। जांच करने पर पिकअप में देशी शराब की 128 पेटियां मिलीं। पूछताछ में पकड़े गए दोनों व्यक्तियों में से एक ने अपना नाम बिरही कलां निवासी जयबीर जबकि दूसरे ने अशोक बताया। दोनों के खिलाफ झोझूकलां थाने में आबकारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

शहर में ये मेडिकल स्टोर 24 घंटे खुलेंगे

कोरोना संकट को देखते हुए शहर में 31 मार्च तक कुछ मेडिकल स्टोर्स 24 घंटे खुले रहेंगे। हालांकि एक रात में दो से तीन मेडिकल स्टोर ही खुलेंगे। मेडिकल स्टोरों के रात में खुलने का यह शेड्यूल सोमवार रात से लागू हो गया।
सोमवार की रात को बस स्टैंड रोड स्थित जय अंबे मेडिकोज, रोहतक चौक स्थित अरुण मेडिकोज और ढाणी फाटक स्थित दीपांशु मेडिकोज, मंगलवार की रात में बस स्टैंड समीप स्थित ढिल्लो मेडिकल स्टोर और रोहतक चौक स्थित महादेव मेडिकल स्टोर, बुधवार की रात को बस स्टैंड रोड स्थित श्रीराम मेडिकल स्टोर, रोहतक चौक स्थित अनुज मेडिकल हॉल और ढाणी फाटक स्थित भवानी मेडिकल हॉल खुला रहेगा। वीरवार की रात बस स्टैंड रोड स्थित अनिल मेडिकल हाल और मुख्य बाजार स्थित गाबा मेडिकल हाल खुले रहेंगे।
शुक्रवार की रात बस स्टैंड रोड स्थित कविता मेडिकल हॉल, पुरानी अनाज मंडी स्थित गर्ग मेडिकल हॉल और ढाणी फाटक स्थित राजू मेडिकोज खुला रहेगा। शनिवार की रात बस स्टैंड रोड स्थित दीपांशु मेडिकल हॉल, रोहतक चौक स्थित सिंगल मेडिकल हॉल खुला रहेगा। रविवार की रात बस स्टैंड रोड स्थित विजय मेडिकल हॉल और रोहतक चौक स्थित ओम मेडिकल हॉल खुला रहेगा। इसी प्रकार 30 मार्च की रात रोहतक चौक स्थित मिश्रा मेडिकल हॉल और ढाणी फाटक स्थित सुपर मेडिकोज खुला रहेगा। 31 मार्च की रात बस स्टैंड रोड स्थित न्यू गणेश मेडिकल हॉल और मुख्य बाजार स्थित राज मेडिकल हॉल खुला रहेगा।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: हरियाणा में गरीबों की मदद के लिए हर माह 1200 करोड़, अप्रैल का राशन मुफ्त

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य में कोरोना वायरस से लड़ने व निम्न आय वर्ग लोगों के लिए लगभग 1200 करोड़ रुपये प्रति माह की वित्तीय पैकेज की घोषणाएं की हैं। जिसके तहत मजदूरों, रिक्शा चालकों, रेहड़ी वालों, स्ट्रीट वेंडर दैनिक वेतन भोगी सहित निर्माण कार्य में लगे मजदूरों, बीपीएल परिवारों को वित्तीय सहायता सीधी जाएगी। ताकि इस प्रकार के वर्ग के लोगों को लॉकडाउन के दौरान दिन-प्रतिदिन की आवश्यकता की चीजों के लिए किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।

घोषित किए गए पैकेज के तहत सभी बीपीएल परिवारों को अप्रैल महीने के लिए उनके मासिक राशन को निशुल्क प्रदान किया जाएगा। जिस पर कुल 15 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसमें चावल या गेहूं उनकी पात्रता के अनुसार, सरसों का तेल और 1 किलो चीनी शामिल होगी।

इसी प्रकार, स्कूलों और आंगनबाड़ियों को बंद करने की अवधि के दौरान सरकारी स्कूलों में नामांकित सभी बच्चों के लिए सूखा राशन प्रदान किया जाएगा। पैकेज के तहत जिन सभी बीपीएल परिवारों ने एमएमपीएसवाई के तहत पंजीकरण नहीं कराया है, उन्हें 30 मार्च से शुरू होने वाले साप्ताहिक आधार पर 4500 रुपये प्रति माह की राशि प्रदान की जाएगी।

इस राशि का भुगतान उनके बैंक खाते में किया जाएगा और इस पर 135 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी। इसी प्रकार जो दैनिक आधार पर कमाई कर रहे थे जैसे कि मजदूर, स्ट्रीट वेंडर आदि संबंधित जिले के डीसी के साथ एक पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं, जो 27 मार्च तक स्थापित किया जाएगा। ऐसे सभी व्यक्ति जो पात्र पाए जाते हैं और जिनका बैंक खाता है, उन्हें सीधे 1000 रुपये प्रति सप्ताह की सहायता प्रदान की जाएगी और इस पर 45 करोड़ रुपये खर्च किया जाएगा। इस पैकेज में कर्मियों के वेतन सहयोग का भी प्रावधान किया गया है।
... और पढ़ें

विदेश से आने वालों पर खाप रखेंगी नजर

कोरोना वायरस के प्रति ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को जागरूक करने की सख्त जरूरत है। स्थिति को भांपते हुए जिले की प्रमुख खापें इस संकट की घड़ी में जिला प्रशासन के साथ आ खड़ी हुई हैं। खाप प्रतिनिधियों ने सोमवार को आयोजित बैठक में आश्वासन दिया है कि वो जिला प्रशासन का हर तरह से सहयोग करने के लिए तैयार है। इस पर उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने उनका आभार जताया और ग्रामीणों को जागरूक करने के साथ विदेश से आने वालों पर नजर रखने और तुरंत प्रशासन को सूचित करने के निर्देश दिए। खाप प्रतिनिधियों के अलावा व्यापारी संगठनों के पदाधिकारियों ने भी प्रशासन और लोगों को इस विपदा के समय पूरा सहयोग करने की आश्वासन दिया है।
सोमवार को हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के चेयरमैन एवं दादरी के विधायक सोमबीर सांगवान और उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने खाप प्रतिनिधियों, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक व व्यापारी संगठनों के पदाधिकारियों की कैंप कार्यालय में बैठक ली। उन्होंने कहा है कि हम सभी को एकजुट होकर कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हुई विषम परिस्थिति का सामना करना है। दादरी की जनता अपने स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहे और जो भी दिशा-निर्देश सरकार की ओर से जारी किए जाते हैं, उनकी पालना सुनिश्चित की जाए। इसी में हम सबकी भलाई है।
उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार पूरी तरह से प्रदेश की आम जनता और दुकानदार, व्यापारी, किसान, मजदूर वर्ग के साथ है। सरकार को कुछ कड़े कदम इसलिए उठाने पड़ रहे हैं कि हम सब अपने घरों में सुरक्षित रहें। कोरोना से लड़ाई तभी लड़ी जा सकती है, जब इस बीमारी को फैलने से रोका जा सके। इसका यही उपाय है कि हम कुछ दिन थोड़ा एक-दूसरे के अधिक नजदीक न आएं, सफाई रखें और लोगों को वायरस के प्रति जागरूक करें।
व्यापारी बोले: महामारी को खत्म करने हम प्रशासन के साथ
दादरी में स्वास्थ्य सुविधाओं का प्रशासन ध्यान रखें और आवश्यक सामान की आपूर्ति होती रहे। विधायक ने दादरी केमिस्ट एसोसिएशन एवं व्यापार मंडल के प्रतिनिधियों से आह्वान किया कि हमें समाजसेवा की भावना से अपने इलाके के लिए काम करना है। इसलिए लोगों की जितना हो सके, उतनी मदद करें। उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने कहा कि पुरानी परंपरा के अनुसार भी जब गांव में कोई बीमारी आती थी तो गांव में बंद लगाया जाता था। आज उसी प्रकार की व्यवस्था करने की जरूरत है। बैठक में आए खाप प्रतिनिधियों ने विधायक और उपायुक्त को आश्वासन दिया कि जिला की सभी खाप हर समय सरकार व प्रशासन के साथ हैं और सभी मिलकर इस महामारी को खत्म करने में पूर्ण सहयोग करेंगे।
खाप प्रतिनिधियों से अपील: इकट्ठे होकर न पीएं हुक्का, ताश से भी बनाएं दूरी
विधायक ने बैठक में खाप प्रतिनिधियों से अनुरोध किया कि वे अपनी-अपनी खापों से संबंधित सभी गांवों में लोगों को जागरूक करें और उन्हें घरों में ही रहने को कहें। कोई भी गांववासी इकट्ठे होकर ताश न खेलें और न ही हुक्का पिएं। ऐसा करना पूरे गांव के लिए भारी पड़ सकता है। किसी को नहीं पता कि कौन कोरोना वायरस के संपर्क में आया है।
... और पढ़ें

विदेश से आए 33 लोगों में दो की रिपोर्ट निगेटिव, 3 आइसोलेशन वार्ड में भर्ती

चरखी दादरी। कोरोना वायरस का प्रकोप फैलने के बाद विदेशों से अब तक 33 लोग चरखी आए हैं। इन सभी की विभाग जांच कर चुका है। इनमें से बुखार आने पर चार संदिग्धों में दो की सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आई है जबकि दो की सैंपल रिपोर्ट आने का इंतजार है। जो दो सैंपल रिपोर्ट आनी बाकी है। इनमें से एक पेशे से चालक है और वो दिल्ली एयरपोर्ट से वापस लौटा है। रविवार को ही उसका सैंपल पीजीआई भेजा गया है और सोमवार रात तक रिपोर्ट आने की उम्मीद है। इन सबके बावजूद राहत भरी खबर यह है कि जिले में एक भी केस कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है।
करीब एक माह के अंदर विदेशों में रहने वाले जिले के 33 लोग वापसी कर चुके हैं। यह सब पंद्रह देशों से आए हैं। इनमें से चार को घर लौटने के बाद बुखार आया और वो स्वास्थ्य विभाग के पास भी पहुंचे। सोमवार तक स्वास्थ्य विभाग ने इनमें33 लोगों की जांच की। 34 लोगों की जांच करने पर चार लोगों को विभाग ने संदिग्ध माना। इनके सैंपल रोहतक पीजीआई भेजे गए हैं, जिनमें से दो की रिपोर्ट आ चुकी है। दोनों रिपोर्ट नेगेटिव आई है। जिन दो पैसेंजर की रिपोर्ट नेगेटिव आई है वो जर्मनी और दक्षिण अफ्रीका से लौटे हैं।
डिप्टी सीएमओ संजय गुप्ता ने बताया कि चरखी दादरी में 23 मार्च तक एक भी कोरोना पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है। उन्होंने बताया कि इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है और सिविल अस्पताल में तीन आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। इसके अलावा सीएचसी और निजी अस्पतालों में भी आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गई है। कोरोना आपात केंद्र बनाने के लिए 800 बेड की व्यवस्था की जा रही है और इसके लिए सात जगहों को चिह्नित किया जा चुका है। मंगलवार से यहां बेड और अन्य सुविधाएं मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
किस देश से कितने लोग जिले में लौटे
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार पंद्रह देशों से 33 पैसेंजर वापसी कर चुके हैं। इटली से दो, यूके से दो, जापान से छह, चाइना से एक, आस्ट्रेलिया से तीन, ब्राजील से एक, दक्षिण अफ्रीका से एक, इंडानेशिया से पांच, कजाकिस्तान से दो, कीर्गिस्तान से दो, वियतनाम से एक, दुबई से एक, यूक्रेन से एक, इजीप्ट से एक और जर्मनी से तीन लोग वापिस जिले में आए हैं।
दक्षिण अफ्रीका से लौटे व्यक्ति की रिपोर्ट भी आई नेगेटिव
बौंदकलां थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी व्यक्ति गत 20 मार्च को ही साऊथ अफ्रीका से लौटा था। शनिवार रात को उसे रोहतक पीजीआई सुरक्षा के साथ ले जाया गया था। उसे बुखार आ रहा था। वहां उसका सैंपल लिया गया जिसकी रिपोर्ट सोमवार को आ गई है। डिप्टी सीएमओ चंचल तोमर ने बताया कि उक्त पैसेंजर की रिपोर्ट नेगेटिव आई है और वह परिजनों के संपर्क में भी नहीं आया था।
तीन पैसेंजर आइसोलेशन वार्ड में भर्ती
सोमवार को सिविल अस्पताल में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में तीन लोग भर्ती किए गए हैं। ये तीनों पैसेंजर हैं जो विदेशों से लौटे हैं। एक को तो सोमवार सुबह ही वार्ड में भर्ती किया गया है। आइसोलेशन वार्ड के अंदर किसी को प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है। इसके अलावा कुछ पैसेंजर को विभाग उनके घरों में भी आइसोलेट कर रहा है।
मास्क का स्टॉक पहुंचा, पांच हजार सैनिटाइजर की भेजी डिमांड
डिप्टी सीएमओ संजय गुप्ता ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने मास्क और सैनिटाइजर की डिमांड हेड ऑफिस भेज दी है। उन्होंने बताया कि मास्क की एक खेप सोमवार को सिविल अस्पताल पहुंची है। अभी और मास्क आने बाकी हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा पांच हजार सैनिटाइजर की डिमांड भी जिला अस्पताल से भेजी गई है। एक-दो दिन के अंदर सैनिटाइजर की खेप पहुंचने की उम्मीद है और इसके बाद वितरण शुरू कर दिया जाएगा।
घबराने वाली नहीं बात, अलर्ट है प्रशासन और विभाग: डिप्टी सीएमओ
डिप्टी सीएमओ संजय गुप्ता और चंचल तोमर ने बताया कि जिले में अब तक 33 पैसेंजर वापसी कर चुके हैं। उनके अलावा एक चालक दिल्ली एयरपोर्ट से लौटा था और उसका सैंपल हमने जांच के लिए भेजा है। एक सैंपल सोमवार को भेजा गया है। 23 मार्च तक सिविल अस्पताल से चार संदिग्धों के सैंपल भेजे गए जिनमें से दो की रिपोर्ट नेगेटिव आई है जबकि दो की रिपोर्ट आने का इंतजार है। चरखी दादरी जिले में घबराने वाली बात नहीं है। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पूर्णतया अलर्ट है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us