विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

रोहतकः एसटीएफ ने भारी मात्रा में चरस की बरामद, एक आरोपी गिरफ्तार, दो फरार

एसटीएफ द्वारा नशा तस्करों के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत कार्य करते हुए प्राप्त मुखबरी के आधार पर यह कार्रवाई की गई।

27 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चरखी दादरी

सोमवार, 27 जनवरी 2020

12 दिन बाद उठनी थी बेटी की डोली

कादमा-बड़राई के बीच शनिवार देर शाम हुए सड़क हादसा झज्जर जिले के गांव सिवाना निवासी श्रीमभगवान पर कहर बनकर टूटा। हादसे में श्रीमभगवान ने न केवल अपना इकलौता बेटा खो दिया बल्कि बेटे की तरह ही उसके साथ रहने वाला अनिल (श्रीभगवान के साले का बेटा) भी साथ छोड़ गया। इस हादसे ने बेटी की शादियों की खुशियों को मातम में बदल दिया। रविवार को पोस्टमार्टम प्रक्रिया के दौरान सिविल अस्पताल में मौजूद श्रीभगवान के चेहरे का दर्द छुपाए नहीं छुप रहा था और वो गुमशुदा ही बैठा रहा।
ज्ञात रहे कि सिवाना निवासी श्रीभगवान के तीन बच्चे थे जिनमें दो बेटी बड़ी है और बेटा (मृतक कृष्ण) छोटा था। श्रीभगवान ने बेटी की शादी 31 जनवरी की तय की थी और पिछले दस दिनों से परिवार शादी की तैयारियों में जुटा हुआ था। शनिवार को श्रीभगवान अपने बेटे कृष्ण (20) और साले के बेटे आठ वर्षीय अनिल के साथ अपनी ऑल्टो कार में सवार होकर बड़राई गांव में अपने परिचितों के यहां कार्ड देने आया था। श्रीभगवान के अनुसार उन्हें एक किलोमीटर के दायरे में दो जगह कार्ड देने थे। वह एक जगह कार्ड देने के लिए उतर गया और कृष्ण व अनिल दूसरी जगह कार्ड देकर आने के लिए चल पड़े। श्रीभगवान ने बताया कि अभी मुश्किल से एक मिनट का ही समय हुआ था कि उसे जोरदार आवाज सुनाई दी। उसने सड़क की तरफ देखा तो उनकी कार पेड़ से टकराई नजर आई। श्रीभगवान ने बताया कि वहां से तेज रफ्तार में एक वाहन भी गुजरा लेकिन वो हड़बड़ी में वाहन को नहीं देख पाया।
चरखी दादरी सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम कार्रवाई के दौरान मौजूद श्रीभगवान ने बताया कि जब वह कार के पास पहुंचा तो उसका बेटा कृष्ण और साले का बेटा अनिल लहु-लूहान पड़े थे। घटनास्थल पर काफी लोग भी एकत्र हो गए और कुछ देर बाद ही बाढड़ा थाना पुलिस भी पहुंच गई। देर रात ही पुलिस ने दोनों शवों को अपने कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए दादरी सिविल अस्पताल के मोर्चरी कक्ष में रखवा दिया। रविवार को पुलिस ने कागजी कार्रवाई पूरी कर मृतकों का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिए।
ममेरे भाइयों में था काफी लगाव, रहते थे साथ
सिविल अस्पताल पहुंचे मृतकों के परिजनों ने बताया कि श्रीभगवान अपने साले के बेटे अनिल को पांच साल पहले अपने पास लाया था और उस समय वह तीन साल का ही था। अनिल को भी वह अपने बेटे कृष्ण की तरह ही रखता था और उसका सिवाना के ही स्कूल में दाखिला करवा रखा था। अनिल कभी-कभार अपने माता-पिता के पास रामकली गांव भी चला जा जाता था। ममेरे भाई कृष्ण और अनिल में काफी लगाव था और कृष्ण के कॉलेज से आने के बाद अनिल उसके साथ ही रहता था।
मृतका का पिता बोला- अपने पास रोक लेता तो जिंदा होते दोनों बेटे
हादसे के बाद कृष्ण का पनिता श्रीभगवान बिल्कुल गुमसुम नजर आया। अपनी आंखों के सामने अपने इकलौते बेटे कृष्ण और साले के बेटे अनिल को खो देने का दर्द उससे छुपाए नहीं छुप रहा था। श्रीभगवान ने बताया कि उसने अपनी आंखों के सामने दो बेटों को खो दिया। जहां वह कार्ड देने उतरा था अगर वहीं कृष्ण और अनिल को रोक लेता तो ये हादसा शायद न होता।
सिवानी निवासी श्रीभगवान के बयान पर अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और जल्द ही आरोपी चालक का पता लगाकर उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
संदीप कुमार, हेड कांस्टेबल, बाढड़ा थाना
... और पढ़ें

कुश्ती स्पर्धा में दुष्यंत ने जीता गोल्ड मेडल

खेलो इंडिया गेम्स की कुश्ती स्पर्धा में द्रोणाचार्य अवार्डी पहलवान महाबीर फौगाट के बेटे दुष्यंत फौगाट ने स्वर्ण पदक जीता है। दुष्यंत के वापिस लौटने पर विवेकानंद स्कूल स्थित महाबीर फौगाट अकादमी में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। बलाली गांव निवासी दुष्यंत ने यह उपलब्धि 80 किलोग्राम भारवर्ग में हासिल की है।
पदक विजेता के विवेकानंद पब्लिक स्कूल पहुंचने पर स्टाफ व सभी बच्चों ने बधाई दी। प्रधानाचार्य योगेश कुमार ने विद्यालय की तरफ से दुष्यंत फौगाट को सम्मानित किया। समारोह के दौरान प्रधानाचार्य ने कहा कि दुष्यंत ने भी अपनी बहनों गीता, बबीता, संगीता और रितू की तरह कुश्ती मैट पर अपना दमखम दिखाया और प्रतिद्वंदी पहलवानों को चित कर स्वर्ण पदक जीता। दुष्यंत ने अपनी सफलता का श्रेय पिता एवं कोच महाबीर फौगाट को दिया है। इस अवसर पर चेयरमैन राजेश सांगवान, डायरेक्टर राहुल फौगाट और स्टाफ सदस्य मौजूद थे।
... और पढ़ें

चरखी दादरीः बहन की शादी का कार्ड देने जा रहे ममेरे भाइयों की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत

बहन की शादी का कार्ड देने जा रहे कार सवार दो ममेरे भाइयों की सड़क हादसे में मौत हो गई। उनकी कार एक वाहन की साइड लगने के बाद अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड़े पेड़ से टकरा गया। मृतकों की पहचान झज्जर जिले के गांव सिवाना निवासी कृष्ण (20) और जींद के गांव रामकली निवासी अनिल (8) के रूप में हुई है। मृतक कृष्ण की बड़ी बहन की 31 जनवरी को शादी है। बाढड़ा थाना पुलिस ने रविवार दोपहर को पोस्टमार्टम के बाद शव मृतकों के परिजनों को सौंप दिए और इस संबंध में अज्ञात वाहन चालक पर मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस बयान में सिवाना निवासी श्रीभगवान ने बताया कि वह अपने बेटे कृष्ण और साले के बेटे अनिल के साथ अपनी ऑल्टो कार में सवार होकर शनिवार शाम कादमा और बड़राई गांवों में बेटी की शादी का कार्ड देने आया था। श्रीभगवान ने बताया कि वह एक जगह पर कार्ड देने के लिए कार से उतर गया और उसका बेटा और साले का बेटा कार में सवार होकर आगे कार्ड देने के लिए चल पड़े। वो करीब 100 मीटर भी नहीं चले थे कि इसी दौरान सामने से आ रहे एक वाहन ने कार को साइड मार दी। 

कार पर चालक कृष्ण नियंत्रण नहीं रख पाया और अनियंत्रित कार पेड़ से जा टकराई। घटना में कार सवार ममेरे भाइयों की मौके पर ही मौत हो गई। देर शाम हुए हादसे की सूचना मिलते ही बाढड़ा थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को अपने कब्जे में लेकर चरखी दादरी सामान्य अस्पताल के शव गृह में रखवाया। पुलिस ने रविवार सुबह कृष्ण के पिता श्रीभगवान के बयान पर अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्जकर जांच शुरू कर दी है।

पांच साल से फूफा के पास सिवाना रह रहा था अनिल
हादसे में आठ वर्षीय मासूम अनिल की भी मौत हो गई। अनिल जींद के रामकली गांव का रहने वाला था। वह पिछले पांच सालों से सिवाना में अपने फूफा श्रीभगवान के पास ही रह रहा था। वह दूसरी कक्षा में पढ़ता था जबकि उसका ममेरा भाई कृष्ण बीए द्वितीय वर्ष का छात्र था।
सिवानी निवासी श्रीभगवान के बयान पर अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और जल्द ही आरोपी चालक का पता लगाकर उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। संदीप कुमार, हेड कांस्टेबल, बाढड़ा थाना
... और पढ़ें

नाइट डोमिनेशन : 680 वाहनों को जांचा, 32 आरोपी किए गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक मोहित हांडा के निर्देशों पर जिला पुलिस ने शुक्रवार रात नाइट डोमिनेशन अभियान चलाया। अभियान के दौरान 680 वाहनों की गहनता से जांच की गई। वहीं, अलग-अलग मामलों में 32 आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया। उक्त आरोपियों को अवैध शराब बेचने और सट्टा खाईवाली करते हुए पुलिस टीमों ने पकड़ा।
नाइट डोमिनेशन अभियान के दौरान रात दस से सुबह सुबह चार बजे तक पुलिस टीमें मुस्तैद रही। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभियान के दौरान पुलिस अधिकारी व कर्मचारी अपने-अपने क्षेत्र में गश्त पर मौजूद रहे। अभियान के दौरान 25 स्थानों पर नाकाबंदी की गई। इन नाकों से गुजरने वाले 680 वाहनों की जांच की गई और अधूरे कागजात मिलने पर 30 के चालान किए। अभियान के दौरान होटल, धर्मशाला, ढाबों व अन्य ठहरने वाले 227 स्थानों की भी गहनता से जांच की गई। इस दौरान 29 लोगों के पर्चे अजनबी काटे गए। अभियान के दौरान पुलिस टीमों ने 17 लोगों को अवैध शराब बिक्री करते पकड़ा। इनके कब्जे से 243 बोतल देशी और चार बोतल अंग्रेजी शराब बरामद हुई। पुलिस टीमों ने एक ही रात में जिले से सात सट्टा खाईवाल और चार जुआरी भी गिरफ्तार किए। सभी आरोपियों के खिलाफ संबंधित थाने में मामले दर्ज किए गए। सट्टा खाईवालों और जुआरियों से 21840 रुपये बरामद हुए।
अवैध शराब सहित इन्हें किया गिरफ्तार
मोरवाला निवासी प्रदीप से 11 बोतल देशी शराब, पांडवान निवासी सतीश से 10 बोतल देशी शराब, फतेहगढ़ निवासी सोमबीर से 11 बोतल देसी शराब, वाल्मीकि बस्ती निवासी पवन से 72 बोतल देशी शराब, बाढड़ा निवासी दाताराम से नौ बोतल देशी शराब, अटेला नया निवासी संजय से 10 बोतल देशी शराब, हुई निवासी नरेश से 12 बोतल, हंसावास कलां निवासी दिनेश से 11 बोतल देशी शराब, बाढड़ा निवासी सुनील से 13 बोतल शराब, गुडाना निवासी सुरेंद्र से 11 बोतल शराब, बधवाना निवासी जयपाल से 11 बोतल, चांगरोड निवासी जिले सिंह से 12 बोतल शराब देशी, दुधवा निवासी सुरेश से 11 बोतल शराब देशी, रानीला निवासी महेश से 10 बोतल, बास निवासी सूरत सिंह से 12 बोतल, बौंदकलां निवासी दीपक से नौ बोतल शराब बरामद हुई। झोझू कलां क्षेत्र से जावा निवासी सोमबीर व राकेश को सार्वजनिक स्थान पर शराब पीते गिरफ्तार किया।
सट्टा खाईवाली करते इन्हें दबोचा
सट्टा खाइवाली करते हुए शहर से टेकचंद नामक आरोपी को साढ़े पंद्रह सौ रुपये की नगदी सहित गिरफ्तार किया गया। रावलधी निवासी बिट्टू को कबीर नगर के समीप से 1550 रुपये सहित खाइवाली के आरोप में दबोचा गया। जैन मोहल्ला निवासी शांति स्वरूप से 1770 रुपये बरामद हुए। वार्ड-12 निवासी मोनू से 3330 रुपये बरामद हुए। रामनगर निवासी मेहरचंद को नई अनाज मंडी के समीप खाइवाली करते हुए गिरफ्तार किया और उससे 11110 रुपये बरामद हुए। पैंतावास कलां निवासी प्रवीण से 1730 रुपये बरामद हुए। बौंदकलां क्षेत्र से सुरेश, भीम, उमेद, मामन को 1380 रुपये की नगदी सहित जुआ खेलते गिरफ्तार किया गया।
... और पढ़ें
नाइट डोमिनेशन अभियान के दौरान मुस्तैदी का जायजा लेने पहुंचे एसपी मोहित हांडा। नाइट डोमिनेशन अभियान के दौरान मुस्तैदी का जायजा लेने पहुंचे एसपी मोहित हांडा।

माइनिंग कंपनियों का भुगतान न करने का मामला पहुंचा कोर्ट, एसएचओ तलब

ग्राम पंचायतों का माइनिंग कंपनियों की तरफ बकाया मुआवजा राशि और फर्जी दस्तावेज तैयार करने का मामला अब कोर्ट पहुंच गया है। चरखी दादरी कोर्ट ने बाढड़ा एसएचओ से इस संबंध में रिपोर्ट तलब की है। ग्राम पंचायतों का माइनिंग कंपनियों की तरफ 16 करोड़ 19 लाख 37 हजार 991 रुपये मुआवजा राशि बकाया होने का दावा है।
चरखी दादरी न्यायालय में दायर याचिका में राकेश चांदवास ने ग्राम पंचायतों को भुगतान न करने वाली व फर्जी एग्रीमेंट तैयार करने वाली फर्मों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की। इस पर चरखी दादरी न्यायालय ने शिकायतकर्ता की गवाही होने के उपरांत बाढड़ा थाना प्रभारी से रिपोर्ट मांगी है। मामले की अगली सुनवाई 4 मार्च को निर्धारित की गई है। शिकायतकर्ता ने बताया कि खनन विभाग ने एक माइनिंग कंपनी द्वारा भुगतान न करने पर प्रोपराइटरों से रिकवरी के लिए उपायुक्त को पत्र भेज दिया है।
चरखी दादरी कोर्ट के अधिवक्ता सुनील श्योराण ने बताया कि एसडीएम की जांच रिपोर्ट के आधार पर चरखी दादरी कोर्ट में याचिका दायर की गई थी, जिस पर न्यायालय ने सुनवाई के बाद माना कि माइनिंग कंपनियों द्वारा ग्राम पंचायतों को 16 करोड़ की राशि का भुगतान न करना व फर्जी एग्रीमेंट तैयार करना गंभीर मामला है। एसएचओ बाढड़ा से जांच करके 202 सीआरपीसी की रिपोर्ट तलब की गई है।
ये है मामला
आरटीआई एक्टिविष्ट राकेश चांदवास ने जुलाई 2019 में एसपी कार्यालय में एक शिकायत देकर माइनिंग कंपनियों द्वारा ग्राम पंचायतों को मिलने वाली मुआवजा राशी न देने का आरोप लगाते हुए जांच कर कार्रवाई की मांग की थी। एसपी ने उपायुक्त को शिकायत भेजकर जांच की आवश्यकता बताया था। उपायुक्त ने शिकायत को एसडीएम बाढड़ा को भेजकर जांच का जिम्मा सौंपा था। एसडीएम ने जिले में स्थित पहाड़ों वाली ग्राम पंचायतों को रिकार्ड सहित कार्यालय में बुलाकर मामले की जांच की है और जांच रिपोर्ट को उपायुक्त कार्यालय में आगामी कार्रवाई के लिए भेज दिया। एसडीएम की रिपोर्ट में ग्राम पंचायतों को समय पर भुगतान न करने और पंचायतों के फर्जी दस्तावेज तैयार कराने का जिक्र था।
... और पढ़ें

रंगदारी मांगने का आरोपी गिरफ्तार

माई कलां पहाड़ स्थित एक क्रशर संचालक से रंगदारी मांगने के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से हथियार भी बरामद हुआ है। घिकाड़ा निवासी आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया है।
पुलिस प्रवक्ता सुमित कुमार ने बताया कि स्पेशल स्टाफ इंचार्ज दिलबाग सिंह को गुप्त सूचना मिली थी कि घिकाड़ा निवासी जोगेंद्र उर्फ भोली लोहारु चौक पर खड़ा है। उसके पास हथियार भी है और आरोपी के खिलाफ बाढड़ा थाने में रंगदारी मांगने का मामला दर्ज है। इसके तुरंत बाद पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। प्रवक्ता ने बताया कि आरोपी को कोर्ट में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया गया है और उससे पूछताछ जारी है।
... और पढ़ें

पलटे सीएनजी चालित ट्रक में सीधा करते समय लगी आग, चालक बचा

गांव बिरही कलां के समीप सड़क किनारे पलटे सीएनजी चालित ट्रक को क्रेन से सीधा करते समय अचानक आग लग गई। गनीमत रही कि चालक ने सही समय पर कूदकर अपनी जान बचा ली। मामले की भनक लगते ही सदर थाना पुलिस और दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची। कड़ी मशक्कत के बाद आग बुझाई गई लेकिन तब तक डंपर का अगला हिस्सा पूरी तरह जल चुका था।
मालिक पंकज ने बताया कि उसका ट्रक चालक सुरेश चलाता है। शुक्रवार को बिरही कलां के समीप संतुलन बिगड़ने के चलते उसका ट्रक पलट गया था। शनिवार को ट्रक को सीधा करने के लिए क्रेन को बुलाया गया था। क्रेन जब ट्रक उठा रही थी तो सीएनजी सिलिंडर में चिंगारी उठने से आग लग गई। फायर विभाग से आग बुझाने गए संदीप ने बताया कि दोपहर करीब डेढ़ बजे गांव बिरही में एक गाड़ी में आग लगने की सूचना मिली थी, जिस पर तुरंत संज्ञान लेते हुए टीम पहुंच गई थी।
... और पढ़ें

चैकिंग के लिए निकली आरटीए टीम का पीछा कर ओवरलोडिंग वाहनों के बदलवाए रूट, वीडिया बनाने पर टक्कर मारने का किया प्रयास

आग लगने से जला ट्रक।
चेकिंग के लिए कार्यालय से निकली आरटीए टीम की स्कॉर्पियो सवारों ने रेकी की और ओवरलोड वाहनों के मार्ग बदलवा दिए। आरोपियों ने आरटीए टीम की गाड़ी के आगे अपना वाहन लगा दिया और उनका रास्ता अवरुद्ध कर दिया। इसका वीडियो बनाने पर आरोपियों ने आरटीए के वाहन को टक्कर मारने का प्रयास किया। आरटीए टीम का आरोप है कि इस घटना के तुरंत बाद आरोपी बुधवार शाम उनके कार्यालय में आ धमके और उनके साथ गाली-गलौज की। उन्होंने भविष्य में कार्रवाई करने पर अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दी। मामले की सूचना सहायक सचिव ने तुरंत आरटीए सचिव एवं एडीसी मुनीष नागपाल को दी। सदर थाना पुलिस ने सहायक सचिव राकेश कुमार की शिकायत पर दो नामजद सहित अन्य के खिलाफ 186, 34, 353, 379-ए, 506 और 511 के तहत मामला दर्ज किया है। फिलहाल आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।
पुलिस को दी शिकायत में आरटीए सहायक सचिव राकेश कुमार ने बताया कि बुधवार शाम छह सदस्यीय टीम ओवरलोड वाहनों पर कार्रवाई के लिए सरकारी गाड़ी एचआर-70सी-8986 में निकली थी। उन्होंने बताया कि टीम के निकलने से पहले ही एक स्कॉर्पियो गाड़ी कार्यालय के बाहर खड़ी थी। टीम के कार्यालय से चलते ही स्कॉर्पियो ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया। इसके बाद टीम भिवानी रोड की तरफ चल पड़ी और कुछ दूर चलने के बाद यू-टर्न लेकर वापस आ गई। सहायक सचिव ने बताया कि यू-टर्न पर मुड़ते ही चालक ने अपनी स्कॉर्पियो गाड़ी टीम के वाहन से आगे निकाल ली और इसके बाद टीम को साइड तक नहीं दी।
सहायक सचिव ने बताया कि उन्होंने जब स्कॉर्पियो चालक के सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के प्रयास की वीडियो बनानी चाही तो टीम के वाहन को टक्कर मारने का प्रयास भी किया गया। उसी समय सहायक सचिव ने मामले की जानकारी एडीसी मुनीष नागपाल को दी और पुलिस सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की। टीम करीब साढ़े पांच बजे आरटीए कार्यालय लौट आई। आरोप है कि इसी दौरान स्कॉर्पियो सवार दो व्यक्ति चार-पांच अन्य लोगों के साथ वहां आ धमके और हंगामा करने लगे। इस दौरान आरटीए स्टाफ से गाली-गलौज भी की गई। सहायक सचिव ने बताया कि इस दौरान आरोपियों ने स्टाफ को कार्रवाई का अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दी।
8.95 लाख रुपये का कैश छीनने के प्रयास का भी आरोप
पुलिस शिकायत में आरटीए सहायक सचिव ने बताया कि स्टाफ के साथ गाली-गलौज करने के बाद आरोपी कैश गिन रहे कर्मचारी के पास जा पहुंचा। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने कैश छीनने का प्रयास भी किया। उस समय करीब आठ लाख, 95 हजार 110 रुपये कार्यालय में कैश था। हालांकि वहां से वो कैश लेकर नहीं जा पाए।
टीम में ये थे शामिल
बुधवार शाम पांच बजे ओवरलोड वाहनों पर कार्रवाई के लिए निकली टीम की अगुवाई सहायक सचिव राकेश कुमार कर रहे थे। उनके अलावा टीम में पांच कर्मचारी और शामिल थे। इनमें टीएसआई संत कुमार, जगबीर, रणबीर और टीआई कृष्ण कुमार सहित चालक जयप्रकाश थे।
पूरा घटनाक्रम आरटीए सहायक सचिव की जुबानीं
आरटीए सहायक सचिव राकेश कुमार ने अमर उजाला से बातचीत में बताया कि बुधवार शाम पांच बजे छह सदस्यीय टीम कार्यालय से निकली थी। उसी समय स्कॉर्पियो में सवार ट्रांसपोर्टर संदीप व मोनू ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया। वे लगातार आरटीए टीम पर नजर रखते हैं। सड़क पर चल रही टीम की गाड़ी के सामने उन्होंने स्कॉर्पियो लगा दी और वीडियो बनाने पर उनके वाहन को टक्कर मारने का प्रयास किया। इसके बाद उन्होंने कार्यालय आकर धमकी दी। आरटीए सहायक सचिव ने बताया कि उनका कहना था कि सरकारी गाड़ी से उतरने के बाद निजी गाड़ी में भी आप लोग सवार होते हो और खत्म करने के लिए इतना समय बहुत है। उन्होंने बताया कि आरोपियों की इन सभी करतूतों की शिकायत उन्होंने पुलिस को दे दी है।
250 से अधिक वाट्सएप ग्रुप में शेयर कर देते हैं लोकेशन
आरटीए सहायक सचिव राकेश कुमार ने बताया कि 25 से 30 वाहन आरटीएम टीम की रेकी में लगे रहते हैं। गत दिनों ही पांच वाहनों के रजिस्ट्रेशन नंबर पुलिस को देकर मुकदमा दर्ज कराया गया था। अभी 20 और गाड़ियों के नंबर नोट किए जा चुके हैं, जबकि पांच से दस गाड़ियों के नंबर नोट किया जाना बाकी है। करीब 30 गाड़ियों के नंबरों की सूची पुलिस को सौंपकर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। सहायक सचिव ने बताया कि आरटीए टीम की रेकी करने वाले लोकेशन 250 से 300 वाट्सएप ग्रुुप में शेयर कर देते हैं। इसके बाद ओवरलोड गाड़ियों के रूट बदलवा दिए जाते हैं।
दो दिन में 11 गाड़ियों के किए चालान, 6.03 लाख जुर्माना लगाया
आरटीए सहायक सचिव ने बताया कि कार्यालय में स्टाफ की कमी है। बावजूद इसके चेकिंग अभियान नियमित चलाया जा रहा है। पिछले दो दिनों में 11 ओवरलोड वाहनों के चालान किए गए हैं। इन चालानों में गाड़ी मालिकों पर छह लाख तीन हजार रुपये जुर्माना लगाया गया और सभी ने इसकी अदायगी कर दी है।
मामले की जानकारी मैंने तुरंत एडीसी को दे दी थी। इस संबंध में हमने पुलिस को शिकायत सौंप दी है। आरोपी संदीप और मोनू बाड़े में भी बैठे रहते हैं। बाड़ा संचालक को भी हमने चेतावनी दे दी है कि वहां किसी बाहरी शख्स को न बैठने दें।
-राकेश कुमार, आरटीए सहायक सचिव।
आरटीए सहायक सचिव की शिकायत पर संदीप व मोनू सहित अन्य के खिलाफ 186, 34, 353, 379ए, 506 और 511 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है और जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
-नरेंद्र कुमार, सदर थाना प्रभारी।
... और पढ़ें

प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के चयन पर शूटर मनु भाकर के पिता ने जताई नाराजगी, बोले: एक साल में 22 पदक, चयन न होना समझ से परे

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को बाल वीरों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया। हालांकि बाल वीरों की चयन प्रक्रिया पर अंतरराष्ट्रीय महिला शूटर मनु भाकर के पिता रामकिशन भाकर ने पुरस्कार की चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और राष्ट्रपति को ट्वीट कर अपनी नाराजगी जाहिर की।
उल्लेखनीय है कि इस साल भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीडब्ल्यू) ने असाधारण बहादुरी के लिए दिए जाने वाले पुरस्कारों के लिए 26 बच्चों को चुना। राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में इन बच्चों को मेडल और सर्टिफिकेट के साथ पुरस्कार राशि भी प्रदान की गई। ये बहादुर बच्चे 26 जनवरी को होने वाली परेड में भी शामिल होंगे। वहीं, दूसरी ओर अंतरराष्ट्रीय महिला शूटर के पिता का कहना है कि मनु ने पुरस्कार के लिए समय से आवेदन किया था और वह सभी नॉर्म्स पूरा करती है। उन्होंने बताया कि पिछले एक साल में मनु ने नौ नेशनल और 12 इंटरनेशनल पदक प्राप्त कर देश का नाम अंतरराष्ट्रीय पटल पर चमकाया है। एक साल में 21 पदक जीतने के बाद भी पुरस्कार के लिए चयन न होना समझ से परे हैं।
अमर उजाला से बातचीत में रामकिशन भाकर ने बताया कि उन्होंने महिला एवं बाल विकास मंत्री कार्यालय में कई बार इस संबंध में संपर्क भी किया लेकिन कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। उन्होंने कहा कि चयन प्रक्रिया से वो कतई संतुष्ट नहीं है। उन्होंने कहा कि तीन साल के कैरियर में मन्नु ने 60 पदक नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर जीते हैं। प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के लिए नेशनल स्तर पर गोल्ड और आयु 18 वर्ष से कम होना जरूरी है और इन मानकों को मनु पूरा कर रही है।
... और पढ़ें

आठ वर्षीय बेटे के साथ घर से निकली महिला नहीं लौटी वापिस, केस दर्ज

अपने मायके से ससुराल जाने की बात कहकर निकली एक महिला आठ वर्षीय बेटे के साथ लापता हो गई। परिजन उन्हें हर संभव जगह तलाश चुके हैं लेकिन कोई सुराग नहीं लगा है। संतोखपुरा निवासी महिला के भाई ने मामले की शिकायत सदर थाने में दी है। पुलिस ने इस संबंध में गुमशुदगी का केस दर्ज कर बच्चे और मां की बरामदगी के प्रयास शुरू कर दिए हैं।
पुलिस को दी शिकायत में संतोखपुरा निवासी संजय ने बताया कि उसकी छोटी बहन की शादी तेरह साल पहले हुई थी। उसके आठ साल का भांजा है। उसकी बहन अपने बेटे के साथ मायके संतोखपुरा आई हुई थी। 19 जनवरी को वह ससुराल जाने की बात कहकर घर से बेटे को लेकर निकली थी लेकिन न तो ससुराल पहुंची और न वापिस मायके आई। परिजन उसे हर जगह तलाश चुके हैं लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने संजय की शिकायत पर गुमशुदगी का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

जजपा-इनेलो विवाद में आया नया मोड़, चाचा का बड़ा आरोप और भतीजे का करारा जवाब, बोले...

हरियाणा में जजपा और इनेलो में चल रहे विवाद में नया मोड़ आ गया है। चाचा ने तंज कसते हुए जो बात कही, उसका भतीजे ने करारा जवाब दिया। इनेलो नेता अभय चौटाला ने हरियाणा के उपमुख्यमंत्री और भतीजे दुष्यंत चौटाला की पार्टी पर एक बड़ा आरोप मढ़ दिया है।

अभय चौटाला ने कहा कि जजपा कभी भी भाजपा में विलय कर सकती है। भाजपा ने जजपा का समर्थन नहीं मांगा था। यह लोग खुद हिमाचल से मंत्री अनुराग ठाकुर को लेकर भाजपा के खेमे में समझौता करने गए थे।

दुष्यंत जवाब दें कि वे जेपी नडडा को बधाई देने क्यों पहुंचे? क्या उनकी पार्टी का व्यक्ति राष्ट्रीय अध्यक्ष बना था या फिर उनकी पार्टी का कोई लेना देना था। कभी वे राजनाथ सिंह से मिलने जाते हैं कभी सीतारमण से तो कभी अमित शाह से। जाना है तो अपने विभाग से संबंधित किसी मंत्री के पास जाएं और बताएं हरियाणा के लिए क्या ले कर आएं हैं।

पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटाला के जजपा में शामिल होने की अटकलों को लेकर उन्होंने कहा कि वे पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वे किसी गद्दार से समझौता नहीं करेंगे। मैं उन्हें जानता हूं। जीवन में कभी उन्होंने अपने आप से समझौता नहीं किया।
... और पढ़ें

सीज ट्रक छोड़ने की एवज में सहायक माइनिंग इंजीनियर के ऑफिस में आकर दी एक लाख घूस, पुलिस बुलाकर मामला कराया दर्ज

बिना ई-बिल के निर्माण सामग्री ले जाने पर सीज की गई गाड़ी को छोड़ने की एवज में सहायक माइनिंग इंजीनियर के कार्यालय जाकर एक लाख रुपये घूस देने का मामला सामने आया है। इस संबंध में सदर थाना पुलिस ने एक नामजद सहित उसके एक साथी पर 420, 467, 468 व 471 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने सहायक माइनिंग इंजीनियर कार्यालय की मेज की ड्राल से एक लाख की नकदी भी बरामद कर ली है। सदर थाना प्रभारी नरेंद्र कुमार ने बताया कि इस संबंध में फिलहाल किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।
इधर, सहायक माइनिंग इंजीनियर आरएस ठाकरान का कहना है कि आरोपी की गाड़ी को बिना ई-बिल के डस्ट ले जाने पर 16 जनवरी को सीज किया गया था। 20 जनवरी को शाम करीब सवा पांच बजे दो लोगों ने कार्यालय में आकर घूस देने का प्रयास किया। पुलिस को दी शिकायत में सहायक माइनिंग इंजीनियर आरएस ठाकरान ने बताया कि गत 16 जनवरी को वह एडीसी कम आरटीए मुनीष नागपाल व पुलिस फोर्स सहित आदमपुर पुलिस चेक पोस्ट पर वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। इसी दौरान महेंद्रगढ़ की तरफ से एक दस टायरा ट्रक आया। उन्होंने इसे रुकवाया और जांच करने पर इसके अंदर डस्ट मिली। चालक से ई-बिल मांगा तो वह पेश नहीं कर पाया। इसके चलते ट्रक को सीज कर दिया गया। ट्रक को झोझूकलां थाना पुलिस को सौंपा गया और पुलिस ने इसे शहर के रावलधी-दिल्ली बाईपास पर बनाए गए बाड़े में खड़ा करवा दिया। जांच करने पर यह ट्रक नांगलोई की अमर कॉलोनी निवासी देवेंद्र कुमार का निकला।
पुलिस को दी शिकायत में आरएस ठाकरान ने आरोप लगाया कि गाड़ी सीज होने के बाद मालिक ने धोखाधड़ी कर ई-बिल तैयार कराया और अगले दिन उनके कार्यालय पहुंचा। वहां उसकी ये चालाकी भी ऑनलाइन रिकार्ड देखकर पकड़ी गई। इसके बाद आरोपी देवेंद्र 20 जनवरी की शाम करीब सवा पांच बजे एक साथी के साथ पहुंचा और गाड़ी छोड़ने की बात कही। आरएस ठाकरान के अनुसार ट्रक मालिक देवेंद्र के साथ आया एक अन्य व्यक्ति घूमकर उनकी मेज के पास पहुंचा और रुपये के दो पैकेट उनकी मेज की दराज में रख दिए। इसके तुरंत बाद उन्होंने कार्यालय स्टाफ को अंदर बुलाकर मामले की जानकारी दी और बाहर आकर कार्यालय को ताला लगा दिया। इस बीच रुपये के पैकेट रखने वाला व्यक्ति वहां से फरार हो गया। मामले की सूचना आरएस ठाकरान ने तुरंत सदर थाना प्रभारी को दी। इसके तुरंत बाद पुलिस टीम गांव भैरवी स्थित किसान मॉडल स्कूल भवन में चल रहे माइनिंग विभाग कार्यालय पहुंची। पुलिस ने गाड़ी मालिक देवेंद्र व स्टाफ की मौजूदगी में सहायक माइनिंग इंजीनियर के दराज से एक लाख रुपये बरामद किए। आरएस ठाकरान की शिकायत पर पुलिस ने देवेंद्र और उसके एक साथी पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
ई-बिल तैयार कराने की धोखाधड़ी यूं आई पकड़ में
आरएस ठाकरान ने बताया कि ट्रक सीज करने के अगले दिन 17 जनवरी को ट्रक मालिक देवेंद्र एक ई-बिल लेकर कार्यालय पहुंचा। जब उन्होंने बिल संख्या 193500051 की ऑनलाइन जांच की तो पता चला कि यह बिल 16 जनवरी की रात करीब 11 बजे कटा था। जबकि गाड़ी को सीज करने के लिखित आदेश दोपहर 2:25 पर जारी हो गए थे। इसके चलते उन्हें शक हुआ कि ई-बिल धोखाधड़ी से तैयार कराया गया है। बिल की जांच करने पर यह हरिओम स्टोन क्रशर पिचौपा कलां से कटा मिला।
रूट पर भी अधिकारियों को हुआ शक
सहायक माइनिंग अधिकारी ने बताया कि ई-बिल पिचौपा कलां के हरिओम स्टोन क्रशर से कटा मिला। बिना ई-बिल के गाड़ी महेंद्रगढ़ की तरफ से आती पकड़ी गई है। पिचौपा कलां क्रशर जोन से आने वाली गाड़ियों का ये रूट नहीं बनता और इसके चलते भी उनका ई-बिल में धोखाधाड़ी का शक और ज्यादा हो गया। बता दें कि ट्रक में लोड डस्ट का वजन करीब 52 टन था।
नियमानुसार बनता है 13 लाख से अधिक का जुर्माना
माइनिंग विभाग के अधिकारियों की मानें तो ट्रक में 52 टन डस्ट मिली है। इस लिहाज से 45 रुपये प्रति टन रॉयल्टी और 145 रुपये प्रति टन प्राइस ऑफ मिनरल चार्ल लगता। ये राशि लगभग 10140 रुपये होती। इसके अलावा जीएसटी और टैक्स अलग से बनता। वहीं, 23 अप्रैल 2019 को नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल के आदेशानुसार पकड़े गए वाहन की एक्स शोरूम कीमत से आधा जुर्माना और लगता। दस टायरा ट्रक की पिछली बॉडी लकड़ी की है और सूत्रों के अनुसार इसकी कीमत करीब 23 लाख रुपये है। इस लिहाज से ट्रक मालिक पर करीब 13 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना लगता।
गाड़ी में माल ले जाने के ये हैं नियम
स्टोन क्रशर पर अगर कोई गाड़ी लोड होने आती है तो पहले उस खाली गाड़ी का वजन किया जाता है। इसके बाद गाड़ी निकलने पर लोड के साथ दोबारा वजन किया जाता है। इसमे लोड सामग्री का ब्योरा ऑनलाइन दर्ज करना होता है। इसमें खरीददार का जीएसटी नंबर भरना भी अनिवार्य है। वहीं, भुगतान की विधि की भी इसमें जानकारी देनी होती है। इसके बाद वाहन चालक को ई-बिल तैयार करके दिया जाता है और माल ले जाते समय यह पास रखना जरूरी है। अगर ई-बिल नहीं मिलता है तो वाहन सीज करने का प्रावधान है।
16 जनवरी को सीज की गई गाड़ी छोड़ने की एवज में मुझे एक लाख रुपये घूस देने का प्रयास किया गया। मैंने स्टाफ को बुलाकर तुरंत कार्यालय को ताला लगा दिया। इसके बाद मैंने पुलिस और गाड़ी मालिक की मौजूदगी में ताला खोला। पुलिस ने घूस के एक लाख रुपये बरामद कर लिए। मैंने इसकी लिखित शिकायत पुलिस को सौंप दी है और मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दे दी है।
-आरएस ठाकरान, सहायक माइनिंग इंजीनियर।
सहायक खनन अभियंता की शिकायत पर इस संबंध में नांगलोई के अमर नगर निवासी गाड़ी मालिक देवेंद्र और उसके एक साथी पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस टीम ने कार्यालय की मेज के दराज से एक लाख रुपये भी बरामद किए हैं। फिलहाल इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। जांच अभी जारी है।
-नरेंद्र कुमार, सदर थाना प्रभारी।
... और पढ़ें

परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम बच्चों के लिए लाभदायक : डीईओ

जिला शिक्षा अधिकारी रामौतार शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम से स्कूली बच्चों का परीक्षा का तनाव बेहद कम होगा। पीएम मोदी की परीक्षा चर्चा से छात्रों का परीक्षा के लिए मनोबल बढ़ा है। जिला शिक्षा अधिकारी ने पीएम की परीक्षा चर्चा को छात्रों के लिए प्रेरणात्मक एवं दूरगामी परिणाम देने वाली बताया।
जिला शिक्षा अधिकारी रामौतार शर्मा ने कहा कि छात्रों को पीएम के इस परीक्षा संदेश को आत्मसात करते हुए इसका अनुसरण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि परीक्षा का पर्याय ही तनाव है ऐसे में छात्रों को चाहिए कि वे परीक्षा का तनाव महसूस न करें और अभिभावकों को भी चाहिए कि वेे पहले स्वयं ज्ञान एवं क्षमता को पहचाने उसके बाद बच्चे से अपेक्षा करेें। बच्चे से अभूतपूर्व एवं बड़ी अपेक्षा करना भी सही नहीं है। बच्चे को प्राकृतिक वातावरण में अपना अध्ययन करने दिया जाए।
जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि सोमवार को जिले के स्कूली बच्चों ने रेडियो, टीवी आदि के जरिए पीएम नरेंद्र मोदी की परीक्षा पर चर्चा सुनीं। उन्होंने कहा कि छात्रों को पीएम नरेंद्र मोदी की परीक्षा चर्चा पर बारीकी से अमल करना चाहिए। जिला शिक्षा अधिकारी ने शिक्षकों से आह्वान किया कि वे छात्रों को विषय वस्तु का गहनता से अध्ययन करवाएं। पाठ में टॉपिक के हर कांसेप्ट को क्लियर करना चाहिए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us