विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

कोरोना वायरसः आइसोलेशन वार्ड में तब्दील हुई 24 कोच की ट्रेन, रेलमंत्री ने ट्वीट की तस्वीरें देखिए

कोरोना महामारी से लड़ने को भारतीय रेलवे ने एक सराहनीय कार्य किया है। विभाग की ओर से 24 कोच की ट्रेन को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील कर दिया गया है, देखिए तस्वीरें।

28 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

हिसार

रविवार, 29 मार्च 2020

हरियाणा में लॉकडाउनः क्या बंद रहेगा और कौन सी सेवाएं रहेंगी चालू, पढ़ें 15 अहम बातें

हरियाणा में लॉकडाउन के चलते सभी जिलों में अब नाकाबंदी रहेगी इसके लिए पुलिस को अंतर जिला नाके के लगाने के आदेश दे दिए गए हैं। एक जिले से दूसरे जिले में जाने वाले लोगों से भी पुलिस द्वारा पूछताछ की जाएगी। हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आंनद अरोड़ा ने लॉकडाउन हुए सभी जिलों के डीसी को निर्देश दिए कि अंतर जिला बॉर्डर पर नाके लगाकर लोगों की चेकिंग की जाए और पूरी जांच-पड़ताल के बाद ही उन्हें जाने दिया जाए। उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि लॉकडाउन की स्थिति में लोगों को एक स्थान पर इकट्ठा बिल्कुल न होने दें।
 
  • लॉकडाउन में अखबार बांटने वालों को छूट रहेगी
  •  जिलों में दवाओं, किराने की दुकानें व अन्य आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी।
  • पैकेजिंग की यूनिटें, चीनी व चावल मिलों को बंद नहीं किया जाएगा।
  • सार्वजिनक परिवहन व्यवस्था पूरी तरह से बंद है, इसलिए अंतर जिला बॉर्डर पर नाके लगाकर लोगों की चेकिंग की जाए।
  • सरकारी कार्यालय व आवश्यक फैक्टरियों में कार्य करने वाले कर्मचारियों को उनके पहचान पत्र देखकर ही जाने दें।
  • घरेलू उड़ाने बंद नहीं है, इसलिए जो लोग एयरपोर्ट पर जाने वाले हैं, उन्हें विशेष तौर पर टिकटें देखकर ही जाने दें।
  • हर नाके पर सैनिटाइजर की व्यवस्था हो और पुलिस कर्मचारी मास्क पहने हों।
  • श्रमिकों को श्रम चौकों पर इकट्ठा न होनें दें।
  • ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से संबंधित उद्योगों के गोदम खुले रहेंगे।
  • जिलों में रेस्टोरेंट इत्यादि खुले रह सकते हैं, लोग वहां से खाने-पीने की चीजें खरीद कर घर लेकर जा सकते है, परंतु रेस्टोरेंट में बैठकर खाने पर पाबंदी रहेगी।
  • ऑटो रिक्शा, ई-रिक्शा बंद हैं, परंतु सब्जी या अन्य आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति करने के लिए प्रयोग में होने वाले ऑटो रिक्शा को नहीं रोका जाएगा।
  • रात के समय में कोई न कोई किराने और दवाओं की दुकान अवश्य खुली हों।
  • जिला प्रशासन नगर निगम व नगर पालिकाओं के साथ मिलकर शिकायत निगरानी ग्रुप बनाएं।
  • उपायुक्त सुनिश्चित करेंगे कि सफाई व घरों से कूड़ा उठाने का कार्य बिना रूकावट चलता रहे।
  • जिला उपायुक्त अपने-अपने जिलों में भूकंप के कंट्रोल रूम की तरह ही एक कंट्रोल रूम बनाएं।
... और पढ़ें

कोरोना संदिग्ध महाराष्ट्र से लौटे बच्चे का सैंपल जांच के लिए भेजा

हिसार। कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने के बाद से स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट है। विदेश से आए लोगों पर कड़ी नजर बनाकर उन सभी के घरों के बाहर होम क्वारंटीन के पोस्टर लगा दिए हैं। इसके अलावा ऐसे लोगों के हाथों पर मुहर भी लगाई गई ताकि उनकी आसानी से पहचान की जा सके। नागरिक अस्पताल में आने वाले मरीजों की आपस में दूरी बनाए रखने के लिए अस्पताल परिसर व ओपीडी के बाहर लगी कुर्सियों पर रस्सी बांध दी गई है। वहीं, खांसी, जुकाम, बुखार से संबंधित जांच के लिए आए सभी मरीजों को मास्क देकर उन्हें आपस में कम से कम एक मीटर का गेप रखने के निर्देश दिए गए। वहीं अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में दाखिल कोरोना संदिग्ध महाराष्ट्र से लौटे बच्चे का सैंपल जांच के लिए भेजा है। फतेहाबाद निवासी बच्चा अपने माता-पिता के साथ महाराष्ट्र से लौटा था। यहां आने के बाद बच्चे को जुकाम, खांसी, बुखार की शिकायत थी। उसके बाद वह अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में दाखिल है और वहां से डॉक्टरों ने कोरोना संदिग्ध होने की आशंका पर बच्चे का सैंपल जिला नागरिक अस्पताल में भेजा है। इसके बाद उन्होंने बच्चे का सैंपल जांच के लिए रोहतक पीजीआई भेज दिया है।
चीन, अमेरिका, दुबई, नेपाल से आए लोगों सहित 180 मरीज पहुंचे जांच कराने
अस्पताल के मेन गेट के पास बने ट्राइएज में सोमवार दोपहर दो बजे तक खांसी, जुकाम, बुखार संबंधित चीन, अमेरिका, दुबई, नेपाल के अलावा महाराष्ट्र व अन्य राज्यों से लौटे 180 मरीज जांच करवाने के लिए पहुुंचे। वहां पर मौजूद नर्स स्टाफ ने जांच के बाद उन्हें ओपीडी स्लिप देकर अंदरुनी फ्लू क्लीनिक में भेजा, जहां से डॉक्टर ने चेकअप के बाद तीन युवकों को आशंका के आधार पर आइसोलेशन वार्ड में भेजा। बाकी मरीजों में कोरोना संदिग्ध कोई लक्षण नहीं मिला, जिससे उन्हें दवा देकर घर भेज दिया। इन मरीजों से घर पर ही रहने की हिदायत दी गई।
अवकाश के बावजूद खुली रही बाल रोग ओपीडी
शहीदी दिवस पर अवकाश होने के बावजूद नागरिक अस्पताल में सोमवार को बाल रोग ओपीडी खुली रही और उसमें डॉ. भूमिका मौजूद रहीं। इस दौरान लगभग 15 ओपीडी रही, लेकिन सभी बच्चों में मौसम के अनुसार खांसी, जुकाम के लक्षण पाए गए। डॉ. भूमिका ने चेकअप के लिए आए बच्चों के अभिभावकों को हाथ धोने के तरीकों के बारे में भी बताया गया। वहीं, बच्चों को खाना खिलाते या उन्हें छूते समय हाथ धोने व बच्चों के मुंह पर मास्क या कपड़ा ढकने के निर्देश दिए। हालांकि, ट्राइएज व फ्लू क्लीनिक के अलावा काफी मरीज इमरजेंसी में भी चेकअप करवाने के लिए पहुंचे।
रविवार की अपेक्षा पांच गुना रही ओपीडी
नागरिक अस्पताल में रविवार की अपेक्षा सोमवार को पांच गुना ज्यादा ओपीडी रही। खांसी, जुकाम, बुखार से संबंधित मरीजों की संख्या बढ़ गई। अस्पताल की औसतन ओपीडी 230 रही जबकि रविवार को केवल 40 ओपीडी हुई थी। वहीं, इन दिनों में हर रोज यह संख्या 400 के पास पहुंच रही थी।
फ्लू क्लीनिक में केवल एक आई चिकित्सक मौजूद रही, मरीजों आए 180
उधर, नागरिक अस्पताल के अंदरुनी फ्लू क्लीनिक में सोमवार को केवल एक आई चिकित्सक मौजूद रही, जिनके पास जांच के लिए 180 मरीज पहुुंचे। अकेली चिकित्सक के पास भी एन 95 मास्क नहीं था। आई चिकित्सक ने पीपीसी किट, एप्रेन व मास्क भी पहना था। मगर मास्क टू या थ्री लेयर का था। टू या थ्री लेयर का मास्क केवल तीन से पांच घंटे ही सुरक्षित रहता है।
एक संदिग्ध बच्चे का सैंपल जांच के लिए भेजा है। अन्य मरीजों में कोरोना संदिग्ध लक्षण नहीं मिले, जिससे कोई और सैंपल नहीं भेजा गया। अभी तक जिले में कोई कोरोना केस नहीं है और स्वास्थ्य विभाग भी अपनी तैयारियों में जुटा हुआ है।
- डॉ. जया गोयल, डिप्टी सिविल सर्जन, हिसार।
नागरिक अस्पताल में बने फ्लू क्लीनिक में टू व थ्री लेयर मास्क पहन कर मरीज का चेकअप करती डॉक्टर।
नागरिक अस्पताल में बने फ्लू क्लीनिक में टू व थ्री लेयर मास्क पहन कर मरीज का चेकअप करती डॉक्टर।- फोटो : Hisar
... और पढ़ें

जिले में लॉकडाउन आज से, जरूरी सेवाएं रहेंगी जारीए पब्लिक ट्रांसपोर्ट रहेगा बंद

हिसार। जिले में मंगलवार से लॉक डाउन घोषित हो जाएगा। इस दौरान अस्पताल, मेडिकल स्टोर, किरयाणा स्टोर, सब्जी मंडी व दूूध की डेयरियां खुली रहेंगी। ट्रेन सेवा पहले से बंद है और रोडवेज व निजी बस सेवा बंद रहेगी। आम आदमी के घर से बाहर निकलने पर पुलिस कारण पूछ सकती है। इसके अलावा जिले की सभी निजी कॉरपोरेट कंपनियां व फैक्टरियां, साप्ताहिक बाजार, शॉपिंग मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, स्थानीय बाजार पूरी तरह से बंद रहेंगे। वहीं जिम, स्वीमिंग पूल, स्पा, सिनेमा हॉल, बैंक्वेंट हॉल, मल्टीप्लेक्स, कंसर्ट व परफॉर्मेंस पर पाबंदी रहेगी। हर तरह की सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक, खेल, अकादमिक गतिविधियां नहीं होंगी। विवाह व अन्य कार्यक्रम जैसे पारिवारिक समारोह की इजाजत भी नहीं दी जाएगी। सभी धार्मिक स्थल, स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, कोचिंग इंस्टीट्यूट, ट्यूशन, होटल व बार बंद रहेंगे। रेस्टोरेंट व ढाबों में बैठकर खाना खाने की इजाजत नहीं होगी, लेकिन खाना पैक करवा सकेंगे। इसके अलावा बिजली, पानी, सीवरेज, एलपीजी, पेट्रोल पंप सेवाएं जारी रहेंगी।
राजस्थान की सीमा की सील
जिले में लॉक डाउन को देखते हुए सोमवार आधी रात से राजस्थान की सीमा सील कर दी गई। अब कोई व्यक्ति जिले से राजस्थान की सीमा में प्रवेश नहीं कर सकेगा और न ही कोई राजस्थान से हरियाणा की सीमा में आ सकेगा। सिर्फ जरूरी सेवाओं से जुड़े वाहन ही एक-दूसरे की सीमा में प्रवेश कर सकेंगे।
जनता कर्फ्यू के बाद खुले बाजार
रविवार को जनता कर्फ्यू के बाद सोमवार को रोजाना की तरह शहर के बाजार और प्रतिष्ठान खुले। इस दौरान शहरवासियों ने रोजमर्रा की चीजों की खरीदारी की। चूंकि सोमवार को सरकारी अवकाश था तो सड़कों पर चहल-पहल कम रही और लोगों ने घरों में रहना ही मुनासिब समझा। उधर बस स्टैंड पर भी यात्रियों की भीड़ कम रही।
लॉक डाउन की सूचना पाकर खरीदारी को उमड़े लोग
शाम चार बजे जैसे ही सीएम ने लॉकडाउन की घोषणा की, उसके साथ ही लोग खरीदारी खासकर रोजमर्रा के सामान के लिए मार्केट में दौड़ पड़े। शाम को सब्जी मार्केट में लोगों को काफी भीड़ नजर आई। बाजारों की मुख्य दुकानों के अलावा गली-मोहल्लों व सेक्टरों में स्थित दुकानों पर खासी भीड़ दिखाई दी।
फल-सब्जियों, किरयाणा व दुग्ध वस्तुओं की हो सकेगी होम डिलीवरी
उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी के निर्देशानुसार जिला खाद्यापूर्ति विभाग ने ऐसे किरयाना स्टोर्स व अन्य रिटेलर्स की सूची तैयार की है जो मांग के अनुरूप आमजन को फल-सब्जियों, किरयाना व दुग्ध उत्पादों की होम डिलीवरी करेंगे।
करियाना के लिए...
दुकान का नाम संपर्क नंबर
कटवला रामलीला के समीप छोटू डिपार्टमेंटल स्टोर - 94164-36752
कैंप चौक स्थित शिव शक्ति एंटरप्राइजेज - 01662-224535
दिल्ली गेट स्थित केशोराम देवराज - 92159-10555 व 92540-10555
आर्य बाजार स्थित चिमन लाल राजकुमार - 90347-89992
गांधी चौक स्थित विजय कुमार रमेश कुमार - 98960-76860
दूध
दुकान का नाम - संपर्क नंबर
कामधेनू फार्म के विक्रम कुमार - 97291-19265
कामधेनू फार्म के डॉ. अरविंद कुमार - 83979-82824
पैक्ड दूध के लिए
वीटा मिल्क मैनेजर अशोक भारती - 98966-95020
फल व सब्जियों के लिए..
मार्केटिंग बोर्ड के सहायक सचिव अजमेर - 70150-37015
राशन डिपो पर भीड़ न करें, दूरी बनाकर रखें
जिला खाद्यापूर्ति नियंत्रक सुभाष सिहाग ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत स्थापित राशन डिपो पर खाद्य सामग्री लेने के लिए आने वाले उपभोक्ताओं से आह्वान किया है कि वे कोरोना वायरस के मद्देनजर राशन डिपो पर अधिक भीड़ न करें। सभी उपभोक्ता राशन लेते समय एक-दूसरे से कम से कम एक मीटर की दूरी अवश्य बनाकर रखें ताकि उन्हें कोरोना का संक्रमण न हो।
... और पढ़ें

कोरोना से खेल के अभ्यास पर रोक लगी तो मंगाली की बेटियों ने खेत में संभाला मोर्चा

कोरोना के कारण खिलाड़ियों के अभ्यास पर रोक लगी तो मंगाली की बेटियों ने खेत में मोर्चा संभाल लिया है। कई बेटियां अपने घरों में ही फुटबाल खेल रही हैं तो कई घर का खर्चा चलाने के लिए दूसरों के खेतों में काम कर रही हैं। इनमें नेशनल खिलाड़ी सपना, मंजू, ममता, रविना आदि शामिल हैं।
दरअसल, कोरोना वायरस से बचाव को लेकर 14 अप्रैल तक देश लॉकडाउन है। हर कोई अपना बचाव करने के लिए घरों में कैद है, लेकिन इन दिनों मंगाली की बेटियां गांव की ढाणियों के खेतों में काम कर रही हैं। सुबह से शाम तक यहां की बेटियां खेतों में काम करती नजर आती हैं।
अधिकतर बेटियां हैं गरीब परिवार से
मंगाली में 100 से ज्यादा बेटियां फुटबाल खेलती हैं। इनमें से अधिकतर नेशनल स्तर पर देश की झोली में पदक डाल चुकी हैं। वहीं अधिकतर बेटियां भी गरीब परिवार से हैं। ऐसे में घर का खर्चा चलाने के लिए बेटियां दूसरों के खेतों में मजदूरी करती हैं। खासतौर पर गेहूं कटाई के समय बेटियां समय निकालकर खेतों में काम करती हैं।
नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर जीत चुकीं पदक
मंगाली की बेटियों ने खेलों में देश में इतिहास रच दिया है। यहां की बेटियों ने नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर पदक हासिल कर देश का नाम रोशन किया है। वहीं मंगाली की बेटियों की उपलब्धियों को देखते हुए मंगाली के गवर्नमेंट गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल को मॉडल स्पोर्ट्स स्कूल बनाया गया है। अब यहां सरकार की तरफ से खिलाड़ियों को सुविधाएं दी जाएंगी।
वर्जन
स्कूल में फुटबाल का अभ्यास बंद है। मगर कई खिलाड़ी घर पर ही फुटबाल खेल रही हैं तो कई खिलाड़ी खेतों में भी काम कर रही हैं।
- नरेंद्र कुमार, कोच, फुटबाल
सपना।
सपना।- फोटो : Hisar
... और पढ़ें
ममता। ममता।

परिवार के तीन सदस्यों के साथ दुल्हन लेने पहुंचा दिलराज

कोरोना महामारी में लॉकडाउन के चलते हांसी क्षेत्र के लोगों का भरपूर सहयोग देखने को मिल रहा है। लॉकडाउन के चलते अब ज्यादा लोग एकत्रित नहीं हो सकते, ऐसे में विवाह समारोह में भी ज्यादा लोगों को शामिल नहीं किया जा सकता। ऐसा ही कुछ देखने को मिला हांसी की दयाल सिंह कॉलोनी में जब शहर के सेक्टर-6 निवासी दिलराज अपने परिवार के तीन सदस्यों को लेकर दुल्हन लेने पहुंचा।
दयाल सिंह कॉलोनी निवासी प्रदीप की बेटी किरण की शादी शहर के सेक्टर-6 निवासी दिलराज के साथ हुई। इस समारोह में कुल ही चंद लोगों ने भाग लिया। समारोह में शामिल हुए परिवार के सदस्यों ने भी अपने मुंह पर रुमाल या मास्क लगाया हुआ था। लड़के के साथ बरात के तौर पर उसके बड़े भाई, बहन, जीजा ने ही भाग लिया। यह विवाह दयाल सिंह कॉलोनी में संपन्न हुआ। विवाह की सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंची, लेकिन समारोह में केवल पांच लोगों को एकत्रित हुआ देख उन्हें बधाई देकर चली गई।
गांव के सरपंच प्रतिनिधि कृष्ण लूथरा ने बताया कि उनके गांव के लोग जागरूक है। कुछ दिन पूर्व भी दयाल सिंह कालोनी में ऐसा देखने को मिला था, जब एक महिला की मौत पर हुई शोक-बैठक में लोग मृतका के परिजनों को सांत्वना देने के लिए एक-एक कर पहुंचे।
उमरा निवासी प्रदीप भी चार सदस्यों संग बरात लेकर पहुंचा भिवानी
वहीं गांव उमरा निवासी सिंचाई विभाग मेें कैनाल गार्ड के पद पर कार्यरत प्रदीप उर्फ मोंटी भी अपने परिवार के चार सदस्यों के साथ दुल्हन लेने पहुंचा। प्रदीप की शादी 27 मार्च को थी। प्रदीप की बरात भिवानी के गांव बलियाली में वेदप्रकाश सांगवान के घर गई थी। प्रदीप के पिता लक्ष्मण दूहन ने काफी संख्या में लोगों को निमंत्रण दिया हुआ था। उसने जब देखा कि पूरे देश में कोरोना की महामारी फैली हुई है और प्रधानमंत्री ने पूरे देश को 14 अप्रैल तक लॉकडाउन किया हुआ है तो इस स्थिति में प्रदीप चार लोगों के साथ गांव बलियाली में पहुंचा और वहां पर शादी करके अपनी दुल्हन सविता को लेकर अपने गांव पहुंचा।
गांव उमरा निवासी प्रदीप व उसकी धर्मपत्नी।
गांव उमरा निवासी प्रदीप व उसकी धर्मपत्नी।- फोटो : Hisar
... और पढ़ें

कोरोना संकट के बीच राहत : तीन जिलों में प्रदूषण शून्य, सिरसा में सबसे अधिक 98 एक्यूआई

बेशक कोरोना संकट हमें घरों में कैद होने को बेबस कर रहा है, लेकिन शुद्ध वातावरण के मामले में ये दिन रिकॉर्ड बनते जा रहे हैं। जब से लॉकडाउन हुआ है, प्रदूषण में अप्रत्याशित गिरावट दर्ज की जा रही है। शनिवार को संभवत पिछले कई दशकों में ऐसा पहली बार हुआ होगा, जब प्रदेश के तीन जिलों फतेहाबाद, भिवानी और करनाल का एक्यूआई दर्ज ही नहीं हो पाया। यानी यहां प्रदूषण का नामों निशान नहीं था।
इनके अलावा प्रदेश में सबसे कम प्रदूषण नारनौल का 23 और हिसार का 24 रहा। हिसार शहर में अक्तूबर 2019 में दिवाली पर पटाखे और पराली आदि जलाने के कारण वायु गुणवत्ता सूचकांक 1000 से भी अधिक पहुंच गया था और आम दिनों में यह 200 से 400 के बीच रहता है। प्रदेश में सिरसा का वायु गुणवत्ता सूचकांक शनिवार को सबसे अधिक 98 दर्ज किया गया। वहीं, राजधानी चंडीगढ़ में यह केवल 20 था।
बारिश ने भी डाला प्रभाव, वाहन भी बंद
शनिवार का वायु गुणवत्ता सूचकांक सबसे कम नारनौल का 23 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा, जो सबसे बेहतर स्थिति है। शुक्रवार की बारिश के बाद वातावरण पूरी तरह से साफ हो गया था। अति सूक्ष्म कणों (2.5), कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन डाई आक्साइड, सल्फर डाई आक्साइड और ओजोन की अधिकतम मात्रा में गिरावट दर्ज की गई।
यह रहा वायु गुणवत्ता सूचकांक
जींद - 55
अंबाला - 42
बहादुरगढ़ - 41
भिवानी - -
धारूहेड़ा - 41
फरीदाबाद - 79
फतेहाबाद - -
गुरुग्राम - 60
हिसार - 24
जींद - 55
कैथल - 31
करनाल - -
कुरुक्षेत्र - 38
मंडीखेड़ा - 88
मानेसर - 43
नारनौल - 23
पलवल - 56
पंचकूला - 49
पानीपत - 54
रोहतक - 26
सिरसा - 98
सोनीपत - 61
यमुनानगर - 37
चंडीगढ़ - 20
... और पढ़ें

किसान मशीनी औजार से करें फसलों की कटाई, एक-दूसरे के बीच रखें छह फुट की दूरी

कोरोना संकट के बीच सरसों की फसल की कटाई कहीं पूरी हो चुकी है तो कई जगहों पर कटाई चल रही है। वहीं, गेहूं की फसल भी पकाव पर है। ऐसे में किसानों का खेतों में जाना तय है। इसी को देखते हुए हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय (एचएयू) ने किसानों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसके तहत कृषि वैज्ञानिकों ने फसल कटाई के समय कोरोना वायरस से बचाव को लेकर कुछ बातों का ध्यान रखने को कहा है।
- फसल काटने के दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखें। किसान काम और खाने-पीने के दौरान एक-दूसरे से कम से कम 5-6 फुट की दूरी बनाए रखें। खाने के बाद साबुन लगाकर पानी से अच्छी तरह से हाथ धोएं।
- फसलों की कटाई मशीनी औजार से करें और यदि हाथ के औजार से काटते हैं तो उसे साबुन/डिटर्जेंट / सैनिटाइजर/अल्कोहल/साबुन के घोल में धो लें।
- फल और सब्जियों की कटाई के समय या उसके बाद उपयोगी थैले/झोले का आदान-प्रदान न करें।
- पशुओं को नियंत्रित रखने के साधन (हैंडलर) बार-बार नहीं बदलें और पशु को नियंत्रित रखने/ बांधने की रस्सियों/चेन को उपयोग के बाद हर बार साबुन के घोल से कीटाणु रहित करें।
- गर्म पानी पीएं। खाने के बर्तन साबुन/डिटर्जेंट वाले पानी से अच्छी तरह साफ करें।
- एक बार खेत में इस्तेमाल किए गए कपड़े धो लें और धूप में सूखने रखें और दोबारा 48 घंटों के बाद ही इस्तेमाल करें। दूसरे दिन वही कपड़े नहीं पहनें।
- दिनभर कटाई के बाद मजदूर/किसान आम तौर पर बाइक/ट्रैक्टर या अन्य वाहनों पर एक साथ घर लौटते हैं। इसलिए संक्रमण से बचने के लिए वाहन पर सभी एक-दूसरे से अलग दिशा में बैठें।
- एक-दूसरे के साथ मिलकर धूम्रपान नहीं करें यानी बीड़ी-सिगरेट का लेन-देन नहीं करें। एक साथ बैठकर हुक्का नहीं पीएं।
- खेत में कटाई के दौरान सभी किसान/मजदूर पानी पीने के लिए अपने ग्लास (कांच, मग, सकोरा, कुल्हड़ आदि) साथ ले जाएं।
- दोपहर का आराम किसी कमरे, झोपड़ी/छांव, पेड़ के नीचे या खेतों में एक-दूसरे के नजदीक नहीं करें। हमेशा एक दूसरे से छह फुट की दूरी रखें।
- यदि किसी किसान/मजदूर को खांसी, सिरदर्द, बदन दर्द, सर्दी और बुखार के लक्षण हों तो तुरंत नजदीकी सरकारी अस्पताल से संपर्क करें।
- खेत में पर्याप्त मात्रा में साबुन/डिटर्जेंट और पानी रखें।
- हमेशा खुद का/निजी औजार उपयोग करें और काम के दौरान एक-दूसरे के औजार नहीं लें।
- थ्रेशर, स्ट्रॉ-रीपर और कंबाइन हार्वेस्टर आदि मशीनी औजार का उपयोग करते हुए सामाजिक दूरी रखें और मास्क भी लगाएं।
- गेहूं या सरसों की कटनी का काम किसान/मजदूर एक-दूसरे की दरांती, जीभली, खुरपी और अन्य ऐसे उपकरणों से नहीं करें। यदि साझा करना जरूरी हो साबुन के घोल से अच्छी तरह धो लें।
- किसान/मजदूर कटनी के दौरान मास्क लगाएं या किसी कपड़े (साफ और स्वच्छ अंगोछा) से मुंह-नाक ढक लें।
- ट्रैक्टर या ट्रॉली से खेत जाते और घर वापस आते समय एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखें।
- महामारी के संकट में सरकारी खरीदी में विलंब हो सकता है, इसलिए किसान स्वयं भंडारण की अस्थायी उचित व्यवस्था करें या एक दूसरे का भंडार साझा करें।
- कटाई का काम खेत के बाहरी घेरे से शुरू करें, ताकि अधिक समय तक सामाजिक दूरी बनी रहे।
- कटाई के बाद उपज की खुद गांठ बांधें। दूसरे से मदद नहीं लें।
- कटाई का काम पूरी बांह की शर्ट पहन कर करें।
- सिर दर्द/दर्द से आराम के लिए एक दूसरे की मालिश या सिर या बदन दबाने का प्रयास नहीं करें।
- आपका बचा खाना या पानी (कोई भी पेय) दूसरे को न दें।
- स्वस्थ और तंदुरुस्त रहने के लिए जरूरी विटामिन-सी आपको मिले, इसलिए फल और सब्जियां नियमित खाएं।
- फल-सब्जियां उठाने से पहले हमेशा अपने हाथ और पैर सावधानी से धोएं।
- खेत की पैदावार की ओर मुंह कर के खांसने या छींकने से बचें। मास्क लगाएं और अंगोछे या कोहुनी में मुंह ढक कर खांसें/छींकें।
- जल्द खराब होने वाली चीजें हमेशा दिए गए सुझाव के अनुसार सही पैक जैसे हर्मेटिक बैग में पैक करें।
... और पढ़ें

कोरोना से लड़ाई लड़ रहे चिकित्सकों के घरों तक पहुंचेगा राशन

हिसार। जिला प्रशासन व जिला रेडक्रॉस सोसायटी के सौजन्य से शुरू की गई धन्वंतरि योजना के तहत जिला में उन चिकित्सकों के घरों तक राशन सामग्री पहुंचाई जाएगी जो कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई में सहयोग कर रहे हैं। उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने बताया कि विश्व महामारी कोरोना के प्रभाव पर नियंत्रण के लिए चिकित्सक, मेडिकल स्टाफ व अन्य कर्मचारी निरंतर लगे हुए हैं। चिकित्सक के परिवार के लिए जिला रेडक्रॉस सोसायटी का स्वयंसेवक आवश्यक राशन सामग्री की होम डिलीवरी करेगा व भुगतान प्राप्त करेगा। उन्होंने कहा कि यह सेवा प्राप्त करने के लिए चिकित्सक केवल आवश्यक राशन सामग्री की सूची व अपना पता 99922-20950 पर वाट्सएप कर सकते हैं।
लॉकडाउन में आवश्यक सेवाएं देने के लिए भ्रमण पास के लिए सरल पोर्टल पर कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन
हिसार। उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने बताया कि प्रदेश में लागू लॉकडाउन के दौरान प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार आमजन तक आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए इच्छुक किरयाणा दुकानदारों, खाद्य सामग्री सप्लायर्स, दवा विक्रेताओं, दूध सप्लायर्स व अन्य संबंधित को प्रशासन द्वारा जिला के विभिन्न स्थानों पर भ्रमण के लिए छूट प्रदान करते हुए उन्हें पास प्रदान किए जाएंगे। इसके लिए इच्छुक व्यक्ति सरल हरियाणा डॉट जीओवी डॉट इन पर कोविड-19 मूवमेंट पास के लिंक पर जाकर प्रफोर्मा भर सकते हैं।
होम क्वारंटीन के दौरान जरूरी सामान की पूर्ति करवाएगा स्वास्थ्य विभाग
हिसार। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिन लोगों को होम क्वारंटीन रहने के लिए निर्देश दिए गए है। होम क्वारंटीन के दौरान उन सभी लोगों को अपनी दैनिक जरूरतों व स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी किसी भी सामान की आवश्यकता हो तो स्वास्थ्य विभाग उन्हें समय पर उपलब्ध करवाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा हेल्पलाइन नंबर 92153-26687, 93552-56687, 94161-03120 आदि जारी किए गए है। स्वास्थ्य विभाग इन सभी लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मियों का सहयोग लिया जाएगा।
... और पढ़ें

दो कोरोना संदिग्ध अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर, पांच के सैंपल जांच के लिए भेजे

हिसार। जिला नागरिक अस्पताल प्रशासन ने शुक्रवार को आइसोलेशन वार्ड में दाखिल दो कोरोना संदिग्ध लोगों को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। इनमें से एक संदिग्ध चार दिन पहले ही गुरुग्राम से लौटा था और उसे खांसी, जुकाम व बुखार की शिकायत थी। दोनों की गंभीर हालत व नागरिक अस्पताल में वेंटिलेटर की सुविधा न होने के कारण उन्हें अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर किया है। उधर अग्रोहा मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने दोनों को आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कर लिया है।
शुक्रवार सुबह नागरिक अस्पताल प्रशासन के पास सूचना आई कि जिले के ही पास स्थित गांव का एक व्यक्ति चार दिन पहले गुरुग्राम से लौटा था और उसे अब खांसी, जुकाम, बुखार व गला खराब होने की शिकायत है। एंबुलेंस वहां पहुुंची और मरीज को नागरिक अस्पताल लेकर आई। यहां पहुंचने पर मरीज की जांच की गई और उसके सैंपल लिए गए। चूंकि नागरिक अस्पताल में वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में उसे अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। वहीं निजी अस्पतालों से आए चार सैंपल भी जांच के लिए पीजीआई भेजे गए। इसी तरह उकलाना निवासी एक व्यक्ति भी खांसी, जुकाम व बुखार की शिकायत होने पर जांच कराने के लिए उकलाना के नागरिक अस्पताल में पहुंचा। मगर वहां से उसे हिसार के नागरिक अस्पताल में रेफर कर दिया। डॉ. जया गोयल ने बताया कि आज कुल 5 कोरोना संदिग्ध लोगों के सैंपल जांच के लिए रोहतक पीजीआई भेजे गए हैं।
बाहर से लौटे 94 लोगों ने कराई जांच
जिला अस्पताल में मेन गेट के पास बने ट्राइएज में शुक्रवार दोपहर तीन बजे तक दिल्ली, राजस्थान, गुरुग्राम, फरीदाबाद, जींद सहित विभिन्न जगहों से लौटे 94 लोग पहुंचे जांच कराने के लिए पहुंचे। वहां पर मौजूद नर्स स्टाफ द्वारा हिस्ट्री व जांच के बाद उन्हें फ्लू क्लीनिक में भेज दिया गया। चिकित्सकों ने सभी मरीजों में कोरोना संदिग्ध लक्षण नहीं मिले तो उन्हें दवा देकर घर भेज दिया।
100 बेड का नया आइसोलेशन वार्ड बनाया
जिला अस्पताल प्रशासन ने 100 बेड क नया आइसोलेशन वार्ड बनाया है। इस वार्ड को कैटेगरी वाइज बांटा है। अगर मरीज की हालत ज्यादा गंभीर है तो उसे अलग रखा जाएगा और यदि मरीज की हालत कम गंभीर है तो उसे अलग रखा जाएगा। अगर संदिग्ध मरीज है तो उसे अलग रखा जाएगा। यह आइसोलेशन वार्ड परिसर के वार्ड नंबर 11 व 13 की जगह बनाया है, जहां घायल मरीजों व कुपोषित बच्चे व महिलाओं को दाखिल किया जाता था। आइसोलेशन वार्ड के कारण इन लोगों को फिलहाल के लिए छुट्टी देकर घर भेज दिया है।
फ्लू क्लीनिक को ट्राइएज के पास किया शिफ्ट
फ्लू क्लीनिक को बाहर की ओर ट्राइएज के समीप शिफ्ट कर दिया गया ताकि मरीजों को वहीं पर जांच की जा सके। उस दौरान कोई मरीज कोरोना संदिग्ध मिलता है तो उसे सीधा पास में बने आइसोलेशन वार्ड में दाखिल किया जा सके। इससे मरीजों को काफी फायदा होगा, क्योंकि पास में होने के कारण चिकित्सक व नर्स स्टाफ द्वारा सही ढंग से जांच की जाएगी। साथ ही अन्य मरीजों का भी वायरस से बचाव होगा।
मेडिकल कॉलेज के आइसोलोसन विभाग में मरीजों की संख्या हुई छह
अग्रोहा। मेडिकल कॉलेज अग्रोहा में आइसोलेशन विभाग में कोरोना संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़कर छह हो गई है। मेडिकल कॉलेज अग्रोहा के डीएमएस एवं आपातकालीन विभाग के मुख्य चिकित्सक डॉ. राजीव चौहान ने बताया कि आइसोलेसन विभाग में शुक्रवार को दो नए मरीज दाखिल हुए हैं। इनके सैंपल जांच के लिए भेज दिए गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही उन मरीजों की बीमारी का पता चल पाएगा कि इन्हें कोरोना है या नहीं। अभी तक कॉलेज में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं आया है। आइसोलेशन विभाग में दाखिल कोरोना संदिग्ध मरीजों की संख्या सात हो गई थी, लेकिन एक मरीज के स्वस्थ होने पर उसे छुट्टी दे दी गई। इससे पहले आइसोलेशन विभाग से कोरोना संदिग्ध पांच मरीजों को स्वस्थ होने पर छुट्टी दी जा चुकी है।
... और पढ़ें

जॉर्जिया, मुंबई, हिमाचल सहित प्रदेश के अन्य जिलों से 96 लोग जांच के लिए पहुंचे नागरिक अस्पताल

हिसार। जॉर्जिया, मुंबई, हिमाचल सहित प्रदेश के अन्य जिलों से लौटे 96 लोग खांसी, जुकाम, बुखार संबंधी जांच कराने के लिए वीरवार को नागरिक अस्पताल में पहुंचे। चिकित्सकों ने सभी मरीजों की स्क्रीनिंग की और जॉर्जिया से लौटे शहर निवासी एक युवक को होम क्वारंटीन के निर्देश दिए। अन्य मरीजों में कोरोना के कोई लक्षण नहीं मिले तो उन्हें दवा देकर घर भेज दिया।
शहर की कॉलोनी निवासी एक युवक 10 मार्च को जॉर्जिया से लौटा था। उसे जुकाम की शिकायत होने पर वह जांच के लिए नागरिक अस्पताल पहुंचा। शहर की अलग-अलग कॉलोनी निवासी दो युवक भी सोमवार शाम को मुंबई व हिमाचल से लौटे थे और खांसी, जुकाम की शिकायत पर जांच के लिए आए। पिछले दो दिन में नागरिक अस्पताल पहुंचने वाले खांसी, जुकाम, बुखार संबंधित मरीजों की संख्या में काफी कमी आई है। बुधवार को इनकी लगभग 100 की ओपीडी रही और मंगलवार को यह आंकड़ा 200 के करीब था। वीरवार को 96 लोग पहुंचे। सामान्य तौर पर अस्पताल की फिजिशियन ओपीडी 300 से 350 के पास रहती है। चंदन नगर निवासी एक दंपति भी अपने बच्चों सहित जांच करवाने के लिए नागरिक अस्पताल पहुंचा।
छह सैंपल अस्वीकारीय
जिला नागरिक अस्पताल की ओर से बुधवार को भेजे गए कोरोना संदिग्ध छह लोगों के सैंपल अस्वीकार कर दिए गए। इसका कारण यह रहा कि प्राथमिक जांच में ही इन लोगों में कोरोना के कोई लक्षण नहीं पाए गए। अभी तक जिले से कुल 19 कोरोना संदिग्ध लोगों के सैंपल भेजे जा गए हैं। इनमें 10 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई, जबकि 9 को कोरोना संदिग्ध न पाए जाने अस्वीकार कर दिया गया। जिले में बाहर से आए कुल 288 लोगों पर विभाग नजर बनाए हुए है।
खेड़ी बर्की निवासी दंपति ने कराई बरवाला में जांच
महाराष्ट्र से लौटे खेड़ी बर्की निवासी दंपति ने वीरवार को अपने बच्चों के साथ बरवाला के नागरिक अस्पताल में जांच कराई। वे तीन दिन पहले अपने गांव पहुुंचे थे, लेकिन इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी। गांव की पंचायत ने बुधवार देर रात इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को दी। सूचना के बाद विभाग ने सभी को लाने के लिए बुधवार रात करीब 12 बजे एंबुलेंस भेजी। एंबुलेंस के ईएमटी रामनिवास के अनुसार दंपति ने उनके साथ जाने से इनकार कर दिया और कहा कि वे वीरवार सुबह स्वयं चेकअप करवाने के लिए अस्पताल पहुंच जाएंगे।
अग्रोहा मेडिकल कॉलेज के आइसोलोशन वार्ड में पांच दाखिल
अग्रोहा। मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में वीरवार को कोरोना संदिग्ध 5 मरीजों को दाखिल किया गया है। मेडिकल कॉलेज अग्रोहा के डीएमएस डॉ. राजीव चौहान ने बताया कि उनके सैंपल जांच के लिए भेज दिए गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही उन मरीजों की बीमारी का पता चल पाएगा। इससे पहले भी मेडिकल कॉलेज के आइसोलोशन वार्ड में पांच मरीज दाखिल किए थे। उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आने और स्वास्थ्य ठीक होने पर उन्हें छुट्टी दे दी गई थी।
रिटायर्ड एंबुलेंस चालक ने आपातकालीन सेवाएं देने को तैयार
जिला अस्पताल से रिटायर्ड तीन एंबुलेंस चालकों ने आपातकालीन स्थिति में सेवाएं देने की इच्छा जताई हैं। इस बारे में उन्होंने जिला नागरिक अस्पताल स्थित एंबुलेंस कंट्रोल रूम में लिखित में पत्र भी सौंपा है। इनमें एक धांसू गांव निवासी वेदप्रकाश बेनीवाल, दूसरा ठसका गांव निवासी रामस्वरूप और तीसरा आजाद नगर निवासी जगदीश पांडे्य शामिल है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन : शहरियों के फोन करने घर तक पहुंचेगा सामान

हिसार। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते सरकार व प्रशासन सख्ती बढ़ाने की दिशा में कार्य कर रहा है। इसका कारण यह है कि लॉकडाउन का लोग पालन नहीं कर रहे हैं और घरों से बाहर निकल रहे हैं। इसी को देखते हुए शहर में कुछ दुकानदारों को होम डिलीवरी की अनुमति देने की प्रक्रिया वीरवार को की गई। इसके बाद किसी को भी दुकान खोलने की इजाजत नहीं रहेगी। वहीं गांवों में निगरानी के लिए टीमें गठित कर दी हैं। निगरानी के लिए गठित टीम में सरपंच, ग्राम सचिव, आंगनबाड़ी, आशा वर्कर और डिपो होल्डर्स को शामिल किया है। ये सभी अपने-अपने गांव में निगरानी रखने का काम करेंगे। वहीं किसी बाहरी व्यक्ति के आवागमन व गांव में किसी भी व्यक्ति को किसी सामान की आवश्यकता पर उसकी पूर्ति करने तक का कार्य करेंगे। इसके लिए प्रशासन हेल्पलाइन नंबर भी जारी करेगी, जिस पर कोई भी व्यक्ति अपनी जरूरत को बता सकता है। जिला प्रशासन ने जिले के सभी नौ ब्लॉक आदमपुर, अग्रोहा, बरवाला, हांसी-1, हांसी-2, हिसार-1, हिसार-2, नारनौंद और उकलाना के अंतर्गत आने वाले सभी गांवों के लिए यह व्यवस्था की है।
शहर में दुकानों को दी गई अनुमति
शहर में फिलहाल जिन दुकानों को खोलने की छूट हैं, उन पर लोगों की भीड़ उमड़ रही है। इससे बचने के लिए प्रशासन ने होम डिलीवरी की योजना बनाई है। इसके लिए वीरवार को कुछ होलसेल विक्रेताओं और रिटेल दुकानदारों को इसकी अनुमति दी गई। इसमें होलसेल वालों को डीएफएससी, मेडिकल स्टोर वालों को एडीसी द्वारा और किराना वालों को एक्साइज विभाग ने अनुमति दी। एक दुकानदार को दो लाइसेंस दिए गए, जिसमें एक स्वयं उसका और दूसरा उसके स्पलायर या चालक का गाड़ी के नंबर सहित दिया गया। यह व्यवस्था शुक्रवार या शनिवार से लागू होने की संभावना है।
सर्विलांस टीम बनाने का काम चल रहा है, जो फिलहाल फाइनल नहीं हुआ है। जल्द ही इसे फाइनल करके लागू किया जाएगा। टीमें गांव में हर गतिविधि पर नजर रखेंगी और अधिकारियों को सूचित करने का काम करेगी। जिन लोगों के पास सामान का अभाव होगा, वह दिए गए नंबर पर कॉल करके उसे मंगा सकता है, जिसकी पूर्ति करने का काम टीम के सदस्यों द्वारा किया जाएगा।
- सूरजभान, डीडीपीओ, हिसार
फिलहाल लिस्ट तैयार की जा रही है। छंटनी चल रही है, एडीसी फाइनल करेंगे। लिस्ट फाइलन होने के बाद अनुमति वाले दुुकानदार ही सामान की होम डिलीवरी कर सकेंगे। उसके बाद किसी को भी दुकान खोलने की परमिशन नहीं होगी। सामान की रेट लिस्ट डीसी द्वारा जारी की जाएगी। लाइसेंस धारक दुकानदार को ड्राइवर या हेल्पर और गाड़ी का नंबर लिया जा रहा है, जिससे वह सप्लाई करेगा। परमिशन वाले दुकानदार और उसके वाहन को ही बाहन निकलने की इजाजत होगी। - कल्याण सिंह, जिला कर निरीक्षक, डीटीसी सेल्स टैक्स कार्यालय, हिसार।
... और पढ़ें

हरियाणा में किराना, दवाओं की दुकानें खुलने का समय नहीं होगा निर्धारित, सरकार ने बताई वजह

हरियाणा सरकार ने निर्देश दिए हैं कि प्रदेश भर में किराना, दवाओं और अन्य जरूरी वस्तुओं की दुकानें खुलने का समय निर्धारित न किया जाए। समय निर्धारित होगा, तो इन दुकानों पर एकदम भीड़ उमड़ेगी, जिससे संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ेगा। लिहाजा जिला प्रशासन इन दुकानों को अधिक देर तक खुला रहने दें। हो सके तो रात तक भी जरूरी वस्तुओं की दुकानों को खुला रखा जाए।

उधर, सरकार ने पुलिस प्रशासन को भी आदेश दिया है कि जरूरी वस्तुओं की खरीद के लिए जा रहे किसी भी व्यक्ति को अनावश्यक तंग न किया जाए, जिससे पुलिस और पब्लिक के बीच टकराव की स्थिति पैदा हो। इस संदर्भ में मुख्य सचिव ने यह निर्देश सभी मंडल आयुक्तों, जिला उपायुक्तों के साथ कांफ्रेंसिंग से बैठक करके दिए। 

हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आंनद अरोड़ा ने सभी मंडलायुक्तों, जिला उपायुक्तों को निर्देश दिए कि 21 दिनों तक राज्य में पूरी तरह से लॉकडाउन होने की स्थिति में आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही में किसी प्रकार की कोई समस्या न आए और घर-घर तक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्था तैयार की जाए। इसके अलावा, सभी पुलिसकर्मी जो मौके पर मौजूद हैं, वे सोशल डिस्टेसिंग का पालन अवश्य करें। परंतु आवश्यक वस्तुओं की खरीद करने जा रहे आम लोगों को न रोकें और उन्हें पूरी चेकिंग के साथ आने-जाने दिया जाए।
... और पढ़ें

कुछ लोग नहीं समझ रहे लॉकडाउन की गंभीरता

हिसार। कोरोना वायरस के कारण पूरे प्रदेश में लॉकडाउन किया हुआ है। इसके बावजूद कुछ लोग बिना किसी काम से घरों से निकल रहे हैं। प्रदेश सरकार की अपील को नजर अंदाज करते बहुत से लोग सड़कों पर घूम रहे हैं। जिले की सीमा से लगते गांव व हाईवे पर अमर उजाला संवाददाता ने करीब 55 किलोमीटर दूरी तय की। इस दौरान नेशनल हाईवे और स्टेट हाईवे व लिंक रोड पर पुलिस की स्थिति और वहां के हालात जानने की कोशिश की गई। गांव भेरा भिवानी जिले के अं तिम छोर पर बसा है। इससे 15 किलोमीटर दूर राजस्थान की सीमा प्रारंभ हो जाती है। भेरा से सिवानी की दूरी करीब 15 किलोमीटर है। इस दौरान यहां पर न तो कोई पुलिस कर्मचारी मिला और न ही कोई पुलिस की पीसीआर खड़ी थी। सड़क पर निजी वाहनों की आवाजाही भी बनी हुई थी।
सिवानी से हिसार : बड़वा के पास मिला नाका
नेशनल हाईवे 52 पर स्थित सिवानी शहर में फल, सब्जियों व मेडिकल की दुकानें खुली हुई थीं। इसके अलावा ऑटो मार्केट और किरयाणा की दुकानें भी खुली हुई थीं। यहां कोई पुलिसकर्मी या पुलिस पीसीआर नजर नहीं आई। सरकार के आदेशों के बावजूद भी लोग सड़कों पर नजर आए। हालांकि, सड़कों पर वाहनों की संख्या कम थी। सिवानी से हिसार आते समय गांव बडवा के पास एक नाका लगा हुआ था। गांव चौधरीवास के पास टोल प्लाजा पर एक पुलिस की पीसीआर खड़ी थी। टोल के बाद चौधरीवास गांव की सीमा पर पुलिस कर्मचारी नाका लगाकर खड़े थे, जो सिवानी से हिसार आने वाले वाहन चालकों को रुकवाकर आने का कारण पूछ रहे थे।
आजाद नगर में दो जगहों पर था नाका
गांव चौधरीवास के भेरिया, मुकलान में कोई नाका या पुलिस कर्मचारी नजर नहीं आया। इसके बाद आजाद नगर में दो जगहों पर पुलिसकर्मी नाका लगाकर खड़े थे और वाहन चालकों को रोककर शहर में जाने का कारण पूछते नजर आए। वाजिब कारण न मिलने पर कुछ बाइक सवारों को वापस भेज दिया गया। आजाद नगर के बाद नहर और लघु सचिवालय के सामने भी पुलिस कर्मचारी खड़े हुए मिले।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us