विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

भाभी के अपहरण के शक में युवक को उठाया, घर के बाहर फेंककर बोले- मार दिया है उठा लेना

इसके बाद घायल अवस्था में मोनू को उसके घर के बाहर फेंककर परिवार वालों को आवाज देकर कहा कि मोनू को मार दिया है। उठाकर ले जाना।

11 दिसंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

करनाल

बुधवार, 11 दिसंबर 2019

चुनाव के दौरान विर्क पर हमला करने की पंचायत में मांगी माफी, बख्शीश बोले - माफ किया

विधानसभा के चुनाव प्रचार के दौरान गांव बड़ौता के कुछ लोगों द्वारा भाजपा प्रत्याशी बख्शीश सिंह विर्क के खिलाफ किए गए उपद्रव के मामले का रविवार को निपटारा हो गया। मामले को लेकर गांव बड़ौता के ग्रामीणों की ओर से 36 बिरादारी के प्रमुख लोगों की पंचायत का आयोजन किया गया। गांव के पुराने बस अड्डे के समीप बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने एकत्रित होकर पंचायत में भाग लिया। पूर्व विधायक बख्शीश सिंह विर्क ने गांव की पंचायत के आग्रह को स्वीकार करते हुए एक झटके में आरोपियों को माफ कर दिया। विर्क की इस पंचायती शैली से प्रभावित हुए ग्रामीणों ने खूब सराहना की। गांव वालों का कहना था कि माफ करने वाला ही समाज में सबसे बड़ा होता है। पंचायत में काफी देर तक इस मामले को लेकर ग्रामीणों के बीच चर्चा हुई। इस दौरान गांव के कई बुजुर्गों ने पंचायत में खड़े होकर शरारती तत्वों की ओर से कथित तौर पर खेद व्यक्त करते हुए इस मामले का निपटान करने का प्रस्ताव रखा। इसके बाद विर्क और सरपंच एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष प्रवीन नरवाल ने पंचायत के प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए आपसी भाईचारे को कायम रखने की अपील की।
क्या है मामला
बता दें कि गत विधानसभा के चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा प्रत्याशी बख्शीश सिंह विर्क अपने समर्थकों के साथ गांव बड़ौता में चुनावी प्रचार करने के लिए आए हुए थे। जैसे ही चुनाव प्रचार खत्म करने के उपरांत गांव से लौटते समय गांव के कुछ लोगों ने भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ हूटिंग करते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ हाथापाई करने पर उतर गए थे। इस दौरान सरपंच एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष प्रवीन नरवाल घायल भी हो गए थे। मामला पुलिस में दर्ज करवाया गया था। इसका रविवार को पंचायती परंपरा के अनुसार निपटान कर दिया गया।
बहकावे में आकर नहीं करें गलत हरकत : बख्शीश
पूर्व विधायक बख्शीश सिंह विर्क ने पंचायत में भाईचारे का हवाला देते हुए कहा कि कभी भी किसी के बहकावे में आकर इस तरह की हरकत को अंजाम देने से बचना चाहिए। ऐसी हरकताें से गांव का नाम बदनाम तो होता है इसके साथ ही आपसी भाईचारा भी खराब होता है। चुनाव में विरोध में अपना वोट न देना ही सबसे अच्छा विरोध का तरीका होता है। चुनाव तो आते जाते रहेंगे। कभी भी भाईचारा ऐसी बात को लेकर खराब नहीं करना चाहिए।
पंचायत ने पूर्व विधायक के निर्णय को सराहा
पूर्व विधायक विर्क की ओर से पंचायती फैसले के पक्ष में ग्रामीणों ने भी खूब सराहना की। पंचायत में पूर्व सरपंच सत्यवान पुनिया, समाजसेवी सत्येंद्र पुनिया, रामनिवास पुनिया, निरंजन पुनिया, सतबीर पुनिया, रोहताश, पृथ्वी सिंह हरीजन, राजेंद्र, प्रेम सिंह, विकास, प्रदीप, देवेंद्र पुनिया, रामनिवास भारद्वाज, सुमेरचंद, बलजीत सिंह, रिंकू, मित्रसेन मुस्लमान, हरजीत नरवाल, जोनी नरवाल, मंजीत सिंह, राजबीर पुनिया, धर्मपाल पुनिया मौजूद रहे।
... और पढ़ें

गीता ज्ञान के अभाव में जीवन में जन्म लेते हैं दुख और भ्रष्टाचार : सीएम

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बलड़ी चौक पर 98 लाख रुपये की लागत से नगर निगम द्वारा स्थापित किए गए श्रीमद्भागवत गीता द्वारा के उद्घाटन की मुबारकबाद देते हुए कहा कि अलग-अलग महापुरुषों के नाम पर इस तरह के सात द्वार बनाने की योजना है। इनमें से एक का कार्य पूरा किया जा चुका है और दो अन्य पर कार्य युद्धस्तर पर जारी है। इन द्वारों के निर्माण से करनाल को जहां विशेष पहचान मिलेगी। वहीं, करनाल आने वाले लोगों को महापुरुषों के जीवन का संदेश भी मिलेगा।
मुख्यमंत्री रविवार को बलड़ी बाईपास करनाल में 98 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित श्रीमद्भागवत गीता द्वार और अटल पार्क के किनारे स्थापित श्रीकृष्ण-अर्जुन प्रतिमा गीता चौक का उद्घाटन करने उपरांत उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। श्रीमद्भागवत गीता द्वार के केंद्रीय पिलर के दोनों ओर भगवान विष्णु के विराट रूप को दर्शाया गया और महाभारत कालीन कौरव सेना और पांडव सेना युद्ध को भी दर्शाया गया। यह गेट जहां दिन में महाभारत के संदेशवाहक के रूप में करनाल आने वाले लोगों के आकर्षण का केंद्र रहेगा। वहीं, रात के समय रंगीन लाइटों से इस द्वार की भव्यता और सुंदरता कई गुना अधिक बढ़ जाती है। इसी प्रकार, गीता चौक और भगवान कृष्ण व वीर अर्जुन की प्रतिमाओं की सुंदरता भी करनाल आने वाले प्रत्येक व्यक्ति के आकर्षण और उत्सुकता का केंद्र रहेगी।
विदेशों में भी गीता महोत्सव कार्यक्रम हुए और होंगे
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष फरवरी में मोरिसश और अगस्त में लंदन में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का आयोजन हो चुका है। आगामी वर्ष में मार्च के महीने में आस्ट्रेलिया और जुलाई में कनाडा में यह महोत्सव आयोजित किया जाएगा। इसके अलावा, नेपाल ने भी इस तरह का आयोजन करने की इच्छा जाहिर की हैं।
गीता में पूरी मानवता के कल्याण का संदेश
गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद ने कहा कि मार्गशीर्ष के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन महाभारत युद्ध के दौरान भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से पूरी मानवता के कल्याण और विश्व बंधुत्व के लिए गीता का संदेश दिया था। इस अवसर पर मेयर रणू बाला गुप्ता, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त अनीश यादव, नगर निगम आयुक्त निशांत यादव, स्मार्ट सिटी करनाल प्रोजेक्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजीव मेहता, पुलिस अधीक्षक एस एस भोरिया, एसडीएम नरेंद्र पाल मलिक, भाजपा के जिलाध्यक्ष जगमोहन आनंद, पंजाबी साहित्य अकादमी के निदेशक गुरविंद्र सिंह धमीजा, केश कला बोर्ड के उपाध्यक्ष यशपाल ठाकुर, मार्केट कमेटी के चेयरमैन ईलम सिंह, भाजपा नेता अशोक सुखीजा, शमशेर नैन, योगेंद्र राणा, रघुमल भट्ट, राज सिंह, जगदेव पाढा, भगवान दास अग्गी, जीयो गीता परिवार से श्याम बत्तरा, निफा से प्रीतपाल पन्नू मौजूद रहे।
18 अध्यायों पर 18 स्कूलों की 18 झांकियां
मुख्यमंत्री मनोहर लाल और स्वामी ज्ञानानंद ने बलड़ी बाईपास से ही गीता जयंती नगर शोभायात्रा को झंडी दिखाकर रवाना किया। आरंभ में जियो गीता द्वारा शामिल की गई झांकी में श्रीमद्भागवत गीता को सुशोभित किया गया। इसके बाद, रामलीला सभा की झांकी को शामिल किया गया। बलड़ी गेट से आरंभ होकर यह शोभा यात्रा शहर के मुख्य मार्गों से होते हुए डॉ. मंगल सेन आडीटोरियम पर संपन्न हुई। इस शोभायात्रा में 18 स्कूलों ने गीता के 18 अध्यायों पर आधारित 18 झांकियां शोभायात्रा में शामिल की गई थी। भारत विकास परिषद द्वारा इस शोभा यात्रा में अभिमन्यु, सूरज, कर्ण, माधव, कृष्ण तथा राधा कृष्ण की झांकियां शामिल की गईं।
... और पढ़ें

कालोनीवासी, पार्षद, मेयर व सरकार का चाहती है विकास, निगम अधिकारी व ठेकेदार कर रहे हैं विनाश

वार्ड नंबर एक का सबसे बड़ा क्षेत्र वसंत विहार। जहां पर चल रहे सीवरेज, स्ट्रोम वाटर, पेयजल और गलियों का निर्माण में ठेकेदारों की मनमर्जी चल रही है। कॉलोनीवासी, पार्षद, मेयर और सरकार वसंत विहार का विकास चाहते हैं। उधर अधिकारी ठेकेदारों की भाषा बोलकर विनाश करने को खड़े हैं। कोई भी जिम्मेदार अपने कर्तव्य और अधिकारियों का पालन नहीं कर रहा। यहीं कारण वसंत विहार को विकास से विनाश की ओर ले जा रहा है।
वसंत विहार में 15 गलियां हैं। यहां पर 6350 वोटर हैं और आबादी 20 हजार के करीब है। तीन टेंडर लगे हैं। 18 किलोमीटर तक सीवरेज का काम है। जो अमरूत योजना के तहत हो रहा है। इससे थोड़ा ज्यादा गलियों का है। निर्माण को सही ढंग से करवाने के लिए सीएम मनोहर लाल, मंत्री अनिल विज, मेयर रेणूबाला गुप्ता और कमिश्नर अनिश यादव को गुहार लगा चुके हैं। सीएम के सात दिन की रिपोर्ट और मंत्री विज के आदेशों का ठेकेदारों पर कोई असर नहीं है। किसी गली का लेवल खराब है, तो किसी नाला अंदर-बाहर निकला हुआ है और कहीं पर पीली ईंटों का प्रयोग हो रहा है। अब कमिश्नर ने दौरा कर कई कामों को बदलने के लिए आदेश दिए हैं। कितना असर होगा, ये देखना बाकी है।
तीन अधिकारी जिम्मेदार
एसडीओ बाहर, जेई बीमार, कोई संभालेगा वसंत विहार?
जेई प्रदीप : वसंत विहारी के काम की देखरेख का जिम्मा जेई प्रदीप का है। हर काम की बारीकी से और नियमानुसार करना था। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। सभी 15 गलियों में कोई न कोई खामी है। जेई सही काम करता तो ऐसा नहीं होगा। इस बारे में जानना चाहा तो जेई प्रदीप ने बताया कि वे बीमार हैं।
एसडीओ सुनील भल्ला : जेई की रिपोर्टिंग एसडीओ सुनील भल्ला को है। उन्होंने रिपोर्टिंग लेने के साथ-साथ समय समय पर मौका मुआयना करना होता है। मुआयना नहीं किया तभी ऐसा हुआ है। यदि मुआयना किया है तो सुधार नहीं करवाया। इस बारे में जानना चाहा तो एसडीओ सुनील भल्ला ने बताया कि वे बाहर हैं।
एक्सईएन अक्षय कुमार : - एसडीओ की फाइल एक्सईएन अक्षय कुमार के पास जाती है। एक्सईएन ने भी अपनी जिम्मेदारी को नहीं निभाया। ठेकेदारों की भाषा बोलते हुए एक्सईएन अक्षय कुमार ने बताया कि पीली ईंटों को उठवा दिया है, जबकि आज भी मौके पर पीली ईंटें पड़ी हैं। इन्हीं के दम पर ठेकेदारों की मनमर्जी चल रही है।
15 गलियां का वसंत विहार, हर गली की अपनी समस्या
गली नंबर -1
नाले के निर्माण में पीली ईंटों का प्रयोग हो रहा है। निर्माण पूरा हाने से पहले ही नाला टूटा गया। अब गली में दिन के समय भी निकलना मुश्किल। रात को संभव ही नहीं।
गली नंबर - 2
गली खुदी होने के कारण कीचड़ बना हुआ है। लोगों ने ठेकेदार पर धीमी गति से काम करने का आरोप लगाया।
गली नंबर -3
गली का निर्माण कर दिया। नाली बनानी अभी बाकी है। यानी फिर से गली को तोड़ना पड़ेगा।
गली नंबर-4
निर्माण के लिये घरों के सामने गहरे गड्ढे खोदे हुए हैं। नाली निर्माण में पीली ईंटों का इस्तेमाल हो रहा है। लोगाें का आरोप ठेकेदार बीच में काम छोड़कर फरार है।
गली नंबर -5
नाले को लेकर लोगों और ठेकेदार में विवाद चल रहा है। लोगों का आरोप ठेकेदार मनमर्जी से नाले को कहीं अंदर तो कहीं बाहर बना रहा है। नाले के बीच में बिजली के पोल, खंभों भी खड़े हैं। ईंटें भी पीली लग रही हैं।
गली नंबर-6
गली का कुछ हिस्सा बना लेकिन नाली अभी तक नहीं बनाई गई। निर्माण ठेकेदार व संबंधित अधिकारियों की लापरवाही है।
गली नंबर-7
पीछे से ड्रेन व सीवरे का काम किया जा रहा है। लोगों का आरोपी है कि ठेकेदार मनमर्जी से धीमा काम करता है।
गली नंबर-8
फिलहाल नाले का निर्माण किया जा रहा है। गली की ओर अभी ठेकेदार द्वारा कोई कार्य नहीं किया गया।
गली नंबर -9
इस गली में निर्माण कार्य धीमा चल रहा है। गलियों में लोगों के लिये मुश्किल है।
गली नंबर-10
इस गली में लगभग काम परा हो चुके है थोड़ा बाकी है। कमिश्नर ने दौरे में लेवल ठीक नहीं मिला।
गली नंबर-11 से 15
गलियों के हालात काफी खराब है जिनमें निर्माण कार्य नहीं चल रहा।
सहयोग करने को तैयार, पर मनमानी चल रही है
पार्षद एडवोकेट नवीन का कहना है कि वे वसंत विहार का विकास चाहते हैं। इसके लिए खड़े होकर काम करवा रहे हैं। हर तरह से सहयोग कर रहे हैं। ठेकेदारों को सही काम की पहले अपील की। कमी को दूर करवाना चाहा। जब रिस्पांस सहीं नहीं मिला तो सीएम, मंत्री, मेयर, कमिश्नर तक आवाज पहुंचाई, लेकिन ठेकेदार मनमानी कर रहे हैं। कमिश्नर को दौरे में हर कमी से अवगत करवाया। उन्हें उम्मीद है कि अब सुधार होगा। व्यवस्था नहीं सुधरी तो आवाज उठाने से पीछे नहीं हटेंगे।
कमिश्नर से निशांत यादव से सीधी बातचीत
सवाल : वसंत विहार की स्थिति क्या है
जवाब : दौरे में जो कमियां मिली थीं उन्हें दुरुस्त करने को कहा है। गली नंबर 3 व 6 का लगभग काम पूरा है। 16 तक गली नंबर 4, 8, 10 व 14 का निर्माण पूरा हो जाएगा।
सवाल : क्या-क्या खामियां मिलीं
जवाब : एक गली का लेवल ठीक नहीं था, उसको दुरुस्त किया जाएगा। जहां हल्की ईंटें लगीं थीं, उन्हें उखड़वाकर दोबारा लगाया जाएगा।
सवाल : कमियों पर दोषी कौन है, क्या कार्रवाई हुई
जवाब : जो अधिकारी अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा पाया, उस पर नियमानुसार कार्रवाई होगी और ठेकेदारों को अभी तक पेमेंट नहीं की है। उससे से काम पूरा करवाएंगे।
... और पढ़ें

करनाल में 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म, एक को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी

करनाल की एक कॉलोनी निवासी 12 वर्षीय बच्ची के साथ चार लड़कों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। इस मामले में सिटी थाना पुलिस ने तुरंत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं, एक आरोपी को हिरासत में ले लिया है और आरोपी से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस को दी शिकायत में बच्ची के परिजनों ने बताया कि उनकी 12 वर्षीय बेटी के साथ चार लड़कों ने सामूहिक दुष्कर्म किया है। ये आरोपी स्कूली छात्र हैं। वहीं, सिटी थाना प्रभारी हरजिंद्र सिंह ने बताया कि मंगलवार रात को उन्हें शिकायत मिली थी। शिकायत के आधार पर तुरंत मामला दर्ज कर लिया गया है और बच्ची की सीडब्ल्यूसी में काउंसलिंग कराई गई है और उसके बयान भी करा दिए हैं। 

साथ ही बच्ची का मेडिकल भी हो चुका है। फिलहाल एक आरोपी को हिरासत में ले लिया है, जिससे पूछताछ की जा रही है। अन्य तीन आरोपियों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

परिवहन मंत्री ने की रोडवेज महाप्रबंधकों की खिंचाई, अवैध बसों पर शिकंजा कसने का दिया आदेश

राज्य परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने बुधवार को कर्ण लेक पर प्रदेश के सभी परिवहन डिपों के महाप्रबंधकों की बैठक लेकर परिवहन व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने पर मंथन किया। उन्होंने जिलावार प्रत्येक जीएम से रोडवेज से संबंधित तमाम खामियां पूछीं। साथ ही प्रदेश में करीब एक हजार अवैध बसें चली होने के मामले पर अधिकारियों की खिंचाई की।

उन्होंने कहा कि इन बसों के कारण रोडवेज को घाटा हो रहा है। परिवहन विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत के बिना यह अवैध बसें कैसे चल रही हैं। अवैध बसों में सवारियां भरकर पहले चलाई जाती है, उसके बाद पीछे से रोडवेज की खाली बस चलती है। बैठक में प्रदेश के परिवहन बेड़े के संचालन में कई खामियां सामने आईं। 

मौके पर मौजूद विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एसएन राय ने अधिकारियों से सुझाव मांगे। पिछले पांच साल में कोई बस नहीं खरीद पाने के सवाल पर मंत्री ने महसूस किया और कहा कि अब कमियों को पूरा किया जाएगा। हरियाणा रोडवेज के बेड़े में करीब 3602 बसें हैं। कुछ डिपो में बिना चालक और कंडक्टर के 100 बसें नहीं चल रहीं, जबकि कई जिलों में अतिरिक्त स्टाफ है।
... और पढ़ें

खुशखबरीः हर साल 5000 से ज्यादा जवानों की होगी भर्ती, इस वर्ष के आवेदकों की जनवरी में परीक्षा

मधुबन पुलिस अकादमी में मंगलवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल और पुलिस महानिदेशक मनोज यादव के बीच प्रदेश की पुलिस व्यवस्था पर विस्तृत चर्चा हुई। वे बुद्धा पार्क का उद्घाटन करने के बाद ध्वज फहराने के लिए खुली जीप में आगे बढ़ रहे थे। चर्चा की शुरुआत रंगरूटों के परिचय से हुई। इस दौरान पुलिस भर्ती में आवेदन करने वालों के लिए अच्छी खबर निकलकर आई। उन्हें भर्ती प्रक्रिया पूरी होने के साथ मार्च तक ज्वाइनिंग मिल जाएगी।

जानिए पूरी चर्चा....
  • डीजीपी : हाथों में झंडा लिए और ताली बजाकर स्वागत करने वाले ये करीब 5400 रंगरूट ट्रेनिंग ले रहे हैं। जनवरी के अंत तक ये पासआउट हो जाएंगे।
  • सीएम : फिर कैंपस खाली रहेगा?
  • डीजीपी : नहीं सर, 5000 हजार जवानों के लिए जो आवेदन लिए हैं। भर्ती प्रक्रिया की पूरी तैयारी कर ली है। उनकी जनवरी में परीक्षा होगी और मार्च तक उनकी ट्रेनिंग शुरू करवा दी जाएगी।
  • सीएम : प्रदेश में कितने और जवानों की जरूरत है?
  • डीजीपी : करीब 20 हजार वैकेंसी और होनी चाहिए।
  • सीएम : इसको कवर कैसे किया जाएगा?
  • डीजीपी : हर साल पांच हजार की भर्ती निकालेंगे और उसे पूरा करेंगे।
  • सीएम : कब तक पूरी हो जाएगी। हर साल कितनी सीटें खाली रही हैं?
  • डीजीपी : साल में 33 फीसदी रिटायरमेंट होता है। कांस्टेबल 1200 के करीब रिटायर होते हैं। 
  • सीएम : ऐसे में तो कम सीटें खाली होनी चाहिए।
  • डीजीपी : सर, कुछ प्रमोट हो जाते हैं और कुछ रिजाइन देकर दूसरी नौकरी ज्वाइन कर लेते हैं। सभी जवान टेस्टों की तैयारी में जुटे हुए हैं। महिला रंगरूटों की तरफ इशारा करते हुए सीएम : ट्रेनिंग व्यवस्था क्या है?
  • डीजीपी : हिसार में नया महिला बटालियन ट्रेनिंग रेंज तैयार की जा रही है। जो जल्द ही शुरू हो जाएगा। इसके बाद एकसाथ छह हजार महिला जवानों को ट्रेंड किया जा सकेगा। 
  • सीएम : इसके और क्या फायदे होंगे ?
  • डीजीपी : रेंज शुरू होने के बाद पांच की बजाए आठ हजार जवानों की भर्ती की जा सकेगी।
... और पढ़ें

एफएलएस जांच के लिए बार कोड, समय सीमा और ट्रेकिंग सिस्टम लागू

मधुबन में एफएसएल जांच को अब बार कोडिंग से किया जाएगा। लैब में आज से तीन नए नियम लागू होंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को मधुबन कॉम्प्लेक्स स्थित न्याय वैधिक प्रयोगशाला भवन में बार कोडिंग सिस्टम की विधिवत शुरूआत की। डीजीपी मनोज यादव ने सीएम के सामने इस पूरे प्रोजेक्ट का श्रेय श्रीकांत जाधव को दिया। सीएम को बताया कि अब तक जांच रिपोर्ट को लेकर एफएलएल पर कोई आरोप नहीं लग पाएगा। जानकारी गुप्ता होने के कारण किसी प्रकार के भेदभाव की आशंका भी नहीं रहेगी।
बार कोड
जांच के लिए आई फाइल से एड्रेस को हटाकर उसको एक बार कोड दिया जाएगा। इससे जांच करने वालों को फाइल किस क्षेत्र की है, इस बारे में जानकारी नहीं होगी। आधुनिक कार्यप्रणाली का प्रयोग होगा। ऐसे में जांच पर किसी प्रकार का आरोप नहीं लग सकता।
समय सीमा
जांच के लिए समय सीमा तय की गई है। समय को जांच के कैटेगिरी के अनुसार रखा गया है। ऐसे में रिपोर्ट में देरी नहीं होगी। देरी होने का उचित कारण नहीं हुआ तो कार्रवाई का भी प्रावधान किया जाएगा। अब तक रिपोर्ट आने में देरी होने के आरोप लगते रहते थे।
ट्रैकिंग सिस्टम
एफएसएल का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी किसी घटना से संबंधित जांच पर जाएगा तो पूरी लोकेशन ट्रैक होती रहेगी। इससे पूरी जानकारी मिलेगी कि जांचकर्ता कब कहां पहुंचा और किस स्थान पर कितना समय रुका। ऐेसे में तथ्यों को उचित स्थान से जुटाया गया है या नहीं। इसकी पूरी इंफर्मेशन रहेगी।
... और पढ़ें

सत्य बोलना आसान होना चाहिए जबकि झूठ बोलना कठिन होना चाहिए : सीएम

प्रदेश मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रतिज्ञा स्थल को लोकार्पण करने पहुंचे तो प्रतिज्ञा स्थल पर लिखे स्लोगन ‘मैं कठिन सत्य को चुन सकूं, आसान झूठ का नहीं, मैं असत्य से संतुष्ट न रहूं, पूर्ण सत्य को ही विजय करूं’ के बारे पुलिस महानिदेशक मनोज यादव और अकादमी निदेशक श्रीकांत जाधव से कहा कि हमें सत्य बोलने और झूठ की पहचान होनी चाहिए। ऐसा माहौल बनाना चाहिए जैसे कि सत्य बोलना आसान होना चाहिए, जबकि झूठ बोलना कठिन होना चाहिए। अधिकार से पहले लोगों ने अपने कर्तव्य का आभास होना चाहिए। आज मानव अधिकार दिवस है। अधिकारों के साथ मनुष्य के कुछ कर्तव्य भी होते हैं। दोनों के समायोजन से ही जीवन शुद्ध होता है। इसीलिए सरकार ने भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया। इस पर कोई भी व्यक्ति भ्रष्टाचार से जुड़ी शिकायत ऑडियो, वीडियो भेज सकता है। अगर शिकायत सच्ची पाई गई तो उसको पुरस्कृत किया जाएगा।
प्रदेश मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को पुलिस अकादमी के मुख्य गेट पर धनुषधारी अर्जुन की प्रतिमा के साथ-साथ बुद्धा पार्क, एकता स्थल, प्रतिज्ञा स्थल, अशोक स्तंभ का लोकार्पण किया। सीएम लगभग 12 बजे पुलिस अकादमी में हैलीकॉप्टर से पहुंचे। जहां पर पुलिस ने पुरुष और महिला जवानों ने तालियों के गड़गड़ाहट और तिरंगे से जोरदार स्वागत किया। सीएम ने सलामी भी ली। बाद में खुली जीप में सवार होकर सभी स्थानों का लोकार्पण किया।
सीएम ने कहा कि भ्रष्टाचार पर सरकार अंकुश लगाने का प्रयास कर रही है और इसके लिए टोल फ्री नंबर के साथ-साथ मोबाइल एप, बेबसाइट जारी कर दी है। कोई भी व्यक्ति इन नंबरों पर शिकायत कर सकता है। शिकायत के आधार पर पूरी जांच की जाएगी अगर शिकायत सच्ची है तो शिकायतकर्ता को पुरस्कृत भी किया जाएगा। सीएम मनोहर लाल ने कहा कि पुलिस अकादमी में जवानों के प्रशिक्षण के लिए जो पाठ्यक्रम लागू है। उसमें इस विषय को भी शामिल करें। उन्होंने इस चर्चा के दौरान आज विश्व मानव अधिकार दिवस की याद दिलाई और कहा कि यह दिन मनुष्य के अधिकारों के लिए पूरी दुनिया में मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि अधिकारों के साथ-साथ हर व्यक्ति के कुछ कर्तव्य भी होते हैं, दोनों के समायोजन से ही जीवन शुद्ध होता है। इस अवसर पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, पुलिस महानिदेशक मनोज यादव, एडीजीपी एवं हरियाणा पुलिस अकादमी के निदेशक श्रीकांत जाधव, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक सीआईडी अनिल राव, पुलिस महानिरीक्षक योगेंद्र नेहरा, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह भौरिया, अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव मौजूद रहे।
फाइबर से तैयार हुआ है मुख्य द्वार
मधुबन पुलिस कॉम्प्लेक्स के मुख्य द्वार पर महाभारत के मुख्य पात्रों में से एक अर्जुन की फाइबर निर्मित प्रतिमा बनाई गई है। प्रतिमा में धनुषधारी अर्जुन अपने हाथ में तीर को साधे हुए हैं।
स्वास्थ्य के लिए बनाया बुद्धा गार्डन
बुद्धा गार्डन में भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण किया। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति पर आधारित इस गार्डन में योगा एवं एक्यूप्रेशर से शरीर को तंदरुस्त किया जा सकता है। गार्डन में एक वृत्त बनाया गया है, जिस पर व्यक्ति नंगे पांव चलकर सतह पर लगाई गई हरी घास, मिट्टी, कंकर, बजरी, पत्थर, गोले, जल व लकड़ी पर से गुजरकर पांव के तलवों के जरिए एक्यूप्रेशर लेकर शरीर में व्याप्त कई तरह की व्याधियाें को दूर कर सकता है। मुख्यमंत्री ने स्वयं इसकी परिक्रमा की और कुछ क्षण गार्डन में लगाई गई चेयर पर बिताए।
45 फुट ऊंचे बनाए तिरंगा, पुलिस व अकादमी ध्वज
45 फुट ऊंचाई पर समानांतर लाइन में तीन ध्वज लगाए गए हैं। इनमें राजकीय ध्वज तिरंगा, हरियाणा पुलिस और हरियाणा पुलिस अकादमी के ध्वज शामिल है। तीनों ध्वज पुलिस कॉम्प्लेक्स के साथ सटे एनएच से गुजरते राहगीरों को भी दिखाई देते हैं। ध्वजों के आगे खूबसूरत फाउनटेन लगाए गए हैं।
पत्थर पर लिखे अनमोल वचन
छोटे पार्क में अनमोल वचन का पत्थर लगाया गया। पत्थर पर व्यक्ति विशेष में नैतिक मूल्यों को आत्मसात करने की प्रेरणा देते अनमोल वचन लिखे गए थे, जिसमें लिखा गया था कि मैं कठिन सत्य को चुन सकूं, आसान झूठ को नहीं। मैं अर्धसत्य से संतुष्ट ना रहूं, पूर्ण सत्य को ही विजय कंरू।
40 फीट की ऊंचा बनाया अशोक स्तंभ
कॉम्प्लेक्स में अशोक स्तंभ बनाया गया। जो करीब 40 फीट उंचा है। अशोक स्तंभ को लाल पत्थर से तैयार किया गया है। इतिहास में महान की उपाधि से अंलकृत सम्राट अशोक ने दुनिया को संदेश दिया था कि लड़ाई व खून-खराबा कर किसी को जीता जा सकता है, लेकिन वास्तविक जीत अहिंसा और प्रेम से होती है।
... और पढ़ें

एफएलएस जांच के लिए बार कोड, समय सीमा और ट्रैकिंग सिस्टम लागू, छेड़छाड़ करना नहीं होगा आसान

मधुबन में एफएसएल जांच को अब बार कोडिंग से किया जाएगा। लैब में आज से तीन नए नियम लागू होंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को मधुबन कॉम्प्लेक्स स्थित न्याय वैधिक प्रयोगशाला भवन में बार कोडिंग सिस्टम की विधिवत शुरूआत की। डीजीपी मनोज यादव ने सीएम के सामने इस पूरे प्रोजेक्ट का श्रेय श्रीकांत जाधव को दिया। सीएम को बताया कि अब तक जांच रिपोर्ट को लेकर एफएलएल पर कोई आरोप नहीं लग पाएगा। जानकारी गुप्ता होने के कारण किसी प्रकार के भेदभाव की आशंका भी नहीं रहेगी।

बार कोड
जांच के लिए आई फाइल से एड्रेस को हटाकर उसको एक बार कोड दिया जाएगा। इससे जांच करने वालों को फाइल किस क्षेत्र की है, इस बारे में जानकारी नहीं होगी। आधुनिक कार्यप्रणाली का प्रयोग होगा। ऐसे में जांच पर किसी प्रकार का आरोप नहीं लग सकता। 

समय सीमा
जांच के लिए समय सीमा तय की गई है। समय को जांच के कैटेगिरी के अनुसार रखा गया है। ऐसे में रिपोर्ट में देरी नहीं होगी। देरी होने का उचित कारण नहीं हुआ तो कार्रवाई का भी प्रावधान किया जाएगा। अब तक रिपोर्ट आने में देरी होने के आरोप लगते रहते थे।

ट्रैकिंग सिस्टम
एफएसएल का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी किसी घटना से संबंधित जांच पर जाएगा तो पूरी लोकेशन ट्रैक होती रहेगी। इससे पूरी जानकारी मिलेगी कि जांचकर्ता कब कहां पहुंचा और किस स्थान पर कितना समय रुका। ऐेसे में तथ्यों को उचित स्थान से जुटाया गया है या नहीं। इसकी पूरी इंफर्मेशन रहेगी।
... और पढ़ें

अंतिम संस्कार की तैयारी के समय दिखी सिर की चोट तो अचानक की बजाए हत्या का करवाया केस

गंजोगढ़ी गांव के 60 वर्षीय सुरजीत की अचानक मौत समझते हुए परिजनों अस्पताल से घर ले गए। संस्कार की तैयारी के दौरान उनको सिर में लगी चोट के निशान देखे तो मामला ही बदल गया। परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए पूरे मामले की सूचना परिजनों ने सदर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव सौंप दिया।
मृतक के चचेरे भाई टहल सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि 60 वर्षीय सुरजीत घर से 1500 रुपये लेकर डेरे से गांव की तरफ शाम साढ़े छह बजे गया था। इसके बाद एक घंटे के बाद उन्हें रास्ते में सुरजीत घायल अवस्था में मिला। वे उसे उठाकर अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पहुंचे। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सुबह जब वे संस्कार की तैयार कर रहे तो उसके घर पर चोट के निशान मिले। इसकी सूचना पुलिस को दी। चेक किया तो उसके पास मौजूद 1500 रुपये और मोबाइल फोन भी गायब मिला। सुरजीत का किसी के साथ कोई झगड़ा नहीं हुआ।
परिजनों ने जताई है हत्या की आशंका : एसएचओ
परिजनों ने सिर की चोट दिखाते हुए हत्या की आशंका जताई है। साथ ही किसी पर कोई शक भी नहीं जताया है। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया है। मामले की जांच की जा रही है। -बलजीत सिंह, एसएचओ सदर थाना।
... और पढ़ें

अब कड़ाके की ठंड के बने आसार

दिसंबर के दूसरे सप्ताह में कड़ाके की ठंड पड़ने की संभावना है। पिछले कई दिन तक न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट रही। वहीं 11 दिसंबर को बूंदाबांदी के आसार हैं। सोमवार को भी कहीं-कहीं पर हल्के बादल छाए रहे। इसके चलते धूप ने जोर नहीं पकड़ा। बूंदाबांदी के साथ हवा चली तो सुबह-शाम धुंध छंट सकी है। अन्यथा धुंध कायम रहेगी। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि बुधवार व वीरवार को बादल छाने व बूंदाबांदी की संभावना है।
केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को अधिकतम तापमान 23.0 डिग्री व न्यूनतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस रहा। नमी 100 प्रतिशत, वेपर प्रेशर 8.1 एमएम व हवा की औसत गति 1.2 किलोमीटर प्रति घंटा रही। कहीं-कहीं पर हल्के बादल दिखाई दे सकते हैं।
... और पढ़ें

11 दिसंबर से बदलेगा हरियाणा का मौसम, कंपकंपाने वाली ठंड होगी, हल्की बारिश की संभावना

उत्तर-पश्चिम हवाओं ने मैदानी इलाकों में भी ठंडक घोल दी है। इस सीजन में सोमवार को पहली बार रोहतक में दिन का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया तो दूसरी तरफ नारनौल में रात का तापमान 6 डिग्री रहा। मौसम वैज्ञानिकों ने 12 और 13 दिसंबर को प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में हल्की बारिश की संभावना जताई है। इसके बाद तापमान में और गिरावट हो सकती है। नमी बढ़ने से घना कोहरा भी छा सकता है।  

हिसार में दिन के तापमान में बढ़ोतरी और रात के तापमान में मामूली गिरावट आई। दिन और रात का तापमान सामान्य से कम रहा। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विभाग के अनुसार 10 दिसंबर को मौसम खुश्क रहेगा। सुबह के समय धुंध रहेगी और बीच-बीच में हल्के बादल छा सकते हैं। मगर 11 दिसंबर की रात से पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक असर से 12 व 13 दिसंबर को हवाओं व गरज-चमक साथ कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश की भी संभावना है।

मौसम साफ होने के कारण सोमवार को धूप खिली, लेकिन दोपहर बाद 2 बजे हल्के बादल छा गए। दिन ढलने के साथ ही ठंड बढ़ गई। इस दौरान प्रदेश में सबसे कम तापमान रोहतक में दर्ज किया गया, जहां अधिकतम तापमान सिर्फ 20 डिग्री दर्ज किया, जो सामान्य से पांच डिग्री कम था। दूसरी तरफ हिसार में अधिकतम तापमान 24.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से एक डिग्री कम रहा। 
... और पढ़ें

बिना बिल, परमिट व लाइसेंस के यूपी से लाए थे नशीली दवाइयों की खेप

नशे के खिलाफ पुलिस के आपरेशन प्रहार के तहत पुलिस ने नशे की दवाइयों की बड़ी खेप के साथ असंध के मेडिकल स्टोर संचालक और यूपी के मुजफ्फरनगर से दवाइयों के विक्रेता को गिरफ्तार किया है। पकड़ी गई दवाओं में कुछ प्रतिबंधित तो कुछ लाइसेंसी दवाइयां शामिल हैं। कारोबारी को दो साल पहले भी गिरफ्तार किया गया था। इस बार आरोपी के कब्जे से साढ़े 18 हजार नशीली गोलियां और 112 नशे की बोतलें बरामद की गईं हैं। जांच के दौरान आरोपी कोई लाइसेंस नहीं दिखा सका। दोनों आरोपियों को रिमांड के बाद अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।
गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में अब तक पुलिस ने अलग-अलग छह मामलों में आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एएसपी करनाल मुकेश कुमार ने पत्रकारवार्ता में बताया कि पुलिस को असंध में एमएस गर्ग एजेंसी पर नशे की दवाई के विक्रेता की सूचना प्राप्त हुई। पुलिस ने आरोपी को मौके पर पकड़ने के लिए एंटी नारकोटिक सैल इंचार्ज उप-निरीक्षक सुभाष चंद की टीम को ड्रग इंस्पेक्टर सुनील दहिया को लेकर मेडिकल स्टोर पर भेजा। दुकान बंद मिली। इसके बाद टीम आरोपी के घर पहुंची। घर पर मिले बेटे ने पता दिया और वहां पर टीम को छोड़ कर आया। टीम ने रमन गर्ग को नोटिस देकर बताया कि उन्हें नशे की गालियां और दवाइयों के बेचने की सूचना मिली है। नोटिस के मुताबिक वे 10 मिनट तक प्रशासनिक अधिकारी या पुलिस विभाग के बड़े अधिकारी को मौके पर बुलाकर जांच में शामिल करवा सकता है। आरोपी की मांग पर नायब तहसीलदार असंध रमेश कुमार को मौके पर बुलाया गया।
जांच के दौरान 18500 नशे की गोलियां मिलीं। इस पर संचालक आरोपी रमन कुुमार गर्ग निवासी रामनगर असंध को गिरफ्तार किया। उसके दवाइयों के गोदाम से पुलिस टीम ने 112 बोतल नशे की दवाई बरामद की गई। पूछताछ कर पता लगाया गया कि वह नशे की ये गोलियां मुजफ्फरनगर से लेकर आया था। आरोपी की निशानदेही पर रविवार को आरोपी राकेश कुमार निवासी संजय मार्ग रामलीला मैदान पटेल नगर मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार कर लिया। उसके कब्जे से बड़ी संख्या में नशे की गोलियां और नशे की दवाई की बोतलें बरामद की हैं। दोनों आरोपियों को रिमांड पूरा होने के बाद अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। एएसपी ने बताया कि आरोपी रमन कुमार गर्ग को 2017 में भी एक एनडीपीएस एक्ट के मामले में गिरफ्तार किया गया था।
छापे में ये नशे की दवाइयां मिलीं
तलाशी के दौरान टरोमाडोल की 6500 गोलियां यानी 2.6 किलो, डिफेनऑक्सलेट हाईड्रोक्लोराइड एटरोपिन सल्फेट की 10800 गोलियां यानी 648 ग्राम, एलपराजोलम की 1200 गोलियां यानी 132 ग्राम, कोडिन सिरप की 112 शीशियां यानी 11.2 किलो पाई गई। इन दवाइयों के बारे रमन कुमार गर्ग के पास कोई लाइसेंस, बिल, परमिट नहीं मिला।
अब तक छह मामले दर्ज, 8 गिरफ्तार
एएसपी ने बताया कि जिला पुलिस नशे के विरुद्घ चलाए अभियान में अभी तक 06 मामले दर्ज किए गए हैं। इन छह मामलों में आठ तस्करों को गिरफ्तार किया है। सभी मामलों में बड़ी संख्या में नशीले पदार्थ भी बरामद किए गए हैं। आगे भी ऐसा अभियान चलता रहेगा।
व्हाट्सएप नंबर पर दें नशे संबंधी सूचना
एएसपी मुकेश कुमार ने बताया कि नशा तस्करों को पकड़ने के लिए आपरेशन प्रहार अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस ने ऐसी सूचनाओं के लिए व्हाट्सएप नंबर- 85708-85704 जारी किया हुआ है। करनाल की जनता से अपील करते हुए कहा कि करनाल पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ चलाई गई मुहिम का हिस्सा बने और नशे का कारोबार करने वाले या नशा करने वालों की सूचना पुलिस को दें।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election