विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रोहतकः एसटीएफ ने भारी मात्रा में चरस की बरामद, एक आरोपी गिरफ्तार, दो फरार

एसटीएफ द्वारा नशा तस्करों के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत कार्य करते हुए प्राप्त मुखबरी के आधार पर यह कार्रवाई की गई।

27 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

करनाल

सोमवार, 27 जनवरी 2020

गन्ना किसानों की प्रदेश स्तरीय महापंचायत 25 को जींद सहकारी शुगर मील में बुलाई

सरकार द्वारा गन्ना के चालू खरीद सीजन के दामों में वृद्धि न करने को लेकर गन्ना उत्पादक किसानों में रोष बढ़ता जा रहा है। इसके लिए किसानों ने भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले लामबंद होना शुरू कर दिया है। गन्ना किसान आंदोलन को तेज करने के लिए 25 जनवरी को जींद सहकारी शुगर मील जींद के मुख्य द्वार के सामने प्रदेश स्तरीय किसान महापंचायत बुलाई गई है। इसी सिलसिले में आज भारतीय किसान यूनियन के तत्वाधान में प्रदेश अध्यक्ष रतनमान की अध्यक्षता में करनाल सहकारी शुगर मील करनाल के परिसर में किसान पंचायत आयोजित की गई। करनाल मिल से जुड़े गन्ना किसानों ने हिस्सा लेकर सरकार से 340 से 400 रुपये प्रति क्विंटल किए जाने की प्रदेश सरकार से मांग की गई।
पिछले साल मात्र 30 रुपये हुई थी बढ़ोतरी
रतनमान ने बताया कि गत 6 साल के दौरान गन्ना के दामों में मात्र 30 रुपये प्रति क्विंटल वृद्धि ही की गई है। जबकि गन्ने की पैदावार करने में मजदूरी सहित उपज लागत खर्च में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। इसी मामले को लेकर जींद के सहकारी मिल में 25 जनवरी को प्रदेश स्तरीय किसान महापंचायत बुलाई गई है। महापंचायत में प्रबल आंदोलन के लिए रणनीति तय की जाएगी। गठबंधन सरकार को गन्ने के दामों में वृद्धि करवाने के लिए मजबूर किया जाएगा।
इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र सिंह घुम्मन, जिलाध्यक्ष यशपाल राणा, महिला अध्यक्ष नीलम राणा, मेहताब कादियान, श्याम सिंह मान, सुरेंद्र सागवान, श्याम सिंह चौहान, दिलावर डबकोली, सतीश कलसोरा, विनोद राणा, राजाराम, नाथीराम कांबोज, कर्ण कालिया, रामसिंह मोदीपुर, फते सिंह मंगलोरा, जोगिंद्र सांगवान, देवेंद्र सागवान, गजे सिंह, शेर गढ़ टापू, देवेंद्र भाटिया, करेशन नंबरदार, जिले सिंह लालूपुरा, बबलू सोहाना, मोती राम ढाकवाला, राजेश नलीखुर्द, संजीव नसीर पुर, दलविंद्र खराज पुर, जसमेर ढाकवाला रोडान, जसबीर सुभरी, पालाराम महमद पुर, नरेंद्र महमदपुर, बलवंत रींडल, पुरुषोतम लंडोरा, संजय बदर पुर, भीम डबकोली, राममेहर कलसोरा मौजूद रहे।
... और पढ़ें

खुशखबरीः कुरुक्षेत्र-मथुरा गीता जयंती एक्सप्रेस ट्रेन का रूट बढ़ाया गया, देखें अब ये होगा रास्ता

दिल्ली-करनाल-कुरुक्षेत्र रेल मार्ग के यात्रियों के लिए खुशखबरी है। कुरुक्षेत्र-मथुरा गीता जयंती एक्सप्रेस 11901-02 ट्रेन को अब खजूराहो तक बढ़ा दिया गया है। यह गाड़ी 27 अप्रैल 2020 से नए नंबर 11841-42 से चलेगी। रेलवे ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। पहले यह गाड़ी सप्ताह में पांच दिन चलती थी अब पूरे सप्ताह यह गाड़ी चलेगी।

कुरुक्षेत्र-खजूराहो गीता जयंती एक्सप्रेस 11842 गाड़ी कुरुक्षेत्र से दोपहर 2.55 बजे मिलेगी। 3.07 बजे नीलोखेड़ी, 3.21 बजे करनाल, 3.50 बजे पानीपत, 4.03 बजे समालखा, शाम 4.26 बजे सोनीपत, 5.23 बजे सब्जी मंडी, 6 बजे नई दिल्ली, 6.37 बजे निजामुद्दीन, 7.08 बजे फरीदाबाद, 8.04 बजे पलवल, रात्रि 8.29 बजे होडल, 8.41 बजे कोसी कलां, 8.55 पर छत्ता, 9.22 बजे मथुरा, 10.15 बजे आगरा कैंट, 10.58 बजे धौलपुर, रात्रि 12 बजे ग्वालियर, 2.05 बजे झांसी, 3.30 बजे ललितपुर, 4.24 बजे उदयपुरा, 4.48 बजे टीकमगढ़, सुबह 5.33 बजे खड़गपुर, 5.59 बजे ईशानगर, 6.22 बजे छत्रपुर व सुबह 8 बजे खजूराहो पहुंचेगी।

वापसी में 11841 नंबर से यह गाड़ी शाम को 6.35 बजे खजूराहो से मिलेगी। 11.22 बजे करनाल पहुंचेगी। 12.01 बजे नीलोखेड़ी व 12.40 बजे कुरुक्षेत्र पहुंचेगी। स्थानीय व्यवसायी समाजसेवी राजीव कुमार का कहना है कि मध्यप्रदेश के लिए गाड़ी मिली है। इस ट्रेन से आगरा, ग्वालियर, झांसी, ललितपुर व टीकमगढ़ की राह भी आसान होगी। पर्यटन, वाणिज्य, शिक्षा व अन्य दृष्टि से हर लिहाज से यह गाड़ी बेहतर रहेगी। इस ट्रेन से स्थानीय जनता को फायदा होगा।
... और पढ़ें

जजपा-इनेलो विवाद में आया नया मोड़, चाचा का बड़ा आरोप और भतीजे का करारा जवाब, बोले...

हरियाणा में जजपा और इनेलो में चल रहे विवाद में नया मोड़ आ गया है। चाचा ने तंज कसते हुए जो बात कही, उसका भतीजे ने करारा जवाब दिया। इनेलो नेता अभय चौटाला ने हरियाणा के उपमुख्यमंत्री और भतीजे दुष्यंत चौटाला की पार्टी पर एक बड़ा आरोप मढ़ दिया है।

अभय चौटाला ने कहा कि जजपा कभी भी भाजपा में विलय कर सकती है। भाजपा ने जजपा का समर्थन नहीं मांगा था। यह लोग खुद हिमाचल से मंत्री अनुराग ठाकुर को लेकर भाजपा के खेमे में समझौता करने गए थे।

दुष्यंत जवाब दें कि वे जेपी नडडा को बधाई देने क्यों पहुंचे? क्या उनकी पार्टी का व्यक्ति राष्ट्रीय अध्यक्ष बना था या फिर उनकी पार्टी का कोई लेना देना था। कभी वे राजनाथ सिंह से मिलने जाते हैं कभी सीतारमण से तो कभी अमित शाह से। जाना है तो अपने विभाग से संबंधित किसी मंत्री के पास जाएं और बताएं हरियाणा के लिए क्या ले कर आएं हैं।

पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटाला के जजपा में शामिल होने की अटकलों को लेकर उन्होंने कहा कि वे पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वे किसी गद्दार से समझौता नहीं करेंगे। मैं उन्हें जानता हूं। जीवन में कभी उन्होंने अपने आप से समझौता नहीं किया।
... और पढ़ें

करनाल में डिप्टी सीएम दुष्यंत ने फहराया राष्ट्र ध्वज, हरियाणा में राजस्व दिवस मनाने की घोषणा की

करनाल की नई अनाज मंडी में 71वां गणतंत्र दिवस समारोह बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने ध्वजारोहण किया तथा परेड की सलामी ली और जनपद वासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी। इससे पहले उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने युद्ध स्मारक पर जाकर शहीदों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। 

उप-मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता सेनानियों व शहीदों के परिवार जनों को शॉल व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। उन्होंने जनपद वासियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार मजबूती के साथ काम कर रही है। सरकार ने वर्ष 2020 को सुशासन संकल्प दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। नागरिकों को सरकारी सेवाएं प्रदान करने के लिए वर्ष भर सुशासन की नई-नई पहल करने पर बल दिया जाएगा। 

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता की भलाई के लिए एक अहम निर्णय सरकार लेने जा रही है। इस निर्णय के तहत हर महीने के पहले मंगलवार को राजस्व दिवस प्रदेश के सभी एसडीएम कार्यालयों में मनाया जाएगा। इस दिन राजस्व विभाग के पटवारी से लेकर एसडीएम तक के बीच के सभी अधिकारी एक साथ बैठेंगे और लोगों की राजस्व संबंधी शिकायतों को सुनेंगे व जरूरतों को पूरा करेंगे। 

उन्होंने कहा कि देखने में आया है कि जमीन संबंधी मामले कोर्ट में पिछले 25 सालों से लंबित पड़े हैं। लोगों को इस बारे काफी दिक्कत हो रही है। इसके लिए हरियाणा सरकार ने निर्णय लिया है कि ऐसे मामलों पर तुरंत कार्रवाई हो। यदि विकास में बाधा आने वाले मामलों के सुधार के लिए उन्हें किसी नियम में बदलाव भी करना पड़े तो हरियाणा सरकार इससे पीछे नहीं हटेगी।
... और पढ़ें
हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने करनाल में ध्वजारोहण किया। हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने करनाल में ध्वजारोहण किया।

पुलिस की गाड़ी देख भागने लगे पांच बांग्लादेशी, वीजा, पासपोर्ट समेत नहीं मिला कोई कागजात

बगैर पासपोर्ट के भारत आने पर बंग्लादेश के पांच युवकों को हरियाणा की करनाल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। भारत में आने की अनुमति से जुड़ा कोई भी कागजात आरोपियों के पास से नहीं मिले हैं। करनाल पुलिस को सूचना मिली थी कि विदेशी युवक पिंगली रोड पर किसी वारदात करने के इंतजार में खड़े हैं। इसके बाद पुलिस सतर्क हो गई और पांच लड़कों को काबू कर लिया। 

रामनगर थाना पुलिस ने पांचों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। रामनगर थाना के प्रभारी जसविंद्र तुली ने बताया कि थाना के ईएएसआई सुरेश कुमार, सतीश कुमार, एचसी देवीदयाल, ड्राइवर बलविंद्र सिंह के साथ गश्त पर थे। सूचना मिली कि पांच विदेशी नागरिक बिना पासपोर्ट, वीजा के इस समय पिंगली चौक कैथल करनाल रोड पर किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। 

पुलिस साथी कर्मचारियों के साथ पांचों लड़कों के पास पहुंची। पुलिस की गाड़ी को देखकर गांव पिंगली की तरफ भागने लगे। जिनको पुलिस जवानों ने भागकर काबू किया और उनका नाम पता पूछा गया। इनके पास भारत की नागरिकता, वैध पासपोर्ट, वैध वीजा व कोई भी वैध प्रमाण पत्र नहीं था। पुलिस ने कहा कि भारत में बिना कागज आना भी एक अपराध है। आरोपियों को कोर्ट में पेश करके जेल भेज दिया गया है। 
... और पढ़ें

पश्चिम यमुना नहर: पुल पर पोक्सी, चेयर स्लैब और गेप स्लेब डालने के कारण 6 घंटे बाधित रहा अम्बाला से दिल्ली रूट

अम्बाला से दिल्ली की ओर जाने वाली ट्रेनें शनिवार सुबह छह घंटे तक बाधित रहीं और कुछ को रद्द करना पड़ा। रेलवे विभाग की ओर से करनाल पश्चिम यमुना नहर पुल नं. 196 अंडरपास पर सुबह 11 से सायं 5 बजे तक क्रेन के माध्यम से दो पोक्सी, दो चेयर स्लैब और दो गैप स्लैब डालने का कार्य किया गया। काम के दौरान कर्मचारियों के अलावा इंजीनियर, सुपरवाइजर और अन्य अधिकारी भी मौके पर स्थिति का जायजा लेते रहे। इससे यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। उनका कहना है कि रेलवे को कार्य से पहले सूचना देनी चाहिए थी।
कुरुक्षेत्र से करनाल की ओर आने वाली दो पैसेंजर अप-डाउन, तथा नई दिल्ली सुपर फास्ट को रद्द कर दिया गया। वहीं 15708 आम्रपाली को अंबाला से ही डायवर्ट कर दिया। इसके अलावा 12046 शताब्दी चार घंटे और 12926 पश्चिम एक्सप्रेस तीन घंटे तक लेट रही। दिन भर दिल्ली की ओर जाने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। यात्री, गीता, शीला, कमल, निशा, पूजा का कहना है कि शनिवार सुबह वह दिल्ली जाने के लिये रेलवे स्टेशन पर पहुंचे तो उन्हें पता चला कि छह घंटे तक दिल्ली की ओर कोई ट्रेन नहीं जाएगी। दिल्ली की ओर जाने वाले लगभग 500 पैसेंजरों को अन्य वाहनों का सहारा लेना पड़ा या फिर छह घंटे का लम्बा इंतजार करना पड़ा। उन्होंने कहा कि विभाग की इस बारे पहले से जानकारी देनी चाहिए थी।
धीमी गति से गुजरी पश्चिम और आर्मी गाड़ी
पुल पर चल रहे कार्य के दौरान दिल्ली की ओर से अम्बाला जाने वाली पश्चिम एक्सप्रेस और आर्मी गाड़ी धीमी गति से गुजरी। 1:30 मिनट पर पश्चिम एक्सप्रेस और 2 बजे आर्मी गाड़ी दूसरे ट्रैक से दिल्ली से अम्बाला की ओर गई। दोनों ट्रेनों की गति मात्र 25 से 30 किलोमीटर प्रति घंटा रही।
पहले से नहीं थी सूचना
सदर बाजार करनाल की रहने वाली गीता दिल्ली जाने के लिये शनिवार दोपहर करीब एक बजे स्टेशन पर पहुंची। पूछताछ अधिकारी से पता चला कि दिल्ली की ओर जाने वाली ट्रेनें ज्यादातर लेट हैं या फिर रद्द। अब वह दिल्ली के लिये रोडवेज बस का सहारा लेगी।
अखबार, रेडियो के माध्यम से देनी थी जानकारी
करनाल निवासी शीला देवी का कहना है कि रेलवे विभाग को पहले से ही अखबार व रेडियो के माध्यम से जानकारी देनी चाहिए थी। ट्रैक पर काम चलने की लोगों को जानकारी नहीं थी। अब उन्हें अन्य साधन से दिल्ली जाना पड़ेगा।
करनाल स्टेशन अधीक्षक नरेंद्र सिंह का कहना है कि पुल पर कार्य के चलते अम्बाला से दिल्ली की जाने वाले सुपर फास्ट नई दिल्ली रद्द रही और कुछ ट्रेनें लेट रही। दो पैसेंजर को भी रद्द करना पड़ा।
... और पढ़ें

एक घंटे चली लूट के दौरान 1 बार नौकर, 1 पड़ोसी आया तो दोनों को गेट पर खड़े बदमाश ने रिश्तेदार बता वापस लौटाया

बूढ़ा खेड़ा गांव में तीन बदमाशों ने शनिवार की सुबह एक घर में घुसकर एक घंटे तक लूटपाट की। दो बदमाश घर के अंदर परिजनों को बंधक बनाकर नकदी और गहने इकट्ठा करने में जुटे थे और तीसरा गेट पर पहरेदारी कर रहा था। इस दौरान एक बार तो घर का नौकर और एक बार पड़ोसी घर में प्रवेश के लिए दरवाजे पर पहुंचा, दोनों ही बार बाहर खड़ बदमाश ने उन्हें वापस लौटा दिया। उसने खुद को रिश्तेदार बताते हुए बाद में आने की बात कही। लूटपाट के दौरान बदमाश घर से करीब 45 तोले सोना, साढ़े तीन लाख रुपये और डीवीआर ले गए। बदमाशों के जाने के बाद सूचना मिलने पर स्कूल संचालिका घर पहुंची और पुलिस को सूचित किया। बदमाशों को पकड़ने के लिए पुलिस ने चार टीमों का गठन कर जांच शुरू कर दी है। घटना के बाद गांवों के लोगों का घर पर तांता लगा गया। परिवार सहमा हुआ है। घर में चारों तरफ सामान बिखरा पड़ा है। बदमाशों ने जिस तरह घटना को अंजाम दिया है उससे अंदाजा लग रहा है कि वे परिवार की हर गतिविधि से वाकिफ थे। तभी उन्होंने सुबह के साढ़े सात बजे का समय चुना।
हरविंद्र कौर ने बताया कि रोजाना की तरह शनिवार की सुबह वे गांव में बनाए अपने सीनियर सेकेंडरी स्कूल में चली गई। उसकी पोती भी 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए घर से कान्वेंट स्कूल के लिए निकल चुकी थी। बाद में उसकी पुत्रवधू उसके पोते के लिए नाश्ता तैयार कर रही थी। उनके अलावा उनकी नौकरानी भी घर में मौजूद थी। इसी दौरान बदमाश आ धमके और तीनों को गन प्वाइंट पर बंधक बना लिया। स्कूल के बच्चों की फीस से इकट्ठा हुए पैसे घर पर रखे थे, जिन्हें सोमवार को खाते में जमा करवाना था। इससे पहले ही बदमाश लूट कर ले गए। लूटपाट के दौरान बदमाशों ने हर कमरे में तलाशी ली। स्कूल संचालिका यानी घर की मुखिया के कमरे की अलमारी से साढ़े तीन लाख रुपये नकदी और करीब 20 तोले सोना लूटा जबकि पुत्रवधू की अलमारी से करीब 25 तोला सोना ले गए। इसके साथ ही तीसरे कमरे से सीसीटीवी की डीवीआर निकाल ले गए।
घटना के बाद दिनभर गांव की एंट्री पर पुलिस की गाड़ी खड़ी रही। गांव की गलियों का भी पुलिस ने निरीक्षण किया। पुलिस ने स्कूल संचालिका, ग्रामीणों और अन्य लोगों से बातचीत की। साथ ही कई स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को भी चेक किया। पुलिस को बताया गया कि आरोपी स्पलेंडर बाइक पर सवार होकर आए थे। जांच में पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे में वह बाइक भी देखी जिस पर सवार होकर बदमाश लूट की वारदात को अंजाम देने आए थे।
डीएसपी राजीव कुमार ने बताया कि साढ़े तीन लाख रुपये नकदी और 45 तोले सोना ले जाने की शिकायत पुलिस को दी गयी है। मामले की जांच के लिए चार टीमों का गठन किया गया है। जल्द ही मामले को सुलझा लिया जाएगा।
... और पढ़ें

स्कूल मालिक के घर डकैती, 45 तोले सोना, 3 लाख कैश ले गए

बूढ़ा खेड़ा गांव में स्कूल संचालिका के घर पहुंचे तीन बदमाशों ने पिस्तौल की नोंक पर परिजनों को बंधक बनाकर लूटपाट की और 45 तोला सोना तथा करीब 3.5 लाख रुपये लूट ले गये। सूचना मिलने के बाद सेक्टर 32-33 पुलिस थाना, डीएसपी राजीव कुमार और एफएसएल टीम ने मौके का मुआयना किया। पुलिस को दी शिकायत में स्कूल संचालिका की पुत्रवधू मनदीप कौर ने बताया कि सुबह करीब साढ़े सात बजे उनकी सास हरविंद्र कौर स्कूल चलीं गईं। पेपर होने के कारण बिटिया भी जल्दी स्कूल चली गई। वे अपने बेटे को नाश्ता देने की तैयारी कर रही थीं। तभी दो व्यक्ति अंदर घुसे और एक गेट पर खड़ा हो गया। अंदर घुसे दोनों बदमाशों के पास पिस्तौल थी। उन्होंने घरवालों को बंधक बनाकर एक कमरे में बैठा दिया। इसके बाद एक घंटे तक पूरे घर की तलाशी ली। घर से करीब 45 तोला सोना और 3.5 लाख कैश लूट ले गए। जाते समय बदमाश सीसीटीवी की डीवीआर भी साथ ले गए। डीएसपी राजीव कुमार ने बताया कि पुलिस ने तीन अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
चार टीमों का गठन
डीएसपी राजीव कुमार ने बताया कि साढ़े तीन लाख रुपये नकदी और 45 तोले सोना ले जाने की शिकायत पुलिस को दी गयी है। मामले की जांच के लिए चार टीमों का गठन किया गया है। जल्द ही मामले को सुलझा लिया जाएगा।
... और पढ़ें

सैनिक स्कूल में दाखिला के नाम पर ठगी का खेल : करनाल रोडवेज के एकाउंट अफसर के पास आई कॉल, बोला-

सैनिक स्कूल में दाखिले के नाम पर ठग गिरोह सक्रिय है। अभिभावकों के पास फेक कॉल आ रही है। गिरोह ने करनाल रोडवेज के एकाउंट अफसर और एक कंडक्टर को भी जाल में फंसाने की कोशिश की, लेकिन दोनों ने ही विवेक से काम लिया तो बच गए। सैनिक स्कूल सूत्रों के अनुसार, ऐसी कॉल दो नहीं कई अन्य लोगों को भी आई हैं।
फिर भी कुंजपुरा सैनिक स्कूल प्रशासन सब कुछ जानते हुए अनजान बना हुआ है। प्रिंसिपल कर्नल वीडी चंदोला से जब बात करनी चाही, तो वे बोले कि मुझे पता है आपने किस लिए फोन किया है। इस बारे में आप सोसायटी से बात कीजिए। हमारा एडमिशन से कोई संबंध नहीं है। अब वे किस सोसायटी की बात कर रहे हैं? किस अधिकारी की इस बारे में जवाबदेही है? इससे पल्ला झाड़ते हुए वे बोले कि जो भी जानकारी चाहिए इंटरनेट से लें।
साइट पर सोसायटी का अलर्ट, सिर्फ पोर्टल पर करें संपर्क
प्रिंसिपल से बातचीत के बाद जब सैनिक स्कूल कुंजपुरा की साइट सोसायटी का नंबर देखने के लिए चेक की गई, तो वहां मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस के अंतर्गत सैनिक स्कूल सोसायटी का भी जारी किया हुआ अलर्ट मिला। देशभर में सोसायटी की ओर से 33 सैनिक स्कूल चलाए जा रहे हैं। सोसायटी ने चेतावनी दी है कि कई एजेंट पेरेंट्स को सैनिक स्कूलों में उनके बच्चों के मार्क्स बढ़ाने की गारंटी दे रहे हैं। ऐसी किसी कॉल से सैनिक स्कूल सोसाइटी का कोई लेनादेना नहीं है। एडमिशन संबंधी अपडेट के लिए सभी अभिभावक सोसाइटी के ऑनलाइन पोर्टल पर ही संपर्क करें।
तुरंत पैसे मांगे थे, हमने दिए नहीं
करनाल रोडवेज के एकाउंट अफसर राजकुमार कौशल ने बताया कि वीरवार दोपहर करीब दो बजे उनके पास फोन आया था, जिसमें बच्चे के एडमिशन के नाम पर 5000 रुपये मांगे गए थे। उन्होंने बताया कि इससे पहले उनके डिपो के परिचालक पद पर कार्यरत बलसिंह के पास भी फोन आया था, उससे पैसे मांगे गए थे। लेकिन दिए नहीं। ठग ने मैसेज भेज बैंक एकाउंट भी दिया। जिसमें नाम सुमित कुमार, खाता संख्या - 61272716280, आईएफएससी कोड एसबीआईएन0021464 है। पड़ताल करने पर पता चला कि आईएसएससी कोड एसबीआई की नवी मुंबई ब्रांच का है। उन्होंने बताया कि स्कूल के पास भी इस संबंध में कई फोन आ चुके हैं। 22 जनवरी को हिमाचल में भी ऐसा हुआ था, वहां पुलिस को भी शिकायत की गई।
ओएमआर शीट पर नहीं होता मोबाइल नंबर
सैनिक स्कूल में प्रवेश की 5 जनवरी को परीक्षा हुई थी। ओएमआर शीट पर एग्जाम होता है। स्कूल सूत्रों के अनुसार, ओएमआर शीट की जांच कंप्यूटर से होती है। इस पर भी केवल परीक्षार्थी का नाम और रोल नंबर अंकित होता है। मोबाइल नंबर या पिता का नाम संबंधित कोई अन्य जानकारी नहीं होती। ना ही लोकल स्टाफ आंसर शीट की जांच करता है। पूरा काम हायर अथॉरिटी के जरिए होता है।
... और पढ़ें

बाजार में बिकने पहुंचे गरीबों के बाजरे को पार्षद ने पकड़वाया

सरकार की तरफ से राशन कार्ड पर गरीबों को दिया जाने वाला बाजरा बाजार में ठिकाने लगाया जा रहा है। शुक्रवार को पार्षद ने बाजार में बिकने जा रहे सात बाजरे के कट्टों को खाद्य आपूर्ति विभाग की टीम से पकड़वाया है। टीम ने प्राथमिक जांच के बाद वार्ड -17 के डिपो होल्डर सन्नी के दुकान की आपूर्ति निरस्त कर दी है। यही नहीं टीम को स्टॉक जांचने के लिए दुकान पर भेजा गया तो दुकान बंद पाई गयी। इसके बाद दुकान को सील कर दिया गया। अब शनिवार को स्टॉक की जांच कर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
गरीबों के हिस्से का निवाला राशन की दुकानों से बाजार में बेचने का मामला कोई नया नहीं है। इससे पहले भी दो बार बड़े स्तर पर आटा घोटाला हो चुका है। दोनों मामलों में अभी तक जांच चल रही है। कई डिपो होल्डर पर गाज गिरी, लेकिन अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं हुई। लोगों का कहना है कि इस तरह के घोटाले अधिकारियों के संरक्षण के बिना संभव नहीं है।
वार्ड 17 के पार्षद जोगेंद्र शर्मा ने बताया कि उसको फोन पर सूचना मिली कि डिपो होल्डर अपनी दुकान से कट्टे रेहड़ी पर लेकर जा रहा है। हांसी रोड पर गली में मुड़ते समय रेहड़ी को रुकवाकर पूछा तो उसने बताया कि वे शिव कालोनी से लेकर आया है। इसके बाद मामले की सूचना डीएफएससी को दी गई। पूरी जानकारी में सामने आया कि डिपो होल्डर सन्नी गरीबों में बांटने वाले बाजरे को बाजार में बेचने के लिए लाया था।
साढ़े तीन क्विंटल बाजरा मिला
हांसी रोड पर रेहड़ी में पकड़े गए कट्टे सरकारी थे। इनमें डिपो पर बांटे जाने वाला बाजरा था। प्रत्येक कट्टे में 50 किलोग्राम बाजरा था। सात कट्टों में साढ़े तीन क्विंटल बाजरा पाया गया। ऐसे में सवाल है कि क्या इससे पहले भी बाजरा बेचा गया था? गौरतलब है कि इससे पहले भी डिपो पर आए सरकारी राशन के ओपन बाजार में बिकने के कई मामले सामने आ चुके हैं।
बीपीएल कार्डधारक को तीन किलोग्राम प्रति व्यक्ति मिलता है बाजरा
जिन उपभोक्ताओं के पास बीपीएल का राशन कार्ड है, उन्हें प्रति व्यक्ति तीन किलोग्राम बाजरा मिलता है। बाजरा एक रुपये प्रति किलोग्राम का भाव है। कार्डधारकों को गेहूं प्रति व्यक्ति दो किलोग्राम मिलता है। साथ में दो लीटर सरसों का तेल दिया जाता है। एएवाई कार्डधारकों को पांच किलोग्राम प्रति राशन कार्ड बाजरा मिलता है।
वर्जन
सूचना मिलने पर विभाग की टीम ने जांच की। प्राथमिक जांच में सात कट्टे बाजरा मिलने पर डिपो होल्डर की सप्लाई सस्पेंड कर दी गई है। दुकान पर स्टॉक जांचने पहुंचने पर बंद मिली। डिपो होल्डर से संपर्क भी नहीं हो पाया। शनिवार को स्टॉक की जांच की जाएगी। -अनिल कुमार, डीएफएससी करनाल।
... और पढ़ें

फर्टीलाइजर कम होगा तो विदेशों में बढ़ेगी बासमती चावल की डिमांड

हरियाणा में बासमती धान उत्पादन को बढ़ावा देने और किसानों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिये एपीडा (कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण)ने होटल ज्वेलस में कार्यशाला का आयोजन किया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. सुरेश गहलोत, डॉ. वनीता डीडीएम दिल्ली, डीडीए डॉ. आदित्य प्रताप डबास व कृषि अधिकारी हरप्रीत सिंह ने शिरकत की। कार्यक्रम में जिले के किसानों और व्यापारियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। उन्होंने बताया कि जानकारी के अभाव में किसानों द्वारा बासमती धान में डाले जाने वाले रासायनिक पदार्थों के कारण ही विदेशों में हमारा बासमती चावल रिजेक्ट हो रहा है। जानकारी के अभाव में किसान फर्टिलाइजर का ज्यादा इस्तेमाल करता है और वह धान रिजेक्ट हो जाता है। बासमती धान में अगर फर्टिलाइजर कम होगा तो विदेशों में हमारे चावल की डिमांड बढ़ेगी। उन्होंने किसानों को बताया कि आप एपीडा पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर धान के प्रति सही जानकारी और रेट ले सकते हैं। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से फसल के बारे में एपीडी को जानकारी होगी और पता चल सकेगा कि किस किसान और व्यापारी के पास बासमती धान है और वह उनसे सीधा खरीद सकेगा।
स्वास्थ्य को लेकर दूसरे देश रहते हैं सचेत
डॉ. सुरेश गहलोत ने बताया कि दूसरे देश अपनी सेहत के प्रति ज्यादा सचेत रहते हैं। हमारे चावल में दवाई की मात्रा ज्यादा होगी तो वह उसेरिजेक्ट कर देगा और इसका सीधा नुकसान हमारे किसान भाइयों और व्यापारियों को होगा। उन्होंने जिले के किसानों को ऑर्गेनिक व कम फर्टिलाइजर से बासमती धान पैदा करने की सलाह दी ताकि हमारे देश के चावल की दूसरे देशों में मांग बढ़े और हमार चावल निर्यात हो सके। यह एपीडा की अच्छी पहल है कि उन्होंने हरियाणा के करनाल जिले के किसानों को इसके लिये सबसे पहले चुना है।
यह देश सबसे ज्यादा खरीदते हैं बासमती चावल
डीडीएम वनीता ने बताया कि 2017-18 में ईरान ने हमारे देश से 11700 करोड़ रुपये का चावल खरीदा था। सऊदी अरब ने 6500 करोड़, ईराक ने 2800 करोड़ व यूएई ने 2055 करोड़ रुपये का चावल खरीदा था। 2019-20 की जानकारी अभी बाकी है। उन्होंने कहा कि अगर हमारे बासमती चावल की क्वालिटी बेहतर होगी तो विदेशों में डिमांड बढ़ेगी और देश के किसानों को भी बासमती धान के बेहतर दाम मिल सकेंगे।
... और पढ़ें

मुख्यमंत्री स्कूल सौंदर्यीकरण प्रतियोगिता के परिणाम जारी, जिला स्तरीय विजेता को मिलेगा एक लाख रुपये का पुरस्कार

मुख्यमंत्री स्कूल सौंदर्यीकरण प्रतियोगिता वर्ष 2019-20 के परिणाम घोषित हो चुके हैं। जिला स्तरीय पुरस्कार के लिए अलग-अलग खंड से चार स्कूल प्रथम रहे हैं। एडीसी की अध्यक्षता में बनी कमेटी द्वारा घोषित परिणाम में वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल की श्रेणी में असंध खंड का जीएसएसएस गंगटेहड़ पोपड़ान स्कूल, उच्च विद्यालय की श्रेणी में भी असंध खंड का कुरलन स्कूल, माध्यमिक विद्यालय की श्रेणी में घरौंडा खंड का खोराखेड़ी स्कूल व प्राथमिक विद्यालय की श्रेणी में इंद्री खंड का बुढ़ेरी स्कूल प्रथम रहा है। प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले इन स्कूलों को गणतंत्र दिवस के जिला स्तरीय समारोह में एक-एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार मिलेगा। साथ ही इन स्कूलों के मुखिया को भी विशेष रूप से सम्मानित किया जाएगा।
करनाल, निसिंग और नीलोखेड़ी खंड का स्कूल नहीं ले पाया पुरस्कार
जिला स्तरीय प्रतियोगिता में चारों श्रेणियों में अलग-अलग श्रेणी में इंद्री, घरौंडा और असंध खंड का स्कूल पुरस्कार के लिए चुना गया है, लेकिन जिला स्तरीय पुरस्कार के लिए करनाल, निसिंग और नीलोखेड़ी खंड का एक भी स्कूल प्रतियोगिता में अपनी जगह नहीं बना पाया। हालांकि खंड स्तरीय प्रतियोगिता में सभी के स्कूल चुने गए थे। वहीं वर्ष 2018-19 के परिणामों में नीलोखेड़ी और करनाल खंड के स्कूल इस पुरस्कार के लिए जगह बना पाए थे। लेकिन निसिंग खंड का तब भी कोई स्कूल पुरस्कार नहीं पा सका था।
खंड स्तरीय प्रतियोगिता पास करने के बाद हुई थी जिलास्तरीय प्रतियोगिता
जिला गणित विशेषज्ञ मोहनलाल मुंजाल ने बताया कि खंड स्तर पर अव्वल रहने वाले स्कूल जिला स्तरीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेते हैं। सभी छह खंडों के अलग-अलग श्रेणी में 24 स्कूल जिला स्तरीय प्रतियोगिता की दौड़ में थे। इनमें सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाली टीम को ही जिला स्तरीय पुरस्कार के लिए चुना जाता है।
24 स्कूलों को 50 हजार का पुरस्कार
मुख्यमंत्री स्कूल सौंदर्यीकरण प्रतियोगिता वर्ष 2019-20 की खंड स्तरीय प्रतियोगिता में अलग-अलग श्रेणी में 24 स्कूल प्रथम रहे थे। सभी छह खंडों के प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले स्कूलों को 50 हजार रुपये का नकद पुरस्कार भी दिया जाएगा।
खंड स्तरीय प्रतियोगिता में ये स्कूल रहे थे विजेता
खंड सीनियर सेकेंडरी हाई मिडिल प्राइमरी
करनाल बजीदा जाटान चोरपुरा मंगलौरा प्रेमनगर
इंद्री गढ़ीबीरबल खेड़ा चप्पराईया बुढ़ेरी
नीलोखेड़ी भैनीखुर्द कल्सी बरसालू माजरा रोडान नीलोखेड़ी
घरौंडा फुरलक शेखपुरा खालसा खोरा खेड़ी पीर बड़ौली
निसिंग निसिंग(बी) शाहपुर गुनियाना डाचर
असंध गंगटेहड़ी पोपड़ान कुरलन दुपेड़ी गंगटेहड़ी पोपड़ान
प्रथम स्थान पर आने वाले चारों स्कूलों के मुखिया बधाई के पात्र हैं। इस योजना से विद्यालयों में स्वच्छता एवं सौंदर्यीकरण की भावना को बल मिला है। विद्यालयों में पढ़ाई के अनुकूल वातावरण बना है। -रविन्द्र चौधरी, जिला शिक्षा अधिकारी करनाल।
... और पढ़ें

25 दिन बाद फिर कमिश्नर पद से राजीव मेहता का तबादला

नगर निगम पार्षदों के विरोध से आखिरकार एक बार फिर निगम आयुक्त राजीव मेहता को हटा दिया गया है। दूसरी टर्म में वे केवल 25 दिन तक ही निगम के आयुक्त रह सके। इस बार शुरू से ही पार्षदों ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। 21 जनवरी को सदन की बैठक आठ घंटे तक चलाकर पार्षदों ने इरादा जाहिर कर दिया था। निगम में बढ़ते टकराव के बाद आखिरकार सरकार ने राजीव मेेहता के स्थान पर डीसी निशांत यादव को निगम की जिम्मेदारी सौंपी है। गौरतलब है कि निशांत यादव निगम आयुक्त के बाद से ही करनाल के डीसी बने हैं। निगम आयुक्त के तबादले को लेकर अन्य कयास भी लगाए जा रहे हैं। एक तो गुरुवार को सीएम मनोहर लाल का करनाल आना और शहर का फीडबैक लेना। दूसरा, बताया ये भी जा रहा है कि फरवरी माह में राजीव मेहता के बेटे की शादी है, इसलिए वे खुद चार्ज छोड़ना चाह रहे थे। उधर, पार्षदों का कहना है कि शहर के विकास में जो भी अधिकारी बाधा पहुंचाएगा, उसको सहन नहीं करेंगे।
बता दें कि तबादलों की सूची 29 दिसंबर को जारी हुई थी। इसमें निगम कमिश्नर निशांत यादव को कमिश्नर से बदलकर डीसी लगाया गया था और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के सीईओ एवं पूर्व कमिश्नर राजीव मेहता को दोबारा से कमिश्नर बनाया गया था। अब फिर से राजीव मेहता के स्थान पर निशांत यादव को निगम कमिश्नर का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। मेहता और पार्षदों में इससे पहले भी कई बार टकराव के मामले सामने आते रहे हैं। इसी के चलते पहले उन्हें निगम आयुक्त पद से हटाकर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का सीईओ लगाया गया था।
एक अधिकारी पर हो चार्ज
पार्षद एडवोकेट नवीन ने कहा कि नगर निगम करनाल का काम बहुत ज्यादा है। इसके लिए जो अधिकारी निगमायुक्त लगाया जाए, उनके पास दूसरा कोई चार्ज नहीं होना चाहिए। दोनों तरफ के कामों में अधिकारी किसी एक तरफ का काम अच्छे से नहीं निभा पाते। ऐसे अधिकारियों की स्थिति सभी समझ सकते हैं।
टेंडर वाली फाइलों को रोक रहे थे कमिश्नर
वार्ड 15 के पार्षद युद्धवीर सैनी ने बताया कि निगम कमिश्नर राजीव मेहता ने दोबारा से ज्वाइन करने के बाद कई टेंडर लगी फाइलों को रोका हुआ था। इससे शहर का विकास नहीं हो पा रहा था। ऐसा लगभग हर वार्डों में किया जा रहा है। इसके अलावा कई कामों को पुराने शहर पानीपत के ठेकेदारों को दिया हुआ है, जो मनमर्जी करते हैं।
विकास करवाने वाले अधिकारी का करेंगे सहयोग
वार्ड 17 के पार्षद जोगेंद्र शर्मा ने बताया कि उन्हें शहर के विकास के लिये चुना गया है। हर पार्षद को वार्ड के हजारों लोगों को जवाब देना होता है। ऐसे में जो भी अधिकारी विकास में सहयोग करेगा। उसके साथ रहेंगे और जो विकास कामों में रुकावट बनेगा। उसके खिलाफ पार्षद एकजुट होते रहेंगे।
जिले के विकास के लिये काम किया जा रहा है। हमारा पूरा फोकस चल रही परियोजनाओं को जल्दी पूरा कराना है। साथ ही सीएम से संबंधित परियोजनाओं को गंभीरता से लिया जा रहा है। निगम के अंतर्गत काफी विकास कार्य चल रहे हैं। विकास को और गति दी जाएगी। -निशांत यादव, डीसी करनाल।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us