विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in Haryana: प्रदेश में महामारी से पांचवी मौत, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 141

हरियाणा में कोरोना महामारी से पांचवी मौत हो गई है। वहीं ताजा बुलेटिन के मुताबिक, प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 141 है।

8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

पंचकूला

बुधवार, 8 अप्रैल 2020

ओपीडी के सवाल पूछिए, जवाब विशेषज्ञ देंगे

डीगढ़। कोरोना महामारी की वजह से अस्पतालों और क्लीनिक की ओपीडी बंद हैं। ऐसे में छोटी-बड़ी दिक्कतों के लिए डाक्टरों से लोग संपर्क नहीं कर पा रहे। ऐसे में लोगों की मुश्किलें बढ़ गईं हैं। अमर उजाला और शहर के वरिष्ठ डाक्टरों ने मिलकर इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश की है। जब तक ओपीडी नहीं खुलती, तब तक शहर के वरिष्ठ डाक्टर अमर उजाला के माध्यम से लोगों की बीमारी से संबंधित सवालों के जवाब देंगे। आप अपने सवाल ई-मेल या 8054009839 पर व्हाट्सएप करें।
आप अप सवाल शाम पांच बजे तक भेज सकते हैं। इन सवालों के जवाब अगले दिन के अंक में प्रकाशित किए जाएंगे। आप सामान्य खांसी-बुखार, डायबिटीज, यूरोलॉजी, सर्जरी, हाइपरटेंशन, कोरोनावायरस, थायराइड और बच्चों के रोग से संबंधित सवाल पूछ सकते हैं।
ये हैं हमारे पैनलिस्ट
डॉ. संजीव भाटिया
डायरेक्टर, ग्लोबल हेल्थ केयर
डॉॅ. गुरप्रीत सिंह भाटिया
एमडी (इंटरनल मेडिसिन)
डॉ. संजीव सिंगला
बच्चों के विशेषज्ञ
लैंडमार्क हास्पिटल सेक्टर 33
... और पढ़ें

कोरोना: मुसीबत की घड़ी में पीड़ितों की मदद को बढ़े हाथ, आप भी बनें दानवीर...करें सहयोग

कोरोना महामारी के दौरान लोगों की मदद करने के काम में जुटे पीजीआई के कर्मचारियों ने एक और पहल की है। पीजीआई के संकाय और गैर संकाय कर्मचारियों ने अपना एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री राहत कोष में देने का निर्णय लिया है।

पीजीआई के डायरेक्टर डा. जगतराम ने बताया कि सभी डॉक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ और कर्मचारियों का एक दिन का वेतन 2.15 करोड़ रुपये हुआ है, जिसे राहत कोष के माध्यम से जरूरतमंदों की मदद के लिए दिया जा रहा है। पीजीआई के स्टाफ ने हमारी एक अपील पर अपना एक दिन का वेतन दान किया है।

कोरोना से जंग में हम हर स्तर पर बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। इस संकट की घड़ी में चंडीगढ़ के प्रशासक बीपी सिंह बदनौर का पूरा सहयोग मिल रहा है। पीजीआई में कोरोना से बचाव के सभी साधन उपलब्ध हैं।

पीजीआई को दिए 500 मास्क
प्रॉपर्टी कंसलटेंट एसोसिएशन ने सोमवार को पीजीआई के डायरेक्टर डॉ. जगतराम को 500 एन-95 मास्क सौंपे। यह जानकारी कमलजीत सिंह पंछी ने दी।
... और पढ़ें

लॉकडाउनः सरकारी स्कूलों के लिए ऑनलाइन क्लास बनी चुनौती, बच्चे बोले- कहां से लाएं कंप्यूटर

चंडीगढ़ के लगभग सभी प्राइवेट स्कूलों ने एक हफ्ते पहले विद्यार्थियों की ऑनलाइन कक्षाएं लेनी शुरू कर दी है। लेकिन सरकारी स्कूलों में डिजिटल शिक्षा चुनौती बन गई है। बच्चों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म मुहैया करवाया जाए, कैसे आसानी से उन्हें स्टडी मैटिरियल और लेक्चर उपलब्ध करवाया जाए, इसको लेकर शिक्षा विभाग लगातार बैठकें कर विचार-विमर्श करने में लगा है।

एमएचआरडी के बाद शुक्रवार को प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने भी सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को ऑनलाइन शिक्षा देने के निर्देश दिए हैं। हर साल अप्रैल में बच्चों की कक्षाएं लगनी शुरू हो जाती हैं। लेकिन इस बार कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन के चलते स्कूल बंद है। ऐसे में बच्चों को घर पर ही ऑनलाइन तरीके से पढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग रणनीति तैयार करने में लगा है जिससे बच्चों का समय व्यर्थ ना जाए।

यूटी के शिक्षा निदेशक रूबिंदरजीत सिंह बराड़ ने बताया कि शहर के कुछ प्राइवेट स्कूलों ने अप्रैल की शुरुआत से ही बच्चों के लिए ऑनलाइन शिक्षा का प्लेटफॉर्म तैयार कर कक्षाएं लेनी शुरू कर दी है। सरकारी स्कूलों के लिए डिजीटल शिक्षा एक चुनौती है। यहां ज्यादातर बच्चे शहर की कॉलोनियों और गांवों से आते हैं। उनके पास कंप्यूटर, नेट आदि की सुविधा नहीं हैं। आलम यह है लॉकडाउन के बाद इनमें कई घरों में पहले ही समस्याएं चल रही है और उनके पास डिजिटल शिक्षा के रिर्सोसेज है या नहीं यह भी देखना पड़ेगा।

ऐसे में हम हर पहलू को ध्यान में रखते हुए प्लानिंग कर रहे हैं, जिसके तहत सभी बच्चों को एक प्लेटफॉर्म पर डिजीटली पढ़ाया जा सके। विभाग इसके लिए लगातार एससीईआरटी और शिक्षा विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों के साथ बैठकें करने में लगा है। सरकारी स्कूलों में डिजीटल शिक्षा की शुरूआत में अभी चार से पांच दिन का समय लग सकता है। - बॉक्स - गूगल एप्पस और व्हाट्सएप्प के छात्रों को पढ़ा रहे देव समाज स्कूल-21 ने डिजिटल माध्यम से बच्चों की कक्षाएं लेनी शुरू की है।

छात्रों को पाठ्यक्रम पूरा कराने के लिए स्कूल की ओर से गूगल क्लास, गूगल शीट्स, गूगल डॉक्स, गूगल स्लाइड और व्हाट्सएप के माध्यम से पढ़ाई शुरू करा दी गई है। स्कूल प्रिंसिपल लवलीन बेदी ने कहा शिक्षकों की टीम ने ऑनलाइन अध्ययन सामग्री तैयार की है। साथ ही एसाइनमेंट भी ऑनलाइन ही छात्रों को भेजे और उनसे मंगवाए जा रहे हैं। इनका मूल्यांकन इंटरनेट पर किया जा रहा है। इस तरह से हम छात्रों को हाथ के हाथ फीडबैक दे रहे हैं। शिक्षक भी इंटरनेट के जरिए ही छात्रों के संपर्क में हैं और इसी माध्यम से उनके प्रश्नों के उतर भी दे रहे हैं।

आईएसडीएसएसएसएस की चीफ कोऑर्डिनेटर सबीहा ढिल्लों मंगत ने कहा कि कोरोना समस्या समाप्त हो जाने के बाद जब नियमित कक्षाएं शुरू हो जाएंगी उस समय परीक्षाओं के लिए छात्रों को तैयार कराने के लिए सैल्फ असेसमेंट टैस्ट ऑनलाइन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। ऑनलाइन पढ़ाई के लिए कई विषयों के पाठों के अलग-अलग मॉड्यूल तैयार किये गये हैं।
... और पढ़ें

Coronavirus in Haryana: प्रदेश में महामारी से पांचवी मौत, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 141

हरियाणा में कोरोना महामारी से पांचवी मौत हो गई है। वहीं ताजा बुलेटिन के मुताबिक, प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 141 है। गुरुग्राम में फाजिलपुर निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग कोरोना संक्रमित था। बुधवार को अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मंगलवार देर रात ही गंभीर हालत में बुजुर्ग को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

बता दें कि प्रदेश में निजामुद्दीन मरकज से लौटे संक्रमितों व्यक्तियों की संख्या 90 पहुंच गई है। नूंह और पलवल में सबसे ज्यादा जमाती पॉजिटिव पाए गए हैं। उधर, नल्हड़ मेडिकल कॉलेज को कोविड अस्पताल बना दिया गया है। यहां पर सिर्फ कोरोना संक्रमित मरीजों का ही इलाज किया जा रहा है।

हेल्थ बुलेटिन के तहत, 21676 लोगों को निगरानी में रखा गया है, जबकि 16770 लोग घरों में क्वारंटीन हैं। अब तक 20845 विदेश से लौटे लोगों की पहचान की गई है। 2520 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, जिनमें से 1821 निगेटिव मिले। 141 सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 558 की रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा 687 लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है। 4906 लोगों का क्वारंटीन पीरियड खत्म हो चुका है। साथ ही पॉजिटिव पाए गए 141 लोगो के संपर्क में आने वाले 831 लोगों के नामों का खुलासा हुआ है।

इस वक्त प्रदेश में कुल 141 कोरोना संक्रमित मरीजों में अंबाला के 3, भिवानी के 2, चरखी दादरी के 1, फरीदाबाद के 28, गुरूग्राम के 20, हिसार का 1, करनाल के 5, कैथल का 1, पलवल के 28, नूंह के 38, पानीपत के 4, पंचकूला के 2, फतेहाबाद का 1, जींद का 1, रोहतक का 1, सिरसा के 3 व सोनीपत के 2 मामले शामिल हैं।
... और पढ़ें
कोरोना वायरस कोरोना वायरस

गांवों और शहरों में प्रथम चरण का सैनिटाइजेशन पूरा

पंचकूला। कोरोना संक्रमण से निजात दिलाने के लिए जिला प्रशासन जिले के सभी गांवों एवं शहरों को प्रथम चरण में सैनिटाइज कर चुकी है। डीसी मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि दूसरे चरण की ग्राम स्तर पर सैनिटाइजेशन की व्यवस्था सरपंचों के माध्यम से की जा रही है। इसमें ग्राम सचिवों को भी शामिल किया गया है।
उन्होंने बताया कि सैनिटाइजेशन के लिए ग्राम स्तर पर स्प्रे टंकियां उपलब्ध करवाई गईं तथा सफाई व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ग्राम स्तर पर ठीकरी पहरा लगाने के लिए जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी कंवर दमन सिंह को नोेडल अधिकारी नियुक्त कर सभी गांवों में सैनिटाइज करवाने के निर्देश दिए। ठीकरी पहरा में ग्रामीणों द्वारा स्वयं बाहर से आने-जाने वाले व्यक्तियों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है।
निगम क्षेत्र सैनिटाइज करने का अभियान जारी रहेगा
डीसी ने बताया कि नगर निगम की ओर भी विशेष स्प्रे अभियान चलाकर निगम क्षेत्र को सैनिटाइज किया गया है। यह अभियान आगे भी जारी रहेगा। नगर निगम द्वारा ट्रैक्टर एवं अन्य गाड़ियों के माध्यम से सैनिटाइज किया गया है। इसके साथ ही सफाई की भी व्यवस्था की जा रही है।
... और पढ़ें

कालका में प्रशासन ने बंद करवाई लोकल मंडी

कालका। किसान मंडी स्थल पर सुबह के समय रोजाना लगने वाली लोकल सब्जी मंडी को प्रशासन ने बंद करवा दिया। मंगलवार को मार्केट कमेटी के कर्मचारी यहां सामान बेचने के लिए आने वाले दुकानदारों को यहां पर सामान न लगाने की हिदायत देते दिखाई दिए। इतना ही नहीं, कालका पुलिस भी इन दुकानदारों से अनाउमेंट कर यहां पर सामान न लगाने को कहती दिखाई पड़ी। मंडी नहीं लगने से खरीदारी करने वाले लोगों को भी सामान न लगने के चलते खाली हाथ लौटना पड़ा।
बता दें कि 6 अप्रैल को प्रकाशित होने वाले अंक में अमर उजाला ने इस लोकल मंडी के मुद्दे को प्रमुखता के साथ उठाते हुए प्रशासन को चेताया था कि कालका किसान मंडी स्थल पर रोजाना सुबह के समय लगने वाली लोकल सब्जी मंडी में लगने वाली भीड़ कोरोना संक्रमण के खतरे को न्योता दे रही है और यहां पर सामाजिक दूरी समेत अन्य नियमों का पालन भी नहीं हो रहा है।
कालका के एसडीएम राकेश संधू ने खबर पर संज्ञान लेते हुए मार्केट कमेटी के अधिकारियों को इस संबंध में उचित कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। इसके बाद मंगलवार को यहां पर लोकल मंडी लगाने से मना कर दिया गया है।
... और पढ़ें

पीयू की हॉस्टल में रहे विद्यार्थियों को ये कैसी राहत, सामान खरीदने के लिए देंगे 500 रुपये, बाद में लेंगे वापस

चंडीगढ़। पंजाब यूनिवर्सिटी ने हॉस्टलों में रह रहे विद्यार्थियों को राहत दी है। इन विद्यार्थियों पास सामान खरीदने के लिए पैसे खत्म हो गए थे। पीयू ने प्रत्येक स्टूडेंट को 500 रुपये देने का निर्णय लिया है। यदि कोई विद्यार्थी सामान लेकर आ भी गए और अगर वह बिल लगाएंगे तो पीयू उन्हें 500 रुपये तक दे देगा। लेकिन सामान्य स्थिति होने पर पीयू इन पैसों को वापस ले लेगा।
कोरोना के चलते 22 मार्च को पहला लॉकडाउन था जो जनता कर्फ्यू के नाम से जाना गया। यह कर्फ्यू लगा तो पीयू के तमाम विद्यार्थी अपने घर चले गए। उसके बाद बाकी विद्यार्थी 24 मार्च तक चले गए। दूरस्थ क्षेत्रों के विद्यार्थी नहीं जा पाए। इनकी संख्या 200 से अधिक है। यह अपने-अपने हॉस्टलों में रह रहे हैं। मेस में इनके खाने की व्यवस्था की गई है।
विद्यार्थियों ने पीयू प्रशासन तक पहुंचाई अपनी बात तो लिया निर्णय
लॉकडाउन को लगभग दो सप्ताह हो गए। इसी बीच स्टूडेंट्स के पास पैसे की कमी महसूस होने लगी। उनके पास साबुन, तेल, टूथपेस्ट व अन्य जरूरी सामान खत्म हो गया। इस मामले को कुछ विद्यार्थियों ने पीयू प्रशासन तक पहुंचाया। इसको पीयू ने गंभीरता से लिया और आपात बैठक आयोजित की गई। प्रत्येक विद्यार्थी को 500 रुपये देने का निर्णय लिया गया। पीयू प्रशासन यह भी सोच रहा है कि पीयू की एक दुकान को तय कर दें कि स्टूडेंट्स जो जरूरी सामान खत्म हो जाए वह यहां से ले ले। साथ ही उसका बिल पीयू प्रशासन को मुहैया कराए। उसका भुगतान कर दिया जाएगा या पीयू विद्यार्थियों को भी रकम देने का मन बना रहा है। बैठक में जो निर्णय हुआ उसका प्रस्ताव तैयार कर वीसी प्रो. राजकुमार के पास भेज दिया गया। वह जल्द ही इसे फाइनल मंजूरी देंगे। विद्यार्थियों को इस बात का पता लगा तो उन्होंने राहत की सांस ली है।
मदद कर रहे हैं तो फिर वापसी क्यों?
देशभर में कोरोना लगातार पैर पसार रहा है। इस दौरान लोगों की मदद के लिए लोग आगे आ रहे हैं। कोई राशन बांट रहा है तो कोई अन्य मदद दे रहा है। पीएम फंड में भी पैसे लोग भेज रहे हैं। यह सब मदद के नाम पर हो रहा है। यह मदद वापस नहीं होगी। कुछ स्टूडेंट्स का कहना है कि वह भी लॉकडाउन में यहां फंसे हैं अन्यथा अपने घर होते। ऐसे स्थिति में पीयू उन्हें मदद दे रहा है तो फिर रकम वापसी की मांग क्यों की जा रही है। चाहे सामान्य स्थिति आने पर हो या फिर कोई और स्थिति बने। हालांकि विद्यार्थियों का कहना है कि पीयू अगर यह रकम नहीं लेगा तो उन्हें लाभ अधिक होगा, क्योंकि कोरोना के खत्म होने के बाद भी परिवारों के पास तुरंत पैसे नहीं होंगे।
... और पढ़ें

व्हाट्सएप ग्रुप में कोरोना का दहशत फैलाने वाले तीन और लोगों पर केस दर्ज

चंडीगढ़। व्हाट्सएप ग्रुप पर धर्म को जोड़कर कोरोना संक्रमण की दहशत फैलाने वाले मैसेज भेजना महंगा पड़ गया। साइबर सेल ने ग्रुप मेंबर की शिकायत पर व्हाट्सएप ग्रुप एडमिन, मेंबर और एक अन्य मामले में दो केसों में तीन लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 के तहत सेक्टर 34 और 17 थाने में मामला दर्ज करवाकर छानबीन में जुट गई है।
साइबर सेल को दी शिकायत में व्हाट्सएप ग्रुप मेंबर ने बताया कि वह एक ग्रुप का सदस्य है। आरोप है कि ग्रुप के ही एक सदस्य ने कोरोना को धर्म विशेष के साथ जोड़ते हुए ग्रुप में मैसेज डालकर अफवाह फैलाने का काम किया है। इस मेंबर ने जानबूझकर लोगों को भड़काने और गुमराह करने के उद्देश्य से यह पोस्ट डाला है। शिकायत के आधार पर साइबर सेल ने सेक्टर 17 पुलिस स्टेशन में एडमिन और मेंबर के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। वहीं, सेक्टर 34 थाना के अंतर्गत व्हाट्सएप पर कोरोना से जोड़कर धार्मिक भावनाओं को भड़काने का दूसरा मामला सामने आया। शिकायतकर्ता का आरोप था कि उसके व्हाट्सएप के नंबर पर एक व्यक्ति ने कोरोना को धर्म से जोड़ते हुए भड़काने वाला मैसेज भेजा है। इसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बता दें कि बीते शनिवार को फेसबुक पेज पर कोरोना धर्म से जोड़कर वीडियो अपलोड की गई थी। शिकायत के आधार पर सारंगपुर और सेक्टर-3 थाना पुलिस ने मामला दर्ज किया था।
... और पढ़ें

आठ युवकों ने लॉकडाउन तोड़ा, मामला दर्ज

पिंजौर। लॉकडाउन के दौरान सीआरपीसी की धारा-144 की अवहेलना करने के आरोप में पुलिस ने आठ युवकों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार अमरावती चौकी पुलिस लॉकडाउन के दौरान गांव माजरी के समीप गश्त पर थी। इस दौरान वहां खुले मैदान में गांव इस्लामनगर पंगा निवासी बलबीर, रवि, सीताराम, प्रदीप, कुलदीप, प्रदीप, संदीप और सतबीर बैठे हुए थे। जब उन लड़कों से लॉकडाउन के दौरान वहां इकट्ठा होने का कारण पूछा तो उन्होंने उसकी उचित वजह नहीं बताई। इस पर पुलिस ने उन सभी पर धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में आईपीसी की धारा 188, 269 के तहत मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी। ... और पढ़ें

कर्फ्यू में गेड़ी मारने वाले 265 राउंडअप, 4 गिरफ्तार और 239 वाहन जब्त

चंडीगढ़। कर्फ्यू के दौरान बिना वजह घर से बाहर निकलने वाले लोगों पर पुलिस लगातार शिकंजा कस रही है। इसके बावजूद लोग घरों से बाहर निकलने पर बाज नहीं आ रहे हैं। कर्फ्यू के दौरान बेवजह गेड़ी मार रहे लोगों पर पुलिस ने कड़ी कार्रवाई कर उनके वाहन जब्त किए। पिछले 24 घंटे में पुलिस ने शहर के अलग-अलग जगहों से 265 लोगों को राउंडअप किया गया, जो बेवजह सड़कों पर घूम रहे थे। इसके अलावा 4 लोगों को गिरफ्तार कर कुल 239 वाहनों को जब्त किया। वहीं 114 वाहनों को पूछताछ के लिए रोका गया। मंगलवार को सबसे ज्यादा हुड़दंग के मामले ईस्ट डिवीजन के अंतर्गत सामने आए। पुलिस ने ईस्ट डिवीजन से 155, सेंट्रल से 52 और साउथ डिवीजन से 58 लोगो को राउंडअप किया है। अगर बात करें 23 मार्च के मध्यरात्रि से अब तक कि तो पुलिस कुल 9260 लोगों को राउंडअप कर चुकी है। साथ ही 105 मामले दर्ज कर कुल 125 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें ईस्ट डिवीजन से 5466, सेंट्रल से 2055 और साउथ डिवीजन से 1739 लोगो को राउंडअप किया गया है, जबकि 5022 वाहन चेकिंग के दौरान 1932 वाहनों को जब्त किया गया है। इसके अलावा पुलिस लोगों को रोजाना कर्फ्यू के चलते घरों में ही रहने हिदायत देती नजर आ रही है। पुलिस ने साफ किया है कि यदि कोई भी शख्स बिना कोई वजह घर से बाहर निकलता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। ... और पढ़ें

ग्रेन मार्केट एंट्री प्वाइंट पर लगेगा 16 फुट का सैनिटाइजर बॉक्स

चंडीगढ़। सेक्टर-26 स्थित ग्रेन मार्केट को सैनिटाइज करने के बाद अब मार्केट में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति को सैनिटाइज किया जाएगा। इसके लिए नगर निगम की ओर से मार्केट के एंट्री प्वाइंट पर 16 फुट लंबा एक सैनिटाइजर बॉक्स लगाया जा रहा है। नगर निगम ने एहतियात के तौर पर मार्केट के गेट पर यह बॉक्स लगा रखा है।
बता दें कि चंडीगढ़ में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए यूटी प्रशासन की ओर से कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं। संक्रमण न फैले इसे लेकर सोमवार को ग्रेन मार्केट की सफाई के बाद उसे पूरी तरह से सैनिटाइज किया गया। अब निगम की ओर से ग्रेन मार्केट में प्रवेश करने वाले हर एक व्यक्ति को सैनिटाइज करने की व्यवस्था की है। इसके लिए निगम की ओर से मार्केट के गेट पर 16 फुट का स्टील और फाइबर से बनाया गया एक सैनिटाइज बॉक्स लगाया जा रहा है। इसमें लगे फव्वारों से मार्केट में प्रवेश करने वाले व्यक्ति पर सैनिटाइजर की बौछार की जाएगी, जिससे व्यक्ति में संक्रमण की सभी संभावनाएं समाप्त हो जाएं।
शहर में और स्थानों पर भी लगेंगे सैनिटाइजर
ग्रेन मार्केट के बाद अब नगर निगम की ओर से शहर के कई अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर भी सैनिटाइजर बॉक्स को लगाने की तैयारी चल रही है। इसमें सेक्टर-9 स्थित यूटी सचिवालय, सेक्टर-17 स्थित डीसी ऑफिस आदि स्थान शामिल होंगे।
लोगों की सुरक्षा सर्वोपरि
कोरोना संक्रमण को रोकना प्रशासन की पहली प्राथमिकता है। इस दौरान ग्रेन मार्केट में सबसे ज्यादा भीड़ हो रही है। ऐसे में संक्रमण की अधिक संभावनाओं को देखते हुए यह सैनिटाइजर बॉक्स लगाया जा रहा है। जल्द ही अन्य स्थानों पर भी ऐसे बॉक्स लगाए जाएंगे।
-केके यादव, कमिश्नर, नगर निगम, चंडीगढ़
... और पढ़ें

एडवाइजर ने ट्विटर पर दो घंटे शराब का ठेका खोलने पर मांगे सुझाव, छिड़ गई बहस

चंडीगढ़। एडवाइजर मनोज परिदा के एक ट्वीट पर मंगलवार दिनभर बहस चलती रही। परिदा ने दोपहर 12 बजे ट्वीट किया कि उनके एक डॉक्टर दोस्त ने नशे के आदी व अन्य लोगों के लिए दो घंटे शराब के ठेके खोलने की बात कही है। उन्होंने इस पर शहरवासियों की राय मांगी।
परिदा के इस ट्वीट के बाद करीब 250 लोगों ने अपनी राय रखी। मामले को बढ़ता देख परिदा को ट्वीट कर बताना पड़ा कि कर्फ्यू के दौरान शराब का कोई ठेका खोला नहीं जाएगा। सुझाव मांगने के ट्वीट पर शहरवासियों ने कई तरह के जवाब दिए। कुछ लोगों का कहना था कि नशे के आदि लोग डिप्रेशन में चले जाएंगे। इसलिए शराब के ठेके कुछ समय के लिए खोल देने चाहिए। कुछ लोगों ने मजाकिया अंदाज में कहा कि कोरोना महामारी के दौरान डॉक्टर के सुझाव को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और ठेके खोल देने चाहिए। जबकि अन्य लोगों का कहना था कि शराब अनिवार्य चीजों की सूची में नहीं आती है, ऐसे में इसे खोलना ठीक नहीं रहेगा। कुछ अन्य लोगों ने ट्वीट कर यह भी कहा कि अगर आज शराब के ठेके खोलने की इजाजत दी जाती है, तो आने वाले दिनों में अन्य वस्तुओं के इस्तेमाल की भी इजाजत मांगी जाएगी। ऐसे में यह ठीक फैसला नहीं होगा।
... और पढ़ें

रेलवे कल से स्पेशल पार्सल एक्सप्रेस गाड़ियां चलाएगा

कालका। कोरोना महामारी के प्रकोप के चलते घोषित देश व्यापी लॉकडाउन के चलते जरूरी सामानों को देश के विभिन्न हिस्सों से एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए उत्तर रेलवे ने 9 अप्रैल से 16 अप्रैल तक विभिन्न रूटों पर पांच स्पेशल पार्सल एक्सप्रेस गाड़ियां चलाने का निर्णय लिया है। इसमें (1) नई दिल्ली-गुवाहाटी, (2) अमृतसर-हावड़ा, (3) दिल्ली-जम्मूतवी, (4) कालका-अंबाला, (5) देहरादून-दिल्ली जंक्शन शामिल है।
रेलवे से प्राप्त जानकारी के अनुसार कालका-अंबाला-कालका रूट पर गाड़ी संख्या 00454 कालका-अंबाला पार्सल एक्सप्रेस 9 अप्रैल से 15 अप्रैल तक रोजाना रात 8 बजे कालका रेलवे स्टेशन से रवाना होगी तथा रात्रि 9:50 बजे अंबाला रेलवेे स्टेशन पर पहुंचेगी। वहीं गाड़ी संख्या 00453 अंबाला-कालका पार्सल एक्सप्रेस 10 अप्रैल से 16 अप्रैल तक रोजाना अंबाला रेलवे स्टेशन से सुबह 4 बजे रवाना होगी तथा उसी दिन सुबह 5:50 बजे कालका रेलवे स्टेशन पर पहुंचेगी। इस दौरान दोनों ट्रेनों का स्टॉपेज चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर भी होगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us