विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

मजदूरों को डीसी मुहैया कराएंगे भोजन और दवाइयां, दुष्यंत बोले- श्रमिकों को जबरन अवकाश पर न भेजें

हाल ही में, निर्यातकों के लिए भी केंद्रीय जहाज रानी मंत्रालय की ओर से दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

सिरसा

मंगलवार, 31 मार्च 2020

बुखार में तप रहे चार वर्षीय बच्चे का गये थे इलाज कराने, एसडीएम ने गाड़ी का 13 हजार का चालान कर किया जब्त

कोरोना वायरस के बचाव को लेकर ऐतिहात के तौर पर लगाए गए लॉकडाउन के चलते सभी लोग घरों में बंद है, तो वहीं आपातकालीन स्थिति में भी घरों से बाहर निकलने वाले लोगों को स्थानीय प्रशासन के कड़े तेवरों का सामना करना पड़ रहा है। इस दौरान बुखार से तप रहे बेटे का इलाज कराकर घर जा रहे एक व्यक्ति के स्कार्पियो गाड़ी का एसडीएम ने चालान कर जब्त कर लिया।
बता दें कि शनिवार को गांव मिठ्ठी सुरेरां निवासी गौरव पुत्र भूप सिंह ने बताया कि वह अपने चार वर्षीय बेटे अयान की अचानक तबीयत बिगड़ने पर शहर के हनुमानगढ़ रोड़ स्थित बच्चों के एक निजी अस्पताल में उसे चेकअप करवाने के पश्चात अपने गांव वापस जा रहा था। गौरव ने बताया कि तभी शहर के अंबेडकर चौक स्थित नाके पर पहले से मौजूद एसडीएम दिलबाग सिंह ने उनकी गाड़ी रुकवा ली। उनकी बिना बात सुने ही उनकी गाड़ी का 13 हजार रुपये का चालान कर दिया। उन्होंने बताया कि जिसके पश्चात गाड़ी को जब्त करके उसे और उसके बेटे को धक्का देते हुए वहां से भाग जाने को बोला। गौरव ने बताया कि उसके पास गाड़ी के सभी दस्तावेज मौजूद थे, जिनको उसने डॉक्टर से मिलने से पहले शहर में प्रवेश करने के दौरान आंबेडकर चौक स्थित नाके पर तैनात पुलिसकर्मियों को दस्तावेज चेक करवाकर और अपना उचित कारण बताते हुए शहर में उनकी इजाजत से ही प्रवेश किया था। बता दें कि गौरव कुमार ने इस संबंध में जिला उपायुक्त सिरसा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल को अपनी गाड़ी के सभी दस्तावेजों सहित ओपीडी रसीद और किए गए चालान की प्रति भेजकर शिकायत की है। उन्होंने अपनी शिकायत के माध्यम से एसडीएम दिलबाग सिंह पर अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
एसडीएम से पहले भी हो चुके हैं विवाद
लॉक डाउन में ही एसडीएम दिलबाग सिंह की विश्व हिंदू परिषद के एक पदाधिकारी और पेट्रोल पंप संचालक से भी विवाद हुआ था। पेट्रोल पंप संचालक अपने पंप के पैसे बैंक में जमा करवाने जा रहा है। वहीं इससे पहले भी एक सामाजिक कार्यकर्ता बरसाती पानी को लेकर हुई कहासुनी को मुख्यमंत्री मनोहर लाल, उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और रणजीत सिंह चौटाला के समक्ष रख चुके हैं।
कोरोना वायरस जैसी महामारी के चलते देशभर में लॉकडाउन लागू, जिसके चलते पूरा शहर बंद है। शनिवार दोपहर गांव मिठ्ठी सुरेरां निवासी गौरव अपनी गाड़ी में बच्चे को चेकअप करवाकर वापस जा रहा था, जिसकी गाड़ी को आंबेडकर चौक नाके पर कागजात चेक करने के लिए रोका गया तो उसके पास गाड़ी के कोई कागजात नहीं थे, जिसके चलते पुलिस ने उसकी गाड़ी का चालान कर जब्त किया है, वहां मौके पर डीएसपी जगदीश चंद्र काजला भी थे। गाड़ी जब्त होने के पश्चात मैंने मानवता के नाते नाके पर मौजूद एक निजी गाड़ी में बीमार बच्चे को घर तक पहुंचाने का कार्य किया है। इसके अलावा मैंने गाड़ी चालक के साथ कोई अभद्र व्यवहार नहीं किया है।
-दिलबाग सिंह, एसडीएम ऐलनाबाद।
उपरोक्त घटना की मुझे जानकारी नहीं है। मैं घटना स्थल पर नहीं था। अगर किसी गाड़ी का चालान हुआ है, तो सबसे पहले मैं इसकी जानकारी लूंगा। बिना किसी कारण के किसी का चालान नहीं काटते, सबसे पहले हम इन विपरीत परिस्थितियों में समझाने का कार्य करते हैं।
-जगदीश चंद्र काजला, डीएसपी ऐलनाबाद।
... और पढ़ें

रहने और खाने की दिक्कत हुई तो पैदल ही चल पड़े घर

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 14 अप्रैल तक देेश को लॉकडाउन किया गया है। लेकिन प्रवासी मजदूरों को काम न मिलने के कारण काफी परेशानियां झेलनी पड़ रही है। इसी के चलते सिरसा से मजदूरों का पलायन हो रहा है। वहीं बठिंडा से आए करीब 11 मजदूरों को प्रशासन ने शुक्रवार की रात को सिरसा की झूंथरा धर्मशाला में ठहराया। हालांकि प्रशासन ने सोनी धर्मशाला में भी करीब 15 मजदूरों को ठहराया हुआ था। लेकिन एक रात ही रुकने के बाद शनिवार की सुबह बिहार के लिए पलायन कर गए।
बता दें कि बठिंडा रिफाइनरी में काम करने वाले मध्यप्रदेश के गौरी शंकर, नत्थी लाल, समरथ, लल्लू, शिवराज, दारा सिंह, संजू, कीरत राम ने बताया कि वे मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के रहने वाले हैं। काफी समय से बठिंडा की रिफाइनरी में काम करते हैं। लेकिन लॉक डाउन के कारण काम मिलना बंद हो गया। ऐसे में पैसे खत्म हो जाने के कारण वे वापस मध्य प्रदेश के लिए पैदल ही रवाना हो गए। इन लोगों ने बताया कि शुक्रवार को सिरसा प्रशासन ने उन्हें धर्मशाला में ठहराया और उनके खाने पीने की व्यवस्था की। वहीं सुबह गांव सिकंदरपुर के पास हाइवे पर पैदल जा रहे कई मजदूरों से बातचीत की गई। मजदूरों ने बताया कि वे कालांवाली में आरओबी निर्माण में लगे हुए थे, मगर लॉकडाउन की वजह से काम बंद हो गया है। ठेकेदार ने कह दिया कि अब तीन माह तक काम बंद रहेगा। ऐसे में उनके पास अब रोजगार का कोई साधन नहीं है, रहने और खाने-पीने की दिक्कत भी हो रही है। इसलिए अब वे अपने घर सहारनपुर, उत्तरप्रदेश पैदल ही जा रहे हैं। जब मजदूरों को बताया गया कि सिरसा में ही प्रशासन तथा स्वयंसेवी संगठनों की ओर से रहने और खाने-पीने की व्यवस्था की गई है इसलिए यहां रुक जाओ। इस पर मजदूरों ने कहा कि बाबूजी कितने दिन तक यहां खाना मिलेगा, आखिर घर तो जाना ही पड़ेगा क्योंकि उनके माता-पिता चिंता कर रहे हैं। घर पर रहेंगे तो कम से कम घरवालों को हमारी चिंता तो नहीं रहेगी।
इनमें से अधिकांश मजदूरों के पास रास्ते में खाने के लिए कोई सामान भी नहीं था और न ही रुपये। इसी प्रकार रानियां में मजदूरी करने वाले मजदूर भी हिसार रोड पर पैदल ही उत्तरप्रदेश के गोरखपुर जाते हुए मिले। उन्होंने भी कहा कि वे गोरखपुर के रहने वाले हैं। रानियां में रहकर मजदूरी कर रहे थे, अब काम बंद हो गया है। मालिक ने छुट्टी कर दी है। इसलिए अब उनके सामने रोजी- रोटी का संकट पैदा हो गया है। गाड़ियां बंद होने के कारण अब उन्हें पैदल ही जाना पड़ रहा है। इन मजदूरों को भी प्रशासन और संगठनों की ओर से किए गए प्रबंध के बारे में बताया तो उन्होंने भी कहा कि वे अपने घरों को ही लौटना चाहते हैं ताकि वहां सुरक्षित तो रह सकेंगे।
पुलिस ने कश्मीरियों को भिजवाया जम्मू-कश्मीर
दो दिनों से जम्मू कश्मीर जाने के लिए प्रशासन से गुहार लगाने वाले कश्मीरी युवाओं को सिरसा पुलिस ने शनिवार को उन्हें सिरसा से रवाना कर दिया। इन कश्मीरियों को बीते दिन शुक्रवार को जाने की अनुमति मिल गई थी। सिरसा पुलिस के डीएसपी राजेश कुमार चेची ने इन कश्मीरियों की पुलिस वेरिफिकेशन उनके गृह जिले से करवाई और इनके सिरसा से रवाना होने की व्यवस्था की। शनिवार को करीब 15 कश्मीरी युवक अपने गृह राज्य के लिए रवाना हुए। बाकी को अगले कुछ दिनों में रवाना किया जाएगा।
झूथरा धर्मशाला में रूके मजदूर।
झूथरा धर्मशाला में रूके मजदूर।- फोटो : Sirsa
... और पढ़ें

अपराजिता: दोहरी जिम्मेदारी भी निभा रहीं महिला पुलिस कर्मचारी

कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन में पूरे जिले में पुलिस कर्मचारी नाकों पर तैनात हैं। सुरक्षा के मद्देनजर लॉकडाउन का पालन कराने के लिए महिला पुलिस कर्मचारी नाकों पर डट अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहीं हैं। शहर में कई जगह तो ऐसी हैं कि महिला इंस्पेक्टर और महिला कांस्टेबल अकेले ही अपनी ड्यूटी कर रही हैं। वास्तव में इन दिनों वे अपने परिवार के साथ-साथ आमजन को भी लॉकडाउन के लिए प्रेरित करते हुए दोहरी जिम्मेदारी निभा रही हैं। सुबह से घर से निकली महिला पुलिस कर्मचारी रात नौ बजे अपने क्वार्टरों में वापस जाकर परिवार की सुध ले रही हैं। ऐसे में वे करीब 15 घंटे की ड्यूटी कर रही है।
डबवाली रोड पर महिला इंस्पेक्टर अरूणा अपनी टीम के साथ ड्यूटी कर रही हैं। उनकी टीम में एएसआई गुरमीत कौर, कांस्टेबल सुखविंद्र कौर, कांस्टेबल सुमन, पुष्पा भी नाके पर ड्यूटी दे रही हैं। ड्यूटी पर मौजूद महिला इंस्पेक्टर अरूणा सुबह पांच बजे उठती हैं और फिर दोनों बेटियों के लिए खाना तैयार करती हैं। उनकी एक सात साल की बेटी हैं और एक दो साल की। दोनों बच्चियों के लिए खाना तैयार करके उसके बाद वे रात नौ बजे तक नाके पर ड्यूटी करती हैं और फिर घर जाकर बच्चों की सुध लेती हैं। ऐसे में लॉकडाउन के समय में वे अपने परिवार के साथ साथ आमजन को भी कोरोना वायरस के प्रति जागरूक कर रही हैं। उनकी टीम में शामिल एएसआई गुरमीत कौर की भी यहीं दिनचर्या है। पूरा दिन नाके पर रहने के बाद करीब 15 घंटे की ड्यूटी के बाद ही वे रात को अपने घर में जाकर बच्चों और परिवार की सुध लेती हैं। वहीं कांस्टेबल सुखविंद्र कौर अपने भाई के साथ पुलिस लाइन क्वार्टर में रहती है। सुखविंद्र कौर का कहना है कि लॉकडाउन में अब तो वर्दी धोने के लिए भी समय नहीं निकलता। क्योंकि सुबह सात बजे से लेकर रात नौ बजे तक नाके पर ही तैनात रहती हैं।
... और पढ़ें

सिरसा आए पंजाब के विधायक को डीएसपी ने वापस भेजा

सिरसा पुलिस ने पंजाब के मानसा जिले के सरदूलगढ़ हल्के के विधायक दिलराज सिंह भूंदड को सिरसा में पहुंचने पर वापस भेज दिया। एमएलए के गाड़ी में उनके साथ करीब पांच लोग सवार थे। लेकिन महाराणा प्रताप चौक पर तैनात डीएसपी दिनेश यादव ने गाड़ी को रोक लिया और उसे चेतावनी देकर वापस भेज दिया।
जानकारी अनुसार दोपहर को मानसा जिले के सरदूलगढ़ हल्के के विधायक दिलराज सिंह भूंदड सिरसा पहुंचे। जब वे बार्डर के नाकों को पार कर सिरसा में बाबा महाराणा प्रताप चौक पर पहुंचे तो नाके पर मौजूद सुरक्षा कर्मचारी को विधायक ने परिचय दिया। सुरक्षा कर्मचारी डीएसपी दिनेश यादव के पास आया और एमएलए का परिचय दिया। सुरक्षा कर्मचारी ने कहा कि वे इमरजेंसी काम के सिलसिले में आए हैं। डीएसपी दिनेश यादव ने सुरक्षा कर्मचारी के पास डीसी की अनुमति पत्र या मूूवमेंट पास होने की जानकारी पूछी। लेकिन सुरक्षा कर्मचारी ने उनका उनके पास ड्यूटी पास है। डीएसपी ने कहा कि यदि उनके पास अनुमति पत्र नहीं है, इनके संबंधित अधिकारी को लिखा जाए और गाड़ी का चालान किया जाए। इसके बाद विधायक ने गाड़ी से उतरकर डीएसपी दिनेश यादव से चालान न काटने का अनुरोध किया। जिसके बाद डीएसपी दिनेश यादव ने एमएलए को चेतावनी देकर छोड़ दिया और गाड़ी को वापस सरदूलगढ़ में भेज दिया। डीएसपी दिनेश यादव ने कहा कि गाड़ी के कागजात पूरे थे। उनके पास मूवमेंट पास नहीं था। लेकिन चालक को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।
... और पढ़ें

एक लाख 40 हजार नगदी सहित छह जुआरी गिरफ्तार

शहर थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर गुरु तेग बहादुर नगर क्षेत्र में बने एक मकान में जुआ खेल रहे छह लोगों को 1 लाख 40 हजार की नगदी सहित काबू किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान भारती निवासी जेजे कॉलोनी, संजय कुमार निवासी गुरु तेग बहादुर नगर, ग्रीस निवासी एफ ब्लॉक, तनुज मेहता निवासी एफ ब्लॉक, अमनदीप निवासी गुरुतेग बहादुर नगर व सुरेश कुमार उर्फ बिट्टू निवासी एफ ब्लॉक के रूप में हुई है। जानकारी अनुसार शहर थाना पुलिस को किसी खास मुखबिर ने सूचना दी कि कुछ लोग गुरु तेग बहादुर नगर क्षेत्र में एक मकान में जुआ खेल रहे हैं। सूचना पर एक टीम तैयार कर मौके पर भेजा गया जहां से छह लोगों को काबू कर उनके कब्जे से एक लाख 40 हजार की नगदी और ताश के पत्ते बरामद किए। पुलिस टीम ने भारती निवासी जेजे कॉलोनी से तीन हजार, संजय कुमार निवासी गुरु तेग बहादुर नगर से दस हजार, ग्रीस निवासी एफ ब्लॉक से पांच हजार, तनुज मेहता निवासी एफ ब्लॉक छह हजार, अमनदीप निवासी गुरुतेग बहादुर नगर से चार हजार और सुरेश कुमार उर्फ बिट्टू निवासी एफ ब्लॉक से एक लाख 12 हजार रुपये बरामद किए। जुआ अधिनियम के साथ-साथ पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ प्रशासनिक आदेशों की उल्लंघन करने के आरोप में भी केस दर्ज किया है। जांच अधिकारी हेड कांस्टेबल सुनील कुमार ने बताया कि गिरफ्तार किए गये आरोपियों की जांच के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी। ... और पढ़ें

अब सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक खुलेंगी किराने की दुकानें

उपायुक्त रमेश चंद्र बिढान ने कहा कि कोरोना वायरस की रोकथाम और इसके फैलाव को रोकने के लिए लॉकडाउन किया गया है। लॉकडाउन में सभी को अपनी भागीदारी निभानी होगी तभी इस दिशा में सफलता हासिल की जा सकती है। लॉकडाउन की दृढ़ता से अनुपालना सुनिश्चित करने के उद्देश्य से आवश्यक वस्तुओं की दुकानों के खोलने के समय में बदलाव किया गया है।
उन्होंने बताया कि अब किराना की दुकानें सुबह 10 से दो बजे तक ही खुलेंगी। इसी प्रकार दूध या डेयरी उत्पादन की दुकानें सुबह छह से आठ बजे और सायं छह से आठ बजे तक, वेंडर के लिए सुबह छह से आठ बजे और शाम को छह से साढे़ आठ बजे का समय रहेगा। उन्होंने बताया कि फल और सब्जियों की दुकान खुलने का समय सुबह 9 से चार बजे तक का समय रहेगा। मेडिकल हाल का समय सुबह 10 से शाम पांच बजे तथा पेट्रोल पंप सुबह सात से शाम सात बजे तक खुले रहेंगे।
लॉकडाउन में आमजन को किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए प्रशासन ने पुख्ता प्रबंध किए हैं। आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई और आपूर्ति सुगमता से आमजन को हो इसके लिए जरूरी कदम उठाए गए हैं। प्रशासन द्वारा दुकानदारों के लिए गाइड लाइन जारी की गई है। इनकी अनुपालन गंभीरता से करें, ताकि लॉकडाउन को सफल बनाया जा सके। दुकानदार ध्यान रखें कि ग्राहक बाहर खड़ा हो और दो से ज्यादा व्यक्ति एक साथ उचित फासले के साथ रहेंगे। इसके लिए दुकान के बाहर चार फुट की दूरी के साथ गोल सर्कल बनाए जाए ताकि ग्राहक उसमें खड़ा रहे और बारी बारी से अपना सामान लेते रहे। ध्यान रहे कि दुकान पर ग्राहकों की संख्या पांच या छह से ज्यादा न हो। दुकानदार स्वयं और दुकान पर कार्य करने वाला व्यक्ति मास्क, दस्ताने और सैनिटाइजर के साथ रहे। दुकान के बाहर फिटकरी डेटोल का घोल पंप के साथ रखना जरूरी है। दुकानदार नाजायज रेट के साथ कालाबाजारी न करें और निर्धारित मूल्य पर ही सामान बेचें। उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रशासन की पैनी नजर रहेगी। कोई भी नियमों की उल्लंघन करता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में सिरसा आए पंजाब के विधायक को डीएसपी ने वापस भेजा, नहीं था डीसी का अनुमति पत्र

सिरसा पुलिस ने पंजाब के मानसा जिले के सरदूलगढ़ से विधायक दिलराज सिंह भूंदड को सिरसा में पहुंचने पर वापस भेज दिया। एमएलए की गाड़ी में उनके साथ करीब पांच लोग सवार थे। लेकिन महाराणा प्रताप चौक पर तैनात डीएसपी दिनेश यादव ने गाड़ी को रोक लिया और उसे चेतावनी देकर वापस भेज दिया। 

जानकारी अनुसार दोपहर को मानसा जिले के सरदूलगढ़ से विधायक दिलराज सिंह भूंदड सिरसा पहुंचे। जब वे बार्डर के नाकों को पार कर सिरसा में बाबा महाराणा प्रताप चौक पर पहुंचे तो नाके पर मौजूद सुरक्षा कर्मचारी को विधायक ने परिचय दिया। सुरक्षा कर्मचारी डीएसपी दिनेश यादव के पास आया और एमएलए का परिचय दिया। 

सुरक्षा कर्मचारी ने कहा कि वे इमरजेंसी काम के सिलसिले में आए हैं। डीएसपी दिनेश यादव ने सुरक्षा कर्मचारी के पास डीसी की अनुमति पत्र या मूवमेंट पास होने की जानकारी पूछी। लेकिन सुरक्षा कर्मचारी ने उनका उनके पास ड्यूटी पास है। डीएसपी ने कहा कि यदि उनके पास अनुमति पत्र नहीं है, इनके संबंधित अधिकारी को लिखा जाए और गाड़ी का चालान किया जाए। 

इसके बाद विधायक ने गाड़ी से उतरकर डीएसपी दिनेश यादव से चालान न काटने का अनुरोध किया। जिसके बाद डीएसपी दिनेश यादव ने एमएलए को चेतावनी देकर छोड़ दिया और गाड़ी को वापस सरदूलगढ़ में भेज दिया। डीएसपी दिनेश यादव ने कहा कि गाड़ी के कागजात पूरे थे। उनके पास मूवमेंट पास नहीं था। लेकिन चालक को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।
... और पढ़ें

पर्ची कटवाने को लाइन में लगी महिला की अचानक तबियत बिगड़ने से मौत

डीएसपी ने विधायक को वापस भेजा।
नागरिक अस्पताल में फ्लू ओपीडी में इलाज करवाने के लिए पहुंची महिला पर्ची कटवाने के समय इंतजार करते समय सोमवार को मौत हो गई। परिवार के सदस्यों का कहना है कि महिला को सांस लेने में परेशानी हो रही थी। सिविल अस्पताल के चिकित्सकों ने कोरोना वायरस संदिग्ध मानकर महिला के ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजे हैं। शव को पॉलिथीन में कवर करके परिजनों को सौंप दिया गया।
सुबह शहर के एक मोहल्ले में रहने वाला व्यक्ति अपनी पत्नी को लेकर सिविल अस्पताल पहुंचा। पर्ची बनवाने के लिए महिला लाइन में लगी थी। लाइन में लगकर वह नीचे बैठ गई, इसी दौरान अचानक उसकी तबीयत खराब हुई और वह फर्श पर गिर पड़ी। जिससे देख महिला के पति ने डॉक्टर को सहायता के लिए बुलाया। लेकिन तब तक 45 वर्षीय महिला की हृदय गति रुक चुकी थी, डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अपनी मां का शव लेने के लिए सिविल अस्पताल के बाहर इंतजार कर रहे उनके बेटे ने बताया कि मां को सात-आठ दिन पहले खांसी हो गई थी, जिसकी दवा नजदीक के डॉक्टर से ली थी। रविवार तक मां बिलकुल स्वस्थ हो चुकी थी, रविवार रात को मां ने खाना बनाकर खिलाया। लेकिन थोड़ी देर बाद छाती में दर्द होने लगा, साथ ही सिर में भी भारीपन महसूस कर रही थी। सोमवार सुबह मैंने अपनी मां को चाय बनाकर दी, उन्होंने चाय भी पी। इसके बाद वह दवा लेने के लिए पिता के साथ अस्पताल को निकली। थोड़ी देर बाद पिता का फोन आया कि मां की मृत्यु हो चुकी है। सिविल अस्पताल के चिकित्सकों के कोरोना प्रकोप के चलते महिला का ब्लड सैंपल लेकर पुणे भेज दिया।
कोट
मृतक को खांसी और सांस लेने में परेशानी हो रही थी। कोरोना संदिग्ध के रूप में ब्लड सैंपल लिए गए हैं। रिपोर्ट आने तक कुछ कहा नहीं जा सकता। शव परिजनों को सौंप दिया गया है। साथ ही हिदायत दी गई है कि पूरी सावधानी से अंतिम संस्कार किया जाए।
-आरके दहिया, चिकित्सा अधीक्षक, नागरिक अस्पताल सिरसा।
... और पढ़ें

Coronavirus in Haryana: फरीदाबाद में एक और केस, अब कुल 22 मरीज, छह ठीक होकर घर पहुंचे

हरियाणा के फरीदाबाद जिले में एक और कोरोनाग्रस्त मरीज मिल गया है। इसके बाद प्रदेश में अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब 22 हो गई है। जबकि जिन लोगों को मेडिकल सर्विलांस के दायरे में रखा गया है। उनकी संख्या अब 13 हजार से ज्यादा हो गई है। लगातार बढ़ते जा रहे मामलों को लेकर प्रदेश सरकार पूरी तरह चिंतित और गंभीर है इनमें से अभी 6 मरीज ही ठीक हो पाए हैं।

प्रदेश में 22 पॉजिटिव केसों में से 10 मरीज गुरुग्राम, 4-4 मरीज फरीदाबाद और पानीपत व एक-एक मरीज पंचकूला, अंबाला, पलवल व सोनीपत के हैं। इन पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में 348 लोग अभी तक आ चुके हैं। जिन पर स्वास्थ्य महकमे की लगातार निगरानी बनी हुई। 243  संदिग्ध मरीजों को अस्पताल में भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा है। 

13621 लोगों को स्वास्थ्य महकमे ने मेडिकल सर्विलांस में रखा है। 666 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं जिनमें से अभी 459 सैंपल नेगेटिव आ चुके हैं। जबकि 187 सैंपल रिपोर्ट आना अभी बाकी है। प्रदेश में 7 कोरोनाग्रस्त मरीज ऐसे हैं जो ठीक हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। 

हरियाणा स्वास्थ्य महकमे के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा के अनुसार प्रदेश में इस वायरस का प्रभाव ज्यादा न बढ़े। इसे लेकर हरियाणा सरकार बेहद गंभीर है। उनके अनुसार इसी के मद्देनजर लगातार लोगों पर चिकित्सा निगरानी का दायरा बढ़ाया जा रहा है। जबकि लोगों से भी आग्रह है कि वे भी स्वास्थ्य विभाग की हिदायतों का पालन करें और स्वास्थ्य कर्मचारियों को पूरा सहयोग करें।
... और पढ़ें

सिरसा में 61 प्रवासी को प्रशासन ने सैनिटाइज कर रात में ठहराया

पंजाब के बठिंडा जिला से सिरसा में मजदूरों के आने का सिलसिला थम नहीं रहा। इसी के चलते रविवार को बठिंडा से करीब 39 प्रवासी लोगों का जत्था सिरसा बस स्टैंड पहुंच गया। ऐसे में प्रशासन सतर्क हो गया। सूचना मिलते ही नगर परिषद के सेनेटरी शाखा के इंस्पेक्टर जोगिंद्र सिंह, जेई राजेश भांभू, धर्मेंद्र फौजी, इंद्रजीत बिश्नोई ने बस स्टैंड पर पहुंचकर उन्हें सैनिटाइज करवाया। इसके बाद सभी को सिविल अस्पताल में भेजा गया और उनका चेकअप किया गया। वहीं इसके बाद मेहनाखेडा से भी करीब 22 मजदूरों का जत्था सिरसा पहुंच गया। प्रशासन ने सभी मजदूरों को खेल स्टेडियम में रात को ठहरया और उनके खाने पीने का इंतजाम किया। मजदूरों ने कहा कि लॉक डाउन में सब काम बंद हो गया है। इसलिए वे वापस यूपी जाना चाहते हैं। बता दें कि इससे पहले शनिवार को भी बठिंडा रिफाइनरी से करीब 11 मजदूर सिरसा आए थे और आगे जाना चाहते थे, लेकिन प्रशासन ने उन्हें सिरसा की झूंथरा धर्मशाला में ही ठहराया। नगर परिषद के सेनेटरी इंस्पेक्टर जोगिंद्र सिंह ने बताया कि सभी मजदूरों को सैनिटाइज करवाकर ही ठहराया गया।
नाकों पर वाहनों की इंट्री दर्ज होना शुरू
अभी तक शहर में 16 नाकों पर वाहनों के आने जाने का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा जाता था। लेकिन रविवार को पुलिस ने शहर के सभी नाकों पर वाहनों के आने जाने का रिकॉर्ड रखने का काम शुरू कर दिया। हर पुलिस कर्मचारी नाके से गुजरने वाले वाहन की एंट्री दर्ज करते हुए वाहन का नंबर, चालक का नाम और स्थान को नोट कर रहा है। वहीं सिरसा पुलिस ने रविवार को ट्रक चालकों को भी राहत सामग्री उपलब्ध करवाई।
... और पढ़ें

दो युवकों को बुलाकर अस्पताल में लगाई क्वारंटीन की मुहर, प्रशासन ने कहा अनुचित

कोरोनावायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन का निरीक्षण करने उपमंडल ऐलनाबाद के एसडीएम रानियां में अचानक पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बालासर मोड़ पर जाते हुए एक बाइक पर सवार दो युवकों संदिग्ध हालत में रोककर पूछताछ की जो कि दोनों युवक 21 मार्च को जयपुर से नाईवाला गांव में आए थे और स्वास्थ्य विभाग सिरसा कार्यालय द्वारा दूरभाष पर सूचित करके जांच करवाने और हाथ पर मुहर लगवाने के लिए बुलाए जाने के मामले में पकड़े गए।
प्रारंभिक जांच में दोनों युवकों ने अपना नाम विपिन और कुलदीप बताया जोकि जयपुर राजस्थान में काम करते हैं। बाहर से आने वाले लोगों पर संदिग्ध जांच को लेकर जिला प्रशासन द्वारा इन दोनों को नाईवाला गांव में क्वारंटाइन किया हुआ है। पकड़े गए युवकों ने बताया कि जिला के ट्रॉमा सेंटर से उनके मोबाइल नंबर पर कॉल आई तथा उन्हें सिरसा के नागरिक के नागरिक अस्पताल में बुलाया गया। जहां पर उन्होंने सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिया है तथा उनके हाथों पर मुहर लगाकर गांव भेज दिया। नाईवाला गांव की ओर जाते समय दोनों युवक रानियां के बालासर मोड पर एसडीएम की टीम की पकड़ में आ गए जिस पर उन्होंने कड़ा संज्ञान लेते हुए एसएमओ डॉ नरेश सहारण को तुरंत जांच के आदेश दे दिए। एसडीएम दिलबाग सिंह ने बताया कि इस प्रकार स्वास्थ्य विभाग द्वारा किसी भी व्यक्ति को सामान्य अस्पताल में बुलाकर जांच करना अनुचित है। स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव में पहुंचकर उचित कार्रवाई करनी चाहिए जिस पर कड़ा संज्ञान लेते हुए एसडीएम ने दोषी खिलाफ कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए।
एसएमओ बोले:
इस बारे में एसएमओ डॉ. नरेश सहारण ने बताया कि एसडीएम के निर्देशानुसार इस मामले की जांच करवाई जाएगी जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दौरान नागरिकों को जरूरी सामान की उपलब्धता में न हो परेशानी : रणजीत सिंह

लॉकडाउन के दौरान आमजन को दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए योजनाबद्ध तरीके से व्यवस्था की जाए। जिला में बिजली, पानी की समुचित सप्लाई के साथ-साथ लोगों को अपने घर द्वार पर ही आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध करवाई जाए। यह बातें बिजली मंत्री चौ. रणजीत सिंह ने शनिवार को स्थानीय लोक निर्माण विश्राम गृह में उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ान, डीआइजी एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. अरुण नेहरा, एसडीएम जयवीर यादव, डीएसपी राजेश कुमार, एमडी हैफेड संदीप पूनियां, डीईटीसी आलोक पाशी से जिला में कोरोना वायरस से बचाव और फैलाव को रोकने संबंधी किए गए प्रबंधों और तैयारियों की जानकारी लेने के दौरान कही।
बिजली मंत्री ने अधिकारियों से कहा कि उन्होंने कहा कि अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि पशु पालकों को पशु चारा आसानी से मिले और थोक विक्रेताओं तक सामान पहुंचने में कोई परेशानी न हो। बिजली मंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में गली वाइज सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाते हुए ब्लीचिंग पाउडर से तैयार घोल का छिड़काव करवा कर सैनिटाइज किया जाए। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग यह सुनिश्चित करे कि जिला में सैनिटाइजर, मॉस्क और दवाइयों की कमी न हो। उन्होंने कहा कि इस विपदा की घड़ी में नागरिकों की भलाई, सुरक्षा और स्वास्थ्य की रक्षा करना जिला प्रशासन की प्राथमिकता है।
बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने कहा कि उनका प्रयास है कि इस नाजुक दौर में कोई भी व्यक्ति भूखा न सोए और सबको आश्रय मिले। प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारियों और स्वयं सेवकों के माध्यम से तत्काल सुविधाएं पहुंचाई जाए। उन्होंने कहा कि जनसेवा के लिए मेरे घर के दरवाजे दिन-रात खुले हैं। सिरसा जिले में अगर किसी भी गरीब और जरूरतमंद व्यक्ति या परिवार को खाना, राशन, दवाई, सैनिटाइजर या मास्क आदि सामान की जरूरत है तो वे सीधे फोन के माध्यम से उनसे संपर्क करें।
शहर के साथ गांवों की गलियों को भी सैनिटाइज किया जाए
बिजली मंत्री चौ. रणजीत सिंह ने रानियां हलके में पहुंच कर तहसीलदार, बीडीपीओ, एसएचओ और नगर पालिका प्रधान से हलके में कोरोना वायरस से बचाव और फैलाव को रोकने के संबंध में किए गए प्रबंधों की रिपोर्ट तलब करते हुए जरूरी दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हलके के गांवों और शहरी क्षेत्र में गली वाइज सफाई के साथ-साथ दवा का छिड़काव कर सैनिटाइज किया जाए। सार्वजनिक भवन व स्थलों को भी सैनिटाइज करते हुए सफाई व्यवस्था बेहतर बनाई जाए। उन्होंने कहा कि हलके में लोगों को बिजली व पीने की पानी की कमी न हो और स्वास्थ्य विभाग भी सैनिटाइजर, मॉस्क व दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित करें।
बिजली मंत्री मोबाइल नंबर 9416048386 पर बताएं समस्या
बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने इस संकट की घड़ी में जरूरतमंदों और गरीबों की मदद के लिए आगे आते हुए शानदार पहल की है। उन्होंने शनिवार को फेसबुक और ट्वीटर के माध्यम से अपना मोबाइल नंबर 9416048386 सार्वजनिक करते हुए अपील की कि गरीब और जरूरतमंद भूखा न सोए और रहने संबंधी समस्या होने पर तुरंत उन्हें फोन करें। उन्होंने रानियां हलके के गांव पन्नीवाला मोटा, खाई शेरगढ, खारियां, मम्मडख़ेड़ा, संतनगर, भड़ोलावाली, ओटू, जीवन नगर, शेखुपुरिया गांवों में ग्रामीणों को सैनिटाइजर और मास्क वितरित करवाए।
... और पढ़ें

सुबह 10 से एक बजे तक खुलेंगी खाद और बीज की दुकानें

प्रदेश सरकार का प्रयास है कि लॉकडाउन के दौरान नागरिकों को दैनिक सुविधाओं में कोई परेशानी न हो इसके लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं। उपायुक्त रमेश चंद्र बिढान ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान किसान को राहत देते हुए उर्वरकों की दुकानों को भी छूट दी गई है, जिससे कोरोना वायरस की वजह से जिला में हुए लॉकडाउन के दौरान किसानों को खेती कार्यों में कोई दिक्कत न आए। जिला में उर्वरकों, कीटनाशकों और बीजों की दुकानों के खुलने का शेड्यूल जारी किया गया है। ये दुकानें सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक खुलेंगी।
उन्होंने बताया कि सिरसा शहर के युवक साहित्य सदन से राम गेट और जनता भवन एरिया में पड़ने वाली दुकानें सोमवार और मंगलवार, जनता भवन से अरोड़वंश चौक एरिया की बुधवार और गुरुवार, अनाज मंडी और कपास मंडी एरिया की दुकानें शुक्रवार और शनिवार को खुलेंगी। इसी प्रकार रानियां में मेन रोड़ की दुकानें सोमवार, बुधवार औश्र शुक्रवार को, अनाज मंडी एरिया की दुकानें मंगलवार, वीरवार और शुक्रवार को खुलेंगी। उप मंडल ऐलनाबाद में अनाज मंडी एरिया में पडने वाली दुकानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को, अनाज मंडी को छोड़कर अन्य क्षेत्र की दुकानें मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को खुलेंगी। डबवाली में अनाज मंडी के ए और बी ब्लॉक की दुकानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को, अनाज मंडी और अन्य क्षेत्र की दुकानें मंगलवार, वीरवार और शनिवार को खुलेंगी।
उपायुक्त बिढान ने बताया कि कालांवाली में अनाज मंडी एरिया की दुकानें सोमवार, बुधवार व शुक्रवार को तथा अन्य एरिया की मंगलवार, वीरवार और शनिवार को खुलेंगी। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में डिंग मंडी सहित क्षेत्र में आने वाली दुकानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को खुलेंगी। दुकानों का खुलने का समय दुकानें सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक खुलेंगी। उन्होंने कहा कि दुकान पर इस बात का विशेष ध्यान रखें कि लोग एकत्रित न हों।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us