विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
घर बैठें बनवाए फ्री जन्मकुंडली और पाएं समस्त समस्याओं का उचित निवारण
Kundali

घर बैठें बनवाए फ्री जन्मकुंडली और पाएं समस्त समस्याओं का उचित निवारण

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Coronavirus: हिमाचल के छह पॉजिटिव मरीज, 1083 पहुंचा आंकड़ा

हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को ऊना में दो, शिमला दो, कांगड़ा और सोलन जिले में एक-एक पॉजिटिव मरीज आया है।गरली रक्कड़ के 30 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। संक्रमित चार जुलाई को केरल से लौटा था और अब उसे कोविड केयर सेंटर डाढ शिफ्ट किया जा रहा है। वहीं, बद्दी के एक उद्योग में व्यक्ति को कोरोना संक्रमित पाया गया है। संक्रमित व्यक्ति हाल ही में उत्तर प्रदेश से लौटा था और उद्योग में कार्यरत था।

सोलन जिला में दो लोगों ने कोरोना को मात दी है। जिला में कोरोना के कुल 42 सक्रिय मामले हैं। ऊना जिले में रात नौ बजे दो नए मामले आए हैं। ऊना में झारखंड से लौटा 22 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव निकला है। इसे अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। इसके अलावा मुंबई से लौटा अंब के रिपोह मिसरा का 38 वर्षीय युवक भी पॉजिटिव निकला है। युवक संस्थागत क्वारंटीन था।  शिमला जिले में भी दो कोरोना पॉजिटिव केस आए हैं। रामपुर क्षेत्र के दोनों संक्रमित सगे भाई हैं और हैदराबाद से लौटे थे। 

इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा 1083  पहुंच गया है। राज्य में 777 कोरोना मरीज ठीक हो गए हैं। 282 सक्रिय मामले हैं। अब तक नौ की मौत हो चुकी है। 13 मरीज प्रदेश से बाहर चले गए हैं। मंगलवार को राज्य में 27 और कोरोना मरीज स्वस्थ हो गए हैं। इनमें शिमला पांच, लाहौल-स्पीति एक, सोलन दो, हमीरपुर आठ, ऊना एक और कांगड़ा जिले के 10 मरीज ठीक हुए। 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

डाक से श्रद्धालु मंगवा सकेंगे मां चिंतपूर्णी का प्रसाद, खर्च करने होंगे इतने रुपये

 प्रसिद्ध शक्तिपीठ चिंतपूर्णी मंदिर का प्रसाद अब श्रद्धालु घर बैठे ही मंगवा सकेंगे। इसके लिए मंदिर ट्रस्ट चिंतपूर्णी ने प्रक्रिया शुरू कर दी है। प्रक्रिया पूरी होते ही श्रद्धालु मां चिंतपूर्णी का प्रसाद घर बैठकर मंगवा सकेंगे। इसके लिए मंदिर ट्रस्ट द्वारा हलवाई के साथ मीटिंग और रेट एग्रीमेंट की प्रक्रिया जल्द शुरू की जाएगी। भक्तों को प्रसाद मंगवाने के लिए पोस्ट ऑफिस के माध्यम से ऑर्डर देना होगा और फिर पोस्ट ऑफिस के माध्यम से ही प्रसाद मुहैया कराया जाएगा। प्रसाद के लिए श्रद्धालुओं को 500 से लेकर 1000 रुपये तक की राशि खर्च करनी होगी।

माता रानी के प्रसाद में लड्डू हो सकते हैं। वहीं, नायब तहसीलदार भरवाईं अभिषेक भास्कर ने बताया कि मंदिर ट्रस्ट चिंतपूर्णी द्वारा श्रद्धालुओं को घर बैठे प्रसाद मुहैया कराने के लिए ट्रस्ट द्वारा प्रक्रिया शुरू की गई है। जल्दी ही प्रक्रिया पूरी कर पोस्ट ऑफिस के माध्यम से प्रसाद मुहैया कराया जाएगा। एसडीएम अंब एस तारुल रविश ने बताया कि श्रद्धालु घर बैठे माता चिंतपूर्णी का प्रसाद मंगवा सकें, इस पर कार्य किया जा रहा है। एडीसी ऊना अरंदिम चौधरी ने बताया कि इस बात को मंदिर ट्रस्ट की मीटिंग में उठाया गया था, जिसको लेकर मंदिर ट्रस्ट काम कर रहा है।
... और पढ़ें

सीएम जयराम से मिलीं इंदु गोस्वामी, कई मसलों पर की चर्चा

राज्यसभा सांसद इंदु गोस्वामी मंगलवार को राज्य सचिवालय में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मिलीं। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति से पहले इंदु गोस्वामी की इस भेंट से सियासी हलकों में हलचल तेज हो गई। इंदु बोलीं कि उन्होंने अपने निर्वाचन हलकों से जुड़े मसलों के बारे में बात की।  हालांकि, इस मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर इंदु गोस्वामी ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से शिष्टाचार भेंट की है। उनसे अपने क्षेत्र के मसलों के बारे में चर्चा की। यह मालूम रहे कि हिमाचल में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का पद इस वक्त खाली चल रहा है। इस पद से हाल ही में भाजपा के तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष राजीव बिंदल ने इस्तीफा दिया है।

सूत्रों के अनुसार भाजपा के अध्यक्ष पद के लिए हाईकमान जिन नामों पर मंत्रणा कर रहा है, उनमें इंदु गोस्वामी भी शामिल है। प्रदेशाध्यक्ष पद के रिक्त चले होने के बीच इंदु गोस्वामी की सीएम जयराम ठाकुर से मुलाकात के भी कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। एक मत यह भी बन रहा है कि हाईकमान से नजदीकियां होने के चलते राज्यसभा सांसद इंदु गोस्वामी को हिमाचल भाजपा की कमान भी दी जा सकती है। हालांकि इंदु गोस्वामी ने इस बारे में किसी भी तरह की दिलचस्पी होने से इंकार किया और कहा कि उनकी सीएम से भेंट शिष्टाचार से हुई।
... और पढ़ें

ऊना: मैहतपुर और टाहलीवाल में एसबीआई की शाखाएं सील, स्टाफ होम क्वारंटीन

राज्यसभा सांसद इंदु गोस्वामी
 हिमाचल के ऊना जिले में मैहतपुर स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया शाखा के एक अधिकारी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद इस शाखा को सील कर दिया गया है। इसके साथ ही टाहलीवाल एसबीआई शाखा को भी इसी कारण से बंद कर दिया गया है, क्योंकि कुछ दिनों पहले ही कोरोना पॉजिटिव अधिकारी का टाहलीवाल शाखा से मैहतपुर बैंक में स्थानांतरण हुआ था। वायरस के फैलाव की आशंका के मद्देनजर बैंक के पूरे स्टाफ को स्वास्थ्य विभाग द्वारा होम क्वारंटीन कर दिया गया है। 

सूत्रों के मुताबिक बैंक में सेवारत ऋण विभाग के अधिकारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद बैंक में हड़कंप मच गया। बैंक में तमाम अन्य कर्मचारियों की भी गहन जांच की जा रही है। मंगलवार सुबह से बैंक को 48 घंटे के लिए पूरी तरह से सील कर दिया गया। राहत की बात यह कि मैहतपुर बैंक में इसी अधिकारी के साथ वाले केबिन में बैठने वाले बैंक के अन्य अधिकारियों व कर्मियों की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव बताई गई है। 

बैंक सील होने से मंगलवार को मैहतपुर व टाहलीवाल कार्यालयों में कोई कामकाज नहीं हो सका, जिससे कई उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बीएमओ हरोली डॉ. संजय मनकोटिया ने बताया कि टाहलीवाल बैंक शाखा के सभी कर्मचारियों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है और जल्द ही इन सभी के कोविड-19 के सैंपल लिए जाएंगे। मैहतपुर चौकी प्रभारी कुलदीप कुमार ने बताया कि बैंक को 48 घंटे के लिए सील कर दिया गया है। बैंक परिसर को सैनिटाइज किया जाएगा व अन्य सख्त कदम उठाए जाएंगे। 
... और पढ़ें

कारगिल हीरो विक्रम बत्रा को शेरशाह के नाम से जानते थे दुश्मन, जानिए उनकी अनसुनी कहानी

हिमाचल: मेडिकल कॉलेज की महिला चिकित्सक चंडीगढ़ में कोरोना पॉजिटिव

विक्रम बतरा की शहादत को पाठ्यक्रम में शामिल करने की फिर उठी मांग, शहीद के पिता ने ये कहा

कारगिल युद्ध में दुश्मनों की छक्के छुड़ाने वाले परमवीर चक्र विजेता शहीद कैप्टन विक्रम बतरा का मंगलवार को शहीदी दिवस मनाया गया। उनके शहीदी दिवस पर अशोक चक्र विजेता शहीद मेजर सुधीर वालिया के परिवार ने विक्रम बतरा के परिजनों के साथ उनके घर बंदला में शहीद के श्रद्धांजलि दी। कारगिल युद्ध में टाइगर हिल पर कब्जा करने के बाद सात जुलाई को शहीद हुए कैप्टन विक्रम बतरा के परिजनों को अभी इस बात का मलाल है कि उनके बेटे की शहादत को किसी पाठ्यक्रम में नहीं जोड़ा गया।

उनके पिता जीएल बतरा ने कहा कि इसके लिए उन्होंने सरकारों से पत्राचार भी किया है। लेकिन अभी तक इस मामले में किसी ने कोई कदम नहीं उठाया है। उनके पिता की मानें तो उनके बेटे की शहादत को किसी पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए। विक्रम बतरा के घर पर उनके पिता जीएल बतरा, माता कमलकांत बतरा, शहीद मेजर सुधीर वालिया की बहन आशा, जीजा प्रवीन आहलुवालिया, भाभी सिमरन वालिया, ऋषिका और प्रवेश मौजूद रहे।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन