विज्ञापन

नागरिकता कानून: यूपी में हाईअलर्ट, कर्नाटक के मंत्री बोले- मंगलूरू में हिंसा के पीछे केरल के लोग

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 20 Dec 2019 04:02 AM IST
CAA Protest Live Updates in Delhi Assam West Bengal UP bihar citizenship act
Protest Over citizenship amendment Act 2019 - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

खास बातें

नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर देशभर के कई स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुआ। दिल्ली में प्रदर्शन के दौरान योगेंद्र यादव, उमर खालिद, संदीप दीक्षित, सीताराम येचुरी सहित सैकड़ों की संख्या में अन्य लोगों को हिरासत में लिया गया। वहीं, बंगलूरू में इतिहासकार रामचंद्र गुहा को भी हिरासत में लिया गया। इस दौरान दिल्ली में 20 मेट्रो स्टेशनों को ऐहतिहातन बंद भी किया गया, हालांकि बाद में अधिकतर को खोल दिया गया। कुछ घंटे के लिए दिल्ली के कुछ इलाकों में इंटरनेट और मोबाइल सेवा भी रोकी गई। इस दौरान यूपी में जमकर हिंसा हुई। संभल में प्रदर्शनकारियों ने बस में आग लगा दी। जबकि लखनऊ में पुलिस चौकी फूंकी गई और दर्जनों वाहनों को आग के हवाले किया गया। उधर, गुजरात में भी उग्र प्रदर्शन हुआ, अहमदाबाद में भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया। जानिए हर अपडेट-  
विज्ञापन

लाइव अपडेट

विज्ञापन
04:00 AM, 20-Dec-2019

मंगलूरू में हिंसा के पीछे केरल के लोग: गृह मंत्री बोम्मई

कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने गुरुवार को दावा किया कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान मंगलूरू में हुई हिंसा की घटनाओं के पीछे पड़ोसी राज्य केरल के लोग हैं। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि हिंसा में शामिल लोगों और अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बोम्मई ने मीडिया कर्मियों से कहा कि जो लोग विरोध प्रदर्शन में भाग लेने केरल से आए थे, उन्होंने ही मंगलूरू में एक पुलिस स्टेशन में आग लगाने की कोशिश की और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। इस वजह से भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा।

 


बता दें कि गुरुवार को कर्नाटक के अधिकांश हिस्सों में विरोध मार्च शांतिपूर्ण तरीके से हुआ, लेकिन मंगलूरू में हिंसा की घटनाएं हुईं। मंत्री बोम्मई ने कहा कि केरल से आए कुछ लोगों ने छात्रों को गुमराह किया और हिंसा भड़काई। उन्होंने यह कहा कि राज्य सरकार असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करेगी।

बता दें कि हिंसा की खबरों के बाद कर्नाटक सरकार ने मंगलूरू और दक्षिण कन्नड़ जिले में 48 घंटे के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दीं। राज्य के गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में दो स्थानों पर ही मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित किए जाने की बात कही गई है।

आदेश में कहा गया है कि ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि प्रदर्शनकारी तस्वीरों, वीडियो और लिखित संदेश के माध्यम से अफवाह फैलाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है। बता दें कि इससे पहले कर्नाटक सरकार ने राज्य में गुरुवार सुबह छह बजे से तीन दिन के लिए धारा 144 लागू करने का निर्णय लिया था।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X