विज्ञापन

हरियाणा-महाराष्ट्र: दो राज्य, दो भतीजे, अपने दम पर बना दी भाजपा की सरकार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sat, 23 Nov 2019 05:37 PM IST
विज्ञापन
Ajit pawar and Dushyant Chautala
Ajit pawar and Dushyant Chautala - फोटो : Twitter
ख़बर सुनें

सार

  • हरियाणा में दुष्यंत चौटाला और महाराष्ट्र में अजित पवार के समर्थन से भाजपा ने बनाई सरकार
  • दोनों को ही राज्य के उप-मुख्यमंत्री का पद दिया गया
  • दोनों नेता राज्य के विपक्षी पार्टी के भतीजे हैं

विस्तार

इस साल दो राज्यों हरियाणा और महाराष्ट्र में चुनाव के बाद 24 अक्तूबर को जो परिणाम आए वह भाजपा के लिए चौंकाने वाले थे। दोनों ही राज्यों में भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं मिला। लेकिन आज दोनों ही राज्यों में भाजपा सरकार बनाने में सफल रही। इन दोनों राज्यों में भाजपा के सरकार बनाने में जो एक जैसी बात है वह यह की दोनों राज्यों में भाजपा के लिए विपक्षी पार्टी के भतीजे लकी साबित हुए हैं।
विज्ञापन

हरियाणा में विपक्षी पार्टी इनेलो के नेता अभय चौटाला से विवाद के बाद उनके भतीजे और इनेलो के सांसद रहे दुष्यंत चौटाला ने अलग पार्टी जजपा बना ली थी। चुनाव से पहले भाजपा और जजपा ने अलग-अलग चुनाव लड़ा। लेकिन जब हरियाणा में बहुमत के लिए भाजपा को संख्या बल कम पड़ गया तो दुष्यंत चौटाला से गठबंधन कर भाजपा ने सरकार बना ली और दुष्यंत चौटाला को उप मुख्यमंत्री बना दिया। वहीं, महाराष्ट्र में भी शनिवार को भाजपा ने बड़ा सियासी उलटफेर करते हुए राकांपा नेता शरद पवार के भतीजे अजीत पवार के साथ गठबंधन कर सरकार बना ली। यहां भी अजीत पवार को उप मुख्यमंत्री का पद दिया गया है।
 

महाराष्ट्र में फडणवीस ने ऐसे बनाई सरकार

महाराष्ट्र में सियासी रस्साकशी के बीच भाजपा ने बाजी मारते हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के साथ मिलकर सरकार बना ली है। देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार सुबह राजभवन में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में दोबारा शपथ ली। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने एनसीपी के अजित पवार को भी उप मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। राज्यपाल ने फडणवीस सरकार को 30 नवंबर तक बहुमत साबित करने का समय दिया है।
इससे पहले शुक्रवार तक कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना सरकार बनाने की तैयारी कर रहे थे और शरद पवार ने यह घोषणा कर दी थी कि मुख्यमंत्री के नाम पर उद्धव ठाकरे के नाम पर सहमति बन चुकी है। अचानक रातों-रात सियासी उलटफेर हुआ और शरद पवार के भतीजे अजीत पवार ने फडणवीस के साथ मिलकर सरकार बना ली।

अजित पवार शरद के बड़े भाई अनंतराव पवार के बेटे हैं। अजित के पिता वी. शांताराम के राजकमल स्टूडियो में काम करते थे। अजित अपने चाचा शरद की अगुवाई में राजनीति में आए थे। अजित पवार 1991 से अब तक सात बार विधायक चुने गए हैं। नवंबर 1992 से फरवरी 1993 तक कृषि और बिजली राज्य मंत्री रहे। वे 29 सितंबर 2012 से 25 सितंबर 2014 महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। अक्टूबर 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला था, लेकिन दोनों के बीच सीएम पद को लेकर विवाद हुआ और 30 वर्षों से चली आ रही भाजपा-शिवसेना की दोस्ती में दरार आ गई।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us