विज्ञापन

कुरुक्षेत्र: कोरोना संकट का शुरुआती सहयोग बदल सकता है सियासी महाभारत में

विनोद अग्निहोत्री Updated Sat, 04 Apr 2020 09:48 PM IST
विज्ञापन
राहुल गांधी-नरेंद्र मोदी
राहुल गांधी-नरेंद्र मोदी
ख़बर सुनें
कोरोना संक्रमण से जूझ रहे देश में शुरुआत में बनी सियासी एकता की जगह अब धीरे-धीरे राजनीतिक महाभारत की तैयारी ले रही है। प्रकट तौर पर पूरा देश, हर राज्य सरकार और राजनीतिक दल कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ है। लेकिन जैसे ही इस संकट के बादल छंटेंगे, सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच कोरोना के मुद्दे पर जबर्दस्त घमासान होगा। दोनों ही तरफ इसकी तैयारी हो रही है या यूं कहें कि इसके संकेत मिलने लगे हैं। 
विज्ञापन

प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने सरकार से सवाल पूछने शुरू कर दिए हैं, तो सत्ता पक्ष कोरोना से लड़ने में सरकार की तैयारियों और तत्परता के कवच से मुकाबले के लिए मैदान में है। पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर के मुताबिक कोरोना से लड़ने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूरी सरकार जिस तत्परता और मुस्तैदी से हर मोर्चे पर काम कर रही है, उसकी तारीफ सिर्फ भारत ही नहीं पूरी दुनिया में हो रही है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट के जरिए सरकार से वेंटीलेटरों, सैनिटाइजर और मॉस्क के 19 और 24 मार्च तक निर्यात किए जाने पर सवाल पूछा है।
कोरोना को लेकर भाजपा और कांग्रेस के अपने अपने पैंतरे हैं। कांग्रेस नेताओं में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम और कपिल सिब्बल ने प्रधानमंत्री मोदी की पांच अप्रैल को अपने अपने घरों की बत्तियां बुझाकर एक-एक दीया या मोमबत्ती जलाने की अपील पर सवाल दागते हुए तंज किया है। वहीं, भाजपा नेताओं का मानना है कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले जनता कर्फ्यू और फिर राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन करके कोरोना संक्रमण के विरुद्ध भारत की लड़ाई को तेज किया है, उसके नतीजे अप्रैल के आखिर तक बेहद सकारात्मक आने की उम्मीद है। तब तक भारत कोरोना संक्रमण को उम्मीद है कि काबू में कर लेगा। 
भाजपा नेता सुधांशु मित्तल का कहना है कि जिस तरह देश की जनता एकमत होकर प्रधानमंत्री मोदी की हर अपील को मानकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सरकार का साथ दे रही है, उससे भारत यह लड़ाई जरूर जीतेगा। मित्तल के मुताबिक एक तरफ चीन, अमेरिका, इटली, सिंगापुर, इंग्लैंड, जर्मनी जैसे देशों में कोरोना ने जो कहर ढाया है, उसके मुकाबले भारत में भले ही यह संक्रमण आ तो गया लेकिन जिस तरह केंद्र सरकार ने समय रहते सभी जरूरी कदम उठाए हैं और पूरे देश को इसके खिलाफ तैयार कर दिया है, वह दुनिया के लिए एक मिसाल है। मित्तल कहते हैं कि सरकार और भाजपा कोरोना को लेकर कोई राजनीति नहीं कर रही है और न करेगी लेकिन अगर विपक्ष ने अनर्गल आरोप लगाए तो हम जवाब देने में पीछे भी नहीं हटेंगे।

भाजपा नेताओं को पूरी उम्मीद है कि अगर मध्य मई तक कोरोना पर काबू पा लिया गया तो मोदी सरकार की दूसरी पारी का एक साल पूरा होने के जश्न की ये सबसे शानदार उपलब्धि होगी। भाजपा के एक राष्ट्रीय पदाधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि संकट को अवसर में बदलना कोई मोदी जी से सीखे। जिस तरह कोरोना संकट पूरी दुनिया पर आया है लेकिन उसे भारत में मोदी जी ने जिस तरह बखूबी हैंडल किया है, उससे जनता में एक बार फिर यह धारणा पक्की हो गई है कि नरेंद्र मोदी से बेहतर कोई दूसरा नेता इस समय देश में नहीं है। यही वजह है कि प्रधानमंत्री ने जनता से जो भी मांगा, लोगों ने सहर्ष दिया। 
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पुरानी गलतियां नहीं दोहराएगा विपक्ष

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us