बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?
Myjyotish

शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीर : कोरोना ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों को निशाना बना रहे हैं आतंकी

घाटी में आतंकियों और उनकी गतिविधियों पर लगातार बढ़ते दबाव के चलते वह बौखला गए हैं। आतंकी नई साजिश के तहत उन सुरक्षाकर्मियों को निशाना बना रहे हैं जो कोरोना की अतिरिक्त ड्यूटी पर तैनात किए जा रहे हैं। पिछले दो दिनों के भीतर यह ऐसा ही दूसरा हमला है। इससे पहले आतंकियों ने शोपियां में कोरोना ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों को निशाना बनाने की कोशिश की थी।

पुलिस के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आतंकियों के लिए कोविड ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाना आसान होता है। इसलिए वह अपनी मौजूदगी को दर्ज कराने और सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से हमला करते हैं। शनिवार को सोपोर में आतंकियों ने जिस पुलिस की जिप्सी को निशाना बनाया वह इलाके में कोरोना की एसओपी को लेकर एलान कर रही थी। 

पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने भी कहा कि कोरोना के बीच आतंकियों पर लगातार दबाव बरकरार है। उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस की जिम्मेदारियां ऐसी हैं जिनके चलते खतरे में रह करके काम करना पड़ता है। बीच में ऐसी घटनाएं पेश आती हैं।  सुरक्षा एजेंसियों का आतंकियों के ऊपर लगातार दबाव के कारण उनमें आई बौखलाहट के चलते वह ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। 

सोपोर की घटना से पहले 11 जून को दो बाइक सवार आतंकियों ने जिले के अगलर इलाके में सीआरपीएफ की 178 बटालियन और जम्मू कश्मीर पुलिस का एक संयुक्त नाके पर हमला किया था। राहत की बात यह रही कि इस हमले में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। 

शनिवार को सोपोर में दूसरा बड़ा हमला किया गया इससे पहले आतंकियों ने 29 मार्च को म्यूनिसिपल कार्यालय पर हमले को अंजाम दिया था। इसमें भाजपा के पार्षद रियाज अहमद और शम्सउद्दीन और एसपीओ शफत अहमद शहीद हो गए थे। उस समय पुलिस ने खुलासा किया था कि इस हमले का मास्टरमाइंड मुदस्सिर पंडित था।
... और पढ़ें
हमले में शहीद सुरक्षाकर्मी... हमले में शहीद सुरक्षाकर्मी...

जम्मू-कश्मीर मचैल यात्रा: भक्तों को मिल सकती है यात्रा के बारे में अच्छी खबर, तैयारियों में जुटा प्रशासन

कोरोना मामले कम होते ही प्रसिद्ध मचैल यात्रा की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। जिला प्रशासन यात्रा की तैयारियों में जुट गया है। इसी कड़ी में शनिवार को हेलिकॉप्टर सेवा के लिए टेंडर करवाए गए। डीसी अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि कोरोना की चेन टूटने पर ही मचेल यात्रा होगी। प्रशासन का प्रयास रहेगा कि मचैल यात्रा चले। इसके लिए छह अधिकारियों की टीम गठित की थी, जिन्होंने मचैल के लिए हेलिकॉप्टर सेवा के लिए टेंडर करवाए हैं। इसमें छह कंपनियों ने आवेदन किया था। बताया कि मात्र तीन कंपनियों ही क्वालीफाई कर पाई हैं। इनमें से एक कंपनी ने पिछले वर्ष के तय किराए से 200 रुपये कम रखा है। उन्होंने यह तक कह दिया कि लगभग 2558 रुपये एक तरफा किराया तय होगा। अब इस पर मुहर लगनी बाकी है। अभी किसी को भी मचैल जाने के लिए इजाजत नहीं है। किसी के संक्रमित आने पर स्थिति बिगड़ सकती है। ... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर तिरुपति बालाजी: मजीन में बालाजी के मंदिर में गुरुकुल बनाने की उठाई जा रही मांग

मंदिरों के शहर जम्मू में भगवान वेंकटेश्वर के भव्य मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। रविवार 13 जून को इसका भूमि पूजन होगा। श्री कैलख ज्योतिष एवं वैदिक संस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रोहित शास्त्री ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और प्रदेश के मुख्य सचिव एवं तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ट्रस्ट के चेयरमैन वाईवी सुब्बा रेड्डी को पत्र लिखकर इस ऐतिहासिक फैसले का स्वागत किया है।

उन्होंने मांग की कि ट्रस्ट की ओर से सिद्दड़ा के मजीन गांव में बनाए जा रहे इस भव्य मंदिर में संस्कृत गुरुकुल की स्थापना की जाए, ताकि संस्कृत पढ़ने वालों को लाभ हो। जम्मू-कश्मीर की भूमि शैव दर्शन का सनातन केंद्र रही है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: जम्मू शहर में 30 जून तक लगेंगे बिजली के लंबे कट, जानिए किस समय कहां होगी कटौती

इसी पावन भूमि पर प्रत्यभिज्ञादर्शन के संस्थापक आचार्य अभिनव गुप्त, महाकवि कल्हण, बिल्हण और अनेक प्राचीन संस्कृत मनीषियों का उद्भव हुआ है। शास्त्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में संस्कृत विलुप्त होती जा रही है। इसका मुख्य कारण प्रदेश में संस्कृत गुरुकुलों की कमी है।

... और पढ़ें

होटल्स एंड लाज एसोसिएशन में रोष: पर्यटन क्षेत्र को अनदेखा कर रहा जम्मू-कश्मीर प्रशासन, वेंटिलेटर पर है होटल उद्योग

ऑल जम्मू होटल्स एंड लाज एसोसिएशन की बैठक में सरकार दारा होटल उद्योग के लिए कोई राहत पैकेज की घोषणा न करने पर रोष जताया गया है। पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए सरकार उचित प्रयास नहीं कर रही है, जिससे होटल उद्योग बुरी तरह से प्रभावित है। कोविड महामारी से होटल उद्योग के लिए आर्थिक संकट बढ़ा है।

एसोसिएशन के चेयरमैन इंद्रजीत खजूरिया और प्रधान पवन गुप्ता ने पदाधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करते हुए बताया कि उपराज्यपाल को लिखे पत्र में पर्यटन क्षेत्र विशेष रूप से होटल उद्योग की अनदेखी करने पर निराशा व्यक्त की गई है। जम्मू से कटड़ा तक ट्रेन सेवा के विस्तार से पहले ही जम्मू का होटल उद्योग वेंटिलेटर पर है।

पर्यटन बिरादरी से जुड़े होटल, लाज, ढाबे, ट्रैवल एजेंट, टूर आपरेटर, शाल और हस्तशिल्प कारोबारी, सूखे मेवे, टैक्सी, आटो, ट्रांसपोर्टर आदि प्रभावित हैं। जम्मू में बाहर से आने वाले तीर्थयात्रियों और पर्यटकों की संख्या में भारी गिरावट आई है। कोविड महामारी से होटल उद्योग शून्य पर चल रहा है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: जम्मू शहर में 30 जून तक लगेंगे बिजली के लंबे कट, जानिए किस समय कहां होगी कटौती

चूंकि कोविड की तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे में सरकार को वित्तीय राहत पैकेज की घोषणा करनी चाहिए। देश के कई राज्यों में ऐसी घोषणाएं की गई हैं। बैठक में एमएल शर्मा, अनिल खजूरिया, प्रीतम शर्मा, एचएस मन्हास, बलदेव राज, सुनील सूरी आदि मौजूद रहे। ... और पढ़ें

नारायणा सुपर स्पेशलिटी: बढ़ाई जाएगी आईसीयू बेड की क्षमता, साथ ही मिलेगी अन्य कई सुविधाएं

जम्मू स्टेशन

श्री माता वैष्णो देवी नारायणा सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (एसएमवीडीएनएसएच)  की 65वीं गवर्निंग बाडी की बैठक में अस्पताल में कोविड और गैर कोविड रोगियों की भविष्य की स्वास्थ्य देखभाल आवश्यकताओं को लेकर कई फैसले लिए गए। इसमें रोगी परिचालन क्षमता और मानकों को बढ़ाने पर जोर दिया गया।

बैठक में बताया गया कि विशेषतौर पर कोविड महामारी के कारण चुनौतीपूर्ण स्थिति के दौरान साधनों को और मजबूत करने की रणनीतियों पर काम करने की आवश्यकता महसूस की गई है। अस्पताल में आईसीयू बेड की क्षमता को बढ़ाया जा रहा है। जिससे रोगी देखभाल में काफी मजबूती मिल रही है।

इसके साथ कोविड और गैर कोविड मरीजों के लिए वेंटिलेटर की संख्या बढ़ाई जा रही है। अस्पताल में 750 एलपीएम क्षमता का एक और आक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किया जा रहा है, जिसे जल्द चालू कर दिया जाएगा। अस्पताल में 425 एलपीएम आक्सीजन प्लांट और 20 केएल एलएमओ स्टोरेज सुविधा पहले से ही काम कर रही है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर योग दिवस: शिक्षा विभाग का अहम कदम, ऑनलाइन प्रतियोगिताओं के जरिए बच्चे सिखेंगे योग

चालू वित्त वर्ष के दौरान दूरदराज के क्षेत्र के लोगों को लाभ देने के लिए 6 सैटेलाइट क्लीनिक शुरू की जा रही हैं। इसमें उधमपुर, राजोरी और आरएस पुरा में तीन क्लीनिक पहले ही काम कर रहे हैं, जबकि 3 क्लीनिक कठुआ, डोडा और सुंदरबनी में स्थापित किए जा रहे हैं। बैठक में गवर्निगबाडी के चेयरमैन डा. अशोक भान, मेजर जनरल एसके शर्मा (सेवानिवृत्त), सीईओ रमेश कुमार आदि मौजूद रहे।

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: सोपोर हमले की राजनीतिक पार्टियों ने एक सुर में की निंदा, कहा बौखलाए हैं आतंकी

सोपोर हमले की सभी राजनीतिक पार्टियों नेकां, पीडीपी, कांग्रेस, भाजपा, पीपुल्स कांफ्रेंस व अपनी पार्टी ने निंदा करते हुए कहा कि यह बर्बरतापूर्ण घटना है। इस प्रकार की घटना आतंकियों की बौखलाहट दिखाती है। नेकां के उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि इस प्रकार के हमलों के बिना किसी आरक्षण के निंदा की जानी चाहिए। ट्वीट किया कि हमले में मारे गए परिवारों के प्रति पूरी सहानुभूति है। प्रार्थना है कि परिवार को इस दुख को सहने की असीम शक्ति मिले।

साथ ही घायलों के स्वस्थ होने की कामना है। नेकां ने कहा कि सरकार को इस प्रकार की घटनाओं को रोकना सुनिश्चित करना चाहिए।  पीडीपी ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि कहा कि इस प्रकार की घटना से वह आहत है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने भी हमले को बर्बरतापूर्ण बताते हुए कहा कि आतंकियों ने शर्मनाक कृत्य किया है। पार्टी शहीद पुलिसकर्मियों तथा मारे गए नागरिकों के परिवार के साथ पूरी मजबूती से खड़ी है। भाजपा प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि आतंक का कश्मीर में कोई स्थान नहीं है।

निर्दोशों की हत्या बर्बरतापूर्ण कार्रवाई है। यह आतंकियों की हताशा को दर्शाता है जिसमें वे भीड़ भरे बाजार में नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। उन्होंने हत्यारों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की। पीपुल्स कांफ्रेंस प्रमुख सज्जाद लोन ने कहा कि कब यह पागलपन समाप्त होगा। कश्मीर में 1989 में बंदूक का पर्दापण हुआ। बंदूक ने गुलाम बना लिया है। बंदूकधारियों को वास्तव में विचार करना चाहिए कि वे किसकी लड़ाई लड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: जम्मू शहर में 30 जून तक लगेंगे बिजली के लंबे कट, जानिए किस समय कहां होगी कटौती

जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी प्रमुख अल्ताफ बुखारी ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि यह हृदयविदारक है। हिंसा से कभी किसी समस्या का समाधान नहीं हुआ है, बल्कि यह किसी भी समाज में शांति व विकास में बाधक बनता है। अलगाववादी ताकतें केवल लोगों के  दुख बढ़ा रही हैं। किसी भी राजनीतिक विचारधारा या धार्मिक मायने में हिंसा स्वीकार्य नहीं है। हिंसा समाज के सभी तबकों को तबाह कर रही है और कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ रही है।

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: दो माह बाद मिली कोरोना से राहत, मिले 900 से कम संक्रमित मामले

जम्मू-कश्मीर: आतंकी हमले में मारे गए पार्षद राकेश पंडिता के परिवार को 40 लाख की घोषणा

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दो जून को त्राल में आतंकियों के हमले में मारे गए नगरपालिका अध्यक्ष राकेश पंडिता के परिवार वालों से शनिवार को मुलाकात कर संवेदना जताई। उन्होंने कहा कि दुख की इस घड़ी में पूरा प्रशासन परिवार के साथ खड़ा है।

उन्होंने आश्वस्त किया कि साजिशकर्ताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। हमले में शामिल आतंकियों को बख्शा नहीं जाएगा। इस मामले में पहले ही उच्च स्तरीय जांच शुरू कर दी गई है। उन्होंने पंडिता के परिवार के लिए 40 लाख रुपये की अनुग्रह राशि की स्वीकृति दी।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: सोपोर हमले की राजनीतिक पार्टियों ने एक सुर में की निंदा, कहा बौखलाए हैं आतंकी

उप राज्यपाल ने आईजी मुकेश सिंह के घर जाकर उनके पिता उपेंद्र प्रसाद सिंह के निधन पर शोक जताया। उन्होंने मृतक आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। उनके  साथ प्रमुख सचिव नीतीश्वर कुमार, मंडलायुक्त डा. राघव लंगर, डीसी अंशुल गर्ग भी थे। ... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन