विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

जम्मू-कश्मीर में तेजी से पांव पसार रहा कोरोना, इस गति से बढ़ रहे मरीज, जंग में डटे जांबाज

प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से पांव पसार रहा है। कश्मीर सबसे अधिक प्रभावित है। गुरुवार को कश्मीर में 24 नए मामले सामने आए। इसके साथ जम्मू-कश्मीर में पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा 184 तक पहुंच गया है। इसमें 152 कश्मीर और 32 जम्मू संभाग से हैं।

10 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कठुआ

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

कश्मीरी विस्थापित कर्मचारियों के लिए ट्रांजिट आवास को मंजूरी, डल-नगीन झील के लिए हाउसबोट नीति भी स्वीकृत

उपराज्यपाल की प्रशासनिक परिषद ने कश्मीर संभाग के शोपियां जिले में कश्मीरी विस्थापित मुलाजिमों के पारगमन आवास (ट्रांजिट एकोमोडेशन) को मंजूरी दे दी है। उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू की अध्यक्षता में आयोजित परिषद की बैठक में ट्रांजिट आवास के लिए 40 कनाल भूमि हस्तांतरण के लिए स्वीकृति भी दे दी गई।

प्रधानमंत्री पैकेज के तहत कश्मीरी विस्थापित सरकारी कर्मचारियों के लिए आपदा प्रबंधन, राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण विभाग को यह भूमि दी जाएगी। इसके अलावा  एक अन्य फैसले में प्रशासनिक परिषद की बैठक में डल और नगीन झील में हाउस बोट पंजीकरण/ नवीनीकरण/संचालन के लिए नीति को भी मंजूरी दी गई।

प्रशासनिक परिषद ने फैसला लिया कि झीलों और जलमार्ग विकास प्राधिकरण द्वारा तैयार किए गए डल संरक्षण के रोडमैप को लागू करने के लिए नीति लागू की जाएगी। यह निर्णय दोनों जल निकायों में हाउस बोट के कामकाज, संचालन और टिकाऊ पर्यटन के लिए अनुकूल माहौल तैयार करेगा। उच्च न्यायालय के निर्देशों और डल/नगीन झील पर विशेषज्ञों की समिति (सीओई) द्वारा दिए गए सुझावों का अनुपालन करते हुए सरकार ने दोनों झीलों के संरक्षण के लिए यह कदम उठाया है।

नीति बनने से निदेशक पर्यटन कश्मीर के नेतृत्व वाली सलाहकार समिति का भी गठन किया गया है। अब किसी भी नई हाउसबोट को डल/नगीन झील में निर्माण करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। दिशानिर्देशों में सुविधाओं के आधार पर हाउसबोटों को वर्गीकृत करने का प्रावधान किया गया है।
... और पढ़ें

लॉकडाउनः सरकारी कर्मचारियों का वेतन अटका, वर्क फ्रॅाम होम करने के बावजूद शिक्षकों को वेतन नहीं

कोरोना महामारी के कारण घोषित लॉकडाउन में सरकारी कर्मचारियों का मार्च महीने का वेतन भी अटक गया है। अप्रैल महीने की आठ तारीख बीतने के बाद भी इनका वेतन अब तक जारी नहीं हुआ है। सरकारी अधिकारियों का कहना है कि वेतन रोका नहीं गया है। कर्मचारियों के वेतन बिल तैयार न होने की वजह से कई विभागों में परेशानी हो सकती है।

नागरिक सचिवालय सहित विभिन्न विभागों के कर्मचारी परेशान हैं। कोरोना वायरस के खौफ और ऊपर से लॉकडाउन के चलते यहां राशन से लेकर अन्य जरूरी वस्तुओं की खरीद के लिए वेतन में देरी ने दिक्कत बढ़ा दी है।
 
सचिवालय के एक कर्मचारी ने बताया कि 31 तारीख को वेतन जारी होता था। इस बार उम्मीद थी कि जल्दी आएगा लेकिन यह तो आने का नाम नहीं ले रहा। अस्थायी कर्मचारियों का तो नियमित कर्मचारियों से भी बुरा हाल है। उन्हें न तो वेतन जारी हो रहा हैं और न ही सरकार ने लंबित देनदारी जारी करने की कवायद शुरू की है।
... और पढ़ें

कोरोना को मात देने और लोगों की मदद करने में जुटे भारत माता के जांबाज बेटे, देखें ये तस्वीरें

आतंकी के जनाजे में शामिल होने वालों पर शिकंजा कसना शुरू, ऐसे उड़ाई गई थीं लॉकडाउन की धज्जियां

आतंकी सज्जाद के जनाजे में शामिल हुई भीड़ आतंकी सज्जाद के जनाजे में शामिल हुई भीड़

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में संघ ने की 12 हजार परिवारों की सहायता, जानवरों तक खाना पहुंचा रहा नगर निगम

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में लखनपुर से लेकर लेह तक कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन में विगत 15 दिनों में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने 12 हजार से अधिक प्रभावित परिवारों को राशन समेत अन्य राहत सामग्री मुहैया कराई है।

जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए सेवा भारती की ओर से विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक हेल्पलाइन भी शुरू की गई है। इस हेल्पलाइन के जरिये लोग निर्धारित समय पर विशेषज्ञ डॉक्टरों से स्वास्थ्य संबंधी सलाह ले सकते हैं। आरएसएस जम्मू-कश्मीर प्रांत के संघचालक ब्रिगेडियर सुचेत सिंह, सह संघचालक डॉ. गौतम मैंगी और सेवा भारती के उत्तर क्षेत्रीय संगठन मंत्री जयदेव दादा ने यह जानकारी दी।

ब्रिगेडियर सुचेत सिंह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामलों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। हालांकि इस संकट से निपटने के लिए समय रहते केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के साथ अहम फैसले ले लिए थे।

संकट की घड़ी में आरएसएस के स्वयंसेवक जाति, पंथ, समाज से ऊपर उठते हुए लॉकडाउन से प्रभावित गरीब, असहाय और जरूरतमंद लोगों के अलावा प्रवासी मजदूरों की मदद में भी जुटे हैं। इसमें सेवा भारती के संकटमोचन रिलीफ दल ने समूचे जम्मू कश्मीर में अहम भूमिका अदा की है।
... और पढ़ें

राहत : जिले से अब तक जांच के लिए भेजे 29 सैंपल निगेटिव

भारतीय सेना, फाइल फोटो
कठुआ। जम्मू-कश्मीर में जहां कोरोना महामारी से पीड़ितों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है, वहीं कठुआ के लिए राहत भरी खबर है कि जिले से अब तक कोरोना की जांच के लिए भेजे गए 29 लोगों के सैंपल निगेटिव पाए गए हैं। इनमें पहले निगेटिव आए पांच और अब आई 24 मरीजों की जांच रिपोर्ट भी निगेटिव है। सीएमओ डॉ. अशोक चौधरी ने बताया कि यह राहत की खबर है, कि सभी की टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव है। उन्होंने बताया कि अब तक इन लोगों को अस्पताल क्वारंटीन में रखा गया था, अब इन्हें होम क्वारंटीन किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग अगले चौदह दिनों तक इनकी तबियत पर नजर रखेगा। उन्होंने लोगों को सलाह दी है कि घरों से न निकलें, यह उनकी ही भलाई के लिए है। सरकार की ओर से समय-समय पर दिए जा रहे निर्देशों का पालन करें। उधर, जिले में लॉकडाउन को लेकर सख्ती से पालन करवाने के लिए पुलिस और प्रशासन की ओर से लगातार प्रयास जारी हैं। वीरवार को जिला मजिस्ट्रेट की ओर से जारी आदेश के अनुसार ही जरूरी सामान की दुकानों को खुलने की अनुमति दी गई। शहर के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में भी दुकानों को शाम पांच बजते बंद करवा दिया गया। इससे पहले लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जरूरी सामान की खरीदारी की।
-------------------------------
नौ पुलिस थानों और चौकियों में बनाईं सैनिटाइजिंग टनल
जीएमसी के सहायक अस्पताल में भी स्थापित होगी टनल
प्रदेश के पहले पुलिस थाने में सैनिटाइजिंग टनल स्थापित करने के बाद जिला पुलिस अब यह अभियान तेज कर दिया है। बीते दो दिन में जिले के नौ थानों और चौकियों में सैनिटाइजिंग टनल स्थापित कर दी गई हैं। अब जीएमसी कठुआ के सहायक अस्पताल में भी सैनिटाइजिंग टनल स्थापित की जाएगी। पुलिस की यह कवायद, इसलिए भी फायदेमंद है, क्योंकि रोजाना बड़ी संख्या में लोग अब भी इलाज के लिए जीएमसी पहुंच रहे हैं।
कोस्ट
सिटी पुलिस थाने के बाद हीरानगर पुलिस थाने, हटली पुलिस चौकी, जिला पुलिस दफ्तर, तीन जिला पुलिस लाइन और राजबाग थाने में सेनिटाइजिंग टनल बनाई जा रही हैं। इनमें से सात का काम पूरा हो चुका है, जबकि दो का काम जारी है। उन्होंने कहा कि पब्लिक प्लेस पर भी कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सैनिटाइजिंग टनल स्थापित की जाएंगी। इस कड़ी में पहली टनल जीएमसी कठुआ के सहायक अस्प्ताल में स्थापित की जा रही है। डॉ. शैलेंद्र मिश्रा, एसएसपी, कठुआ।
... और पढ़ें

बिलावर के बाजारों में सन्नाटा, लोग कर रहे लॉकडाउन का पालन

बिलावर। उपजिले के लोग लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं। हर समय लोगों से गुलजार रहने वाले मुख्य बाजार में बीते कई दिनों से सन्नाटा पसरा है। कोरोना महामारी के डर से बहुत कम लोग घरों से बाहर निकलते हैं। हर समय बाजार में दिखने वाली चहल-पहल गायब है। खाली बाजारों में लावारिस मवेशियों के सिवाय और कोई नजर नहीं आता है। इस महामारी से बचने के लिए लोग अपने घरों में रहकर समय व्यतीत करने को मजबूर हो गए हैं। 14 अप्रैल तक किए गए लॉकडाउन का पूरा असर उपजिले के कई गांवों में भी देखने को मिल रहा है। चंद इलाकों को छोड़ अधिकतर इलाके के लोग सरकार के आदेश का पालन करते हुए नजर आ रहे हैं।
दुकानदार खाद्य पदार्थों के वसूल रहे मनमाने दाम
उपजिले में लॉकडाउन के बाद कुछ दुकानदार मनमानी कर रहे हैं। जरूरी सामान की दुकानों पर लोगों को महंगे दाम पर सामान उपलब्ध हो रहा है। स्थानीय लोगों का आरोप हे कि 80 रुपये किलो बिकने वाली माश की दाल 120 और 80 रुपये प्रति किलो बिकने वाले राजमाश 100 रुपये से ऊपर बेचे जा रहे हैं। इसके अलावा अन्य खाद्य वस्तुएं भी महंगे दाम पर बेची जा रही हैं, जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। फल-सब्जी विक्रेताओं की दुकानों पर 20 रुपये किलो बिकने वाला फुलगोभी 40 और 30 रुपये किलो बिकने वाला टमाटर 60 रुपये में बेचा जा रहा है। स्थानीय निवासी बिशन दास, अरुण कुमार, सुभाष चंद्र, दीपक शर्मा आदि ने बताया कि कई दिनों से उनका काम ठप पड़ गया है और इस बढ़ती महंगाई के कारण उनको घर का खर्च चलाना मुश्किल हो गया है। लोगों ने प्रशासन से यह समस्या हल करने की मांग की है।
... और पढ़ें

प्रतिबंध के दौरान किसानों को फसल की कटाई में सुविधा प्रदान करें-नवीन चौधरी

कठुआ। बैसाखी के साथ ही फसल की कटाई का सीजन शुरू हो जाएगा। किसानों के लिए प्रशासन की ओर से की गई तैयारियों की समीक्षा के लिए पशु एवं भेड़पालन विभाग के प्रमुख सचिव नवीण चौधरी वीरवार को कठुआ पहुंचे। उन्होंने कृषि, बागवानी और पशुपालन विभाग के अधिकारियों के साथ सभी व्यवस्थाओं पर चर्चा की। उन्होंने जिला प्रशासन को केंद्र शासित प्रदेश के बाहर से कंबाइन, हार्वेस्टर और अन्य फार्म मशीनरी मंगवाने की सुविधा देने का निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को खेतों में दौरे के दौरान अनिवार्य रूप से मास्क पहनने और शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए जागरूक करने के निर्देश दिया।
नवीन ने कहा कि बीज, कीटनाशक, उर्वरक, फार्म मशीनरी को आवश्यक वस्तुओं के रूप में वर्गीकृत किया गया है, इसलिए जिला प्रशासन की ओर से यह अनिवार्य है कि इन वस्तुओं की आपूर्ति करने वाली दुकानों को दैनिक आधार पर खोला जाए। उन्होंने जिले में खरीद मंडियों की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली। चौधरी ने डीसी ओपी भगत को निर्देश दिया कि वे किसानों की उपज बेचने के लिए खुले स्थानों को अधिसूचित करें। इसके लिए सामाजिक दूरी का ख्याल रखा जाए। इसके साथ रबी मौसम के लिए पहले से ही बीज, उर्वरक और कीटनाशकों की उपलब्धता की समीक्षा करने को कहा और किसानों को उनकी अगली फसल बोने में सुविधा प्रदान करने के लिए एक परिवहन योजना तैयार करें।
बरसात के दौरान एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य
चौधरी ने बरसात के मौसम में कृषि और बागवानी अधिकारी को एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य प्राप्त करने, जिले के वर्षा आधारित क्षेत्रों में बांस और एलोवेरा की खेती को बढ़ावा देने का निर्देश दिया। मीटिंग में क्लस्टर गांवों को विकसित करने पर जोर दिया। मुख्य सचिव ने कृषि, बागवानी, भेड़ और पशुपालन विभाग के अधिकारियों को इन विभागों के दायरे का उल्लेख करते हुए जिले का एक एटलस तैयार करने का निर्देश दिया। किसानों को सब्जियां और अन्य फसलें उगाने के लिए रबी और खरीफ के मौसम के बीच नहरों में पानी की उपलब्धता से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा की गई। बैठक में कृषि निदेशक जम्मू इंद्रजीत, निदेशक सीएडी स्मिता सेठी, सीएओ, सीएएचओ, डीएसएचओ, डीएईओ, डीएचओ और अन्य संबंधित जिला अधिकारी भी उपस्थित थे।
... और पढ़ें

बनी में क्वारंटीन अवधि पूरी करने वाले घर भेजे

पुलिस ने प्रवासी मजदूरों को वितरित किया राशन

बिलावर। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ-साथ अन्य सुरक्षाबल अहम भूमिका निभा रहे हैं। उपजिले में रहने वाले प्रवासी मजदूरों के परिवारों को भी पुलिस सहायता पहुंचा रही है। वीरवार को थाना प्रभारी बिलावर जोगिंद्र सिंह चिब ने जीरो मोड़ के पास रह रहे 20 परिवारों को राशन उपलब्ध करवाया। थाना प्रभारी ने बताया कि बाहरी राज्यों से उपजिले में काम करने के लिए जो मजदूर आए हैं, उन्हें पुलिस की ओर से सहायता दी गई है, क्योंकि पिछले कई दिनों से कोई काम धंधा न होने से उन्हें और उनके परिवारों को परेशानियां उठानी पड़ रही हैं। इस दौरान हर परिवार को 20-20 किलो राशन और अन्य कई खाद्य पदार्थ वितरित किए गए।
उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस हर समय किसी भी प्रकार की सहायता के लिए तैयार है। थाना प्रभारी ने कहा कि इस आपदा के समय में पुलिस 24 घंटे लोगों की सेवा करने के लिए हाजिर हैं और आने वाले दिनों में भी इन प्रवासी मजदूरों और इनके परिवारों को सहायता प्रदान की जाएगी।
... और पढ़ें

परघना में करवाई फॉगिंग, लोगों को घरों में रहने की अपील

बसोहली। नगर कमेटी के ईओ पीआर सांगड़ा ने परघना में प्रवासी मजदूरों की झुगगियों और उनके आसपास फॉगिंग करवाई। इसके साथ ही इन मजदूर परिवारों को मास्क भी वितरित किए गए। थाना प्रभारी विकास डोगरा ने बसोहली-बनी सड़क पर लोगो से अपील की कि वे मास्क और सैनिटाइजर का प्रयोग करें। बिना वजह घरों से न निकलें, आपस में सामाजिक दूरी का विशेष ध्यान रखें। बस अड्डे के पास बसोहली-बनी जाने वाले मार्ग पर तार बिछाकर इसे बंद कर दिया गया। बसोहली-कठुआ मार्ग पर भी बैरियर को बंद रखा गया है। थाना प्रभारी ने पेट्रोलिंग के दौरान स्पीकर के जरिए लोगों को लॉकडाउन का पालन करते हुए घरों में रहने की सलाह दी। सरकारी डिपो में राशन लेने आए लोगों को आपस में सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए कहा। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us