विज्ञापन
विज्ञापन
अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल
Kundali

अभी बनवाएं अपनी जन्मकुंडली और बनाएं अपना जीवन खुशहाल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

आतंक के गढ़ 'दक्षिण कश्मीर' से निकला कोहिनूर, 20 साल की उम्र में पायलट बना ये युवक

आतंक का गढ़ कहे जाने वाले दक्षिण कश्मीर में युवा अब विभिन्न क्षेत्रों में नाम कमा रहे हैं। पुलवामा जिले के एक 20 वर्षीय युवक ने पायलट बनकर अपने परिवार...

17 जनवरी 2021

विज्ञापन
Digital Edition

पाकिस्तान की 'भूमिगत साजिश', छह महीने में चौथी और अबतक 10वीं नापाक हरकत, देखिए तस्वीरें

150 मीटर लंबी सुरंग मिली 150 मीटर लंबी सुरंग मिली

जम्मू-कश्मीर में मिली एक और सुरंग, हीरानगर सेक्टर के पानसर में पाकिस्तान की नापाक हरकत

सीमा सुरक्षा बल ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर में हीरानगर के पानसर में एक सुरंग का पता लगाया है। इसकी लंबाई 150 मीटर बताई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि इसका निर्माण पाकिस्तानी खुफिया विभाग ने आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ कराने के लिए किया था। सीमा सुरक्षा बल द्वारा 10 दिनों में दूसरी सुरंग का पता लगाया गया है। सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुटी हुई हैं।

अधिकारियों ने बताया कि विशिष्ट खुफिया सूचना पर, बीएसएफ ने एंटी टनलिंग ड्राइव की श्रृंखला में जम्मू के पंसार क्षेत्र में एक और सुरंग का पता लगाया है। बीपी नंबर 14 और 15 के बीच सुरंग का पता चला है। सुरंग लगभग 150 मीटर लंबी और 30 फीट गहरी है। 

बीएसएफ ने जून 2020 में इसी इलाके में हथियारों और गोला-बारूद ले जा रहे एक पाकिस्तानी हेक्साकॉप्टर को मार गिराया था। सैनिकों ने नवंबर 2019 में इसी क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश को भी नाकाम कर दिया था। अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि अब तक जम्मू संभाग में दसवीं और पिछले छह महीने में चौथी सुरंग मिली है।

यह भी पढ़ेंः 
पाकिस्तान की 'भूमिगत साजिश', छह महीने में चौथी और अबतक 10वीं नापाक हरकत, देखिए तस्वीरें

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की हरकत पर नजर रखने के लिए सीमा सुरक्षा बल ने अत्याधुनिक उपकरणाें के साथ सुरक्षा ग्रिड तैयार किया है। सीआईबीएमएस यानी कॉम्प्रिहेंसिव इंटीग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम से आतंकी घुसपैठ के मंसूबे लगातार नाकाम हो रहे हैं। यह सिस्टम किसी भी मौसम में मानव हलचल को पकड़ लेता है। कई बार आतंकी घुसपैठ की कोशिशों को इसी सिस्टम की मदद से ऐन मौके पर नाकाम कर दिया गया है। यही वजह है कि पाकिस्तान सुरंगें खोदकर आतंकियों को इस पार धकेलने की कोशिशें कर रहा है। 

सीमा प्रहरियों की दिक्कतों को देखते हुए मैनुअल पेट्रोलिंग के साथ सीआईबीएमएस से भी निगरानी की जा रही है। अत्याधुनिक उपकरणाें से लैस यह सिस्टम बेहद कारगर है, जिससे बौखलाया पाकिस्तान सुरंगें खोदने के हथकंडे अपना रहा है।

सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार सुरंगें खोदने के लिए पाकिस्तान पेशेवर इंजीनियरों की मदद ले रहा है। इसी वजह से सैकड़ों मीटर लंबी सुरंगों को खोदने पर भी इसकी भनक नहीं लग रही। हालांकि बीएसएफ के एंटी टनल अभियान ने आरएस पुरा, सांबा से लेकर हीरानगर सेक्टर तक सुरंगों को खोजने में सफलता हासिल की है।

यह भी पढ़ेंः रहस्यों से भरी 'जन्नत' में जमीन के अंदर है मंदिर, बेहद खूबसूरत हैं कश्मीर के ये स्थान
... और पढ़ें

अब और आसान हुआ जम्मू-कश्मीर में औद्योगिक इकाइयां लगाना, भूमि आवंटन नीति 2021-30 लागू

जम्मू-कश्मीर में औद्योगिक इकाइयां लगाना अब और आसान हो गया है। सरकार ने इसके लिए भूमि लेने की प्रक्रिया को सरल बनाया है। अब औद्योगिक भूमि के लिए निवेशकों को अधिक इंतजार नहीं करना पड़ेगा और न ही विभागीय कार्यालयों के चक्कर काटने होंगे। भूमि आवंटन की प्रक्रिया 30 से 45 दिन में पूरी कर ली जाएगी। निवेशकों को प्रारंभिक अवधि के लिए लीज पर 40 साल और बाद में विस्तार करके 99 साल तक भूमि दी जाएगी। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई प्रशासनिक परिषद की बैठक में जम्मू-कश्मीर में औद्योगिक विकास के विस्तार के लिए जम्मू-कश्मीर औद्योगिक भूमि आवंटन नीति 2021-30 को मंजूरी दी गई।

नई भूमि आवंटन नीति के तहत ब्लॉक और नगर निगम क्षेत्र में औद्योगिक जोन को स्थापित करना प्रस्तावित है। इससे ग्रामीण स्तर पर औद्योगिकीकरण को बढ़ावा मिलेगा। जम्मू-कश्मीर में पहले से ही औद्योगिक भूमि बैंक के लिए उद्योग एवं वाणिज्य विभाग को भूमि स्थानांतरित करने की प्रक्रिया चल रही है। नई नीति के तहत औद्योगिक भूमि से जुड़े सभी मुद्दों को प्राथमिकता पर हल करने का काम किया जाएगा। नई औद्योगिक भूमि आवंटन नीति में स्वास्थ्य संस्थान, मेडिसिटी, शिक्षण संस्थान और शिक्षा शहर को कवर किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः
रहस्यों से भरी 'जन्नत' में जमीन के अंदर है मंदिर, बेहद खूबसूरत हैं कश्मीर के ये स्थान 

इस नीति में औद्योगिक विकास के मौजूदा स्तर, प्रस्तावित क्षेत्र और शहरीस्तर सहित विभिन्न कारकों को ध्यान में रखा जाएगा। नई नीति में 30 दिन के भीतर औद्योगिक भूमि के आवंटन के लिए प्राप्त आवेदनों की जांच के लिए संभाग स्तरीय परियोजना मूल्यांकन और मूल्यांकन समितियों का गठन किया जाएगा। एपेक्स स्तरीय भूमि आवंटन कमेटी, उच्च स्तरीय भूमि आवंटन समिति और संभाग स्तरीय भूमि आवंटन समिति 200 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट के आवेदन में भूमि आवंटन की मंजूरी देगी। इसमें 50 से 200 करोड़ की परियोजनाएं शामिल होंगी।

नीति के तहत प्रारंभिक अवधि के लिए 40 साल और बाद में विस्तार करके 99 साल पर लीज पर भूमि दी जाएगी। इससे पहले वर्ष 2016 से भी प्रारंभिक अवधि के लिए 40 साल और विस्तार के बाद 99 साल के लिए औद्योगिक भूमि का आवंटन किया जा रहा था, हालांकि इससे पहले 99 साल की अवधि पर भूमि आवंटन होना था। नई नीति से साफ है कि निवेशकों को 99 साल तक लीज पर ही भूमि मिलेगी ना कि उन्हें मालिकाना हक मिलेगा।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में मिला आतंकी ठिकाना, भारी मात्रा में हथियार-गोला बारूद बरामद

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा
पुंछ जिले में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। तलाशी अभियान के दौरान हाडीगुडा गांव में एक आतंकी ठिकाना मिला है। जिसे नष्ट कर भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद किया गया है। तलाशी अभियान अभी जारी है।

यह भी पढ़ेंः 
पाकिस्तान की 'भूमिगत साजिश', छह महीने में चौथी और अबतक 10वीं नापाक हरकत, देखिए तस्वीरें

खुफिया सूचना के आधार पर शनिवार को बीएसएफ, सेना और पुलिस की संयुक्त टीम ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया था। इस दौरान जंगल में बनाया गया एक आतंकी ठिकाना मिला। जहां से सुरक्षाबलों द्वारा एक एके-47 राइफल,  एके-47 राइफल की तीन मैगजीन, 82 कारतूस, चीन निर्मित तीन पिस्टल, पिस्टल की पांच मैगजीन, 33 कारतूस, चार ग्रेनेड, एक यूजीबीएल के साथ ही अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद की गई है। सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम द्वारा शुरू किया गया तलाशी अभियान अभी भी जारी है।

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में मिली एक और सुरंग, हीरानगर सेक्टर के पानसर में पाकिस्तान की नापाक हरकत 
... और पढ़ें

नए अधिकारियों को केंद्रीय डेपुटेशन पर रखे जाने से मिल रहा फायदा: जितेंद्र सिंह

केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा है कि नए आईएएस अधिकारियों को पहले केंद्रीय डेपुटेशन पर रखे जाने का फैसला बड़ा सुधार करने वाला रहा है। उन्होंने कहा 2015 में इस सुधार को शुरू किया गया। 2013 बैच के अधिकारियों को तीन महीने के केंद्रीय डेपुटेशन के तहत सहायक सचिव के तौर पर काम करने दिया गया।

यह भी पढ़ेंः
रहस्यों से भरी 'जन्नत' में जमीन के अंदर है मंदिर, बेहद खूबसूरत हैं कश्मीर के ये स्थान    

उन्होंने कहा कि इससे युवा आईएएस अधिकारियों को सरकार के काम करने के तरीकों की जानकारी मिली और करियर के शुरुआती दौर में ही उन्हें पता चला कि सरकार की प्राथमिकताएं क्या हैं। उन्होंने कहा योजना 2015 से सफलतापूर्वक जारी है। कोरोना काल की वजह से 2018 बैच के आईएएस अधिकारियों की तैनाती के काम में हालांकि देरी हुई है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में कोरोना से सीआरपीएफ जवान समेत दो की मौत, 3039 चिकित्सा कर्मियों को लगी वैक्सीन

प्रदेश में शुक्रवार को 3039 चिकित्सा कर्मियों को कोरोना की खुराक दी गई। इसमें कई अधीक्षक और एचओडी स्तर के अधिकारी शामिल रहे। सोमवार से चरणबद्ध तरीके से प्रदेश के विभिन्न जिलों में वैक्सीन केंद्रों की संख्या को बढ़ाया जाएगा। जीएमसी जम्मू में अधीक्षक डॉ. दारा सिंह ने शुक्रवार को पहली डोज ली। उनके साथ विभिन्न विभागों के एचओडी और अस्पताल में 100 कर्मियों को वैक्सीन लगाई गई।

इस बीच प्रदेश में पिछले चौबीस घंटे में चार लोगों ने कोविड संक्रमण से पीड़ित होकर दम तोड़ दिया। इसमें जम्मू संभाग से 2 मौतें हुई हैं। जीएमसी जम्मू में एक सीआरपीएफ जवान सहित दो लोगों मौत हुई है। अस्पताल के सीसीयू यूनिट में सीआरपीएफ के 49 वर्षीय जवान को भर्ती किया गया था। लेकिन उसकी हालत लगातार बिगड़ती गई और उसने शुक्रवार को दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ेंः
रहस्यों से भरी 'जन्नत' में जमीन के अंदर है मंदिर, बेहद खूबसूरत हैं कश्मीर के ये स्थान    

इसके अलावा आरएस पुरा निवासी एक बुजुर्ग महिला की मौत हुई है। इस बीच प्रदेश में 88 नए संक्रमित मामले मिले, जिसमें जम्मू संभाग से 42 मामले हैं। प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 97 संक्रमित मरीज ठीक भी हुए हैं।

इसमें जम्मू संभाग से 30 मरीज हैं। जम्मू कश्मीर में अब तक 1928 लोगों की कोविड से मौत हो चुकी है, इसमें कश्मीर संभाग से 1209 मौतें हुई हैं। प्रदेश में वर्तमान में 1098 मामले सक्रिय हैं और इनमें लगातार गिरावट आ रही है।
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X