विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर में पूजा : 9- मार्च-2020
Astrology Services

होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर में पूजा : 9- मार्च-2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

झारखण्ड

गुरूवार, 27 फरवरी 2020

तेज दर्द से परेशान लालू प्रसाद ने निकलवाए अपने दो दांत, अब दिल्ली भेजने की तैयारी

बताया गया है कि दांत में दर्द से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव बेहद परेशान थे, जिसके बाद उन्होंने अपने डॉक्टरों को इस बारे में बताया। इसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें सलाह दी कि उन्हें अपने दांतों को निकलवाना होगा। 

लालू प्रसाद यादव की डॉक्टर उमेश प्रसाद ने कहा कि दांत निकाल देने बाद उन्हें दो दिनों तक केवल खिचड़ी खाना होगा, साथ ही कोई भी गर्म चीज खाने से परहेज करना है। उन्हें डॉक्टरों ने तीन दिन एंटीबायोटिक्स खाने की भी सलाह दी गई है। 

दूसरी ओर, लालू प्रसाद यादव के बेहतर चिकित्सा उपचार के लिए दिल्ली के एम्स में रेफर करने की कवायद शुरू हो गई है। उनके डॉक्टर ने मेडिकल बोर्ड बनाने के लिए अधीक्षक के पास फाइल भी भेज दी है। 

वर्तमान समय में लालू प्रसाद सजायाफ्ता कैदी हैं, इसलिए उनको इलाज के लिए दिल्ली भेजे जाने से मेडिकल बोर्ड उनकी जांच करेगा। इसके बाद बोर्ड की रिपोर्ट जेल और न्यायालय को भेजी जाएगी, जिसके बाद उनके आदेश लेकर ही उन्हें दिल्ली भेजा जा सकता है। 

बता दें कि लालू के मुख्यमंत्री रहने के दौरान पशुपालन विभाग में 900 करोड़ रुपये से ज्यादा का चारा घोटाला किया गया था। अभी तक इस घोटाले से जुड़े चार मामलों में कोषागार से फर्जी धन निकासी के दोष में लालू को सजा घोषित हो चुकी है। इनमें दो मामले चाईबासा कोषागार के हैं, जबकि एक-एक मामला दुमका व देवघर कोषागार का है।

हालांकि चाईबासा और देवघर के एक-एक मामले में लालू को जमानत मिल चुकी है। उन पर दोरांदा कोषागार से जुड़े पांचवां मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत में सुनवाई जारी है। दिसंबर, 2017 से जेल में बंद लालू फिलहाल रांची में राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में इलाज करा रहे हैं।
... और पढ़ें

झारखंड: धनबाद में भाजपा विधायक के आवास पर पुलिस ने मारा छापा, चार समर्थक गिरफ्तार

झारखंड: भाजपा में विलय के बाद मरांडी ने हेमंत सोरेन पर साधा निशाना, बोले- सरकार नहीं कर रही काम

भाजपा में अपनी पार्टी झाविमो (प्र) का विलय करने वाले बाबूलाल मरांडी ने प्रदेश की हेमंत सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने मंगलवार को आरोप लगाया कि राज्य में हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली सरकार कोई काम नहीं कर रही है और केवल बहाने बना रही है।

सोमवार को भाजपा में अपनी पार्टी के विलय के बाद पहली बार प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे राज्य के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि यह सरकार केवल बहाने बना रही है, कोई काम नही कर रही। जबकि उसे चुनावों में जनता से किए अपने वादों पर अमल करना चाहिए।

मरांडी ने पूर्ववर्ती सरकार की योजनाओं की जांच कराने से संबंधित हेमंत सरकार की घोषणा पर कहा कि जांच कराने से सरकार को किसने रोका है, सरकार जिस स्तर पर चाहे उसे जांच कराना चाहिए।भाजपा के एक नेता ने बताया कि मरांडी दिन में भाजपा प्रदेश मुख्यालय पहुंचे। पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया।
... और पढ़ें

मानहानि मामले में झारखंड हाई कोर्ट ने राहुल गांधी को दी राहत 

राहुल गांधी राहुल गांधी

रिम्स में ही होगा लालू का इलाज, नहीं भेजे जाएंगे एम्स

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को रांची के रिम्स अस्पताल से किसी दूसरे अस्पताल में स्थानांतरित नहीं किया जाएगा। रिम्स मेडिकल बोर्ड ने गुरुवार को एक बैठक के बाद कहा कि उन्हें रिम्स में बेहतर इलाज मिल रहा है इसलिए उन्हें यहां से किसी दूसरे अस्पताल में भर्ती नहीं किया जाएगा। 

रिम्स की मेडिकल बोर्ड ने 12 गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लालू प्रसाद की मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद यह फैसला लिया है। लालू को किडनी की गंभीर बीमारी होने के चलते एक विशेषज्ञ नेफ्रालॉजिस्ट से मदद ली जाएगी। रिम्स के चिकित्सा अधीक्षक विवेक कश्यप ने कहा कि मेडिकल बोर्ड ने लालू की रिपोर्ट का गहन जांच की गई। उनके इलाज, प्रोटोकॉल देखने के बाद बोर्ड इस नतीजे पर पहुंचा कि उन्हें सही इलाज दिया जा रहा है। 

कश्यप ने बताया कि किडनी थ्री की बीमारी के लिए विशेषज्ञ नेफ्रालॉजिस्ट से सलाह ली जाएगी। अगर नेफ्रालॉजिस्ट यह कहता है कि उन्हें बेहतर इलाज के लिए स्थानांतरित किया जाएं तो हम उस पर विचार करेंगे। विशेषज्ञ नेफ्रालॉजिस्ट बुलाने के बाबत डॉ विवेक कश्यप ने कहा कि हम एम्स के पैटर्न पर चलते हैं, एम्स के डॉक्टर से ही परामर्श लेंगे।

गौरतलब है कि लालू को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली के एम्स अस्पताल में स्थानांतरित करने के कयास लगाए जा रहे थे। वर्तमान समय में लालू प्रसाद सजायाफ्ता कैदी हैं, इसलिए उनको इलाज के लिए दिल्ली भेजे जाने से पहले मेडिकल बोर्ड उनकी जांच करने वाला था। इसके बाद बोर्ड की रिपोर्ट जेल और न्यायालय को भेजी जानी थी, जिसके बाद उनके आदेश लेकर ही उन्हें दिल्ली भेजा जा सकता था। लेकिन अब यह साफ हो चुका है कि उन्हें इलाज के लिए रिम्स में ही रखा जाएगा। 

बता दें कि लालू के मुख्यमंत्री रहने के दौरान पशुपालन विभाग में 900 करोड़ रुपये से ज्यादा का चारा घोटाला किया गया था। अभी तक इस घोटाले से जुड़े चार मामलों में कोषागार से फर्जी धन निकासी के दोष में लालू को सजा घोषित हो चुकी है। इनमें दो मामले चाईबासा कोषागार के हैं, जबकि एक-एक मामला दुमका व देवघर कोषागार का है।

हालांकि चाईबासा और देवघर के एक-एक मामले में लालू को जमानत मिल चुकी है। उन पर दोरांदा कोषागार से जुड़े पांचवां मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत में सुनवाई जारी है। दिसंबर, 2017 से जेल में बंद लालू फिलहाल रांची में राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में इलाज करा रहे हैं।

 
... और पढ़ें

रांची-धनबाद नगर निगम, रांची रजिस्ट्री कार्यालय और डोरंडा पुलिस स्टेशन पर एसीबी का छापा

एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने झारखंड के कई स्थानों पर छापेमारी की। एंटी करप्शन ब्यूरो रांची नगर निगम कार्यालय, धनबाद नगर निगम कार्यालय, रांची रजिस्ट्री कार्यालय और डोरंडा पुलिस स्टेशन में छापेमारी कर रही है। कथित भ्रष्टाचार को लेकर इन विभागों के बारे में शिकायत मिलने के बाद एसीबी कार्रवाई कर रही है।
 


बता दें कि एसीबी को इन जगहों से लगातार भ्रष्टाचार की शिकायतें मिल रही थीं। एसीबी के डीजी के आदेश पर विशेष टीम गठित कर ये कार्रवाई की गई है। सरकारी कार्यालयों के कागजातों को खंगाला जा रहा है। बताया जा रहा है कि छापेमारी शाम तक जारी रहेगी।

एसीबी की टीम धनबाद स्थित नगर निगम कार्यालय में भी छापेमारी कर रही है। निगम के कामकाज के तरीकों की जांच पड़ताल की जा रही है। 
... और पढ़ें

झारखंडः पूर्व मंत्री एनोस एक्का परिवार समेत दोषी करार, सभी को सात साल की कैद और 50 लाख जुर्माना

आय से अधिक संपत्ति के मामले में झारखंड के पूर्व मंत्री एनोस एक्का को परिवार के सभी सात सदस्यों के साथ रांची की सीबीआई कोर्ट ने मंगलवार को दोषी करार दिया। कोर्ट ने सभी को सात साल की सजा सुनाई है और इन पर 50-50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। एक्का पर करीब 16.82 करोड़ रुपए आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला है। 

सीबीआई विशेष जज एके मिश्रा ने इस मामले में एनोस एक्का, उनकी पत्नी मेनन एक्का, भाई गिदियोन एक्का, रिश्तेदार रोशन मिंज, दीपक लकड़ा, जयकांत बाड़ा और इब्राहिम एक्का को दोषी ठहराया। एक्का के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज मुकदमे की सुनवाई चल रही थी।

पूर्व मंत्री मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में भी आरोपी हैं। एक्का 2005 से 2008 तक मधु कोड़ा सरकार में मंत्री थे। आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के लिए उनके खिलाफ 2009 में राज्य सतर्कता विभाग में शिकायत दर्ज की गई थी। झारखंड हाईकोर्ट के दिशा-निर्देश पर बाद में मामले को सीबीआई को सौंप दिया गया था। जांच के दौरान एक्का और उनके परिजनों की संपत्ति रांची और दिल्ली में पाई गई थी। 
... और पढ़ें

झारखंड: दीपक प्रकाश को किया गया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त

एनोस एक्का
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को दीपक प्रकाश को झारखंड पार्टी इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया। अब्दुल खादर हाजी को लक्षद्वीप प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष बनाया गया। भाजपा की ओर से जारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई है।

दीपक प्रकाश झारखंड में प्रदेश भाजपा महासचिव थे और उनकी पदोन्नति ऐसे समय में हुई है जब बाबूलाल मरांडी को भाजपा विधायक दल का नेता बनाया गया है । भाजपा हाल ही में झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव में झामुमो-कांग्रेस गठबंधन के हाथों पराजित हुई थी और उसे राज्य में सत्ता गंवानी पड़ी थी। वहीं, अब्दुल खादर हाजी को लक्षद्वीप प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष बनाया गया।
... और पढ़ें

भूख से मौत और तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द करने के आरोपों की जांच को तैयार केंद्र सरकार

केंद्र सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में झारखंड में भूख से मौत और देशभर में गरीब लोगों के करीब तीन करोड़ राशन कार्डों को मनमाने तरीके से रद्द करने के आरोपों का खंडन किया। सरकार ने जोर देकर कहा कि वह इन आरोपों को गलत साबित करने के लिए जांच के लिए तैयार है। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने चीफ जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस सूर्य कांत की पीठ को बताया कि पहले याचिकाकर्ताओं को हलफनामा रखने दीजिए। इसका मैं जवाब दूंगा और दिखाऊंगा कि ये सभी गलत हैं। ये सभी गलत आंकड़े हैं। 

वेणुगोपाल ने वरिष्ठ वकील कोलिन गोंजाल्विस द्वारा दी जा रही दलीलों के दौरान हस्तक्षेप करते हुए यह बात कही। गोंजाल्विस एक पीआईएल के लिए कोर्ट में पेश हुए जिसमें आरोप लगाया गया है कि झारखंड में एक परिवार को आधार कार्ड नहीं होने की वजह से राशन नहीं दिया गया और इस वजह से 13 वर्षीय एक बच्ची की भूख के चलते मौत हो गई। साथ ही उन्होंने दावा किया कि देशभर में गरीब परिवारों के करीब तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द कर दिए गए।

अटॉर्नी जनरल ने दलील दी कि केंद्र इस मुद्दे पर व्यापक हलफनामा दाखिल करेगा और वह इसके लिए राज्य सरकारों के जवाब का इंतजार कर रहा है। उन्होंने कहा कि राज्यों के जवाब के बाद केंद्र हलफनामा दाखिल करेगा। पीआईएल याचिकाकर्ता और केंद्र सरकार ने राशन कार्डों को रद्द करने के आंकड़ों को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगाए। पीठ ने आदेश दिया कि वह इस मामले की सुनवाई चार हफ्ते बाद करेगा। साथ ही उसने राज्यों को इस समय सीमा के अंदर अपना जवाब देने का निर्देश दिया है।
... और पढ़ें

झारखंड: बाबूलाल मरांडी निर्विरोध भाजपा विधायक दल के नेता चुने गए, बनेंगे नेता विपक्ष

झारखंड के पहले मुख्यमंत्री रहे बाबूलाल मरांडी को सोमवार को सर्वसम्मति से भाजपा विधायक दल का नेता चुन लिया गया। इसके बाद भाजपा ने विधानसभा में सबसे बड़ा विपक्षी दल होने के नाते मरांडी को विपक्ष का नेता बनाए जाने की विधानसभा अध्यक्ष से अनुशंसा की है।

हाल ही में भाजपा में अपने दल झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) का विलय करने वाले मरांडी को केंद्रीय पर्यवेक्षक और पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री मुरलीधर राव की उपस्थिति में सर्वसम्मति से विधायक दल का नेता चुना गया।

इसके बाद राव ने रांची में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में पार्टी के विधायकों की बैठक हुई, जिसमें एक आपराधिक मामले में भूमिगत चल रहे बाघमारा के विधायक ढुल्लू महतो को छोड़कर अन्य सभी 25 नवनिर्वाचित विधायक उपस्थित थे। बैठक में मरांडी को सर्वसम्मति से भाजपा विधायक दल का नेता चुन लिया गया।

इधर, दिल्ली में भाजपा के केंद्रीय कार्यालय के महासचिव अरुण सिंह ने कहा कि बाबूलाल मरांडी के विधायक दल का नेता चुने जाने से पार्टी में सभी प्रसन्न हैं। विधायक दल की बैठक में मरांडी के निर्वाचन के तुरंत बाद पार्टी की ओर से विधानसभा सचिवालय को बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने को लेकर अनुशंसा वाला पत्र भी सौंप दिया है।

इससे पहले 18 फरवरी को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री मुरलीधर राव को झारखंड विधानसभा में पार्टी विधायक दल के नेता के चयन के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर नियुक्त किया था।

बता दें कि नवंबर-दिसंबर 2019 में राज्य में हुए विधानसभा के चुनावों में भाजपा की हार हुई थी और उसे सिर्फ 25 सीटों से संतोष करना पड़ा था, जबकि इससे पहले साल 2014 के चुनाव में भाजपा ने अकेले दम पर 37 सीट जीती थीं।
... और पढ़ें

बिहार के लोगों को अब झारखंड में आरक्षण नहीं, झारखंड हाईकोर्ट का बड़ा फैसला

झारखंड होईकोर्ट ने आरक्षण को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। हाईकोर्ट के फैसले के अनुसार, राज्य में अब बिहारियों को किसी भी प्रकार का आरक्षण नहीं दिया जाएगा। हाईकोर्ट की उच्च पीठ के दो जजों ने इस संबंध में सोमवार को अपना फैसला सुनाया। फैसले के अनुसार, यह व्यवस्था बिहार के सभी मूल निवासियों पर लागू होगी। हालांकि, फैसला सुनाने वाले हाईकोर्ट के इस उच्च पीठ के एक जज का आदेश बाकि दोनों जजों के आदेश से अलग था। 

पीठ के दो न्यायाधीशों ने एक मत से यह फैसला सुनाया, वहीं पीठ का नेतृत्व कर रहे न्यायमूर्ति एचसी मिश्र ने इससे असहमति जताई और कहा कि राज्य बनने से पहले से बिहार से यहां आकर रह रहे लोगों को भी राज्य की सेवा में आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए।

इस पीठ में न्यायमूर्ति अपरेश कुमार सिंह और न्यायमूर्ति बीबी मंगलमूर्ति भी थे। सबसे पहले, पीठ का नेतृत्व कर रहे न्यायमूर्ति एचसी मिश्र ने अपना आदेश पढ़कर सुनाया। उन्होंने अपने आदेश में कहा कि प्रार्थी एकीकृत बिहार के समय से ही झारखंड क्षेत्र में रह रहा है, इसलिए उसे आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए।

उन्होंने यह कहते हुए राज्य सरकार की अपील को खारिज कर दिया और प्रार्थियों को नौकरी में बहाल करने का आदेश दिया।

इसके बाद न्यायमूर्ति अपरेश कुमार सिंह ने अपना आदेश पढ़ते हुए सर्वोच्च न्यायालय द्वारा बीर सिंह के मामले में दिए गए आदेश का हवाला दिया और कहा कि एक राज्य का निवासी दूसरे राज्य में आरक्षण का हकदार नहीं होगा। यही आदेश बीबी मंगलमूर्ति का भी था। इसके बाद दोनों जजों ने प्रार्थियों की अपील को खारिज करते हुए सरकार के पक्ष को सही माना।

इससे पूर्व सुनवाई के दौरान पूर्व महाधिवक्ता अजीत कुमार ने पीठ को बताया था कि एकीकृत बिहार के समय से अथवा 15 नवंबर 2000 से राज्य में रहने के बाद भी वैसे लोग आरक्षण के हकदार नहीं होंगे जिनका ओरिजिन (मूल) झारखंड नहीं होगा। आरक्षण का लाभ सिर्फ उन्हें ही मिलेगा जो झारखंड के मूल निवासी होंगे।
... और पढ़ें

पालतू मुर्गे को पकाकर खा गया चाचा, गुस्साए भतीजों ने ले ली जान

झारखंड में एक मुर्गे की वजह से भतीजों ने चाचा को मौत के घाट उतार दिया। दरअसल, गिरदा ओपी में दो भाई इंदर और प्रह्लाद सिंह ने एक मुर्गा पाल रखा था। जिसे उनका चाचा पतिया सिंह (55)  बिना पूछे मारकर खा गया। इससे गुस्साए दोनों भतीजों ने चाचा की हत्या कर दी। बचाने आई चाची भागवती देवी को भी गंभीर रूप से घायल कर दिया।

पुलिस ने बताया कि, इंदर-प्रह्लाद ने घर में मुर्गा पाला था, जिसे गुरुवार को उसका चाचा पतिया बिना पूछे मारकर खा गया। इस बात को लेकर शुक्रवार शाम चाचा-भतीजों में झगड़ा हुआ। चाची ने बीच-बचाव कर दोनों भतीजों को शांत कराकर वापस भेज दिया। लेकिन रात लगभग आठ बजे दोनों भतीजे पतिया के घर पहुंचे और धारदार हथियार से कई वार कर उसे मार डाला। 

पति को बचाने आई भागवती पर भी दोनों ने हमला कर दिया। जिसमें वो भी घायल हो गई। सूचना मिलने के बाद घायल महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया। घटना के बाद दोनों आरोपी फरार हो गए। पुलिस दोनों की तलाश कर रही है। 
... और पढ़ें

झारखंड: रामगढ़ में आदिवासी लड़की से दुष्कर्म के आरोप में दो युवकों को जेल

झारखंड के रामगढ़ जिले के भडानी नगर थाना क्षेत्र के पाली गांव से एक आदिवासी समेत दो अन्य युवकों को एक नाबलिग आदिवासी लड़की से दुष्कर्म और एक अन्य से दुष्कर्म का प्रयास करने के आरोप में पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार किया।

रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने बताया कि घटना 16 फरवरी की है, जिसके संदर्भ में पीड़ित लड़कियों के परिजन ने शुक्रवार को प्राथमिकी दर्ज कराई थी। पुलिस ने इस संबंध में त्वरित कार्रवाई करते हुए शनिवार को पाली गांव से दुष्कर्म के आरोपी 25 वर्षीय महेश बेदिया और दुष्कर्म के प्रयास के आरोपी उसके मित्र राजू सिंह को गिरफ्तार किया।

दोनों युवकों को पॉक्सो अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत अदालत ने न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। पुलिस में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार दोनों आदिवासी लड़कियां नाबालिग है। घटना के दिन दोनों निकट के पाली गांव के पास फुटबॉल के मैदान में फुटबॉल खेलने गई थी।

जब दोनों फुटबॉल खेलकर वापस अपने गांव आ रही थी, उसी समय दोनों आरोपियों ने  डरा धमकाकर अगवा कर लिया और  निकट के खाली पड़े मकान में ले जाकर एक लड़की से दुष्कर्म किया जबकि दूसरी लड़की से दुष्कर्म की कोशिश की गई। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन