आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Halchal ›   Pm modi recites ramdhari singh dinkar poem kalam aaj unki jai bol in ladakh
प्रधानमंत्री मोदी ने सैनिकों को संबाोधित करते हुए किया महाकवि दिनकर की इस कविता को याद

हलचल

प्रधानमंत्री मोदी ने सैनिकों को संबाोधित करते हुए किया महाकवि दिनकर की इस कविता को याद

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

1077 Views
प्रधानमंत्री मोदी ने आज लद्दाख में सैनिकों को संबोधित करते हुए महाकवि रामधारी सिंह दिनकर की कविता को याद किया। उन्होंने कहा कि 

'जिनके सिंहनाद से सहमी
धरती रही अभी तक डोल
कलम, आज उनकी जय बोल।'

पूरी कविता यूं है 

जला अस्थियाँ बारी-बारी
चिटकाई जिनमें चिंगारी,
जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर
लिए बिना गर्दन का मोल
कलम, आज उनकी जय बोल।

जो अगणित लघु दीप हमारे
तूफानों में एक किनारे,
जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन
माँगा नहीं स्नेह मुँह खोल
कलम, आज उनकी जय बोल।

पीकर जिनकी लाल शिखाएँ
उगल रही सौ लपट दिशाएं,
जिनके सिंहनाद से सहमी
धरती रही अभी तक डोल
कलम, आज उनकी जय बोल।

अंधा चकाचौंध का मारा
क्या जाने इतिहास बेचारा,
साखी हैं उनकी महिमा के
सूर्य चन्द्र भूगोल खगोल
कलम, आज उनकी जय बोल।

 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!