आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Halchal ›   poem on corona by surangma yadav
सोशल मीडिया: कोरोना और जीवन का हाइवे

हलचल

डाॅ. सुरंगमा यादव की प्रेरक कविता: मुश्किल बड़ी घड़ी है, संयम बनाये रखना...

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

552 Views
दुनियाभर में वैश्विक महामारी बनकर फैले कोरोना वायरस का प्रकोप दिनों दिन बढ़ता जा रहा है, जिसके चलते देश लाॅकडाउन है। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सार्वजनिक जुटान और भीड़-भाड़ से परहेज करते हुए अपने घरों में रहना ही इस बीमारी से बचाव का तरीका है। ऐसे में इंटरनेट ही वह माध्यम है जिसके रास्ते आप लोगों तक पहुंच सकते हैं और तरह-तरह से लोगों का मनोबल बढ़ा सकते हैं। अमर उजाला काव्य की पाठक डॉ0 सुरंगमा यादव ने हमे भेजी यह कविता- 


मुश्किल बड़ी घड़ी है
संयम बनाये रखना
एक फ़ासला बनाकर
खुद को बचाये रखना

है जिंदगी नियामत
असमय ये खो ना जाये
इस देश पर कोरोना
हावी ना होने पाये
ये वक्त कह रहा है
घर से नहीं निकलना आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!