आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Happy fathers day 2020:Dr om nishchal poem dekha ratti ratti hamne unhe pita hona
डाॅ ओम निश्चल: देखा रत्ती- रत्ती हमने उन्हें पिता होना

इरशाद

डाॅ ओम निश्चल: देखा रत्ती- रत्ती हमने उन्हें पिता होना

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

80 Views
रातें सपनों-भरी 
हुआ दिन भी सोना-सोना
देखा रत्ती-रत्ती हमने उन्हें पिता होना।

ड्यूटी के पाबंद रहे
जब भी उनको देखा
नहीं दिखी चेहरे पर 
दुख की कोई भी रेखा
अंधकार में रहकर आंखों में सपने बोना।
देखा रत्ती-रत्ती हमने उन्हें पिता होना।
  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!