आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Kedarnath singh famous poem we kyon bhage jate hain jike ghar hain
केदारनाथ सिंह

इरशाद

वे क्यों भागे जाते हैं जिनके घर है: केदारनाथ सिंह 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

337 Views
बिजली चमकी, पानी गिरने का डर है
वे क्यों भागे जाते हैं जिनके घर है

वे क्यों चुप हैं जिनको आती है भाषा
वह क्या है जो दिखता है धुँआ-धुआँ-सा

वह क्या है हरा-हरा-सा जिसके आगे
हैं उलझ गए जीने के सारे धागे

आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!