आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Love will witness from this shayari of Bekhud Dehlvi
प्रेम और जिंदगी

इरशाद

दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर: 'बेख़ुद' देहलवी

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

1210 Views
दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर
जो इधर दिल में है या रब वो उधर पैदा कर

दूद-ए-दिल इश्क़ में इतना तो असर पैदा कर
सर कटे शमअ की मानिंद तो सर पैदा कर

फिर हमारा दिल-ए-गुम-गश्ता भी मिल जाएगा
पहले तू अपना दहन अपनी कमर पैदा कर आगे पढ़ें

रह के दुनिया में अभी ज़ाद-ए-सफ़र पैदा कर...

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!