आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   One of the most imortant signature of modern hindi poetry Suryakant Tripathi 'Nirala' best poem
सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

इरशाद

बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु : सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

2457 Views
बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु!
पूछेगा सारा गाँव, बंधु!

यह घाट वही जिस पर हँसकर,
वह कभी नहाती थी धँसकर,
आँखें रह जाती थीं फँसकर,
कँपते थे दोनों पाँव बंधु!

वह हँसी बहुत कुछ कहती थी,
फिर भी अपने में रहती थी,
सबकी सुनती थी, सहती थी,
देती थी सबके दाँव, बंधु!
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!