आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   poetry of Gulzar
गुलज़ार की कविताएं

इरशाद

जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

1915 Views

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते
 

जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते
 

लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो
ऐसे दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते
 

जागने पर भी नहीं आंख से गिरतीं किर्चें
इस तरह ख़्वाबों से आंखें नहीं फोड़ा करते
 

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा
जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते
 

जा के कोहसार से सर मारो कि आवाज़ तो हो
ख़स्ता दीवारों से माथा नहीं फोड़ा करते


- गुलज़ार

साभार -रेख़्ता

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!